My Kalyan Mini Store, Vikhroli, Mumbai

1, Adrsh Chs Ltd, Building No-54, Station Road
Mumbai- 400083

022-61739701

Call Now

Opens at

Articles

विंटेज ट्रेंड्सः परत येत आहेत का?

On
“जुने ते सोने”. या म्हणीपेक्षा दुसरी कोणतीही लोकप्रिय आणि वारंवार वापरली जाणारी म्हण नाही. तरीही, हे विधान यापूर्वी इतके सत्यात कधीच उतरले नव्हते. विशेषतः फॅशन उद्योगामध्ये ट्रेंड्स अगदी डोक्याची टोपी बदलल्यासारखे बदलत असतात, तिथे असे अनेक ट्रेंड्स असतात ज्यांनी आपला क्रम आचरताना, फारसे लक्षवेधी ठरले नाही परंतु कालांतराने अतिशय लोकप्रिय ठरले. विंटेज ज्वेलरीचा विचार करता, हे खचितच नैसर्गिक आहे की आपल्या पूर्वजांनी वापरलेली ज्वेलरी स्टाईल आजकाल ट्रेंड्स होत आहे. याचं कारण कलाकारांची बारीक हस्तकला जी डिझाईन्स आणि दागिने त्रिकालाबाधित सुंदर बनवते. असे दागिने स्त्रियांना अतिशय आवडण्यामागे आणखी एक कारण म्हणजे पिढ्यान् पिढ्या हस्तांतरित होत असलेल्या सोन्याच्या दागिन्यांमागे गुंफलेल्या भावना. दुर्मिळ अँटीक डिझाईन्ससोबत, दागिन्यांवर गोड आठवणींचे वजन असते जे प्रत्येक स्त्री तिची आई/आजी यांच्यासोबत जोडत असते. आजच्या विश्वामध्ये फॅशनेबल असलेल्या काही लोकप्रिय विंटेज दागिन्यांवर एक नजर टाकूया. जबरदस्त चोकर्स आणि नेकलेसमध्ये कलात्मक पद्धतीने गुंफलेल्या शुद्ध, मूळ स्वरुपातील हिऱ्यांचा वापर केलेल्या पोलकीसारखे अनकट दागिने आज कोणत्याही वधूला हमखास हवे असतात. याचं कारण पोलकी दागिने, सर्वात सुंदर पद्धतीने, सर्वांचं लक्ष वधूकडे आकर्षिक करण्याइतके भव्य असतात. कोणत्याही महिलेसाठी सदैव पसंतीचा आणखी एक दागिना म्हणजे झुमका/जिमिकी/कोडा कडुक्कन. अनेक शतकांपासून संपूर्ण भारतात परिधान केल्या जाणाऱ्या, या प्रकारच्या ईअररिंग्ज खऱ्या अर्थाने अमर्त्य आहेत कारण त्यांचा आरंभ झाल्यापासून सर्व वयाच्या स्त्रियांसाठी त्या सर्वात आवडीचा दागिना बनले आहेत. अनेक निर्माते आणि फॅशन पंडितांनी साध्या झुमक्यामध्ये क्रांती घडवून विवाह परिधानापासून ते दैनंदिन परिधान आणि अगदी वेस्टर्न कपड्यांपर्यंत कोणत्याही परिधानाला जुळतील असे झुमके बनवले आहेत. कडा बँगल्स म्हणजे हिरे आणि मौल्यवान खडे जडवलेल्या चमकदार सोन्याच्या बांगड्या. त्या मोठ्या असतात आणि सामान्यतः जोडीने किंवा केवळ एक अशा परिधान केल्या जातात. हातभर बांगड्या महिला घालत असत ते दिवस आता गेले. कमीतकमी तरीही परिपूर्ण दागिने घालवण्याचा काळ असल्यानं स्त्रियांमध्ये कडा बँगल्सचं हे प्रेम पुन्हा बहरलं आहे. आजकालच्या स्त्रियांमध्ये आणखी एक आवडीचा दागिना म्हणजे नोज रिंग. मोठ्या कलात्मक रिंग्जपासून ते स्टार स्टडेड बारीक हिऱ्यांच्या रिंग्जपर्यंत ते वेस्टर्नाईज्ड डिझाईन्सपर्यंत, नोज रिंग्जचे सर्व पॅटर्न्स ट्रेंडमध्ये आहेत. मांग टिका म्हणजे सामान्यतः एक इंचभर कलात्मक सोन्याचे पेंडंट असते काहीवेळेस त्यात हिरे जडवून बारीक डिझाईन केले जाते. विवाहित स्त्रियांच्या मंगळसूत्रामध्ये ते गुंफले जाते. प्रामुख्याने उत्तर भारतीय स्त्रियांद्वारे परिधान केला जाणारा, हा दागिना आता सर्व भारतीय स्त्रियांमध्ये लोकप्रिय झालेला आहे. विंटेज आणि अँटीक दागिन्यांचा विचार केला तर असे अनेक अद्भुत डिझाईन्स भारतीय खजिन्यामध्ये आहेत. मी या लेखामध्ये केवळ सर्वात सुप्रसिद्ध दागिन्यांचा उल्लेख केला आहे कारण संपूर्ण यादीच खरोखर न संपणारी आहे.
Publisher: Kalyan Jewellers

पुराने गहनों का रिवाज़: क्या वापस लौट कर आ रहा है?

On
नया नौ दिन पुराना सौ दिन” हिन्दी भाषा में इससे ज़्यादा इस्तेमाल होने वाला मुहावरा शायद ही और कोई हो। फिर भी, ये मुहावरा पूरी तरह से सच है। खास कर फैशन उद्योग में जहां रुझान लगातार बहुत तेज़ी से बदलते रहते हैं, बहुत सारे ऐसे भी रुझान हैं जो शुरुआत में तो उतने लोकप्रिय नहीं होते लेकिन कुछ समय के बाद बहुत अधिक पसंद किए जाते हैं। वापस पुरानी ज्वेलरी की बात करें, तो स्वाभाविक है कि ज्वेलरी का वह स्टाइल जिसका इस्तेमाल हमारे पूर्वज करते थे आज बहुत प्रचलित हो गया है। यह कारीगरों के बारीकी से किए काम का नतीजा है जो डिज़ाइन और ज्वेलरी को सदा के लिए खूबसूरत बना देते हैं। इस प्रकार की ज्वेलरी का महिलाओं द्वारा सबसे ज़्यादा पसंद किए जाने का एक अन्य महत्वपूर्ण कारण है भावुकता जो पीढ़ी दर पीढ़ी ज्वेलरी को आगे देने के साथ ही गहरी होती चली जाती है। दुर्लभ और प्राचीन डिज़ाइनों के साथ-साथ, इन गहनों का संबंध हर महिला की उसकी माँ/दादी से जुड़ी प्यारी यादों से भी होता है। आइए कुछ लोकप्रिय प्राचीन ज्वेलरी पर एक नजर डालें जो आज के समय में फैशनेबल हैं। बिना तराशी ज्वेलरी जैसे कि पोल्की जिसमें शुद्ध, बिना तराशे हीरे के बड़े टुकड़ों का कलात्मक रूप से भव्य चोकर और नेकलेस में इस्तेमाल किया जाता है, आज किसी भी दुल्हन की पहली पसंद है। ऐसा इसलिए क्योंकि पोल्की ज्वेलरी इतनी भव्य और आकर्षक होती है कि आसपास खड़े लोगों की नजर सीधे दुल्हन के ऊपर जाती है जिसके बाद वे उसकी तारीफ करते नहीं थकते। किसी भी महिला की एक अन्य सबसे पसंदीदा ज्वेलरी होती है झुमका/जिमिकी/कोड़ा कडुक्कन। कई सदियों से संपूर्ण भारत में पहनी जाने वाली इस प्रकार की कान की बालियाँ सचमुच में समय और फैशन दोनों से अनछुई होती हैं क्योंकि बहुत पुराने समय से ही महिलाएं इस प्रकार की ज्वेलरी को पसंद करती आ रही हैं। कई शिल्पकारों और फैशन परस्त लोगों ने मामूली से दिखने वाले झुमके में बदलाव कर उन्हें शादी के कपड़ों के साथ-साथ पश्चिमी कपड़ों के साथ पहने जाने के अनुकूल बनाया है। कड़े सोने की चूड़ियाँ होते हैं जिनमें हीरे और बहुमूल्य रत्न जड़े हुए होते हैं। वे आकार में बड़े होते हैं जिन्हें आमतौर पर जोड़ी में या बस एक के तौर पर पहना जाता है। आज के समय में महिलाएं अपने हाथों में ढेर सारी चूड़ियाँ पहनना पसंद नहीं करती हैं। आज के दौर में कम से कम लेकिन बेहतरीन ज्वेलरी पहनने की चाहत ने महिलाओं को इन कड़ों की ओर आकर्षित किया है। एक और चीज जो आज की महिलाएं बहुत अधिक पहनना पसंद करती हैं वो है नथनी। बड़ी जड़ाऊ नथनी से लेकर छोटे-छोटे हीरों से जड़ी नथनी और आकर्षक पश्चिमी डिज़ाइनों वाली नथनी तक, सभी प्रकार की नथनी को पसंद किया जाता है। मांग टिक्का आमतौर पर एक इंच लंबा सोने का पेंडेंट होता जिसमें कभी-कभार हीरों को जड़ कर उत्कृष्ट डिज़ाइन बनाया जाता है। इसे विवाहित महिला के मंगलसूत्र में पिरोया जाता है। मुख्य रूप से उत्तर भारतीय महिलाओं द्वारा पहनी जाने वाली इस ज्वेलरी को सभी भारतीय महिलाएं पसंद करने लगी हैं। जब बात पुरानी और प्राचीन ज्वेलरी की हो तो भारतीय तिजोरियों में ढेर सारे शानदार डिज़ाइन मौजूद हैं। मैंने तो बस इस लेख में कुछ सबसे लोकप्रिय डिज़ाइनों की जानकारी दी है क्योंकि यह सूची बहुत ही लंबी है।
Publisher: Kalyan Jewellers

Can we help you?