Kalyan Jewellers, Shabia-Mussaffah, Abu Dhabi

Shop No 1 & 2, Ground Floor
Abu Dhabi- 43680

971-25500733

Call Now

Opens at

Articles

ଏହି କରୱା ଚୌଥରେ କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲାରୀର ସଙ୍କଳ୍ପ କଲେକ୍ସନ ସହିତ ନିଜ ସଂକଳ୍ପକୁ ଶକ୍ତି ଦିଅନ୍ତୁ।

On
କରୱା ଚୌଥକୁ ବର୍ଷର ସବୁଠୁ ରୋମାଣ୍ଟିକ ସମୟ ଭାବେ ଗ୍ରହଣ କରାଯାଇଥାଏ। ପୁସ୍ତକ ଓ ଚଳଚ୍ଚିତ୍ରରେ ଏହାର ବର୍ଣ୍ଣନା ଦେଖିବାକୁ ମିଳିଥାଏ, କରୱା ଚୌଥ ସେହି ଚମତ୍କାରୀ ଦିବସ ଯେଉଁଦିନ ବିବାହିତା ମହିଳା ନିଜ ସ୍ୱାମୀଙ୍କ ଦୀର୍ଘ ଜୀବନ ପାଇଁ ସାରା ଦିନ ଉପବାସ ରଖିଥାନ୍ତି। ବୈବାହିକ ସମ୍ପର୍କର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ବର୍ଣ୍ଣନାତୀତ, ଏବଂ ଦମ୍ପତିଙ୍କ ପାଇଁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଦିନ ନିଆରା। ପାରମ୍ପରିକ ଭାବେ, ଏହି ସମ୍ପର୍କକୁ ପାଳନ କରିବା ଲାଗି ବହୁ ପର୍ବପର୍ବାଣୀ ଏବଂ ପରମ୍ପରାସବୁ ରହିଛି ଯାହାକି କ୍ଷେତ୍ରୀୟ ଆଧାରିତ। ତେବେ, କରୱା ଚୌଥ ଏପରି ଏକ ସାର୍ବଜନୀନ ପର୍ବ ଯାହା ସମୁଦାୟ ନିର୍ବିଶେଷରେ ପାଳିତ ହୋଇଥାଏ। ପ୍ରେମ ଏବଂ ଶାଶ୍ୱତ ସଂକଳ୍ପକୁ ପାଳନ କରାଯାଉଥିବା ଏହି ପର୍ବରେ, ଅବିବାହିତ ଦମ୍ପତିମାନେ ମଧ୍ୟ ନିଜ ସାଥୀମାନଙ୍କ ପାଇଁ ପ୍ରେମ ଓ ପ୍ରାର୍ଥନା କରିବା ନିମନ୍ତେ ଉପବାସ ବ୍ରତ ରଖିଥାନ୍ତି, ଯାହାକି ସେମାନଙ୍କ ଦାମ୍ପତ୍ୟର ବନ୍ଧନକୁ ସୁଦୃଢ଼ କରିଥାଏ। କରୱା ଚୌଥର ଆଉ ଏକ ସୁନ୍ଦର ଦିଗ ହେଉଛି ବହୁ ସ୍ୱାମୀମାନେ ମଧ୍ୟ ସେମାନଙ୍କ ପତ୍ନୀଙ୍କ ସୁସ୍ଥ ଜୀବନ ପାଇଁ ଉପବାସ ରଖି ପ୍ରାର୍ଥନା କରିଥାନ୍ତି। ଏହି ପର୍ବ ମଧ୍ୟ ଶାଶୂ ଏବଂ ପତ୍ନୀ ତଥା ପତ୍ନୀ ଏବଂ ତାଙ୍କ ମା’ଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ସମ୍ପର୍କକୁ ସୁଦୃଢ଼ କରିବା ଲାଗି ପରିଚିତ। କରୱା ଚୌଥ ଦିନ ସୂର୍ଯ୍ୟୋଦୟ ପୂର୍ବରୁ ଶାଶୂ ତାଙ୍କ ବୋହୂକୁ ‘ସାରଗୀ’ ନାମକ ଏକ ଭୋଜନ ପରିବେଷଣ କରିଥାନ୍ତି ଯେଉଁଥିରେ ଫଳ, ପନିପରିବା ବ୍ୟଞ୍ଜନ ଓ ରୁଟି ଥାଏ। ଅନ୍ୟପକ୍ଷରେ ପତ୍ନୀଙ୍କ ମା’ ଉପହାର ପଠାଇଥାନ୍ତି, ଏହା ଅଳଙ୍କାର, ପୋଷାକ କିମ୍ବା ଖାଦ୍ୟ, କିମ୍ବା ଅନ୍ୟ କିଛି ହୋଇପାରେ। ଏହା ସ୍ନେହ ଏବଂ ପ୍ରେମର ପର୍ବ ଯାହା ପରିବାରକୁ ଗୋଟିଏ ସୂତ୍ରରେ ବାନ୍ଧି ରଖିବାରେ ସହାୟକ ହୋଇଥାଏ। କରୱା ଚୌଥ ଅବସରରେ, ମହିଳାମାନେ ସୁନ୍ଦର ଭାବେ ସଜେଇ ହୋଇଥାନ୍ତି, ହାତରେ ମେହେନ୍ଦି ଲଗାଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ଉତ୍ତମ ଆଭୂଷଣ ପରିଧାନ କରି ଆକାଶରେ ଜହ୍ନ ଉଇଁବାକୁ ଅପେକ୍ଷା କରିଥାନ୍ତି। କରୱା ଚୌଥ ସମ୍ପର୍କରେ ରାଣୀ ବୀରବତୀଙ୍କୁ ନେଇ ଏକ କିମ୍ବଦନ୍ତୀ ରହିଛି। ପ୍ରେମ ଓ ଅଭିଳାଷାର ଏକ କାହାଣୀ ଯାହା ପ୍ରଣୟ ଏବଂ ଏହି ଅନୁଷ୍ଠାନର ମାର୍ମିକତାକୁ ବ୍ୟକ୍ତ କରିଥାଏ। ସାତ ଭାଇଙ୍କର ସେ ଗୋଟିଏ ଭଉଣୀ ଥିଲେ, ତାଙ୍କୁ ଭାଇମାନେ ପ୍ରାଣଭରି ଭଲ ପାଉଥିଲେ। ବିବାହିତ ମହିଳାମାନେ ତାଙ୍କର ପ୍ରଥମ କରୱା ଚୌଥ ବାପ ଘରେ ହିଁ ହେଲା। ତାଙ୍କ ଭାଇମାନେ ଦେଖିଲେ ଯେ ସେ ଆଗ୍ରହର ସହିତ ଜହ୍ନ ଉଇଁବାକୁ ଅପେକ୍ଷା କରିଛନ୍ତି ଯାହାଫଳରେ ସେ ତାଙ୍କର ଉପବାସ ବ୍ରତ ଭାଙ୍ଗିପାରିବେ। ତାଙ୍କର ଉତ୍କଣ୍ଡା ଏବଂ କ୍ଷୁଦା ଦେଖି ବିବ୍ରତ ହୋଇ ତାଙ୍କର ଭାଇମାନେ ତାଙ୍କର ଉପବାସ ଭାଙ୍ଗିବା ନିମନ୍ତେ ଏକ ଉପାୟ ଚିନ୍ତା କଲେ। ସେମାନେ ଏକ ଅଶ୍ୱତ୍ଥ ବୃକ୍ଷରେ ଆଇନାଟିଏ ଟାଙ୍ଗିଦେଲେ ଯାହାକୁ ସେ ଜହ୍ନ ବୋଲି ଭାବିବେ ଏବଂ ନିଜର ଉପବାସ ଭାଙ୍ଗିଦେବେ। କିନ୍ତୁ ଯେଉଁ ମୁହୂର୍ତ୍ତରେ ସେ ଏହା କଲେ, ଖବର ମିଳିଲା ଯେ ତାଙ୍କ ସ୍ୱାମୀ, ରାଜାଙ୍କର ପରଲୋକ ଘଟିଛି। ବୀରବତୀ ସାରା ରାତି କାନ୍ଦିଲେ। ତାଙ୍କର ଦୁଃଖ ଓ ଯନ୍ତ୍ରଣା ଦେଖି ଦେବୀଙ୍କର ହୃଦୟ ତରଳିଗଲା ଏବଂ ପରଦିନ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଭକ୍ତିଭାବ ସହିତ ଉପବାସ ରଖିବା ପାଇଁ ଦେବୀ ତାଙ୍କୁ କହିଲେ। ମୃତ୍ୟୁର ଦେବତା ଯମ ତାଙ୍କ ସ୍ୱାମୀଙ୍କ ଜୀବନ ଫେରାଇ ଦେବାକୁ ବାଧ୍ୟ ହେଲେ, ସେ ଦେବୀଙ୍କ ପ୍ରତି ନିଜକୁ ସମର୍ପିତ ଦେଲେ ଏବଂ ପୁଣିଥରେ ସ୍ୱାମୀଙ୍କ ସହିତ ତାଙ୍କର ମିଳନ ହେଲା। ପ୍ରେମ ଏବଂ ଦୈବିକ ହସ୍ତକ୍ଷେପର ଏହି ଆବେଗଭରା କାହାଣୀର ଭିନ୍ନ ଭିନ୍ନ ରୂପ ରହିଛି। ତେବେ ସବୁ କାହାଣୀରେ ମୃତ୍ୟୁ ଉପରେ ପ୍ରେମର ବିଜୟକୁ ଚମତ୍କାର ଢଙ୍ଗରେ ବର୍ଣ୍ଣନା କରାଯାଇଛି। ପ୍ରତ୍ୟେକ ମୁହୂର୍ତ୍ତକୁ ବିଶେଷ ଭାବେ ପାଳନ କରିବା ଲାଗି ଦିନର ତିନୋଟି ସାଜ ରହିଛି। ସକାଳର ସାରଗୀ ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ପାଣି ରଖିବା ଏବଂ ଶେଷରେ ଜହ୍ନ ଉଇଁଆସି ଆପଣଙ୍କୁ ସ୍ନେହପୂର୍ଣ୍ଣ ଦୃଷ୍ଟିରେ ଚାହିଁବା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ମୁହୂର୍ତ୍ତକୁ ଅପେକ୍ଷା କରିବା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଭଲ ଦେବା ଲାଗି ଆପଣ ନିଜକୁ ସ୍ୱତନ୍ତ୍ର ଭାବେ ସଜାଇପାରିବେ। ସକାଳର ସାଜସଜ୍ଜା କରୱା ଚୌଥ ପାଇଁ ସବୁଠୁ ଆକର୍ଷଣୀୟ ସାଜସଜ୍ଜା ହେଉଛି ଅଳଙ୍କାର। ଏହା ଅଳ୍ପରେ ସନ୍ତୁଷ୍ଟ ହେବାର ଦିନ ନୁହେଁ। ସକାଳ ସଜ୍ଜାର ସବୁଠୁ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଅଳଙ୍କାର ହେଉଛି ପାଜେବ ବା ଏକ ପାଉଁଜି, ଏହା ଏକ ପ୍ରଣୟ ଏବଂ ମାଧୁର୍ଯ୍ୟପୂର୍ଣ୍ଣ ଅଳଙ୍କାର ଯାହାକୁ ଆପଣ ଗୋଇଠିରେ ପିନ୍ଧି ପାରିବେ। ପାଉଁଜିର ଶବ୍ଦ, ଅନ୍ୟମାନଙ୍କୁ ଆପଣଙ୍କ ଆଡ଼କୁ ଆକର୍ଷିତ କରିଥାଏ ଏବଂ ଆପଣ କେତେ ସୁନ୍ଦର ଦେଖାଯାଉଛନ୍ତି ତାହା ଜଣାଇ ଦେଇଥାଏ। ଜେମଷ୍ଟୋନ୍ କିମ୍ବା କୁନ୍ଦନ କାମ ହୋଇଥିବା ସୁନା ପାଉଁଜି ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। ସୁନାର ଏକ ହାର ସହିତ ମୋତି କିମ୍ବା ନୀଲମ ଖଞ୍ଜିତ ହୋଇଥିବା କାନଫୁଲ କିମ୍ବା ଝୁମୁକା ପିନ୍ଧନ୍ତୁ ଯାହା ସୂର୍ଯ୍ୟାଲୋକର ସ୍ପର୍ଶରେ ଆପଣଙ୍କ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ବଢ଼ାଇଦେବ। ଏହି ମିଶ୍ରଣ ସୂକ୍ଷ୍ମତାକୁ ଦର୍ଶାଇଥାଏ। ଏହି ସମୟରେ ଏକ ସାଲୱାର ସୁଟ୍ କିମ୍ବା ଏକ ହାଲୁକା ରଙ୍ଗର ସାଧାରଣ ଲେହଙ୍ଗା ପିନ୍ଧିବା ଉଚିତ୍। ନୀଳ, ହଳଦିଆ କିମ୍ବା ଗୋଲାପୀ ରଙ୍ଗରେ ଭଲ ଭାବେ ସାଜୁଥିବା ଏକ ସାଲୱାର ସୁଟ୍ ସହିତ ଖୋସା ବାନ୍ଧି କେଶ ସଜାଇବା ଆପଣଙ୍କ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟର ବହୁଗୁଣିତ କରିପାରେ। ଶେଷରେ ଏକ ପାଦକୁ ସାଜୁଥିବା ଏକ ଜୋତା ଆପଣଙ୍କ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ରୂପ ଦେଇପାରେ। ଏହି ରୂପସଜ୍ଜା ସହିତ ଆପଣ ଚୁଡ଼ି ମଧ୍ୟ ପିନ୍ଧି ପାରନ୍ତି, ଯାହା ଲାଲ ଏବଂ ଧଳା ରଙ୍ଗରେ ଥାଏ, ଏହା ଆପଣଙ୍କ ହାତକୁ କନ୍ୟା ଭଳି ରୂପ ଦେଇପାରେ। ଏହାର ବିକଳ୍ପ ଭାବେ, ଯଦି ଆପଣ ଏକ ସମସାମୟିକ ଏବଂ ପାରମ୍ପରିକ ରୂପସଜ୍ଜା ଚାହୁଁଥାନ୍ତି ତା’ହେଲେ ହୀରାଖଞ୍ଜିତ ଚୁଡ଼ି ଏବଂ ହୀରା ଝୁମୁକା ପିନ୍ଧି ଅଳ୍ପ ମେକଅପରେ ଆପଣ ଏକ ପାରମ୍ପରିକ ରୂପସଜ୍ଜା ପାଇପାରିବେ। ସନ୍ଧ୍ୟାର ରୂପସଜ୍ଜା ଏହା ଏପରି ଏକ ସମୟ ଯେତେବେଳେ ଆପଣ ନିଜକୁ ସବୁଠୁ ସୁନ୍ଦର ଭାବେ ସଜାଇବାକୁ ଚାହୁଁଥାନ୍ତି- ବିବାହ ସମୟ ଭଳି ନିଜକୁ ସଜେଇ ନିଅନ୍ତୁ; ଆପଣ ସବୁବେଳେ ପସନ୍ଦ କରୁଥିବା ମୀନାକରୀ ବା ପାରମ୍ପରିକ ଭାବେ ଗଢ଼ା ହୋଇଥିବା ଅଳଙ୍କାର ବିଷୟରେ ଚିନ୍ତା କରନ୍ତୁ। ମୋତି ଓ ମାଣିକ୍ୟ ଏବଂ ଡ୍ୟାଙ୍ଗଲର୍ସ ଲାଗିଥିବା ଏକ ଅସଲୀ ହାର ପିନ୍ଧିପାରନ୍ତି। ଲାଲ ଓ ସୁନେଲି ମିଶା କନ୍ୟାର ପୋଷାକ ଭଳି ଲେହଙ୍ଗା କିମ୍ବା ଶାଢ଼ୀ ସହିତ ଜଡ଼ାଉ ବା ଶେମ୍ପେନ ଷ୍ଟୋନ ହାର ସେଟ୍ ସହିତ ଆପଣଙ୍କ ରୂପକୁ ଏକ ସୁନ୍ଦର ସାଜ ଦେଇପାରେ ଏବଂ ଏକ ସୁରୁଚିପୂର୍ଣ୍ଣ ରୂପସଜ୍ଜାକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିପାରିଥାଏ। ଆପଣ ଛାତ ଉପରେ ରହି ବନ୍ଧୁ ଓ ପରିବାର ଲୋକମାନଙ୍କ ସହିତ କରୱା ଚୌଥ ପାଳନ କରିବାକୁ ଚାହୁଁଥିଲେ, ଆପଣ ନିଜ କେଶକୁ ମୁଣ୍ଡରେ ଖୋସା କରି ବାନ୍ଧିବା ଲାଗି ଆମେ ଆପଣଙ୍କୁ ପରାମର୍ଶ ଦେଉଛୁ। ଦରଜି କାମ ହୋଇଥିବା ଶାଢ଼ୀ ଏବଂ ଘାଗରା ସହିତ ସ୍ଲିଭଲେସ୍ କିମ୍ବା ଷ୍ଟ୍ରେପୀ ଚୋଲି ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। ଚନ୍ଦେଲିୟର ହୀରା କାନଫୁଲ, ସ୍ଲିକ୍ ନେକପିସ, ଛଅରୁ ଆଠଟି ଚୁଡ଼ି ଏବଂ ଆପଣଙ୍କ କେଶରେ ଲାଗିଥିବା କିଛି ଫୁଲ ଏହି ରୂପସଜ୍ଜାକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିବ। ଶୀତ ଋତୁ ଆରମ୍ଭ ହେଲେ କରୱା ଚୌଥ ଆସିଥାଏ ଏବଂ ଓଜନିଆ ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧିବାରେ ସଙ୍କୋଚ କରନ୍ତୁ ନାହିଁ। ତେବେ, ଆପଣ ଯଦି ଗୋଟିଏ ଅଳଙ୍କାର ପିସ୍ ଚାହୁଁଥାନ୍ତି ତା’ହେଲେ କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲାରୀ ପକ୍ଷରୁ ସଙ୍କଳ୍ପ କଲେକ୍ସନରୁ ମାଙ୍ଗ ଟିକା ଚୟନ କରିପାରିବେ। ନିଖୁଣ କାରୁକାର୍ଯ୍ୟ, ସୂକ୍ଷ୍ମ ଡିଜାଇନ ଏବଂ ଅଳଙ୍କାର ଚୟନ ଆପଣଙ୍କୁ ସେହି ରାଣୀ ଠାରୁ କମ୍ ସୁନ୍ଦର ରୂପସଜ୍ଜା ଦେବନାହିଁ, ଯିଏକି ନିଜ ତପସ୍ୟା ବଳରେ ନିଜ ସ୍ୱାମୀଙ୍କୁ ଯମମୁଖରୁ ଫେରାଇ ଆଣିଥିଲେ ଏବଂ ସମୟର ପରୀକ୍ଷାରେ ଉତ୍ତୀର୍ଣ୍ଣ ହୋଇଥିବା ଏହି ସୁନ୍ଦର ପରମ୍ପରା ଆରମ୍ଭ କରିଥିଲେ। ଆପଣ ଶିକାପୁରୀ ନଥ୍ କିଣିପାରିବେ, ଏହା ଏକ ବଡ଼ ନାକ ଫୁଲ ଯେଉଁଥିରେ ଚେନ୍ ସହିତ ଏକ ଛୋଟିଆ ପେଣ୍ଡେଣ୍ଟ ଲାଗିଥାଏ। ଶିକାରୀ ନଥ ଖୁବ ସୁନ୍ଦର ଏବଂ ସୂକ୍ଷ୍ମ ଦେଖାଦେଇଥାଏ ଯାହାକି ଅନ୍ୟ ଅଳଙ୍କାରର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ଫିକା ପକାଇ ଦେବାକୁ ସକ୍ଷମ। ତେବେ, ଲଙ୍ଗ ଏକ ଛୋଟ ଷ୍ଟଡ ବା ନାକ ପିନ୍ ଯାହା ଆପଣଙ୍କର ଲାଳିତ୍ୟକୁ ବଢ଼ାଇ ଦେବ। ଏହି ଲୁକ୍ କିମ୍ବା ଅନ୍ୟ ଲୁକ୍ ସହିତ ଚୋକର ଖୁବ୍ ଭଲ ସାଜିପାରେ, କାରଣ ଏହା ଏକ ଚମତ୍କାର ଅଳଙ୍କାର। ଯେପରିକି, ଆପଣଙ୍କର ଲମ୍ବା ଗଳାରେ ରାଣୀହାର ସେଟ୍ ସହିତ ଏକ ଚୋକର ଖୁବ ସୁନ୍ଦର ମାନିବ। ତେବେ, ଯଦି ଆପଣ ଅଧିକ ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧିବାକୁ ଚାହୁଁନାହାନ୍ତି, ତା’ହେଲେ ବ୍ୟସ୍ତ ନହୋଇ ଆପଣ ଏକ ‘ୟୁ’-ଶେପ୍ ସାତଲାଡାର ହାର ପିନ୍ଧି ପାରନ୍ତି। ଏସବୁ ଅଳଙ୍କାର ମିଶ୍ରଣ ଆପଣଙ୍କୁ ରାଜକୀୟ ଏବଂ ସୁନ୍ଦର ରୂପ ଦେଇପାରେ। ଜହ୍ନ ଦେଖିବା ସମୟରେ ଆପଣଙ୍କର ରୂପସଜ୍ଜା ଚମକକୁ ଅଧିକ ଗୁରୁତ୍ୱ ଦିଅନ୍ତୁ। ଏହି ଲୁକ୍ ପାଇଁ ଲେହଙ୍ଗା ସବୁଠୁ ଉପଯୁକ୍ତ। ଆମର ପ୍ରୟାଶ ହେଉଛି ଆପଣଙ୍କ ପସନ୍ଦ ଥିବା ରଙ୍ଗର ବ୍ରାଇଟ୍ ଶେଡ୍ ଲେହଙ୍ଗା ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। ମେକଅପ୍ କଥା କହିଲେ ଆପଣ ଆଖି ମେକଅପ୍ ଉପରେ ଅଧିକ ଜୋର ଦେଇପାରନ୍ତି, ଏହା ହୁଏତ’ କ୍ୟାଟ-ଉଇଙ୍ଗଡ୍ ଆଇଲାଇନର କିମ୍ବା ସ୍ମୋକୀ ଆଇ ଲୁକ୍ କିମ୍ବା ଏପରି କଟ୍ କ୍ରିଜ୍ ହୋଇପାରେ। ଲାଲ କିମ୍ବା କୋରାଲ ଲିପଷ୍ଟିକ ଏବଂ ଅଧିକ ଗ୍ଲସ୍ ସହିତ ମିଶିଲେ ଏହା ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ଆହୁରି ବଢ଼ାଇ ଦେଇପାରେ। ଅଳଙ୍କାର କଥା କହିଲେ, ଆମେ ଆପଣଙ୍କୁ କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସର ସଂକଳ୍ପ ସଂଗ୍ରହରୁ ବାଲିସ ପାଇଁ ପରାମର୍ଶ ଦେଉଛୁ। ଏହା ଏକ ସୁନ୍ଦର କାନଫୁଲ ବିଶେଷ କରି ଗୋଲ, ଅର୍ଦ୍ଧଚନ୍ଦ୍ରାକାର, ପଥରରେ ଅଳଙ୍କୃତ। ଏହା ସହିତ ଆପଣ ମୁଦି ପିନ୍ଧିପାରିବେ, ଯାହାକି ନିର୍ବନ୍ଧ ମୁଦି ଭଳି ହୋଇପାରେ। ଆପଣ ନିଜର ଆଭୂଷଣକୁ ଅଧିକ ସୁନ୍ଦର କରିବା ଲାଗି ଉଜୁରୀ ମୁତ୍ରା ସୁନା ହାର ପିନ୍ଧିପାରିବେ। ଚୁଡ଼ି, ମଙ୍ଗଳସୂତ୍ର, ବିନ୍ଦି, ବାହାଘର ମୁଦି ଏବଂ ସଲିଟାୟର ଖଚିତ ଅଳଙ୍କାର ବିନା ବିବାହିତ ମହିଳାମାନଙ୍କର ପାର୍ବଣ ରୂପସଜ୍ଜା ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ହୋଇନଥାଏ। ସଙ୍କଳ୍ପ କଲେକ୍ସନର ଆଭୂଷଣଗୁଡ଼ିକ ସେହି ଆଧୁନିକ ମହିଳାଙ୍କର ପ୍ରତିନିଧିତ୍ୱ କରିଥାଏ, ଯେଉଁମାନେ ନିଜ ପ୍ରେମ ଓ ଜୀବନସାଥୀଙ୍କ ପାଇଁ କରୱା ଚୌଥ ପାଳିଥାନ୍ତି। ଆଭୂଷଣ ସଂଗ୍ରହ ପରମ୍ପରା, ପସନ୍ଦ କରିବାର ସ୍ୱାଧୀନତା ଏବଂ ଭାରତୀୟ ପରମ୍ପରାରେ ଅନ୍ତର୍ନିହିତ ଏକ ସମ୍ମାନରେ ଏହି ଅଳଙ୍କାର କଲେକ୍ସନ ଅନୁପ୍ରାଣିତ। କହିବା ତାତ୍ପର୍ଯ୍ୟ, ଏହି ମୁହୂର୍ତ୍ତକୁ ସେହି ମହିଳାଙ୍କ ପାଇଁ ପାଳନ କରନ୍ତୁ, ଯିଏ ଆପଣଙ୍କ ପାଇଁ କିମ୍ବା ଆପଣଙ୍କ ସହିତ ଉପବାସ କରିଥାନ୍ତି ତାଙ୍କୁ ଏକ ହସ୍ତକଳା ଅଳଙ୍କାର କିମ୍ବା ସଲିଟେୟର ମୁଦି ଉପହାର ଦେଇ ଏ ମୁହୂର୍ତ୍ତକୁ ତାଙ୍କ ପାଇଁ ସବୁଦିନ ଲାଗି ସ୍ମରଣୀୟ କରି ଦିଅନ୍ତୁ। ଜହ୍ନକୁ ଦେଖି ସାରି ସେମାନେ ଯେତେବେଳେ ଆପଣଙ୍କ ଆଡ଼କୁ ଚାହିଁବେ ଠିକ୍ ସେହି ସମୟରେ ତାଙ୍କୁ ଉପହାର ଦିଅନ୍ତୁ। ବନ୍ଧୁ ଓ ପରିଜନ, ସଙ୍ଗୀତ ଓ ଭୋଜନ, ଆହୁରି କିଛି ଅକୁହା ଶବ୍ଦ ମଧ୍ୟରେ, ଏହି ମୁହୂର୍ତ୍ତ ସବୁଦିନ ପାଇଁ ସ୍ମରଣୀୟ ହୋଇ ରହିବ।
Publisher: Kalyan Jewelers

கல்யாண் ஜீவல்லர்ஸின் சங்கல்ப் சேகரிப்புடன் துர்கா

On
பூஜையை கொண்டாடுங்கள்இந்த ஆண்டின் மிகச்சிறந்த தருணம் இதோ வந்துவிட்டது! முன்பனிக் காலத்தின் அழகான வானம், கொட்டு மேளங்களின் லயம் மாறாத இசை, மல்லிகையின் நறுமணம், அழகுற அலங்கரிக்கப்பட்ட பூஜை பந்தல்கள், அழகாக புத்தாடை புனைந்த ஆடவர் மற்றும் பெண்டிர் - வங்காளத்தில் துர்கா பூஜையுடன் தொடர்புடைய பிம்பங்களாகும். மேற்கு வங்காளத்திலும், நாட்டின் இதர பகுதிகளிலும் அஸ்வினி மாதத்தில் துர்கா பூஜை கொண்டாடப்படுகிறது.. வட இந்தியாவில், இந்தப் பண்டிகை நவராத்திரி என்றும், தசரா என்றும் அழைக்கப்படுகிறது. எருமை வடிவம் எடுத்து வந்த மகிஷாசுரனை துர்கா தேவி வதம் செய்து அழித்து அடைந்த வெற்றி துர்கா பூஜையாகக் கொண்டாடப்படுகிறது. வங்காளம் முழுவதிலும், கிழக்கு இந்தியாவின் சில பகுதிகளிலும் பெண் சக்தியின் வலிமையை எடுத்துக் காட்டும் வகையில் துர்கா பூஜை கொண்டாட்டங்கள் அமைந்துள்ளன. அன்பு, ஆற்றல், மனத்திட்பம், அறிவு, தீமையைத் தண்டிக்கும் திறன், அழியா அழகு ஆகியவற்றின் சின்னமாக துர்கா திகழ்கிறாள். துர்கா தேவியின் சிலைகள் பளிச்செனப் பிரகாசிக்கும் சேலைகள் அணிவிக்கப்பட்டு, பாரம்பரிய வங்காள நகைகள் பூட்டி அலங்கரிக்கப்படுகின்றன. இந்த வலிமையின் அடிப்படையில்தான் இத்தனை ஆண்டுகளாக இலக்கியங்களிலும், திரைப்படங்களிலும் வங்கப் பெண்கள் சித்தரிக்கப்படுகின்றனர். எனவே, வங்கப் பெண்கள் தங்களது மனவலிமை மற்றும் கருணையைக் கொண்டாடும் வகையில், இந்த பூஜை தினங்களில் அழகுஅழகான சேலைகளும், பாரம்பரிய எத்னிக் நகைகளும் அணிந்து தங்களை அழகுபடுத்திக் கொள்கின்றனர். பண்டிகை நாட்கள் தொடங்குவதற்கு முன்பே, ஆனந்தமும், உற்சாகமும், விழாக்கால பரவசமும் நம்மால் உணர முடிகிறது. இந்த பதினோரு நாட்களும் இந்த ஆண்டிலேயே மிகவும் மகிழ்ச்சியான நாட்களாகும். ஆண்களும், பெண்களும், முதியோரும், இளையோரும் அனைவரும் ஒன்று சேர்ந்து உற்சாகத்துடன் கொண்டாடி, ஒவ்வொன்றாக பூஜை பந்தல்களைக் கண்டு களித்து, சுவையான உணவு வகைகளை உண்டு, மிக முக்கியமாக தங்களுக்குப் பிரியமானவர்களுடன் நேரத்தைக் கழித்து அனுபவித்து மகிழ்கின்றனர். பாரம்பரிய வங்காளி நகைகள் அணிந்தால்தான் வங்கப் பெண்கள் முழுமை அடைகின்றனர். காலத்தின் சோதனைகளை வென்று நிற்கும் தங்க நகைகளை அவர்கள் பெரிதும் மதித்துப் போற்றுகின்றனர். மற்றும் இதர விலைமதிப்பற்ற உலோகங்களினால் செய்யப்பட்ட நகைகளையும் அவர்கள் விரும்பி அணிகின்றனர். அழகான சேலைகளுக்குப் பொருத்தமாக, சிக்கென இருக்கும் புதிய டிசைன்களில் இருந்து பாரம்பரிய கைவினை நகைகள் வரை அணிந்து, கால் கொலுசுகள் தழையத் தழையத் தரையைத் தொட சிணுங்கியபடி நடந்து ஒவ்வொரு பெண்ணும் தனக்குள் மறைந்திருக்கும் தேவதையை வெளிக்காட்டுகின்றனர். மகா சஷ்டி: இந்த நாளில், துர்க்கை அம்மன் பூமிக்கு இறங்கி வருகிறாள். வீட்டில் அகால் போதன், ஆமந்த்ரன், அதிவாஸ் என்னும் புனிதச் சடங்குகளை நடத்தி அவளை வரவேற்கும் திருநாள்தான் மகா சஷ்டி. நறுமணம் கமழும் பூஜை சடங்குகளுடனும், கொட்டு முழக்கங்களுடனும் அடுத்த சில நாட்களுக்கு அன்னை துர்க்கை நமது வாழ்க்கையின் ஓர் அங்கமாக ஆகிவிடுவதைக் குறிக்க அடுத்தடுத்து பல நிகழ்வுகள் நடந்தேறுகின்றன. இந்த நாள் ஒவ்வொரு வங்காளிக்கும் அவரவர் வேர்களை நினைவூட்டுவதாக அமைகிறது. துர்க்கை அம்மனுடன் கூடவே, இந்த சில நாள் கொண்டாட்டத்திற்காக வங்காளிகள் ஒவ்வொருவரும் எந்தப் பகுதியில் இருந்தாலும் ஊருக்கு வந்து சொந்தபந்தங்களுடன் கூடிக்குலாவி மகிழ்கின்றனர். மலரும் நினைவுகளுடன் சிரித்து மகிழ்ந்து களிக்கின்றனர். மகா சஷ்டி தினத்தன்று, துர்க்கை அம்மனும், அவளது குழந்தைகளும், அசுரர்களும் முழுத் தோற்றத்தில் வெளிப்படுகின்றனர். அவர்களின் முகத்திரை விலக்கப்பட்டு, நுட்பமாக நெய்யப்பட்ட பட்டு உடைகள் மற்றும் நகைகளுடன் அலங்கரிக்கப்படுகின்றனர். அன்னையின் படைபரிவாரங்கள் தங்களது அஸ்திரங்களை ஏந்திக் கொண்டு வெளி வருகின்றனர். விழாக்கோலம் களை கட்டுகிறது. மூலை முடுக்கு எல்லாம் விளக்குகள் ஒளிவெள்ளத்தைப் பாய்ச்சுகின்றன. சமுதாயம் முழுவதுமே கொண்டாட்டத்தில் பங்கேற்று, பாரம்பரிய வங்காளி உடைகளையும், நகைகளையும் அணிந்து ஊர்வலத்தில் கலந்து கொள்கின்றனர். இது பண்டிகைக் காலத்தின் முதல் நாள் என்பதால், செமி காஷுவல், இந்தோ-வெஸ்ட்டர்ன், சல்வார் குர்த்தா அல்லது காட்டன் சேலைகள் என்று உடைகளை அணிவது எழுதப்படாத விதியாகிறது. எனவே, நேர்த்தியான சல்வார் கமீஸ் அல்லது ஒரு சேலை உடுத்தி, குறைவான மேக்கப்புடன், லேசான கண்மை தீட்டி, பகட்டாக இல்லாமல் முகப்பொடி தூவி, அட்டகாசமான அதரங்களுடன் தோற்றமளிக்கின்றனர். பகல் பொழுதில், மிகவும் பிரகாசமான மற்றும் லைட்டான ஷேடுகளில் சேலைகள் அணிந்து அவற்றுக்குப் பொருத்தமாக அற்புதமாகத் தொங்கும் பென்டண்ட்டுடன் கூடிய தங்கச் சங்கிலி போன்ற நெக்லேஸ் அணிகின்றனர். பிளெய்ன் தங்க வளையல்களைக் கைகளிலும், காதுகளில் லேசான எடையுள்ள தங்க ஜிமிக்கிகளையும் அணிகின்றனர். மாலை நேரத்தில், ஜாமண்டி எனப்படும் பகட்டான பட்டுச் சேலையும், அதற்குப் பொருத்தமாக குந்தன் காதணிகள் அல்லது பாரம்பரியத் தோற்றத்திற்காக தங்க நெக்லேஸ் அணிகின்றனர். மகா சப்தமி என்பது கொண்டாட்டங்களின் ஆரம்ப நாளாகும். அன்றுதான் அன்னை துர்க்கை உயிர்த்தெழுகிறாள். புனிதமான சடங்குடன் அவளுக்குக் கண்கள் திறக்கப்படுகின்றன. முதல் தடவையாக அன்னை இந்த அவனியைப் பார்க்கத் தொடங்குகிறாள். வாழை மரத்தை ஒரு மணப்பெண் போல அலங்கரித்து, அதில் துர்க்கை அம்மனின் ஆன்மா இறக்கப்படுகிறது. இந்தச் சடங்கு ‘பிராண் பிரதிஷ்டா’ எனப்படுகிறது. மகா சப்தமி நாளில் எடுப்பாகவும், கவர்ச்சியாகவும் தோற்றமளித்திட நீர்நீலம், இளஞ்சிவப்பு அல்லது மஞ்சள் நிறங்களில் பின்னல் நெசவு சேலைகளை அணிகின்றனர். பகட்டான, அதே வேளையில் குறைவான ஆடம்பரங்களுடன் கூடிய சல்வார் சூட் அல்லது ஒரு குர்த்தி அவற்றுக்கு ஏற்ப அலங்காரங்கள், நகைகள் அணியப்படுகின்றன. உதடுகளில் கோரல் சாயம் பூசப்படுகிறது. அல்லது லேசாக தடவப்படுகிறது. நகைகள் அணியும்போது, நினைவிருக்கட்டும், சிம்பிளான நகைகள்தான் அட்டகாசமாகத் தோற்றமளிக்கும். எனவே, காதுகளில் ஒரு ஜோடி வைரத் தோடு அல்லது மீனாக்கரி மற்றும் பல வளையங்கள் கோர்க்கப்பட்டு கையால் வடிவமைக்கப்பட்ட காதணிகள் உங்களுக்கு முழுமையான தோற்றத்தைத் தரும். மாலை வேளைகளில், ஸ்மோக்கி கண்கள் மற்றும் எடுப்பான உதடுகளுடன் வெளியே வலம் வாருங்கள். மாலை நேரத் தோற்றத்தை முழுமையாக்கிட யதார்த்தமான நிறங்களில் தங்கத்தில் செய்யப்பட்ட ஸக்கா, போலா, மற்றும் நோவா நகைகளும், பாரம்பரிய வங்காளி சீதா மாலையும் உதவுகின்றன. பவளம், மரகதம், வைரம் போன்ற விலைமதிப்பற்ற கற்கள் பதிக்கப்பட்ட தங்க அல்லது வெள்ளி வளையல்களை அல்லது ஒரு ஷாராவுக்கு துணையாக கைகளில் மாட்டுங்கள். குறைவான அளவில் பிளாட்டினம் அல்லது ஒயிட் கோல்டு நகைகள் இக்கால ஃபாஷனுக்கு எடுத்துக் காட்டாகத் திகழ்ந்து, ஃப்யூஷன் உடைகளுக்குப் பொருத்தமாக உள்ளன. மகா அஷ்டமி: மகா அஷ்டமி தினத்தன்று மிகவும் எலிகண்ட்டான சேலைகளையும், பாரம்பரிய நகைகளையும் அணியுங்கள். இந்த நாளில்தான் துர்க்கை அம்மன் மகிஷாசுரனைக் கொன்றதாக ஐதீகம். இந்த நாளில் அஷ்டமியும், நவமியும் சந்திக்கும் வேளையில் அஞ்சலி மற்றும் சாந்தி பூஜைகள் நடத்தப்படுகின்றன. மகா அஷ்டமி காலை நேரத்தில், எடுப்பான, கண்களைக் கவரக்கூடிய லிப்ஸ்டிக் போடுங்கள், சிவப்பு அல்லது மரூன் நிறத்தில் இருந்தால் மிகவும் கவர்ச்சியாக இருக்கும். கண்களுக்கு டார்க்காக மேக்கப் பண்ணுங்கள். ஆனால், பகல் மற்றும் இரவு நேரக் கொண்டாட்டங்களுக்கு ஏற்ப கலரை மாற்றிக் கொள்ள வேண்டும். இந்த நாளில் கிளாஸிக்கான பெங்காலி ச்சூர் நகைகள் அணிவது பொருத்தமாக இருக்கும். தங்க வளையல்கள் நல்ல அதிர்ஷ்டம் மற்றும் வெற்றியின் அடையாளம் என்பதால், ஒன்று அல்லது அதற்கு மேற்பட்ட எண்ணிக்கையில் வளையல்களை கைகளில் மாட்டுங்கள். இதற்கு மாற்றாக, பிரேஸ்லெட் அல்லது பலா அணிந்தால் கைகளின் அழகைக் கூட்டும். இறுதியாக, சிக் அல்லது சோக்கர் மற்றும் ஜும்க்காக்களினால் உங்கள் தோற்றம் முழுமை பெறும். ஒயிட், ஆஃப் ஒயிட் அல்லது பேஸ்ட்டல் கலர்களில் நேர்த்தி மற்றும் எடுப்பான அழகை தூக்கிக் காட்டும் வகையில், கைகளால் தயாரிக்கப்பட்ட கான் பாஷா அல்லது காது கஃப்கள் அணியுங்கள். மேக்கப் மென்மையாக இருக்கட்டும். தற்காலப் பெண்மணிகளின் தோற்றத்தை கச்சிதமாக்கிட பாரம்பரியமும், இக்கால ஸ்டைலும் கலந்த நகைகள் அணிவது நல்லது. துர்கா பூஜையில் மிகவும் முக்கியமான சடங்கு சாந்தி பூஜையாகும். அஷ்டமி திதியின் கடைசி 24 நிமிடங்கள் மற்றும் நவமி திதியின் முதல் 24 நிமிடங்கள் சாந்திக் கலப்பு எனப்படுகிறது. இது அஷ்டமி மற்றும் நவமியின் புனிதமான சந்திப்பாகும். இந்த நேரத்தில் நடத்தப்படும் சாந்தி பூஜை பக்தர்களின் மனதில் வலுவான பக்தி உணர்வுகளைக் கிளர்ந்தெழச் செய்கிறது. ஏனென்றால் இந்த நேரத்தில்தான் சண்ட- முண்ட அசுரர்கள் அம்மனின் முன்னால் வீழ்ந்தனர். அவள் தீமைகளை மீண்டும் வென்று காட்டினாள். சாந்தி பூஜையின்போது சாமுண்டி அவதாரத்தில் வரும் துர்க்கை அம்மனை கொட்டுமேளங்களின் முழக்கங்களுக்கு இடையே நாம் வணங்குகிறோம். தீமையை எதிர்த்து நன்மை வெற்றி கொண்ட தருணம் இது. மேலும், பெண் சக்தியின் வெற்றியையும் இது குறிக்கிறது. துர்க்கை அம்மன் மகிஷாசுரனின் முன்னால் மஞ்சள் சேலை அணிந்து, பொன்னிறத்தில் பொலிந்து காட்சி தருகிறாள். அநீதியையும், அவமானத்தையும் தடயமே இல்லாது துடைத்து ஒழிக்கிறாள். இந்த வேளையில். பிரகாசமான நிறத்தில் அல்லது மஞ்சள் நிறத்தில் சேலை அணிந்து, தங்க ஜிமிக்கிகள் மற்றும் பலவரிசை நெக்லஸ்கள் அல்லது ஏழு அடுக்கு மாலை அணியும்போது உங்களின் தோற்றம் முழுமை அடையும். போல்கி நெக்லஸ் அல்லது கலர் நெக்லஸ் இந்த நேரத்திற்கு மிகவும் பொருத்தமாக இருக்கும். மேக்கப்புக்கு எடுப்பான லிப்ஸ்டிக், பளிச்சிடும் ஐ ஷேடோ, மற்றும் கன்னக் கதுப்புக்களில் செம்பவள நிறத்தில் பிளஷ் பூச்சு நன்றாக இருக்கும். மகா நவமி: மகா நவமி தினத்தில் மகா ஆரத்தி எடுக்கப்படுகிறது. ஆரத்தியில் எரியும் நெருப்பு தீமையை ஒழிக்க துர்க்கை அம்மன் எரிக்கும் நெருப்பைக் குறிக்கிறது. இந்த நாளில் மக்கள் தங்களது உண்ணா நோன்பை முடிக்கின்றனர். நவமி கொண்டாட்டத்திற்காக, பாரம்பரியமான அலங்காரங்களைச் செய்யுமாறு நாங்கள் பரிந்துரைக்கிறோம். அது நேர்த்தியாக இருக்கும். பாரம்பரிய பெங்கால் காட்டன் புடைவைகளை அணிந்து அதற்குப் பொருத்தமாக பாரம்பரிய பெங்கால் நகைகளை அணியுங்கள். நவமி தினத்தில் எடுப்பான கண்களுடன், கலர் அல்லது ஷிம்மர் போட்டு, ஐஷேடோவுக்கு பொருத்தமான லிப்ஸ்டிக் தடவுங்கள். நகைகளுக்கு, கலவி சங்கல்ப் தங்க வளையல்களை மாட்டுவது பொருத்தமாக இருக்கும். அவற்றின் நேர்த்தியும், செழுமையும், நுட்பமான வேலைப்பாடுகளும் துர்க்கை அம்மன் கைலாயத்திற்குத் திரும்பும் கடைசி நாள் கொண்டாட்டத்திற்குப் பொருத்தமாக இருக்கும். இதற்கு இணையாக, கைவளையல்களுக்கும், சரவிளக்கு போலத் தொங்கும் காதணிகளுக்கும் பொருத்தமாக பென்டன்ட் உள்ள நெக்லேஸ் அணியலாம். இந்த காம்பினேஷன் பளிச்செனத் தெரியலாம். ஆனால் ‘’ அடித்து வீழ்த்துவது போல் ‘’ இருக்காது. கடைசியாக, சௌகரியமான ஃபாஷன், கெட்டியான ஸில்ஹௌட்ஸ், ஸ்ட்ரெயிட் கட்ஸ் ஆகியவற்றைத் தேர்ந்தெடுங்கள். கூடவே, மாலை வேளையில் ஆண்டிக் நெக்லேஸும், நுட்பமாக வடிவமைக்கப்பட்ட மூக்குத்தி வளையமும் அணியலாம். விஜய தசமி: இந்த நாளில், துர்க்கை அம்மன் தமது கணவரான சிவபெருமானுடம் சேர்வதற்காகத் தமது பயணத்தைத் தொடங்குகிறார். நீர்நிலையில் அடையாளப்பூர்வமாக சிலை கரைக்கப்பட்ட பிறகு, ஒரு குடத்தில் நீர் நிரப்பி, அதில் வேப்பிலைகளைச் செருகி, சுமங்கலிப் பெண்கள் ‘ சிந்தூர் கேலா’ சடங்கை நிகழ்த்துகின்றனர். இது அன்னை துர்க்கை கணவர் சிவபெருமானுடன் இணைவதைக் குறிக்கிறது. கண்களில் கண்ணீர் மல்க, அம்மனின் நெற்றியில் குங்குமம் சாற்றி அவளுக்கு விடை கொடுக்கின்றனர். அவளுக்கு இனிப்பு ஊட்டுகின்றனர். அவள் பாதங்களைத் தொட்டு வணங்குகின்றனர். அதன் பிறகு, பெண்கள் பரஸ்பரம் முகங்களில் மஞ்சள் பூசி தங்களது சுமங்கலித் தன்மையைக் கொண்டாடுகின்றனர். புகழ்பெற்ற சிவப்பு பார்டருடன் கூடிய வெள்ளைச் சேலையான லால் பத் ஷாதா சேலை அணிந்து, பண்டிகையின் கடைசி நாளைக் கொண்டாடுகின்றனர். இந்தச் சடங்கின்போது தங்க சோக்கர், சில கைவளையல்கள், ஸக்கா, போலா, நோவா போன்ற நகைகளை அணியலாம் என பரிந்துரைக்கிறோம். மணிக்கட்டில் பளிச்சிடும் மகரமுக்கி பலாவும், காதுகளில் வங்காளிகளுக்கு ஒரு தனித்தன்மை வாய்ந்த சின்னமாகத் திகழும் சந்திரபாலா தோடும் அணியுங்கள். நளினமாகத் தோற்றமளிக்க ஒவ்வொரு விரலிலும் மோதிரங்களுடன் கையில் ரத்னச்சூர் பிரேஸ்லெட் அணியுங்கள். இது பெரிதும் மயில் அல்லது தாமரை வடிவ டிசைன்களில் செய்யப்படுகிறது. நிறைவு வங்கப் பெண்களின் உண்மையான அழகு துர்கா பூஜை கொண்டாட்டங்களின்போதுதான் வெளிப்படுகிறது என்று பொதுவாக நம்பப்படுகிறது. துர்க்கை அம்மன் அமைதி, மகிழ்ச்சி, வலிமை மற்றும் வெற்றியைக் குறிக்கிறாள். துர்கா பூஜையின் உணர்வை எதிரொலிக்கும் வகையில் சங்கல்ப் நகைகளின் கலெக் ஷன் அமைந்துள்ளது. வங்கத்தின் துடிப்பான பண்டிகைகளுக்கும், பலதரப்பட்ட கலாச்சாரம் மற்றும் மக்களுக்கும் உண்மையான அஞ்சலியாகத் திகழும் இந்த கலெக் ஷன் நகைகள் ஒவ்வொன்றும் அந்தந்த வட்டாரங்களில் ஷாப்பிங் செய்வோரின் விருப்பங்களை மனதில் வைத்து வடிவமைக்கப்பட்டுள்ளன. மிகவும் நுட்பமாக வடிவமைக்கப்பட்ட ஆண்டிக் நகைகளில் இருந்து எத்னிக் குந்தன் நகைகள் செட் வரை, ஒவ்வொரு நகையும் பிரம்மாண்டமாக , வங்காளத்தின் கலாச்சாரப் பாரம்பரியத்தைப் பிரதிபலிக்கும் வகையில் நுண்ணிய விவரங்களுடன் தயாரிக்கப்பட்டுள்ளன. சங்கல்ப் என்பது கல்யாண் ஜீவல்லர்ஸ் வழங்கும் ஒரு பாரம்பரிய நகை வடிவமாகும். இது தற்கால உணர்வுகளைப் பிரதிபலித்து, பாரம்பரியத்தைத் தழுவி செய்யப்பட்டுள்ள காலத்தை வென்ற நகையாகும். இந்த வகை பாரம்பரிய நகைகள் அழகுபடுத்துவதோடு, வளச்செழிப்பு மற்றும் நம்பிக்கையின் சின்னமாகவும் திகழ்கின்றன. கல்யாண் ஜீவல்லர்ஸ் வழங்கும் சங்கல்ப் நகைகள் கலெக்ஷன், வங்காளிக் கலாச்சாரத்தின், சிறப்பாக துர்கா பூஜையின் சாராம்சத்தை உண்மையிலேயே சித்தரிக்கின்றன. இதன் நுட்பமான வேலைப்பாடுகளும், நளினமான டிசைன்களும், குறை ஒன்றும் இல்லாத நேர்த்தியும் சங்கல்ப் கலெக் ஷன் மற்ற வகை நகைகளில் இருந்து வித்தியாசப்படுத்திக் காட்டுகின்றன. இந்தக் கலெக் ஷனில் பாரம்பரிய தங்கச் சூடியில் இருந்து, சீதா மாலை வரையும், லேசான எடையுள்ள ஜிமிக்கிகளில் இருந்து கான் பஷா வரையும், பாரம்பரியத்தையும், நவீன காலத்தையும் மிகச் சுலபமாக இணைக்கும் வகையில் தயாரிக்கப்பட்டுள்ளன. எனவே, வங்கக் கலாச்சாரம் மற்றும் பாரம்பரியத்தை எடுத்துக் காட்டும் சில கிளாஸிக் நகைகளை வாங்கும்போது அவற்றில் கல்யாண் ஜீவல்லர்ஸின் சங்கல்ப் கலெக் ஷன் முத்திரை இருக்கிறதா எனப் பார்த்து வாங்குங்கள்.
Publisher: Kalyan Jewelers

ଭାଇ ଦୂଜ୍ - ପ୍ରିୟ ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀଙ୍କ ଶାଶ୍ୱତ ପ୍ରେମକୁ ଅନୁଭବ କରିବାର ଦିନ

On
ପାର୍ବଣ ଋତୁରେ ଭାଇ ଦୁଜ୍ ଭଳି ପାରମ୍ପରିକ ପର୍ବ ପାଳନ କରିବାର ଏକ ସ୍ୱତନ୍ତ୍ର ଅନୁଭୂତି ରହିଛି। ଏହି ପର୍ବ ସହ ଯୋଡ଼ି ହୋଇଥିବା ସମ୍ପର୍କ ଚିରନ୍ତନ। ଭାଇ ଭଉଣୀଙ୍କ ଜୀବନର ଅତୀତ ଅନେକ ମଧୁର ସ୍ମୃତିରେ ପୂରି ରହିଥାଏ। ପିଲାଦିନର ଝଗଡ଼ା, ପରସ୍ପର ପ୍ରତି ଅଭିଯୋଗ, ବୟସ୍କଙ୍କ ହସ୍ତକ୍ଷେପ, ଗୋପନ କଥା କହିବା ଓ ଦୁଇ ଭାଇଭଉଣୀଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ବୁଝାମଣା ଏ ସମ୍ପର୍କକୁ ଏକ ନିଆରା ରୂପ ଦେଇଥାଏ। ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀଙ୍କ ଭଳି ସମ୍ପର୍କ ବିଭିନ୍ନ ପର୍ଯ୍ୟାୟ ଦେଇ ଗତି କରିଥାଏ, କିନ୍ତୁ ଏ ସମ୍ପର୍କର ବନ୍ଧନ ସବୁବେଳ ପାଇଁ ସୁଦୃଢ଼ ହୋଇ ରହିଥାଏ। ଭାଇ ଦୂଜ୍ ଓ ରକ୍ଷା ବନ୍ଧନ ଭଳି ପର୍ବ ମାଧ୍ୟମରେ ଏହି ବିଶେଷ ସମ୍ପର୍କକୁ ପାଳନ କରିବାର ବିଧି ଭାରତୀୟ ପରମ୍ପରାରେ ରହିଛି। ଏହି ଦିନରେ, ଚତୁର୍ଦ୍ଦିଗରେ ଏକ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟମୟ ପରିବେଶ ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଥାଏ। ଘର ଦ୍ୱାରରେ ଫୁଲ ମାଳା ଟଙ୍ଗା ହୋଇଥାଏ, ପୂଜା ଥାଳିରେ ତିଳକ, ପାରମ୍ପରିକ ମିଠା ବ୍ୟଞ୍ଜନ ଶୋଭାପାଏ ଓ ଘରସାରା ମହକି ହୋଇଥାଏ। ପୁରୁଷ ଓ ମହିଳାମାନେ ପାରମ୍ପରିକ ପୋଷାକ ଓ ସୁନ୍ଦର ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧି ସଜେଇ ହୋଇଥାନ୍ତି। ଦୁଇଦିନିଆ ଦୀପାବଳି ପାଳନ ପରେ ପବିତ୍ର ଭାଇ ଦୂଜ୍ ପର୍ବ ପାଳନ କରାଯାଇଥାଏ। ଏହି ପବିତ୍ର ପର୍ବରେ ଭାଇର ଆୟୁଷ, କଲ୍ୟାଣ ଓ ସମୃଦ୍ଧି କାମନା କରି ଭଉଣୀମାନେ ଭଗବାନଙ୍କୁ ପ୍ରାର୍ଥନା କରିଥାନ୍ତି। ଭଉଣୀମାନେ ସଜା ହୋଇଥିବା ଥାଳି ଧରି ଭାଇକୁ ବନ୍ଦାପନା କରିଥାନ୍ତି, ତାଙ୍କ କପାଳରେ ତିଳକ ଲଗାଇ ଦିଅନ୍ତି, ତାଙ୍କୁ ମିଠା ଖୁଆଇ ଦିଅନ୍ତି। ଭାରତର ବିଭିନ୍ନ ସ୍ଥାନରେ ଥିବା ଭିନ୍ନ ଭିନ୍ନ ପରମ୍ପରା ଅନୁଯାୟୀ, ଥାଳିରେ ସଧାରଣତଃ ସିନ୍ଦୂର, ଅରୁଆ ଚାଉଳ, ନଡ଼ିଆ ଓ ଦୂବ ଥାଏ। ଭାଇର କପାଳରେ ତିଳକ ଲଗାଇ ଦେଇ ଭଉଣୀ ତା’କୁ ନକାରାତ୍ମକ ଶକ୍ତି ଠାରୁ ସୁରକ୍ଷା ଦେଇଥାଏ। ପ୍ରେମ ଓ ସ୍ନେହର ଏକ ପ୍ରତୀକ ଭାବେ ଭାଇମାନେ ନିଜ ଭଉଣୀଙ୍କୁ ଉପହାର ଭେଟି ଦେଇଥାନ୍ତି। ଏହାର ପ୍ରତିବଦଳରେ ଭଉଣୀମାନେ ସୁସ୍ୱାଦୁ ବ୍ୟଞ୍ଜନ, ସ୍ନେହ ଓ ଉପହାର ଦେଇ ଭାଇ ମୁହଁରେ ହସ ଫୁଟାଇଥାନ୍ତି। ଏହି ପର୍ବ ଉପଲକ୍ଷେ ନିଜ ପ୍ରିୟ ଭାଇ-ଭଉଣୀଙ୍କୁ ଭେଟି ଦେବା ଲାଗି ସବୁଠୁ ଶ୍ରେଷ୍ଠ ଉପହାର ହେଉଛି ଅଳଙ୍କାର ଯାହାର ମୂଲ୍ୟ ଓ ଚମକ ସବୁଦିନ ପାଇଁ ବଜାୟ ରହିଥାଏ। ଏଠାରେ ଦିଆଯାଉଥିବା ଉପହାର ସମ୍ପର୍କ ବନ୍ଧନର ଏକ ପ୍ରତିକ ହୋଇଥାଏ। ଭାଇ ଭଉଣୀ ବଡ଼ ହେବା ସହିତ ଏହି ଏହି ଉପହାରର ସ୍ମୃତି ଦିନକୁ ଦିନ ଅଧିକ ସତେଜ ହୋଇ ଚାଲିଥାଏ। ସୁନା ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ହୀରା କାନଫୁଲ, ହସ୍ତଶିଳ୍ପ କାରିଗରୀ ହୋଇଥିବା ପାରମ୍ପରିକ ହାର ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ସମସାମୟିକ ଆଭୂଷଣ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଅଳଙ୍କାରକୁ ସବୁବେଳେ ଏକ ଚମତ୍କାର ଉପହାର ଭାବେ ବିବେଚନା କରାଯାଇଥାଏ। ଅନ୍ୟ ପର୍ବପର୍ବାଣୀ ଭଳି, ଭାଇ ଦୁଜ୍ ମଧ୍ୟ ଭାରତର ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରାନ୍ତରେ ଭିନ୍ନ ଭିନ୍ନ ଭାବେ ପାଳିତ ହୋଇଥାଏ। ତେବେ, ମୂଳ ପ୍ରଥା ସମାନ ବିଶ୍ୱାସ ଓ ପରମ୍ପରାକୁ ନେଇ ପାଳନ କରାଯାଇଥାଏ। ଭାଇ ଦୂଜ ପର୍ବ ପଶ୍ଚିମବଙ୍ଗରେ ଭାଇ ଫୋଟା, ମହରାଷ୍ଟ୍ରରେ ଭାଉ ବିଜ, ନେପାଳରେ ଭାଇ ଟିକା ଏବଂ ଭାରତର କେତେକ ପ୍ରାନ୍ତରେ ଯମ ଦ୍ୱିତୀୟା ନାମରେ ପାଳିତ ହୋଇଥାଏ। ଏହି ପବିତ୍ର ଦିନକୁ ନେଇ କେତେକ ପୌରାଣିକ କିଂବଦନ୍ତି ରହିଛି। ଭଗବାନ କୃଷ୍ଣ ଯୁଦ୍ଧରେ ନରକାସୁରକୁ ପରାସ୍ତ କରିଥିଲେ। ଦୀର୍ଘ ଦିନ ଧରି ଚାଲିଥିବା ଯୁଦ୍ଧରେ ବିଜୟ ହାସଲ କରିବା ପରେ ଭଗବାନ ଶ୍ରୀକୃଷ୍ଣ ତାଙ୍କ ଭଉଣୀ ସୁଭଦ୍ରାଙ୍କ ଘରକୁ ଯାଇଥିଲେ। ଭାଇଙ୍କୁ ଦେଖି ସେ ଖୁସିରେ ବିଭୋର ହୋଇଯାଇଥିଲେ। ସୁଭଦ୍ରା ଭାଇଙ୍କ କପାଳରେ ‘ତିଳକ’ ଲଗାଇ ତାଙ୍କୁ ସହୃଦୟତାର ସହ ସ୍ୱାଗତ କରିଥିଲେ। ସେ ଭଗବାନ କୃଷ୍ଣଙ୍କୁ ଫୁଲ ମାଳ ଦେଇ ମିଠା ଖୁଆଇ ସ୍ୱାଗତ କରିଥିଲେ, ଏହି ଠାରୁ ହିଁ “ଭାଇ ଦୂଜ” ପର୍ବ ପାଳନର ପରମ୍ପରା ଆରମ୍ଭ ହେଲା। ମୃତ୍ୟୁ ଦେବତା ଯମ ଏବଂ ତାଙ୍କ ଭଉଣୀ ଯମୁନାଙ୍କୁ ନେଇ ଆଉ ଏକ ପୌରାଣିକ କିଂବଦନ୍ତି ରହିଛି। କିଂବଦନ୍ତି ଅନୁଯାୟୀ, ଯମ ତାଙ୍କ ଭଉଣୀ ଯମୁନାଙ୍କୁ ପୂର୍ଣ୍ଣିମା ପରବର୍ତ୍ତୀ ଦ୍ୱିତୀୟ ଦିନ ଅର୍ଥାତ୍ ଦ୍ୱିତୀୟା ତିଥିରେ ଭେଟିଥିଲେ। ଯମୁନା ନିଜ ଭାଇଙ୍କୁ ଆଳତୀ, ତିଳକ ଓ ମିଠା ଦେଇ ସ୍ୱାଗତ କରିଥିଲେ। ଏଥିରେ ପ୍ରୀତ ହୋଇ ଯମ ତାଙ୍କ ଭଉଣୀଙ୍କୁ ବରଦାନ ଦେଇଥିଲେ ଯେ, ଏହି ଦିନରେ ଜଣେ ଭଉଣୀ ଓ ଭାଇ ଯଦି ଯମୁନା ନଦୀରେ ବୁଡ଼ ପକାଇବେ ତା’ହେଲେ ସେମାନଙ୍କୁ ମନୁଷ୍ୟ ଜନ୍ମରୁ ମୁକ୍ତି ମିଳିବ। ପଶ୍ଚିମବଙ୍ଗରେ ଏହି ପର୍ବ “ଭାଇ ଫୋଟା” ନାମରେ ପ୍ରସିଦ୍ଧ, ଭଉଣୀ ସାରା ଦିନ ଉପବାସ ରହି ଭାଇର ଆଗମନକୁ ଅପେକ୍ଷା କରିଥାନ୍ତି। ଏହାପରେ ସେ ଭାଇର କପାଳରେ ଘିଅ, କଜ୍ୱଳ ଓ ଚନ୍ଦନରେ ତିନି ଗାର ଟାଣି ତିଳକ ଲଗାଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ତାଙ୍କୁ ବନ୍ଦାପନା କରିଥାନ୍ତି। ବନ୍ଦାପନା ପରେ ଭାଇ ପାଇଁ ଭଉଣୀ ପ୍ରାର୍ଥନା କରିଥାଏ ଏବଂ ସେମାନେ ପରସ୍ପରକୁ ଉପହାର ଦେଇଥାନ୍ତି। ପାରମ୍ପରିକ ମିଠା ଓ ବ୍ୟଞ୍ଜନ ପ୍ରସ୍ତୁତି ସହିତ ହର୍ଷଉଲ୍ଲାସରେ ଏହି ପର୍ବ ପାଳନ କରାଯାଏ। ଭାଇ ଦୂଜ୍ ପର୍ବ ମହାରାଷ୍ଟ୍ରରେ “ଭାଉ ବିଜ୍” ନାମରେ ପାଳନ କରାଯାଏ। ପରମ୍ପରା ଅନୁଯାୟୀ, ଭଉଣୀ ଆଙ୍କିଥିବା ଏକ ଚାରି କୋଣ ବିଶିଷ୍ଟ କୋଠରୀ ଭିତରେ ଭାଇ ବସିଥାଏ। ଏହି ପର୍ବକୁ ଭାରତର କେତେକ ପ୍ରାନ୍ତରେ “ଯମ ଦ୍ୱିତୀୟା” ନାମରେ ପାଳନ କରାଯାଇଥାଏ। ଏହି ଦିନ ଭଉଣୀଙ୍କ ହାତ ତିଆରି ଖାଦ୍ୟ ଖାଉଥିବା ଭାଇଙ୍କର ଯମ କୌଣସି କ୍ଷତି କରିନଥାନ୍ତି। ବିହାରରେ ଭାଇ ଦୂଜ ପର୍ବକୁ ଗୋଧନ ପୂଜା ନାମରେ ପାଳନ କରାଯାଇଥାଏ। ଏହି ପ୍ରେମପୂର୍ଣ୍ଣ ସମ୍ପର୍କକୁ ପାଳନ କରିବା ଲାଗି ଉପହାର ଦେବା ଜରୁରି ହୋଇଥାଏ। ଏଥିରେ କେହି ଦ୍ୱିମତ ହେବେ ନାହିଁ ଯେ ଅଧିକାଂଶ ସମ୍ପର୍କକୁ ନିବିଡ଼ କରିବାରେ ଉପହାରର ଏକ ବିଶେଷ ଭୂମିକା ରହିଥାଏ। କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲାରୀ ପକ୍ଷରୁ ପ୍ରସ୍ତୁତ ହୋଇଥିବା ଅଳଙ୍କାରର ସମ୍ଭାର ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ ଆପଣଙ୍କ ଭଉଣୀଙ୍କୁ ସବୁଦିନ ସାଇତି ରଖିବା ଭଳି ଏକ ଉପହାରର ଅନୁଭବ ଦେବ। ହୀରାଖଚିତ ଅଳଙ୍କାରଗୁଡ଼ିକ ସୂକ୍ଷ୍ମ, ରୁଚି ସମ୍ପନ୍ନ ହୋଇଥାଏ ଏବଂ ଏହାର ଶୈଳୀ କେବେ ବି ପୁରୁଣା ହୁଏ ନାହିଁ। ହୀରଖଚିତ କାନଫୁଲ ଗରିମାମୟ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ବ୍ରକ୍ତ କରିଥାଏ। ଯଦି ସେ ସରଳ କିନ୍ତୁ ରୁଚିସମ୍ପନ୍ନ ଅଳଙ୍କାର ପସନ୍ଦ କରୁଥାଆନ୍ତି, ତା’ହେଲେ ଆପଣ ଏକ ପ୍ଲାଟିନମ ଚେନ୍ ସହିତ ସୂକ୍ଷ୍ମ ଭାବେ ଡିଜାଇନ ହୋଇଥିବା ପେଣ୍ଡାଣ୍ଟ କିମ୍ବା ଶ୍ୱେତ ସୁବର୍ଣ୍ଣରେ ହୀରାଖଚିତ ଏକ ଷ୍ଟଡ୍ ସେଟ ନିଅନ୍ତୁ ବୋଲି ଆମେ ପରାମର୍ଶ ଦେବୁ। ପ୍ରତ୍ୟେକଟି ମୁହୂର୍ତ୍ତ ପାଇଁ ଏହା ଏକ ଆଦର୍ଶ ଉପହାର। ଦୈନନ୍ଦିନ ହୀର ଅଳଙ୍କାର ବା ଅଫିସ୍ କଲେକ୍ସନରୁ ଅତିସୂକ୍ଷ୍ମ ଭାବେ ଡିଜାଇନ ହୋଇଥିବା ହୀରା ହାର ଭଉଣୀଙ୍କ ଗଳାକୁ ବେଶ ମାନିବ ଓ ତାଙ୍କ ବ୍ୟକ୍ତିତ୍ୱକୁ ଏକ ସ୍ୱତନ୍ତ୍ର ପରିଚୟ ଦେବ। କାମ କରିବା ସମୟରେ କିମ୍ବା ବନ୍ଧୁମାନଙ୍କ ସହିତ ଭୋଜିରେ ଯୋଗ ଦେବା ବେଳେ, ସବୁଦିନ ଚମକିବା ଭଳି ଏକ ହୀରା ହାର ତାଙ୍କୁ ଉପହାର ଦିଅନ୍ତୁ। ଆପଣଙ୍କ ଭଉଣୀ ଯଦି ଚୁଡ଼ି ପସନ୍ଦ କରନ୍ତି, ତା’ହେଲେ ଆପଣ ଅତି ସତର୍କତାର ସହିତ ହସ୍ତ କାରିଗରୀ ମାଧ୍ୟମରେ ଗଢ଼ା ହୋଇଥିବା ପାରମ୍ପରିକ ଚୁଡ଼ିର ସମ୍ଭାରରୁ ନିଜ ପସନ୍ଦର କିଛି ଚୟନ କରିପାରନ୍ତି। ନୀଳ ରତ୍ନ ପଥର କିମ୍ବା ରୁବି ଖଚିତ ଅତି ସୂକ୍ଷ୍ମ ଓ ସୁନ୍ଦର ଭାବେ ଗଢ଼ା ହୋଇଥିବା ବ୍ରେସଲେଟ ଅଥବା ପତଳା ଷ୍ଟେକେବଲ ସୁନା ବ୍ରେସଲେଟ୍ ଆପଣଙ୍କର ହାଇଷ୍ଟ୍ରିଟ୍ ଫେଶନକୁ ବହୁଗୁଣିତ କରିବ। ନିଦା ସୁନା ଅଳଙ୍କାର ଅଳଙ୍କାର ଏକ ଭିନ୍ନ ରୂପସଜ୍ଜା ଦେଇପାରେ। ଆଧୁନିକ ମହିଳାମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଆପଣ ବୋଲ୍ଡ ଓ ଏକ୍ସପେରୀମେଣ୍ଟାଲ ଡିଜାଇନ ଚୟନ କରିପାରନ୍ତି। ଏପରି ମହିଳାମାନେ ସାହସୀ, ନିର୍ଭୀକ ହୋଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ଅଜଣା ଦୁନିଆକୁ ଆବିଷ୍କାର କରିବାକୁ ଭଲ ପାଆନ୍ତି। ଅର୍ଣ୍ଣେଟ୍ ମୋଟିଫ, ସିଲ୍ଭର ବେସ୍, ରୋଜ୍ ଗୋଲ୍ଡ ତାଙ୍କର ଅଳଙ୍କାର ଆଭୂଷଣକୁ ଖୁବ ସୁନ୍ଦର ରୂପସଜ୍ଜା ଦେବ। ଯଦି ସେ ପାରମ୍ପରିକ ଅଳଙ୍କାରକୁ ଭଲ ପାଆନ୍ତି, ତା’ହେଲେ କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସର ହସ୍ତ କାରିଗରୀ ସଂଗ୍ରହରୁ ଗୋଟିଏ ଅଭିନବ ଆଭୂଷଣ ସଂଗ୍ରହ କରି ନିଅନ୍ତୁ। ସୁନ୍ଦର ଭାବେ ଗଢ଼ା ହୋଇଥିବା କାନଫୁଲ, ମୁଦି ଏବଂ ହାର ନିଃସନ୍ଦେହରେ ଭଉଣୀଙ୍କୁ ଆନନ୍ଦ ଦେବ। ଭାଇଙ୍କ ପାଇଁ ଗହଣା କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସର ପୁରୁଷ କଲେକ୍ସନରେ ଭରି ରହିଛି ଅଭିନବ, ଚିନ୍ତାଶୀଳ ଭାବେ ଗଢ଼ା ହୋଇଥିବା ଉପହାର। ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧିବା ଏକ ପ୍ରଚଳନ। ଜଣେ ଆଧୁନିକ ଚିନ୍ତାଧାରା ସମ୍ପନ୍ନ ବ୍ୟକ୍ତି ସୂକ୍ଷ୍ମତା, ଗୁଢ଼ତା ଓ ଐଶ୍ୱର୍ଯ୍ୟକୁ ପସନ୍ଦ କରିଥାନ୍ତି। ଏହି କଲେକ୍ସନରେ ରହିଛି ଅତିସୂକ୍ଷ୍ମ ହୀରା ଅଳଙ୍କାର ବିପୁଳ ସମ୍ଭାର ଯାହା ପ୍ରତ୍ୟେକ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟପ୍ରିୟ ବ୍ୟକ୍ତିଙ୍କୁ ସାଜିଥାଏ। ପୁରୁଷଙ୍କ ପାଇଁ ହୀରା ଅଳଙ୍କାର ଉପହାର ଲାଗି, ଅଭିନବ ପତଳା ଡିଜାଇନ ହୋଇଥିବା ଏକ ସୁନା ମୁଦି ଏକ ଆଦର୍ଶ ଉପହାର ହୋଇପାରେ। କ୍ଲାସିକ ସୁନା ଚେନ୍ ସବୁବେଳେ ପାଇଁ ଯେକୌଣସି ବିଶେଷ ମୁହୂର୍ତ୍ତରେ ଉପହାର ଦେବାକୁ ଉପଯୁକ୍ତ ହୋଇଥାଏ। ଆଇକନିକ ବ୍ରେଡେଡ୍, ଡବଲ ଟୋନ୍ ହୋଇଥିବା ବ୍ରେସଲେଟ୍ ହାତକୁ ଭଲ ସାଜିଥାଏ ଓ ଆଖିକୁ ଫ୍ୟାନ୍ସି ଦେଖାଯାଏ। ସୁନା ଓ ଉଜ୍ଜ୍ୱଳ କଳା ଓନିକ୍ସର ମିଶ୍ରଣରେ ଏକ ଡେକୋରେଟିଭ୍ ମୋଟିଫ୍ ସହିତ କଳା ଓନିକ୍ସ ମୁଦି ଉପହାର ଦେବା ପାଇଁ ଅତି ଚମତ୍କାର ହୋଇଥାଏ। ଏକ ପ୍ରଭାବଶାଳୀ ଓ ଅଭିନବ ଡିଜାଇନ ପୁରୁଷଙ୍କ ପାଇଁ ଅତି ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ରୂପସଜ୍ଜା ହୋଇଥାଏ। ଶ୍ରେଷ୍ଠ ଜିନିଷ ପସନ୍ଦ କରୁଥିବା ଭାଇଙ୍କ ପାଇଁ ୨୪ କ୍ୟାରେଟ୍ ସୁନା ମୁଦ୍ରା ସୁନାର ସବୁଠୁ ଖାଣ୍ଟି ରୂପ ହୋଇଥାଏ। ରୁଚିଶୀଳ ପୁରୁଷଙ୍କ ପୋଷାକର ପ୍ରତିକ ହୋଇଥାଏ କୁର୍ତ୍ତା ବୋତାମ। ହୀରା ସହିତ ସୁନା ଖଚିତ ବୋତାମ ତାଙ୍କର କୁର୍ତ୍ତାକୁ ଏକ ଶ୍ରେଷ୍ଠ ଦୃଶ୍ୟ ପ୍ରଦାନ କରିଥାଏ। କିମ୍ବା ବୋଧହୁଏ ଏହି ସୁନ୍ଦର ହୀରା କଫ୍ଲିଙ୍କସ୍ ଗୁଡ଼ିକ ତାଙ୍କର ସୁଟ ଓ ଟକ୍ସେଡସକୁ ଅଧିକ ସୁନ୍ଦର ରୂପ ଦେଇଥାଏ। ଭାଇ ଦୁଜ୍ ପର୍ବକୁ ସାରା ଦେଶରେ ଖୋଲା ହୃଦୟରେ ଏବଂ ଅପାର ଆନନ୍ଦ ସହିତ ସ୍ୱାଗତ କରାଯାଇଥାଏ। ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ, ଏହି ପବିତ୍ର ପର୍ବର ନାମ ଏବଂ ପରମ୍ପରା ବିଭିନ୍ନ ଅଞ୍ଚଳରେ ଭିନ୍ନ ହୋଇଥାଏ। କିନ୍ତୁ ଭାଇ ଦୂଜର ମହକ, ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀଙ୍କ ଚିରସ୍ଥାୟୀ ସ୍ନେହର ସମ୍ପର୍କକୁ ପ୍ରସାରିତ କରିଥାଏ। ସୁସ୍ୱାଧୁ ମିଠା ଏବଂ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଉପହାର ସହିତ ଏହା ଆହୁରି ସାର୍ବଜନୀନ ହୋଇଥାଏ। ଉପହାର ପାଇବା ଏକ ଚମତ୍କାର ଅନୁଭବ ଦେଇଥାଏ, ଉପହାର ଦେବା ଏକ ଆତ୍ମସନ୍ତୋଷ ପ୍ରଦାନ କରିଥାଏ। ଏହି ଭାବନାକୁ କେବେ କଳନା କରି ହେବ ନାହିଁ। ଉପହାର ଖୋଲିବାର ଆନନ୍ଦ ଯେତିକି ଖୁସି ଦେଇଥାଏ, ଉପହାର ଦେବା ତା’ଠାରୁ ଅଧିକ ଆତ୍ମସନ୍ତୋଷ ପ୍ରଦାନ କରିଥାଏ, ଯାହାକି ଶାଶସ୍ୱତ ହୋଇଥାଏ। ଉପହାର ଦେବା ସ୍ନେହକୁ ସ୍ୱୀକାର କରିବାର ଏକ ପ୍ରତୀକ ହୋଇଥାଏ, ଏହାର ନିଜର ଭାବନାକୁ ବ୍ୟକ୍ତ କରିବା ଲାଗି ଯଥେଷ୍ଟ। ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ସହଭାଗୀ ସମ୍ପର୍କ ସବୁଠୁ ସ୍ୱତନ୍ତ୍ର ହୋଇଥାଏ, ପରସ୍ପରକୁ ସମର୍ଥନ କରିବା ଏବଂ ଅସୁବିଧା ସମୟରେ ପରସ୍ପରକୁ ସାହାଯ୍ୟ କରିବା ଏ ସମ୍ପର୍କର ଅଭିନବତ୍ୱକୁ ବ୍ୟକ୍ତ କରିଥାଏ। ତେଣୁ ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀ ପରସ୍ପରକୁ ଦେଉଥିବା ଉପହାର ସବୁବେଳ ପାଇଁ ଅକ୍ଷୂର୍ଣ୍ଣ ରହିଥାଏ।
Publisher: Kalyan Jewelers

या करवा चौथला तुमच्या नवसाचे नूतनीकरण करा कल्याण ज्वेलर्सच्या संकल्प कलेक्शनद्वारे

On
करवा चौथला वर्षातील सर्वात रोमँटिक वेळ म्हणता येईल! पुस्तकं आणि चित्रपटांमध्ये साजरा केला जाणारा, करवा चौथ हा एक महत्त्वपूर्ण दिवस आहे जेव्हा विवाहित स्त्रिया संपूर्ण दिवस उपवास आणि त्यांच्या पतीच्या दीर्घायुष्यासाठी प्रार्थना करतात. वैवाहिक नात्याचे हे सौंदर्य स्पष्टीकरणाच्या पलीकडे आहे, आणि प्रत्येक दिवस दांपत्यासाठी अद्वितीय असतो. पारंपारिकपणे, हे मिलन साजरे करण्यासाठी प्रदेशानुसार अनेक सण आणि विधी आहेत. तथापि, करवा चौथ हा सर्वात जास्त साजरा केला जाणारा सण आहे जो वर्षानुवर्षे समुदायांच्या सीमा ओलांडून गेला आहे. प्रेम आणि शाश्वत प्रतिज्ञेच्या या उत्सवात, अविवाहित जोडपे देखील आपल्या जोडीदारांसाठी प्रेम साजरे करण्यासाठी आणि चिरंतन सहजीवनाकरिता प्रार्थना म्हणून उपवास ठेवतात. करवा चौथची सुंदर गोष्ट म्हणजे अनेक पती आपल्या त्यांच्या पत्नींच्या निरोगी जीवनाची प्रार्थना करण्यासाठी उपवास देखील ठेवतात. हा सण सासू आणि सून आणि पत्नी आणि तिची आई यांच्यातील सुंदर बंध दृढ करण्यासाठी ओळखला जातो. करवा चौथच्या दिवशी, सासू आपल्या सुनेला सरगी देते, सूर्योदयापूर्वी घ्यावयाच्या या जेवणात फळे, भाज्या आणि चपात्या यांचा समावेश आहे. दुसरीकडे पत्नीची आई, भेटवस्तू पाठवते, जे दागिने, कपडे किंवा अन्न किंवा काहीही असू शकते. प्रेम आणि स्नेह यांनी भरलेला हा प्रसंग असतो आणि कुटुंबांना एकत्र आणतो. करवा चौथच्या दिवशी स्त्रिया सुंदर पोशाख करतात, हाताला मेहंदी लावतात आणि चंद्र उगवण्याच्या क्षणाची प्रतीक्षा करण्यासाठी उत्कृष्ट दागिने परिधान करतात. लोककथेमध्ये करवा चौथला राणी वीरवतीच्या गोष्टीसोबत जोडले आहे. प्रेम आणि उत्कृष्टतेची ही गोष्ट या विधीची प्रणय आणि मार्मिकता यांना जोडते. काळजी घेणारे आणि प्रेम करणाऱ्या सात भावांची ती एकुलती एक बहीण होती. विवाहित स्त्री म्हणून तिचा पहिला करवा चौथ तिच्या माहेरी होता. तिच्या भावांच्या लक्षात आले की ती चंद्राची आतुरतेने वाट पाहत आहे जेणेकरून ती आपला उपवास सोडेल. तिला तहान आणि भुकेने थकलेले पाहून तिच्या भावांनी एक मजेदार योजना आखली. तिचा उपवास सोडण्यासाठी. त्यांनी पिंपळाच्या झाडावर आरसा टांगला आणि तिला चंद्र आहे असे वाटावे जेणेकरून तिला तिचा उपवास सोडता येईल. पण तिने ते केले त्याच क्षणी बातमी आली की तिचा नवरा, राजा, मरण पावला आहे. वीरवती रात्रभर रडली. तिच्या निखळ वेदना आणि हानी पाहून एका देवीने तिला पूर्ण समर्पणाने दुसऱ्या दिवशी उपवास ठेवायची सूचना दिली. मृत्यूचा देव, यमाला तिच्या पतीला पुनरुज्जीवित करण्यास भाग पडेल, आणि तिने देवीची आज्ञा पाळली आणि तिचे नवऱ्यासोबत पुन्हा मीलन झाले. या मनमोहक कथेच्या वेगवेगळ्या आवृत्त्या आहेत ज्यात प्रेम आणि देवी हस्तक्षेप साजरा केला जातो आणि शेवट नेहमीच आत्म्यांच्या पुनर्मिलन आणि मृत्यूवर विजय मिळवण्याबद्दल असतो. प्रत्येक प्रसंगाला खास बनवण्यात मदत करण्यासाठी दिवसाचे तीन लुक्स इथे आहेत. सकाळपासून सर्गीपासून ते पाणी ठेवण्यापर्यंत आणि शेवटी चंद्र जेव्हा तुमच्याकडे प्रेमाने हसतो त्या क्षणाची वाट पाहत असताना, तुमच्या उत्कृष्टतेसाठी तुम्हाला वेगळे लुक्स असणे आवश्यक आहे. सकाळचा लुक कोणत्याही करवा चौथच्या लुकचे मुख्य आकर्षण म्हणजे दागिने. हा दिवस मिनिमलिझमसाठी कॉल करत नाही. सकाळचे ठळक वैशिष्ट्य म्हणजे पैंजण किंवा अँकलेट, तुमच्या घोट्याभोवती फिरणारे रोमँटिक आणि खेळकर दागिने. पैंजणचा आवाज, प्रत्येकजण तुझ्याकडे पाहण्यास आणि तुला किती सुंदर दिसतो हे सांगण्यास प्रवृत्त करतो. रत्न किंवा कुंदन वर्कसह सोन्याचे पैंजण घ्या. पेंडंटसह सोन्याचा हार आणि मोती आणि नीलमणी असलेले कानातले शोधा जे सूर्यप्रकाशाचा स्पर्श झालेल्या तुमच्या रंगाला पूरक आहेत. या संयोगामुळे आधुनिकतेची खात्री होते. सहसा, सलवार सूट किंवा म्यूट कलरचा साधा लेहेंगा या वेळेस योग्य असतो. एक निळा, पिवळा किंवा गुलाबी योग्य प्रकारे तयार केलेला आणि फिट केलेला सलवार सूट ज्यामध्ये बन किंवा वरच्या गाठीमध्ये केसांची शैली केली जाते, ती तुम्हाला सहज सुंदर बनवू शकते. शेवटी, तुमचा लुक पूर्ण करण्यासाठी आरामदायक फॅशन पादत्राणे घ्या. या लुकसोबत, तुम्ही चुडा देखील घालू शकता, ज्यामध्ये रंगीबेरंगी बांगड्या असतात, सामान्यत: लाल आणि पांढऱ्या रंगात, तुमच्या मनगटांना वधूची चमक मिळते. पर्यायाने, तुम्हाला समकालीन पारंपारिक लुक तयार करायचा असेल, तर न्यूड मेकअपसह डायमंड जडवलेल्या बांगड्या आणि डायमंडचे झुमके घाला आणि एक निखळ लुक बनवा. संध्याकाळचा लुक हीच ती वेळ आहे जेव्हा तुम्हाला सर्वोत्तम दिसायचे असते - तुमच्या लग्नातील कपडे परिधान करण्यासह; तुम्हाला नेहमी हव्या असलेल्या मीनाकारी किंवा पारंपारिकपणे हस्तकला दागिन्यांचा विचार करा. रुबी आणि मोती आणि डँगलरसह हसली हार जोडा. जडाऊ किंवा शॅम्पेन स्टोन नेकलेससह जोडलेल्या लाल आणि सोन्याच्या वधूच्या रंगांमध्ये भव्य लेहेंगा किंवा साडी टोन ऑफसेट करू शकते आणि एक मोहक फिनिश आणू शकते. जर तुम्ही गच्चीवर जाऊन मित्र आणि कुटुंबियांच्या मेळाव्यात करवा चौथ साजरे करण्याचा विचार करत असाल, तर आम्ही तुम्हाला तुमचे केस टॉप नॉटने बांधून ठेवण्याचा सल्ला देतो. स्लीव्हलेस किंवा स्ट्रॅपी चोळी घाला आणि जरदोजी वर्क असलेली साडी किंवा घागरा घाला. शँडेलियर डायमंड ईअररिंग्ज, एक स्लीक नेकपीस, सहा ते आठ बांगड्या आणि तुमच्या केसांमध्ये काही फुलं लूक पूर्ण करतील. करवा चौथ हिवाळ्याच्या आरंभी सुरू होतो आणि तुम्हाला जड दागिन्यांपासून दूर राहण्याची गरज नाही. तथापि, जर तुम्हाला दागिन्यांचा एक भाग हायलाइट करायचा असेल तर, कल्याण ज्वेलर्सच्या संकल्प कलेक्शनमधील मांग टिक्का पहा. प्रत्येक दागिना एक कथा सांगतो. बारीकसारीक तपशील, नाजुक डिझाईन्स आणि परिधान केल्यावर दागिन्यांची निवड तुम्हाला त्या सुंदर राणीपेक्षा कमी बनवत नाही जिने एका करोरामधून ३६५ दिवस सुई काढून आपल्या पतीला जिवंत केले आणि ही सुंदर परंपरा सुरू केली, जी काळाच्या कसोटीवर खरी उतरली आहे. शिकापुरी नाथमध्ये गुंतवणूक करा, नाथ साखळीला जोडलेले एक लहान लटकन असलेली एक मोठी नाकाची अंगठी. शिकारी नाथ मोहक आणि नाजूक दिसतो आणि इतर कोणत्याही दागिन्यांपेक्षा जास्त चमकतो. लॉंग, तथापि, एक लहान स्टड किंवा नथ आहे आणि जर तुम्हाला हलका दिमाख आवडत असेल तर तुम्ही ते वापरावे. चोकर किती भव्य दागिन्यांचा भाग आहे हे लक्षात घेता या लूकसोबत किंवा कोणत्याही लूकशी उत्तम जोडला जातो. उदाहरणार्थ, आपल्या ठळक कॉलर बोन्सवर राणी हार सेट असलेल्या चोकरचा विचार करा. तथापि, जर तुम्हाला ते अति करण्याबद्दल काळजी वाटत नसेल, तर U-shaped Satlada नेकलेस जोडण्याचा प्रयत्न करा. दागिन्यांचे हे संयोजन तुम्हाला शाही आणि भव्य बनवू शकते. तुम्ही चंद्र पाहात असता त्या प्रसंगासाठी लुक ब्लिंग घ्या. या लुकसाठी लेहेंगा सर्वोत्तम आहे. तुमच्या आवडत्या रंगाच्या चमकदार शेडमधील लेहेंगा घालण्याचा सल्ला आम्ही देतो. मेकअपचा विचार करता, तुम्हाला डोळ्यांच्या मेकअपवर जास्त लक्ष केंद्रित करायचं आहे, कदाचित बोल्ड कॅट-पिंग्ड आयलाइनर किंवा स्मोकी आय लूक किंवा अगदी कट-क्रीज. लाल किंवा कोरल लिपस्टिक आणि भरपूर ग्लॉससोबत ते पेअर करा. दागिन्यांच्या बाबतीत, आम्ही कल्याण ज्वेलर्सच्या संकल्प कलेक्शनमधून बाली सुचवतो. हे सुंदर ईअररिंग्ज आहेत, सहसा गोल किंवा चंद्रकोर आकाराचे, दगडांनी सुशोभित केलेले. तुम्ही हे तुमच्या अंगठीसोबत जोडू शकता, जी सामान्यत: एंगेजमेंट रिंग असते. तुमच्या साजाला अधिक दिमाख जोडण्यासाठी तुम्ही उझुरी मुद्रा सोन्याचा हार जोडू शकता. विवाहित महिलांसाठी बांगड्या, मंगळसूत्र, बिंदी, लग्नाची अंगठी आणि सॉलिटेअर स्टडशिवाय कोणताही उत्सवाचा देखावा पूर्ण होत नाही. संकल्प कलेक्शनमधील दागिने आधुनिक महिलांसोबत प्रतिध्वनित होतात, ज्या आपल्या जोडीदारांवरील प्रेमासाठी करवा चौथ साजरा करतात. दागिन्यांचा संग्रह परंपरा, निवडीचे स्वातंत्र्य आणि भारतीय मूल्यांचा अंतर्निहित आदर यापासून प्रेरित आहे. हे सांगायला नको की, तुमच्यासाठी उपवास करणार्‍या किंवा तुमच्यासोबत उपवास करणार्‍या महिलांना हाताने बनवलेले दागिने किंवा सॉलिटेअर अंगठी भेट देऊन साजरी करा जेणेकरून तिला ही खास रात्र नेहमी लक्षात राहिल. जेव्हा तिचे चंद्र दर्शन पूर्ण झाल्यानंतर ती तुमच्याकडे पाहते तेव्हा तिला ही भेट द्या. मित्र आणि कुटुंब, संगीत आणि भोजन आणि काही न बोललेले शब्द यांच्यामध्ये, हा क्षण कायमचा जिवंत राहील.
Publisher: Kalyan Jewelers

ਭਾਈ ਦੂਜ-ਅਪਣੇ ਭਰਾ ਲਈ ਪਿਆਰ ਜਤਾਉਣ ਦਾ ਦਿਨ

On
ਭਾਈ ਦੂਜ ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਮਨ ਨੂੰ ਲੁਭਾ ਦੇਣ ਵਾਲਾ ਤਿਓਹਾਰ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਇਹ ਦਿਨ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਬਹੁਤ ਸਾਰੀਆਂ ਗੱਲਾਂ ਨੂੰ ਯਾਦ ਕਰਨ ਦਾ; ਭਾਈ-ਭੈਣ ਦੇ ਝਗੜੇ, ਸ਼ਿਕਾਇਤਾਂ ਅਤੇ ਵੱਡਿਆਂ ਦਾ ਬੀਚ-ਬਚਾਅ ਕਰਨਾ, ਇੱਕ-ਦੂਜੇ ਨੂੰ ਰਾਜ ਦੀਆਂ ਗੱਲਾਂ ਦੱਸਣਾ ਅਤੇ ਇੱਕ ਦੂਜੇ ਨੂੰ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਸਮਝਣਾ। ਭਰਾ-ਭੈਣ ਵਰਗਾ ਰਿਸ਼ਤਾ ਕਈ ਉਤਾਰ-ਚੜਾਅ ਵਿੱਚੋਂ ਗੁਜ਼ਰਦਾ ਹੈ, ਪਰ ਰਿਸ਼ਤਾ ਹਮੇਸ਼ਾ ਅਟੁੱਟ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ। ਭਾਰਤੀ ਪਰੰਪਰਾਵਾਂ ਵਿੱਚ ਇਸ ਰਿਸ਼ਤੇ ਨੂੰ ਭਾਈ ਦੂਜ ਅਤੇ ਵਰਗੇ ਤਿਓਹਾਰਾਂ ਨਾਲ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਦਿਨ ਘਰ ਦੇ ਕੋਨੇ-ਕੋਨੇ ਨੂੰ ਸਜਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਦਰਵਾਜ਼ਿਆਂ ‘ਤੇ ਫੁੱਲਾਂ ਦੀਆਂ ਮਾਲਾਵਾਂ ਲਗਾਈਆਂ ਜਾਂਦੀਆਂ ਹਨ, ਥਾਲੀ ਵਿੱਚ ਪੂਜਾ ਦਾ ਸਮਾਨ ਅਤੇ ਤਿਲਕ ਜਾਂ ਮਿਠਾਈਆਂ ਰੱਖੀਆਂ ਜਾਂਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਘਰ ਨੂੰ ਖੁਸ਼ਬੂਆਂ ਨਾਲ ਮਹਿਕਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਭਾਰਤੀ ਔਰਤਾਂ ਅਤੇ ਪੁਰਸ਼ ਆਪਣੀਆਂ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਵੇਸ-ਭੂਸ਼ਾ ਅਤੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨਦੇ ਹਨ। ਭਾਈ ਦੂਜ ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਦੀਵਾਲੀ ਤੋਂ ਦੋ ਦਿਨ ਬਾਅਦ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਦਿਨ ਭੈਣਾਂ ਆਪਣੇ ਚਹੇਤੇ ਭਰਾਵਾਂ ਦੀ ਲੰਬੀ ਉਮਰ, ਸਿਹਤ ਅਤੇ ਖੁਸ਼ਹਾਲੀ ਲਈ ਭਗਵਾਨ ਤੋਂ ਕਾਮਨਾ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਭਰਾਵਾਂ ਦੇ ਮੱਥੇ ‘ਤੇ ਤਿਲਕ ਲਗਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਹੱਥਾਂ ਵਿੱਚ ਸਜਾਈ ਗਈ ਪੂਜਾ ਦੀ ਥਾਲੀ ਦੇ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਆਰਤੀ ਉਤਾਰੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਥਾਲੀ ਵਿੱਚ ਭਾਰਤ ਦੇ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਪ੍ਰਚਲਿਤ ਰਿਵਾਜ਼ਾਂ ਅਨੁਸਾਰ ਰੋਲੀ, ਚਾਵਲ, ਨਾਰੀਅਲ ਅਤੇ ਦੁਰਵਾ ਘਾਹ ਆਦਿ ਨੂੰ ਰੱਖਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਤਿਲਕ ਲਗਾ ਕੇ ਭੈਣ ਆਪਣੇ ਭਰਾ ਦੀ ਨਕਾਰਾਤਮਕ ਪ੍ਰਭਾਵਾਂ ਤੋਂ ਵੀ ਰੱਖਿਆ ਕਰਦੀ ਹੈ। ਪਿਆਰ ਅਤੇ ਆਪਣੇਪਣ ਦਾ ਭਾਵ ਦਰਸਾਉਂਦੇ ਹੋਏ ਭਰਾ ਆਪਣੀਆਂ ਭੈਣਾਂ ਨੂੰ ਵਧੀਆ ਤੋਹਫੇ ਦਿੰਦੇ ਹਨ। ਬਦਲੇ ਵਿੱਚ ਭੈਣਾਂ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਸੁਆਦਿਸ਼ਟ ਭੋਜਨ ਕਰਾਉਂਦੀਆਂ ਹਨ, ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਪਿਆਰ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਤੋਹਫੇ ਦਿੰਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਸ ਮੌਕੇ ‘ਤੇ ਤੋਹਫੇ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਜਵੈਲਰੀ ਦੇਣ ਨਾਲ ਚੰਗੀ ਚੀਜ਼ ਹੋਰ ਕੀ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ, ਜਿਸਦਾ ਮੁੱਲ ਅਤੇ ਚਮਕ ਕਦੇ ਖ਼ਤਮ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਮੌਕੇ ‘ਤੇ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਤੋਹਫਾ ਉਸ ਰਿਸ਼ਤੇ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਬਣ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਭਾਈ-ਭੈਣ ਦੇ ਵੱਡੇ ਹੋ ਜਾਣ ‘ਤੇ ਵੀ ਇਹ ਤੋਹਫਾ ਪੁਰਾਣਾ ਨਹੀਂ ਪੈਂਦਾ । ਚਾਹੇ ਸੋਨੇ ਦੀ ਜਾਂ ਹੀਰੇ ਦੀ ਅੰਗੂਠੀ ਹੋਵੇ, ਚਾਹੇ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਨੈਕਲੈਸ ਜਾਂ ਆਧੁਨਿਕ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ, ਇਸ ਤੋਂ ਵਧੀਆ ਤੋਹਫਾ ਹੋਰ ਕੀ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਹਰ ਭਾਰਤੀ ਤਿਓਹਾਰ ਦੇ ਵਾਂਗ, ਭਾਰਤ ਦੇ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਭਾਈ ਦੂਜ ਨੂੰ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਪ੍ਰਕਾਰ ਨਾਲ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸਨੂੰ ਮਨਾਉਣ ਦੀ ਰੀਤੀ-ਰਿਵਾਜ਼ ਭਲੇ ਹੀ ਵੱਖ ਹੋਵੇ, ਪਰ ਆਸਥਾ ਅਤੇ ਪਰੰਪਰਾ ਇੱਕ ਹੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਭਾਈ ਦੂਜ ਨੂੰ ਕਈ ਹੋਰ ਨਾਮਾਂ ਨਾਲ ਜਾਣਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਪੱਛਮੀ ਬੰਗਾਲ ਵਿੱਚ ਇਸਨੂੰ ਭਾਈ ਫੋਟਾ, ਮਹਾਂਰਾਸ਼ਟਰ ਵਿੱਚ ਇਸਨੂੰ ਭਾਊ ਬੀਜ, ਨੇਪਾਲ ਵਿੱਚ ਇਸਨੂੰ ਭਾਈ ਟਿੱਕਾ ਅਤੇ ਭਾਰਤ ਦੇ ਕੁਝ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਇਸਨੂੰ ਯਮ ਦਿਵਤੀਯ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਸ਼ੁੱਭ ਦਿਨ ਦੀ ਉਤਪੱਤੀ ਦੇ ਨਾਲ ਕਈ ਪੌਰਾਣਿਕ ਕਥਾਵਾਂ ਜੁੜੀਆਂ ਹੋਈਆਂ ਹਨ। ਇੱਕ ਲੰਬੇ ਚਲੇ ਯੁੱਧ ਵਿੱਚ ਨਰਕਾਸੁਰ ਰਾਖਸ਼ ਨੂੰ ਹਰਾਉਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਭਗਵਾਨ ਆਪਣੀ ਭੈਣ ਸੁਭਦਰਾ ਦੇ ਘਰ ਪਹੁੰਚੇ, ਜਿਹਨਾਂ ਨੂੰ ਦੇਖ ਕੇ ਸੁਭਦਰਾ ਬਹੁਤ ਖੁਸ਼ ਹੋਈ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਭਰਾ ਨੂੰ ਮੱਥੇ ‘ਤੇ ਉਹਨਾਂ ਨੇ “ਤਿਲਕ” ਲਗਾਇਆ ਅਤੇ ਬਹੁਤ ਆਦਰ ਦੇ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਦਾ ਸੁਆਗਤ ਕੀਤਾ। ਉਹਨਾਂ ਨੇ ਫੁੱਲਾਂ ਅਤੇ ਮਿਠਾਈਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਭਗਵਾਨ ਕ੍ਰਿਸ਼ਨ ਦਾ ਸੁਆਗਤ ਕੀਤਾ, ਜਿਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ “ਭਾਈ ਦੂਜ” ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਮਨਾਇਆ ਜਾਣ ਲੱਗਿਆ। ਇੱਕ ਹੋਰ ਪੌਰਾਣਿਕ ਕਥਾ ਦਾ ਸਬੰਧ ਮੌਤ ਦੇ ਦੇਵਤਾ ਯਮ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਭੈਣ ਯਮੁਨਾ ਨਾਲ ਹੈ। ਉਸ ਕਥਾ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ ਯਮ ਨੇ ਮੱਸਿਆ ਦੇ ਦੂਜੇ ਦਿਨ ਆਪਣੀ ਪਿਆਰੀ ਭੈਣ ਯਮੁਨਾ ਨੂੰ ਦੇਖਿਆ ਸੀ। ਉਹਨਾਂ ਨੇ ਯਮ ਦਾ ਸੁਆਗਤ ਆਰਤੀ, ਤਿਲਕ ਅਤੇ ਮਿਠਾਈਆਂ ਨਾਲ ਕੀਤਾ। ਆਪਣੀ ਭੈਣ ਤੋਂ ਖੁਸ਼ ਹੋ ਕੇ ਯਮ ਨੇ ਆਸ਼ਿਰਵਾਦ ਦਿੱਤਾ ਕਿ ਇਸ ਦਿਨ ਯਮੁਨਾ ਨਦੀ ਵਿੱਚ ਡੁਬਕੀ ਲਗਾਉਣ ਵਾਲੇ ਭਰਾ-ਭੈਣ ਨੂੰ ਮੁਕਤੀ ਦੀ ਪ੍ਰਾਪਤੀ ਹੋਵੇਗੀ। ਪੱਛਮੀ ਬੰਗਾਲ ਵਿੱਚ ਇਸ ਤਿਓਹਾਰ ਨੂੰ “ਭਾਈ ਫੋਟਾ” ਦੇ ਨਾਮ ਨਾਲ ਜਾਣਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਜਦੋਂ ਭੈਣ ਪੂਰਾ ਦਿਨ ਵਰਤ ਰੱਖ ਕੇ ਆਪਣੇ ਭਰਾ ਦੇ ਆਗਮਨ ਦਾ ਇੰਤਜ਼ਾਰ ਕਰਦੀ ਹੈ। ਉਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਉਹ ਆਪਣੇ ਭਰਾ ਦੇ ਮੱਥੇ ‘ਤੇ ਤਿੰਨ ਵਾਰ ਘਿਉ, ਕਾਜਲ ਅਤੇ ਚੰਦਨ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਇੱਕ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਤਿਲਕ ਲਗਾਉਂਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਉਸਦੀ ਆਰਤੀ ਕਰਦੀ ਹੈ। ਆਰਤੀ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਭੈਣ ਆਪਣੇ ਭਰਾ ਲਈ ਪੂਜਾ ਕਰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਉਹ ਦੋਵੇਂ ਇੱਕ-ਦੂਜੇ ਨੂੰ ਤੋਹਫੇ ਦਿੰਦੇ ਹਨ। ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਦਾਵਤ ਵਿੱਚ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਮਿਠਾਈਆਂ ਅਤੇ ਵਿਅੰਜਨ ਖਾਏ ਜਾਂਦੇ ਹਨ। ਮਹਾਂਰਾਸ਼ਟਰ ਵਿੱਚ ਭਾਈ ਦੂਜ ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ “ਭਾਊ ਬੀਜ” ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਪਰੰਪਰਾ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ, ਭਾਈ ਆਪਣੀ ਭੈਣ ਦੁਆਰਾ ਬਣਾਈ ਗਈ ਚੌਕੌਰ ਆਕ੍ਰਿਤੀ ਦੇ ਅੰਦਰ ਬੈਠਦਾ ਹੈ। ਭਾਰਤ ਦੇ ਕੁਝ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਇਸ ਅਵਸਰ ਨੂੰ “ਯਮ ਅਦਿਵਤੀਯ” ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਯਮ ਅਦਿਵਤੀਯ ਦੇ ਦਿਨ ਜੇ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਆਪਣੀ ਭੈਣ ਦੇ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਤਿਆਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਖਾਣਾ ਖਾਂਦਾ ਹੈ, ਤਾਂ ਯਮਰਾਜ ਉਸਨੂੰ ਕੋਈ ਹਾਨੀ ਨਹੀਂ ਪਹੁੰਚਾਉਂਦੇ। ਬਿਹਾਰ ਵਿੱਚ ਭਾਈ ਦੂਜ ਦੇ ਤਿਓਹਾਰ ਨੂੰ ਗੋਵਰਧਨ ਪੂਜਾ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਕਿਸੇ ਵੀ ਪਿਆਰ ਭਰੇ ਰਿਸ਼ਤੇ ਨੂੰ ਸਾਬਿਤ ਕਰਨ ਵਿੱਚ ਤੋਹਫਿਆਂ ਦੀ ਭੂਮਿਕਾ ਹਮੇਸ਼ਾ ਹੀ ਅਹਿਮ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਵੈਸੇ ਤਾਂ ਹਰ ਰਿਸ਼ਤਾ ਆਪਣੇ-ਆਪ ਵਿੱਚ ਅਨੋਖਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ, ਪਰ ਤੋਹਫਿਆਂ ਦਾ ਆਦਾਨ-ਪ੍ਰਦਾਨ ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਨੂੰ ਮਜ਼ਬੂਤ ਬਣਾਉਂਦਾ ਹੈ। ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰੀ ਵੱਲੋਂ ਪ੍ਰਸਤੁਤ ਜਵੈਲਰੀ ਦੇ ਕੁਝ ਉਦਾਹਰਨ ਜੋ ਤੁਹਾਡੀ ਭੈਣ ਨੂੰ ਬੇਸ਼ਕ ਪਸੰਦ ਆਉਣਗੇ। ਹੀਰੇ ਦਾ ਸਾਦਾ, ਸੁੰਦਰ ਸਾੱਲੀਟੇਅਰ ਹਮੇਸ਼ਾ ਹੀ ਸਦਾਬਹਾਰ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਹੀਰੇ ਦੇ ਝੁਮਕੇ ਆਪਣਾ ਵੱਖ ਹੀ ਪ੍ਰਭਾਵ ਛੱਡਦੇ ਹਨ। ਜੇ ਤੁਹਾਡੀ ਭੈਣ ਨੂੰ ਸਾਦੀ ਅਤੇ ਸੁੰਦਰ ਜਵੈਲਰੀ ਪਸੰਦ ਹੈ, ਤਾਂ ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਉਹਨਾਂ ਲਈ ਪਲੈਟੀਨਮ ਚੇਨ ਨਾਲ ਵਧੀਆ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲਾ ਪੈਂਡੈਂਟ ਜਾਂ ਵ੍ਹਾਇਟ ਗੋਲਡ ਵਾਲਾ ਡਾਇਮੰਡ ਸਟੱਡ ਸੈਟ ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਦਿਓ। ਇਹਨਾਂ ਨੂੰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਅਵਸਰ ‘ਤੇ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਦੇਣ ਲਈ ਵੀ ਇਹ ਬਹੁਤ ਵਧੀਆ ਹੁੰਦੇ ਹਨ। ਰੋਜ਼ਾਨਾ ਪਹਿਨਣ ਲਈ ਅਤੇ ਵਿਅਕਤਿੱਤਵ ਨੂੰ ਨਿਖਾਰੇਗਾ। ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਸਭ ਤੋਂ ਅਨੋਖਾ ਦਿਖਣ ਵਿੱਚ ਮਦਦ ਕਰੋ, ਫਿਰ ਚਾਹੇ ਕੰਮ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਜਾਂ ਫਿਰ ਆਪਣੇ ਦੋਸਤਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਖਾਣੇ ‘ਤੇ ਮੁਲਾਕਾਤ ਦਾ ਸਮਾਂ ਹੀ ਕਿਉਂ ਨਾ ਹੋਵੇ। ਜੇ ਤੁਹਾਡੀ ਭੈਣ ਨੂੰ ਚੂੜੀਆਂ ਪਹਿਨਣਾ ਪਸੰਦ ਹੈ, ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਅਨੇਕ ਪ੍ਰਕਾਰ ਦੀ ਆਧੁਨਿਕ ਜਾਂ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਦੀਆਂ ਚੂੜੀਆਂ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਦੇ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਉਦਾਹਰਨ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ, ਚਮਕਦਾਰ ਨੀਲੇ ਰਤਨ ਜਾਂ ਮਣਿਕ ਜੜਿਤ ਸੁੰਦਰ ਡਾਇਮੰਡ ਬ੍ਰੈਸਲੈਟ ਜਾਂ ਪਤਲੇ-ਪਤਲੇ ਕਈ ਗੋਲਡ ਬ੍ਰੈਸਲੈਟ ਅੱਜ ਕੁਲ ਬਹੁਤ ਹੀ ਫੈਸ਼ਨੇਬਲ ਹਨ। ਸੋਨੇ ਦੀ ਵੱਡੇ ਆਕਾਰ ਦੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨਣ ਵਿੱਚ ਅਨੋਖੀ ਲੱਗ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਇੱਕ ਆਧੁਨਿਕ ਔਰਤ ਨੂੰ ਪਸੰਦ ਆਉਣ ਵਾਲੇ ਅਨੋਖੇ ਨਵੇਂ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਦੇਖੋ। ਅੱਜ ਦੀ ਔਰਤ ਮਸਤ, ਨਿਡਰ ਹੈ ਜਿਸ ਨੂੰ ਨਵੀਂਆਂ-ਨਵੀਆਂ ਚੀਜ਼ਾਂ ਅਜ਼ਮਾਉਣ ਤੋਂ ਡਰ ਨਹੀਂ ਲੱਗਦਾ ਹੈ। ਸਜਾਵਟੀ, ਡਿਜ਼ਾਇਨ, ਚਾਂਦੀ, ਰੋਜ਼ ਗੋਲਡ ਵਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਜਵੈਲਰੀ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੀ ਸ਼ੋਭਾ ਵਧਾਏਗੀ। ਜੇ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨਣਾ ਪਸੰਦ ਹੈ, ਤਾਂ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਦੇ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਜਵੈਲਰੀ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਵਿੱਚੋਂ ਕੋਈ ਅਨੋਖਾ ਪੀਸ ਖਰੀਦੋ। ਸੁੰਦਰ ਕਾਰੀਗਿਰੀ ਵਾਲੀਆਂ ਕੰਨਾਂ ਦੀਆਂ ਵਾਲੀਆਂ, ਅੰਗੂਠੀਆਂ ਅਤੇ ਨੈਕਲੈਸ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਬੇਸ਼ਕ ਬੇਹੱਦ ਖੁਸ਼ੀ ਦੇਵੇਗਾ। ਅਜਿਹੀ ਜਵੈਲਰੀ ਜਿਸਨੂੰ ਤੁਹਾਡਾ ਭਰਾ ਹਮੇਸ਼ਾ ਯਾਦ ਰੱਖੇ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਵੱਲੋਂ ਪੁਰਸ਼ਾਂ ਦੇ ਲਈ ਅਨੋਖੇ, ਉੱਤਮ ਤੋਹਫਿਆਂ ਦੀ ਰੇਂਜ ਵਿੱਚ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਅਕਸੈਸਰੀਜ਼ ਅਤੇ ਬਿਹਤਰੀਨ ਕਾਰੀਗਰੀ ਵਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹੈ। ਅੱਜ-ਕੱਲ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨਣ ਦਾ ਚਲਨ ਹੈ। ਅੱਜ ਦੇ ਪੁਰਸ਼ ਨੂੰ ਸ਼ਾਨ, ਸਾਦਗੀ ਅਤੇ ਸੁੰਦਰਤਾ ਪਸੰਦ ਆਉਂਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਵਿੱਚ ਅਨੇਕ ਪ੍ਰਕਾਰ ਦੀ ਉੱਤਮ ਡਾਇਮੰਡ ਜਵੈਲਰੀ ਹੈ ਜੋ ਕਿਸੇ ਵੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪ੍ਰਸ਼ੰਸਕ ਨੂੰ ਪਸੰਦ ਆਵੇਗੀ। ਕਿਸੇ ਪੁਰਸ਼ ਨੂੰ ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਜਵੈਲਰੀ ਦੇਣੀ ਹੈ, ਤਾਂ ਸੋਨੇ ਦੀ ਆਕਰਸ਼ਕ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲੀ ਹੀਰੇ ਜੜਿਤ ਅੰਗੂਠੀ ਸਭ ਤੋਂ ਉੱਤਮ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਸੋਨੇ ਦੀ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲੀ ਚੈਨ ਸਦਾਬਹਾਰ ਮੰਨੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਜਿਹਨਾਂ ਨੂੰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਅਵਸਰ ‘ਤੇ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਲਟ ਦੇ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲਾ, ਦੋ-ਰੰਗਾ ਉੱਤਮ ਬ੍ਰੈਸਲੈਟ ਬੇਸ਼ਕ ਪਹਿਨਣ ਵਿੱਚ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਅਤੇ ਆਕਰਸ਼ਕ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਸੋਨੇ ਦੇ ਬ੍ਰੈਸਲੇਟ ਵਿੱਚ ਸੁੰਦਰ ਕਲਾਕ੍ਰਿਤੀ ਵਾਲਾ ਕਾਲਾ ਗੋਮੇਦ ਬਹੁਤ ਹੀ ਅਨੋਖਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਜੋ ਕਿਸੇ ਵੀ ਪੁਰਸ਼ ਦੇ ਕੋਲ ਹੋਣਾ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ। ਤੋਹਫੇ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਭਰਾ ਨੂੰ 24 ਕੈਰੇਟ ਵਾਲਾ ਸੋਨੇ ਦਾ ਸਿੱਕਾ ਦੇ ਕੇ ਪਿਆਰ ਦੀ ਪਵਿੱਤਰਤਾ ਨੂੰ ਦਰਸਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਕੁਰਤੇ ਦੇ ਬਟਨ ਪੁਰਸ਼ਾਂ ਦੀ ਸ਼ਾਨ ਵਧਾਉਂਦੇ ਹਨ। ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਹੀਰੇ ਜੜਿਤ ਸੋਨੇ ਦੇ ਬਟਨ ਦੇ ਕੇ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਕੁਰਤੇ ਦੀ ਸ਼ਾਨ ਵਧਾਓ। ਜਾਂ ਫਿਰ ਡਾਇਮੰਡ ਕਫਲਿੰਕ ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਦੇ ਕੇ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਉੱਤਮ ਸੂਟ ਜਾਂ ਟਕਸੈਡੋ ਨੂੰ ਚਾਰ-ਚੰਨ ਲਗਾਓ। ਭਾਈ ਦੂਜ ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਦੇਸ਼ ਭਰ ਵਿੱਚ ਧੂਮ-ਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਬੇਸ਼ਕ ਇਸ ਤਿਓਹਾਰ ਨੂੰ ਮਨਾਉਣ ਦੇ ਰੀਤੀ-ਰਿਵਾਜ਼ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਨ। ਪਰ ਭਾਈ ਦੂਜ ਨੂੰ ਮਨਾਉਣ ਦਾ ਮੁੱਖ ਉਦੇਸ਼ ਭਰਾ-ਭੈਣ ਦੇ ਅਟੁੱਟ ਬੰਧਨ ਨੂੰ ਯਾਦਗਾਰ ਬਣਾਉਣਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ; ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਹੀ ਸੁਆਦਿਸ਼ਟ ਮਿਠਾਈਆਂ ਅਤੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਤੋਹਫੇ ਮਿਲ ਜਾਣ, ਇਸ ਤੋਂ ਵਧੀਆਂ ਹੋਰ ਕੀ ਗੱਲ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਵੈਸੇ ਤਾਂ ਤੋਹਫਾ ਮਿਲਣ ‘ਤੇ ਖੁਸ਼ੀ ਬਹੁਤ ਹੁੰਦੀ ਹੈ, ਪਰ ਤੋਹਫਾ ਦੇਣ ਦੀ ਤਸੱਲੀ ਦੀ ਗੱਲ ਵੀ ਵੱਖ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਭਾਵਨਾ ਨੂੰ ਸ਼ਬਦਾਂ ਵਿੱਚ ਬਿਆਨ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ। ਤੋਹਫਾ ਖੋਲ੍ਹਣ ਵਿੱਚ ਮਿਲਣ ਵਾਲੀ ਖੁਸ਼ੀ ਪਲ ਭਰ ਦੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ, ਜਦਕਿ ਤੋਹਫਾ ਦੇਣ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਸਾਲਾਂ ਤੱਕ ਯਾਦ ਰਹਿ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਤੋਹਫਾ ਦੇਣ ਦਾ ਮਤਲਬ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਸਾਹਮਣੇ ਵਾਲੇ ਵਿਅਕਤੀ ਦੀ ਸ਼ਲਾਘਾ ਕਰ ਰਹੇ ਹੋ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਦਿਲ ਵਿੱਚ ਉਸਦੇ ਪ੍ਰਤੀ ਸਨਮਾਨ ਪ੍ਰਗਟ ਕਰ ਰਹੇ ਹੋ। ਭਾਈ-ਭੈਣ ਦਾ ਰਿਸ਼ਤਾ ਅਨੋਖਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਰਿਸ਼ਤੇ ਵਿੱਚ ਇੱਕ-ਦੂਜੇ ਦੀ ਮਦਦ ਕਰਨਾ ਅਤੇ ਉਸ ਦੀਆਂ ਗਲਤੀਆਂ ਨੂੰ ਨਜ਼ਰਅੰਦਾਜ਼ ਕਰ ਦੇਣ ਦੀ ਭਾਵਨਾ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਲਈ, ਭਰਾ-ਭੈਣ ਨੂੰ ਦਿੱਤਾ ਜਾਣ ਵਾਲਾ ਤੋਹਫਾ ਵੀ ਇਸ ਰਿਸ਼ਤੇ ਦੇ ਵਾਂਗ ਬਿਹਤਰੀਨ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ।
Publisher: Kalyan Jewelers

দুর্গা পুজোর আনন্দে মাতুন কল্যাণ জুয়েলার্সের সংকল্প কালেকশনের সঙ্গে

On
বছরের সেরা সময় এসে গেছে! শরৎ-এর অসাধারণ নীল আকাশ, ঢাকের বোল, শিউলির মনমাতানো সুগন্ধ, রঙে রঙে বর্ণময় পুজোমন্ডপ, সেইসঙ্গে সুন্দর সব পোশাকে সজ্জিত নর-নারী, এক কথায় বাংলার পুজোর চিত্রকল্প তো এই-ই । পশ্চিম বঙ্গে আর সেইসঙ্গে দেশের অন্য সব প্রান্তে দুর্গা পুজো উদযাপিত হয় আশ্বিন মাসে । উত্তর ভারতে এই উৎসবের-ই নাম নবরাত্রি ও দশেরা । মহিষাসুরের বিরুদ্ধে যুদ্ধে দেবী দুর্গার জয়লাভ-ই হল দুর্গা পুজো উদযাপনের মূল কথা । দুর্গা পুজো সারা বাংলা জুড়ে আর সেই সঙ্গে পূর্ব ভারতের নানা অংশে নারীশক্তির প্রতীক রূপে বিশেষ জাঁকজমকের মধ্য দিয়েই পালিত হয়ে থাকে । দুর্গা হলেন শক্তি, করুণা, সংকল্প, জ্ঞান, শাস্তিদানের পরাক্রম আর সবশেষে, চিরন্তন সৌন্দর্যের প্রতীক । দুর্গাপ্রতিমাকে উজ্জ্বল রঙের শাড়ি আর সনাতনী বাঙালী গয়নায় সাজানো হয়। সাহিত্য ও চলচ্চিত্রে বহু বছর ধরে বঙ্গনারীর যে দৃপ্ত ব্যক্তিত্ব ফুটিয়ে তোলা হয়ে থাকে তা মূলত মায়ের এই শক্তির ওপরে প্রতিষ্ঠিত । তাই বাঙালী মেয়েরা এই পুজোয় নিজেদের অন্তস্থ শক্তির উদযাপন করে আর এই কটা দিন নিজেদের সাজিয়ে তোলেন অসামান্য শাড়ি আর সনাতন ও ঐতিহ্যমন্ডিত সব অলঙ্কারে । আগত উৎসবের অনেক আগে থেকেই উৎসবের আনন্দ, উত্তেজনা আর রেশটা যে কেউ উপলব্ধি করতে পারেন । এই এগারোটা দিন হয় বছরের সবচেয়ে সুখের, সবচেয়ে আনন্দের । উৎসব উদযাপনে একইভাবে মেতে ওঠেন আবালবৃদ্ধবনিতা আর উপভোগের অঙ্গ হিসেবে সাজিয়ে তোলেন নিজেদের নতুন পোশাকে, বেরিয়ে পড়েন মন্ডপ পরিক্রমায়, সবথেকে সুস্বাদু খাবার চেখে দেখতে আর সবচেয়ে বড় কথা, প্রিয়জনের সঙ্গে সময় কাটাতে । বাঙালি মেয়েদের কাছে তাঁদের সাজ সম্পূর্ণই হয় না সনাতনী কিছু বাঙালি গয়না ছাড়া । সোনার গয়না হল সবচেয়ে দামী আর বহুমূল্য ধাতু, যা কালোত্তীর্ণ। তাই, আজকের ফ্যাশনের হালকা ডিজাইন-ই হোক, বা ঐতিহ্যপূর্ণ হাতের কাজে ভরা গয়না, সুন্দর সুন্দর শাড়ি সঙ্গে জুটি বেঁধে তা প্রতিটি মেয়ের মধ্যেকার দেবীকে জাগিয়ে তোলে । মহাষষ্ঠী: এই দিনে মা দুর্গা আসেন ধরাধামে । এই মহা ষষ্ঠীতে মাকে ঘরে স্বাগত জানানো হয় অকাল বোধন, আমন্ত্রণ এবং অধিবাস-এর মত আচার –অনুষ্ঠানে ।মা আমাদের জীবনের অঙ্গ হয়ে যান পরের কয়েক দিনের এক মনোমুগ্ধকর ধারাবাহিক আচার-অনুষ্ঠানের মাধ্যমে যা পূর্ণতা পায় প্রথাবিহিত পুজোর সৌরভে ঢাকের বোলের তালে তালে । এই দিন টি আবার ঘরে ফেরারও দিন আর সেইজন্যেই প্রত্যেক বঙ্গসন্তানকে তার শিকড়ের কথা মনে করিয়ে দেয় । মায়ের সঙ্গে তাই বাঙালি ঘরে ফেরে এই কটা দিন প্রিয়জনদের সঙ্গে সময় কাটাতে । এ হল পিছনপানে ফেরার দিন, একসঙ্গে হওয়া আর হাসি-উচ্ছাসে ভেসে যাওয়ার দিন । মহাষষ্ঠীর আগে মা দুর্গা, তাঁর পুত্র কন্যা এবং অসুর-এর সাথে দৃশ্যমান হন ধরাধামে । তাঁদের মুখের আবরণ উন্মোচন করা হয় । সিল্কের পোশাকে আর অলঙ্কারে সুসজ্জিত দেব-দেবীরা অস্ত্র হাতে শোভা পান আর সেই সঙ্গেই উৎসবের সূচনা হয়।আলোয় আলোয় উজ্জ্বল হয়ে ওঠে প্রতিটি কোণ আর প্রান্ত। ঐতিহ্যবাহী পোশাক ও সনাতন বাঙালি গয়নায় সেজে পুরো এলাকাবাসী উৎসবে যোগ দিয়ে প্রাণবন্ত করে তোলে গোটা ব্যাপারটা। এটা উৎসবের প্রথম দিন বলেই এদিনের অকথিত ড্রেস কোড হল আধা –ক্যাজুয়াল, ইন্দো- ওয়েস্টার্ন সালোয়ার –কুর্তা বা সুতির শাড়ি । সুতরাং, সুন্দর সালওয়ার – কামীজ, বা শাড়িতে, খুবই সামান্য মেক-আপ, একটা সাধারণ আই শ্যাডো বা একটা চাপা শিমার আর একটা স্পষ্ট ওষ্ঠরঞ্জনী, এতেই সেদিনের লুক সারা হয়ে যায়। দিনের বেলায় উজ্জ্বল আর হালকা শেড বেছে নিন আর সাজ সম্পূর্ণ করতে গলায় পরুন সাধারণ একটি নেকলেস, যেমন সুন্দর একটি পেনডেন্ট সহ সোনার চেন । সঙ্গে থাকুক সহজ সরল অথচ ক্লাসিক সোনার চুড়ি আর হালকা সোনার ঝুমকো বা ঝুমকা । সন্ধের সময় পরুন জামদানী বা জমকালো সিল্কের শাড়ি। সঙ্গে কুন্দন দুল বা একটা এয়ারলুম সোনার নেকলেস, যাতে করে সনাতনী আর ঐতিহ্যপূর্ণ সাজটা সম্পূর্ণ হয় । মহাসপ্তমী হল উৎসবের আনুষ্ঠানিক সূচনার দিন । মা দুর্গার প্রাণ প্রতিষ্ঠা হয় এই দিনে। এক পবিত্র অনুষ্ঠানে দেবীর চক্ষুদান করা হয় আর তিনি নেত্র উন্মোচন করে আমাদের দেখেন প্রথমবার। নববধূর সাজে সজ্জিত কলা বৌ-এর মধ্যে দেবী দুর্গার আত্মা সঞ্চার করা হয়, আর এই প্রথাটিকে বলা হয় ‘প্রাণপ্রতিষ্ঠা’ । মহাসপ্তমীর আদর্শ সাজ হবে নীল, পিঙ্ক বা হলুদ রঙা জ্যাকার্ড নক্সায় বোনা শাড়ি। একটা ক্লাসি ধরনের আড়ম্বরহীন সালওয়ার স্যুট বা শারারা সহ কুর্তি –তেও চলবে, সঙ্গে বিশেষ মানানসই জুয়েলারী । দিনের বেলায় সাটল ন্যুড বা কোরাল লিপ । জুয়েলারীর ক্ষেত্রে, মনে রাখবেন, সবচেয়ে সরলটিই সবথেকে বলিষ্ঠ আবেদন রাখে । তাই, একজোড়া হীরের দুল পরুন বা মীনাকারি করা হাতে তৈরি দুল এবং অনেকগুলো আংটি, আর এতেই আপনার সাজ হয়ে উঠবে অসাধারণ । সপ্তমীর সন্ধ্যায় প্রসাধনীতে আনুন মদির আঁখি আর সুস্পষ্ট ওষ্ঠ । মাটিরঙা সাজের সঙ্গে সোনার শাঁখা, পলা আর নোয়া ও সেইসঙ্গে বাংলার নিজস্ব সীতাহার সন্ধ্যার সাজটা সম্পূর্ণ করবে । বহুমূল্য রত্ন, যেমন, চুনী, পান্না বা হীরে খচিত সোনা বা রূপোর বালা লেহেঙ্গা বা শারারা-র সঙ্গে ভালো মানাবে । ন্যূনতম প্লাটিনাম ও হোয়াইট গোল্ড জুয়েলারী হালফ্যাশনের আর ফিউশন অনসম্বল। যা উৎকৃষ্ট সেলাইয়ের পোশাকের সঙ্গে ভালো মানাবে । মহাষ্টমী : মহাষ্টমীর দিনে সবথেকে সুন্দর শাড়িটা পরুন এয়ারলুম জুয়েলারীর সঙ্গে । প্রচলিত বিশ্বাস, এই দিনেই মা দুর্গা মহিষাসুর বধ করেছিলেন, আর তাই এই দিনে নজর থাকে মূলত পুজো দেওয়া অর্থাৎ অঞ্জলি দেওয়া আর সন্ধি পুজো (অষ্টমী ও নবমীর সন্ধিক্ষণের ওপরে)-র দিকে । মহাষ্টমীর সকালে আমরা সেজে উঠব (মেক-আপের ক্ষেত্রে আমাদের পরামর্শ), সাহসী, নজরকাড়া, লাল ও মেরুনের শেড-এর লিপস্টিক আর ডার্ক আই মেক-আপে । অবশ্য, সবাই (যে কেউই) দিন আর রাতের উৎসবের ধরনটা বুঝে রঙটা সামঞ্জস্য রেখে ব্যবহার করতে পারেন । এই দিনে আমাদের ব্যক্তিগত পছন্দ হল ধ্রুপদী বাঙালি চূড়।আর যেহেতু সোনার চুড়ি সৌভাগ্য আর জয়ের প্রতীক, তাই এক বা বহু, যা ইচ্ছে পরুন । অথবা, সুন্দর হাতের দিকে নজর টানতে বেছে নিন ব্রেসলেট কিংবা বালা । সবশেষে সাজ সম্পূর্ণ করতে পরুন চিক বা চোকার সাথে ঝুমকা । কানে কারুকাজ করা কান পাশা পরুন কিংবা সাদা, অফ-হোয়াইট বা প্যাস্টেল-রঙা মীনাকরী কান পাশা, যা সৌন্দর্য ও আভিজাত্যকে বেঁধে রাখে । প্রসাধন রাখুন হালকা । আধুনিক নারীর উপযোগী সাজে থাকবে পরম্পরা আর সমকালীনতার এক নিখুঁত সমন্বয়। সন্ধিপুজো হল দুর্গা পুজোর সবথেকে বড় আর গুরুত্বপূর্ণ আচারগুলোর একটা। অষ্টমী তিথির শেষ 24 মিনিট আর নবমী তিথির প্রথম 24 মিনিট জুড়ে যে সময়, সেটাই হল সন্ধিক্ষণ, যা অষ্টমী ও নবমীর সবচেয়ে পবিত্র সময় । সন্ধিপুজো ভক্তদের মধ্যে এক বিরাট আবেগ সৃষ্টি করে কারন, এই সন্ধিক্ষণেই দেবী চন্ড ও মুন্ড নামের দুই শক্তিশালী অসুরকে বধ করে অশুভের ওপর শুভর জয় প্রতিষ্ঠা করেছিলেন। । সন্ধিপুজোর সময়ে আমরা মায়ের চামুন্ডা রূপের পুজো করি, সঙ্গে সজোরে বাজতে থাকে ঢাক। এটা অশুভের ওপরে শুভর জয়ের প্রতীক আর নারীশক্তির চূড়ান্ত জয়েরও । দেবী দুর্গা হলুদ শাড়িতে শোভিত হয়ে মহিষাসুরের সামনে আবির্ভূতা হন। তিনি সোনালী সুন্দরী রমণীর বেশে সব রকমের অবিচার ও অন্যায়ের অবসান করেন । যে কেউ তাই হলুদ বা কোনো উজ্জ্বল রঙের শাড়ি, সোনার ঝুমকো ও সেই সঙ্গে বাংলার ঐতিহ্যপূর্ণ লহরীর নেকলেস কিংবা সাতনরী হার পরতে পারেন সাজ সম্পূর্ণ করতে । এই শুভক্ষণে সঙ্গে সবচেয়ে ভালো মানায় পোল্কি বা কলার নেকলেস । মেক-আপের ক্ষেত্রে বোল্ড লিপ, মায়াময় আইশ্যাডো আর রূপের নজর কাড়তে কোরাল ব্লাশের প্রয়োগ সুন্দর দেখাবে । মহা নবমী: মহা নবমীর দিনেই হয় মহা আরতি । আরতির পাত্রের আগুন দেবী দুর্গার অন্তরের অগ্নির প্রতীক, যা, ক্রমশ, তীব্র থেকে তীব্রতর হয়ে জ্বলতে জ্বলতে অন্যায়ের অবসান ঘটায় । এই দিনেই নবরাত্রের উপবাসেরও অন্ত হয়। নবমীর পুণ্যতিথিতে, আমাদের পরামর্শ পরম্পরা ও সৌন্দর্য়ের মেলবন্ধন ঘটানো। বাংলার সনাতনী তাঁতের শাড়ি আর সেই সঙ্গে ঐতিহ্যপূর্ণ বাঙালি গয়না, এই সাজ-ই মনকেড়ে নেবে । নবমীতে নারী সৌন্দর্যে সেজে ওঠে আবেদনভরা আই লুক, শিমার আর আইশ্যাডোর সঙ্গে মানানসই লিপস্টিকের শেড-এ । আর, জুয়েলারীর ক্ষেত্রে আমাদের পছন্দ কালাভি সংকল্প সোনার চুড়ি । যা নিখুত তারে বাঁধানো সৌন্দর্য, জমকালো, সূক্ষ্ম ডিজাইন, মা দুর্গার কৈলাসে ফিরে যাওয়ার আগের দিনের মেজাজের সঙ্গে খুব ভালো যায়। এই সাজের সঙ্গে গলার হারে থাকুক এমন একটা পেনডেন্ট, যেটা চুড়ি আর সুন্দর ঝোলা দুলের সঙ্গে মানায় ।এই সমন্বয় সাজটাকে ঐশ্বর্যময়ী করে তুলবে, কিন্তু একেবারে “ছাপিয়ে যাওয়া”-র মত কিছু হবে না । পরিশেষে, স্বাচ্ছন্দ্যপূর্ণ ফ্যাশনের দিকে যান, সলিড সিল্যুয়েট আর স্ট্রেট কাট, সঙ্গে অ্যান্টিক একটা হার, এবং সন্ধ্যাবেলায় নাকে সুন্দর ডিজাইনের একটা নথ । বিজয়া দশমী :এই দিনে মা দুর্গা কৈলাসে তাঁর স্বামী গৃহের উদ্দেশ্যে যাত্রা শুরু করেন। ঘট অর্থাৎ একটি জল ও বেলপাতাপূর্ণ পাত্রে প্রতীকি নিরঞ্জনের পর, বিবাহিতা মহিলারা দেবী দুর্গা ও তাঁর স্বামী ভগবান শিবের মিলনের প্রতীক সিঁদুর খেলায় মেতে ওঠেন । অশ্রুসজল চোখে মায়ের কপালে সিঁদুর মাখিয়ে, সন্দেশ খাইয়ে ও প্রণাম করে দেবীকে তাঁরা বিদায় জানান ।এরপর, নারীরা একে অপরকে সিঁদুরে রাঙিয়ে নিজেদের বিবাহিত জীবনের গৌরব পালন করেন। লাল পাড় সাদা শাড়ি, যেটা বাংলার লালপেড়ে সাদা শাড়ি নামেই সমধিক প্রসিদ্ধ, শেষ দিনের উৎসব পালনে সেইটিই পরে নিন। আমরা বলি, সোনার চোকার, কয়েকটা চুড়ি, শাঁখা, পলা ও নোয়া- এইতেই অন্য জাতিকে টেক্কা দেওয়া যাবে অনায়াসে। সুচারু মকরমুখী একটা বালা পরুন, সঙ্গে কবজিতে য়ার ঝিকমিকানি কানের চন্দ্রবালা দুল, বাংলার অন্যতম পরম্পরার, তার সঙ্গে যা সুন্দর মানায় । এর সঙ্গে হাতে সোনার রতনচূড় (একটি ব্রেসলেট, যার সঙ্গে সরু সোনার চেন দিয়ে যুক্ত প্রতিটি আঙুলের আংটি ) পরা যায় যা দেবে মার্জিত আভিজাত্য. এটা সাধারণত ময়ূর বা পদ্মের নক্সায় তৈরি হয়। উপসংহার বাঙালি মেয়ের প্রকৃত সৌন্দর্য যে দুর্গা পুজোর সময়েই ফুটে ওঠে, এটাই প্রচলিত বিশ্বাস । মা হলেন, শান্তি, সুখ, শক্তি আর বিজয়ের প্রতীক । সংকল্প সম্ভার দুর্গা পুজোর মূল সুরেরই অনুরণন করে । বাংলার প্রাণবন্ত উৎসব, বৈচিত্রপূর্ণ সংস্কৃতি আর মানুষের প্রতি এটি এক শ্রদ্ধার্ঘ, যার প্রতিটি অলঙ্কার আঞ্চলিক ক্রেতাদের পছন্দের কথা ভেবে বানানো । সূক্ষ্ণহাতে তৈরি অ্যান্টিক জ্য়ুয়েলারি হোক, বা এথনিক কুন্দন সেট, প্রতিটি অলঙ্কার অসাধারণ শৈলীতে নির্মিত, বাংলার সাংস্কৃতিক ঐতিহ্যের প্রতিফলন যার সূক্ষাতিসূক্ষ্ম ডিজাইনে, সংকল্প তাই কল্যাণ জুয়েলার্সের এক পরম্পরাগত অলঙ্কাররেখা, যেটিতে কালোত্তীর্ণ ডিজাইন এসে মিশেছে সাবেকী ঐতিহ্যের সমকালীনতায় । পরম্পরাগত এই অলঙ্কাররেখার সম্ভার সৌন্দর্যপূর্ণ অলঙ্কার আর সমৃদ্ধির প্রতীক, উভয়রূপেই সমাদৃত । কল্যাণ জুয়েলার্সের এক পরম্পরাগত অলঙ্কার সম্ভার সংকল্প কালেকশন বাংলার সাংস্কৃতিক সুরটিকে প্রকৃত অর্থে ফুটিয়ে তুলেছে, বিশেষ করে দুর্গা পুজোর সময়ে । সূক্ষাতিসূক্ষ্ণ কারিগরী উৎকর্ষ, সুন্দর ডিজাইন ও ত্রুটিমুক্ত সূক্ষ্মতা সংকল্প কালেকশনকে অন্যদের থেকে আলাদা করে তুলেছে । এই কালেকশন সাবেকী সোনার চূড় ও সীতাহার থেকে হালকা ঝুমকা ও কানপাশা পর্যন্ত আধুনিক ও সনাতনী গয়নার অনায়াস সম্মিলন ঘটিয়েছে। তাই বাংলার শ্বাশ্বত সংস্কৃতি ও ঐতিহ্যের নমুনা হিসেবে চিরন্তন জুয়েলারীর কিছু কিনতে চাইলে কল্যাণ জুয়েলার্সের সংকল্প কালেকশন দেখতে ভুলবেন না ।
Publisher: Kalyan Jewelers

दुर्गा पूजा साजरी करा कल्याण ज्वेलर्सच्या संकल्प कलेक्शन सोबत

On
वर्षातील सर्वोत्तम वेळ आता आली आहे! सुंदर शरद ऋतूतील आकाश, ढाकचे ठोके, शिऊलीचा (मोगऱ्याचा) ताजा सुगंध, रंगीबेरंगी पंडाल आणि सुंदर वेशभूषा केलेले स्त्री-पुरुष हे बंगालमधील दुर्गापूजेशी संबंधित असलेल्या प्रतिमा आहेत. दुर्गा पूजा (दुर्गा पूजा) हा एक सण आहे जो पश्चिम बंगाल आणि देशाच्या इतर भागात अश्विन महिन्यात साजरा केला जातो. उत्तर भारतात या सणाला नवरात्री आणि दसरा असे नाव आहे. दुर्गा पूजेच्या वेळी महिषासुरावर देवी दुर्गेचा विजय साजरा केला जातो. दुर्गा पूजेत स्त्री शक्तीचे प्रतीक मोठ्या थाटामाटात साजरे केले जाते आणि संपूर्ण बंगालमध्ये आणि पूर्व भारतातील काही भागांमध्ये ते दाखवले जाते. ती शक्ती, आपुलकी, दृढनिश्चय, शहाणपण, शिक्षा करण्याची क्षमता आणि शेवटी शाश्वत सौंदर्याचे प्रतीक आहे. दुर्गा देवीची मूर्ती चमकदार साड्या आणि पारंपारिक बंगाली दागिन्यांनी परिधान केलेली असते. वर्षानुवर्षे साहित्य आणि चित्रपटांमध्ये चित्रित केलेली बंगाली महिलांची सशक्त व्यक्तिरेखा कदाचित या सामर्थ्याच्या पायावर बांधली गेली आहे. म्हणून, बंगाली स्त्रिया त्यांच्या आंतरिक शक्ती आणि कृपेचा उत्सव साजरा करतात आणि या काही दिवसांमध्ये पारंपारिक आणि जातीय दागिन्यांसह उत्कृष्ट साड्यांमध्ये सजवतात. वास्तविक उत्सव सुरू होण्यापूर्वी उत्सवाचा आनंद, उत्साह आणि चैतन्य अनुभवता येते. हे अकरा दिवस वर्षातील सर्वात आनंदी, सर्वात आनंदाचे दिवस आहेत. पुरुष, स्त्रिया, वृद्ध आणि तरुण, सर्वजण सणाच्या उत्सवासाठी एकत्र येतात आणि वेषभूषा करून, पंडालमध्ये भटकण्यासाठी बाहेर पडून, सर्वात स्वादिष्ट पदार्थ खाऊन आणि सर्वात महत्त्वाचे म्हणजे आपल्या प्रियजनांसोबत वेळ घालवून आनंद घेतात. बंगाली महिलांसाठी, पारंपारिक बंगाली दागिन्यांशिवाय कोणताही देखावा पूर्ण होत नाही. सोन्याचे दागिने ही सर्वात मौल्यवान धातू आहे जी काळाच्या कसोटीवर टिकली आहे. मग ते पारंपारिकपणे हस्तकलेच्या दागिन्यांसाठी आकर्षक नवीन डिझाईन्स असोत, प्रत्येक स्त्रीमधील आतील देवी प्रकट करण्यासाठी त्या सुंदर साड्या आणि जमिनीला स्पर्श करणाऱ्या अनारकलींसोबत जोडल्या जातात. महाअष्टमी: या दिवशी माँ दुर्गा पृथ्वीवर येतात. महा षष्ठी म्हणजे ज्या दिवशी आई दुर्गाचे स्वागत केले जाते त्याला पवित्र विधींनी अकाल बोधन, आमंत्रण आणि अधिवास म्हणतात. पुढील काही दिवस सुगंधित पूजा विधी आणि ढोल ताशांच्या बरोबरीने मंत्रमुग्ध करणार्‍या कार्यक्रमाच्या मालिकेद्वारे माँ आपल्या जीवनाचा एक भाग बनते. हा दिवस घरी परतण्याशी संबंधित आहे आणि प्रत्येक बंगालीला त्यांच्या मुळांची आठवण करून देतो. तिच्यासोबत, बंगाली या काही दिवसांत आपल्या प्रियजनांसोबत घरी परत येतात. आठवणींमध्ये रमण्याची, एकत्र येण्याची आणि हसण्याचा काळ. महाषष्ठीच्या पूर्वसंध्येला, माँ दुर्गा, तिची मुले आणि असुर पूर्ण दर्शनात येतात. त्यांच्या चेहऱ्याचे अनावरण झालेले असते. क्लिष्ट डिझाइन केलेले रेशीम आणि दागिने परिधान केलेले, त्यांच्या अस्त्रांसह पूर्ण अशा पद्धतीने, उत्सव सुरू होतो. प्रत्येक कानाकोपरा दिव्यांनी उजळून निघतो आणि पारंपारिक कपडे आणि हेरिटेज बंगाली दागिन्यांमध्ये परिधान करून संपूर्ण समुदाय त्यात सामील होतो. सणासुदीचा हा पहिला दिवस असल्याने, सर्वांनाच माहिती असते की ड्रेस कोड सेमी-कॅज्युअल, इंडो-वेस्टर्न, सलवार कुर्ती किंवा सुती साड्या आहे. म्हणून, मोहक सलवार कमीज किंवा कमीतकमी मेकअप असलेली साडी, साधी आयशॅडो, आतील कोपरा हायलाइट, किंवा दबलेला चमकदार आणि ठळक ओठ दिवसाचा देखावा पूर्ण करतात. दिवसाच्या दरम्यान, चमकदार आणि फिकट छटा निवडा आणि स्टेटमेंट पेंडेंटसह सोन्याच्या साखळीसारख्या साध्या गळ्यासह पोशाखाला जोडून द्या. हलक्या सोन्याच्या झुमका किंवा झुमक्यांसोबत क्लासिक, साध्या सोन्याच्या बांगड्या घ्या. संध्याकाळी जामदानी किंवा समृद्ध रेशमी साडी घाला. त्या पारंपारिक आणि हेरिटेज लूकसाठी कुंदनच्या कानातले किंवा वंशपरंपरा सोन्याचा हार सोबत जोडा. महा सप्तमी या दिवशी उत्सवाची सुरूवात होते. माँ दुर्गा जीवनात येते. एका धीरगंभीर विधीद्वारे तिचे डोळे उघडतात, आणि ती पहिल्यांदा आमच्याकडे पाहते. वधू म्हणून सजवलेल्या केळीच्या रोपामध्ये माँ दुर्गाच्या आत्म्याचे आवाहन केले जाते. या विधीला 'प्राण प्रतिष्ठा' असे म्हणतात. महासप्तमीसाठी परफेक्ट लुक हायड्रेंजिया ब्लू, पिंक किंवा पिवळ्या रंगात जॅकवर्ड विणलेली साडी असेल. उत्कृष्ट आणि किमान सलवार सूट किंवा शरारा असलेली कुर्ती स्टेटमेंट ज्वेलरीच्या तुकड्यांसह पूरक आहे. दिवसा सहज न्यूड किंवा कोरल लिप ठेवा. दागिन्यांसाठी, लक्षात ठेवा, सर्वात साधेपणाची छाप सर्वाधिक पडते. तर, आपला दिवसाचा लूक पूर्ण करण्यासाठी मीनाकारी आणि मल्टीपल आंगटी (रिंग) सोबत डायमंड इयरिंग्ज किंवा हॅण्डक्राफ्टेड इयरिंग्जची जोडी घाला. संध्याकाळी स्मोकी डोळे आणि ठळक ओठ सजवून ग्लॅम व्हा. सोन्याचा सखा, पोळा आणि नोआ आणि पारंपारिक बंगाली सीता हार यांच्या जोडीने मातीचे रंग संध्याकाळचे स्वरूप पूर्ण करतात. माणिक, पन्ना आणि हिरे यासारख्या मौल्यवान खड्यांनी सुशोभित केलेल्या सोन्याच्या किंवा चांदीच्या बांगड्या निवडा ज्या लेहेंगा किंवा शरीरासह उत्तम दिसतात. कमीतकमी प्लॅटिनम आणि पांढरे सोन्याचे दागिने समकालीन फॅशन दर्शवतात आणि फ्यूजन एन्सेम्ब्ल्स आणि उत्कृष्ट व्यंगचित्र निवडीसह उत्तम प्रकारे सजतात. महाअष्टमी: महाअष्टमीच्या दिवशी, पारंपरिक दागिन्यांसह सर्वात शोभिवंत साड्या घाला. माँ दुर्गाने महिषासुराचा वध केला तो हा दिवस मानला जातो, अंजली आणि शोंधी पूजा (अष्टमी आणि नबमीचा संयोग) म्हणून ओळखल्या जाणार्‍या प्रार्थनांवर मुख्य भर असतो. महा अष्टमीच्या दिवशी, मेकअपसाठी, आम्ही गडद डोळ्याच्या मेकअपसह, लाल रंगाच्या सावलीत ठळक, लक्षवेधी लिपस्टिक लावण्याचा सल्ला देतो. पण, अर्थातच, एखादा दिवस आणि रात्रीच्या उत्सवांनुसार रंग समायोजित करू शकता. या दिवसासाठी आमची वैयक्तिक निवड म्हणजे क्लासिक बंगाली चुर बनवणे. सोन्याच्या बांगड्या भाग्य आणि विजयाचे प्रतीक असल्याने, एक किंवा अनेक निवडा. वैयक्तिकरित्या, सुंदर हातांकडे लक्ष वेधण्यासाठी ब्रेसलेट किंवा बाली घाला. शेवटी, चिक किंवा चोकर आणि झुमक्यासोबत लुक पूर्ण होईल. अधोरेखित लालित्य आणि टिकाऊ सौंदर्यासाठी हाताने बनवलेला कान पाशा किंवा पांढरा, ऑफ-व्हाइट किंवा पेस्टल असलेले कान कफ घाला. मेकअप सौम्य ठेवा. हा लुक म्हणजे आधुनिक महिलांसाठी पारंपारिक आणि समकालीन दागिन्यांचे एक परिपूर्ण मिश्रण आहे. दुर्गा पूजेतील सर्वात महत्वाच्या विधींपैकी एक म्हणजे संध्या पूजा. अष्टमी तिथीची शेवटची २४ मिनिटे आणि नवमी तिथीची पहिली २४ मिनिटे म्हणजे संधी खोन, अर्थात्अष्टमी आणि नवमी दरम्यानचा सर्वात शुभ काळ. संधी पूजा भक्तांमध्ये तीव्र भावना जागृत करते कारण या वेळी, चांदो आणि मुंडा हे दुष्ट असुर मातेसमोर बळी पडले आणि तिने पुन्हा एकदा वाईटावर विजय मिळवला. आम्ही संध्यापूजेच्या वेळी माँ दुर्गाच्या चामुंडा रूपाची पूजा धकच्या तालावर करतो. हा वाईटावर चांगल्याचा विजय आणि स्त्री शक्तीचा अंतिम विजय आहे. अन्याय आणि अपमानाच्या सर्व खुणा मिटवण्यासाठी देवी दुर्गा महिषासुरासमोर पिवळी साडी घातलेली सुंदर सोनेरी स्त्री म्हणून प्रकट होते. लुक पूर्ण करण्यासाठी पिवळी किंवा चमकदार रंगाची साडी, सोन्याचा झुमका आणि बहुपेडी हार किंवा सात तोली हार घालू शकता. पोल्की नेकलेस किंवा कॉलर नेकलेस या प्रसंगासाठी योग्य आहेत. मेकअपसाठी, ठळक ओठ, चमकदार आयशॅडो आणि गाल हायलाईट करण्यासाठी कोरल ब्लश वापरा. महानवमी: महानवमीला महाआरती केली जाते. आरतीमधील अग्नी देवी दुर्गाच्या अग्नीचे प्रतीक आहे जे वाईट दूर करण्यासाठी उंच आणि अधिक प्रखरपणे उजळते. लोक या दिवशी उपवास देखील सोडतात. नवमीसाठी, आम्ही पारंपारिक आणि मोहक बनण्याचा सल्ला देतो. पारंपारिक बंगाली दागिन्यांसह बंगालच्या हेरिटेज हातमागची जोड देऊन ती साजरी करा. नवमीला ठळक आय लुक, रंगीत पॉप किंवा शिमर आणि आयशॅडोशी जुळणारी लिपस्टिक शेड लावण्यात कसर ठेवू नका. दागिन्यांसाठी, आम्ही एक कलावी संकल्प सोन्याची बांगडी सुचवतो. त्यांचे अधोरेखित लालित्य, समृद्ध, नाजुक रचना माँ दुर्गा कैलासला परत येण्यापूर्वीच्या शेवटच्या दिवसाच्या भावनेला शोभेसे असतात. बांगड्या आणि मोहक झूमका ईअररिंग्जसोबत जुळणाऱ्या पेंडंटसह हार घालून हे जोडा. हे कॉम्बिनेशन लुक सौंदर्यवान बनवते पण "ओव्हर द टॉप" नाही. शेवटी, आरामदायक फॅशन, सॉलिड सिल्हूट्स आणि सरळ कट्सची निवड करा, सोबत घालाएक अँटीक हार आणि संध्याकाळी एक नाजुकी डिझाइन केलेली नथ. विजया दशमी: या दिवशी, माँ दुर्गा तिचा पती, भगवान शिव यांच्याशी पुनर्मिलन करण्यासाठी तिच्या प्रवासाला निघते. 'घाट', पाणी आणि पवित्र पानांनी भरलेले भांडे यांचे प्रतीकात्मक विसर्जन केल्यानंतर, विवाहित स्त्रिया देवी दुर्गा यांचे पती भगवान शिव यांच्याशी मीन दर्शविण्यासाठी 'सिंदूर खेळ' करतात. मग, अश्रूपूर्ण डोळ्यांनी, देवीच्या कपाळावर सिंदूर लावून, तिला मिठाई खायला देऊन आणि तिच्या पायाला स्पर्श करून निरोप दिला जातो. त्यानंतर, स्त्रिया त्यांचा वैवाहिक आशिर्वाद साजरा करतात ज्यामध्ये त्या एकमेकांच्या तोंडावर सिंदूर लावतात. उत्सवाचा हा शेवटचा दिवस साजरा करण्यासाठी लाल किनारीने युक्त बंगाली पांढरी साडी म्हणून प्रसिद्ध असलेल्या लाल पाढ शाडा साडी परिधान करा. आम्ही सोन्याचे चोकर, काही बांगड्या, सखा, पोला आणि नोआ घालण्याचा सल्ला देतो आणि इतर सर्वांना दिपवून टाका. सर्वात प्रतिष्ठित बंगाली दागिन्यांपैकी एक असलेल्या चंद्र बाला ईअररिंग्जसह मनगटावर चमकणारा मकरमुखी बाला घाला. मोहक देखाव्यासाठी सुवर्ण रत्नाचूर (प्रत्येक बोटाला जोडलेल्या अंगठ्यांसह ब्रेसलेट) देखील जोडता येते. हे प्रामुख्याने मोर किंवा कमळाच्या रचनांमध्ये मिळते. निष्कर्ष दुर्गापूजेसारख्या काळात बंगाली महिलांचे खरे सौंदर्य प्रकट होते असा एक सामान्य समज आहे. माँ शांती, आनंद, शक्ती आणि विजयाचं प्रतीक आहे. संकल्प कलेक्शनमध्ये दुर्गापूजेच्या भावनेचा नाद आहे. स्थानिक खरेदीदारांच्या आवडीनिवडी लक्षात घेऊन तयार केलेल्या प्रत्येक दागिन्यासह बंगालचे उत्साही सण, विविध संस्कृती आणि लोक यांना ही आदरांजली आहे. बारीक कलाकुसर केलेल्या प्राचीन दागिन्यांपासून ते पारंपरीक कुंदन ज्वेलरी सेटपर्यंत, प्रत्येक दागिना अत्यंत भव्यतेने तयार केला गेला आहे, ज्यात 'बंगाल' च्या सांस्कृतिक वारशाशी साधर्म्य असणारे नाजुक तपशील आहेत. संकल्प ही कल्याणच्या ज्वेलर्सची पारंपारिक ज्वेलरी लाइन आहे ज्यामध्ये काळातील डिझाईन्स आहेत ज्यात समकालीनतेच्या संकेतासह परंपरा स्वीकारल्या जातात. पारंपारिक दागिन्यांची ही श्रुंखला सुंदर शोभा आणि समृद्धी आणि आशेचे प्रतीक म्हणून काम करते. कल्याण ज्वेलर्सच्या संकल्प कलेक्शनने बंगाली संस्कृतीचे सार खरोखरच टिपले आहे, विशेषत: दुर्गा पूजेच्या वेळी. नाजूक कारागिरी, नाजूक रचना आणि निर्दोष परिपूर्णता यामुळे संकल्प कलेक्शन इतरांपेक्षा वेगळी दिसते. याकलेक्शनमध्ये आधुनिक आणि पारंपारिक सोन्याच्या चुर आणि सीता हारापासून हलके झुमके आणि कान पाशांपर्यंत सहजतेने एकत्र केले आहेत. त्यामुळे समृद्ध बंगाली संस्कृती आणि परंपरेचे प्रतीक असलेल्या काही अभिजातदागिन्यांची खरेदी करताना, कल्याण ज्वेलर्सचे संकल्प कलेक्शन पाहा.
Publisher: Kalyan Jewelers

આ કરવા ચોથ પર કલ્યાણ જ્વેલર્સના સંકલ્પ કલેક્શનથી તમારા સંકલ્પનું નવિનીકરણ કરો.

On
કરવા ચોથને વર્ષનો સૌથી રોમેન્ટિક સમય ગણાવી શકાય છે! પુસ્તકો અને મૂવીમાં ઉજવાતી, કરવા ચોથ એવો જાદૂઇ દિવસ છે જ્યારે પરિણીત મહિલાઓ આખો દિવસ ઉપવાસ રાખે છે અને પોતાના પતિના દીર્ઘાયુ માટે પ્રાર્થના કરે છે. લગ્ન સંબંધોનું સૌંદર્ય સ્પષ્ટિકરણને પર છે, અને દંપતી માટે પ્રત્યેક દિવસ અનોખો હોય છે. પરંપરાગત રીતે જ, એવા ઘણા ઉત્સવો અને રીતિ-રિવાજો છે જે આ સંબંધોની ઉજવણી કરે છે અને દરેક ક્ષેત્રમાં તે અલગ હોય છે. જોકે, કરવા ચોથ એ સૌથી વધારે ઉજવાતા ઉત્સવ પૈકી એક છે જે વર્ષોથી તમામ સમુદાયોને પાર છે. પ્રેમ અને શાશ્વત સંકલ્પની ઉજવણી એવા આ પર્વ પર અપરિણીત યુગલો પણ પ્રેમ અને શાશ્વત એકીકરણની ઉજવણી માટે પોતાના વાગ્દત માટે ઉપવાસ રાખે છે. કરવા ચોથની સુંદર બાબત એ છે કે ઘણી પત્નીઓ પોતાના પતિ માટે ઉપવાસ રાખીને તેમના સ્વસ્થ જીવન માટે પ્રાર્થના કરે છે. આ ઉત્સવ સાસુ અને પત્ની અને પત્ની અને તેમના માતા વચ્ચેના જોડાણને મજબૂત કરવા માટે પણ જાણીતો છે. કરવા ચોથના દિવસે, માતા પોતાની પુત્રવધુને સૂર્યોદય પહેલા આરોગવા માટેનું ભોજન સરગી આપે છે, જે ફળો, શાકભાજી અને રોટલીઓનું બનેલું હોય છે. બીજી બાજૂ, પત્નીના માતા, તેમને ભેટ-સોગાદ મોકલે છે, જે ઘરેણાં, વસ્ત્રો અથવા ખાદ્યપદાર્થો અથવા કંઇપણ અન્ય વસ્તુ મોકલે છે. આ પ્રસંગ પ્રેમ, ઉષ્માથી ભરપૂર હોય છે અને તે પરિવારોને સાથે લાવે છે. કરવા ચોથ પર મહિલાઓ સુંદર રીતે તૈયાર થાય છે. હાથમાં મહેંદી લગાવે છે અને મોહક ઘરેણાં પહેરે છે અને ચંદ્રોદયની રાહ જુવે છે. દંતકથાઓ કરવા ચોથને રાણી વીરાવતી સાથે જોડે છે. પ્રેમ અને ઝંખનાની ગાથા જે આ વિધિમાં પ્રણય અને કરૂણતા ઉમેરે છે. તે ખુબ જ પ્રેમાળ અને જીવથી વધારે સાચવતા સાત ભાઇઓની એક માત્ર લાડકી બહેન હતી. પરિણિત મહિલા તરીકે તેમની પહેલી કરવા ચોથ તેમના પિયરમાં હતી. તેમના ભાઇઓએ જોયું કે તેઓ આતૂરતાથી ચંદ્રોદયની રાહ જોઇ રહ્યા છે જેથી કરીને તેઓ પોતાના ઉપવાસને તોડી શકે. ભૂખ અને તરસથી થાકી ગયેલી પોતાની બહેનને જોઇને તેમનો ભાઇ ઉપવાસ તોડવા એક રમતિયાળ યોજના સાથે આવ્યો હતો. તેમણે પીપળાના વૃક્ષ પર અરીસો લટકાવ્યો હતો અને બહેનને એમ સમજાવ્યું હતું કે ચંદ્રોદય થઇ ગયો છે તેથી તે પોતાના ઉપવાસ તોડી શકે છે. પણ તેમણે જે ઘડીએ તેમ કર્યું, કે તરત જ સમાચાર આવ્યા હતા કે તેમના પતિ, રાજાનું અવસાન થયું છે. વીરાવતી આખી રાત રડતા રહ્યા હતા. તેમનું દારૂણ દુઃખ અને નુકસાનને જોઇને દેવી તેમની પાસે આવ્યા હતા અને તેને બીજા દિવસે સંપૂર્ણ સમર્પણ ભાવ સાથે ઉપવાસ રાખવા સૂચન કર્યુ હતું. મૃત્યુના દેવ યમરાજને તેના પતિને પુર્નજીવન આપવાની ફરજ પડશે, અને તેમણે દેવીની વાતનું પાલન કર્યુ હતું અને તેમનું તેમના પતિ સાથે પુર્નમિલન થયુ હતું. આ સાંભળવા ગમે તેવી કહાની અલગ-અલગ રૂપમાં સાંભળવા મળે છે જે પ્રેમ અને દૈવીય હસ્તક્ષેપની ઉજવે છે અને અંત હંમેશા આત્માઓનું પુર્નમિલન તેમજ મૃત્યુ પર વિજય હોય છે. આવા પ્રસંગને વિશેષ બનાવવા માટે આ દિવસ માટે ત્રણ વિશેષ દેખાવ આપ્યા છે. સવારની સરગીથી શરૂ કરી પાણીથી દૂર રહેવું અને અંતે મલકાતા ચંદ્રના દર્શન માટે રાહ જોવા સુધી, તમે સુંદર દેખાવો તે માટે તમારો દેખાવ એકદમ અલગ હોવો જોઇએ. સવારનો દેખાવ કરવા ચોથના કોઇપણ દેખાવની ખાસ બાબત દાગીના છે. આ દિવસે ઓછું નથી ખપતું. સવારનો દેખાવ રોમેન્ટિક અને સુંદર ઘરેણા, પાજેબ અથવા સાંકળાથી હાઇલાઇટ કરો જે તમારી ઘુંટીને ફરતે શોભે. પાજેબનો અવાજ, દરેકને તમારી તરફ નજર કરવા મજબૂર કરશે અને તમને કહેવા પ્રેરશે કે તમે કેટલા સુંદર દેખાઓ છો. નંગ અથવા કુંદનવર્ક સાથેની સોનાની પાજેબ પહેરો. પેન્ડન્ટ સાથે સોનાનો હાર અને મોતી અને નીલમ સાથેની બુટ્ટીઓ જે તમારા સૂર્ય જેવા ઝળકતા દેખાવને નિખારશે. આ કોમ્બિનેશન સોફિસ્ટિકેશન સુનિશ્ચિત કરશે. સામાન્ય રીતે, મ્યૂટ રંગમાં સલવાર શૂટ અથવા તો સાદો લહેંગો આ સમય માટે સૌથી શ્રેષ્ઠ હોય છે. વાદળી, પીળો અથવા ગુલાબી સારી રીતે સિવાયેલો અને ફિટિંગ વાળો સલવાર શૂટ તેમજ બન અથવા ટોપ નોટ સાથેની હેર સ્ટાઇલ તમારા દેખાવને ભવ્ય બનાવશે. અંતે તમને આરામદાયક લાગે તેવા જોડા સાથે તમારા દેખાવને પૂર્ણ કરો. આ દેખાવની સાથે, તમે ચૂડા પણ પહેરી શકો છો, જે રંગીન બંગડી હોય છે, જે સામાન્ય રીતે લાલ અને સફેદ રંગમાં હોય છે, જે તમારા કાંડાને નવોઢા જેવો રણકાટ આપશે, વૈકલ્પિક રીતે, જો તમે સમકાલીન પરંપરાગત દેખાવ ઇચ્છતા હો, તો હીરા જડિત બંગડી અને હીરાના ઝુમકા મેકઅપ સાથે પહેરો અને નૈસર્ગિક દેખાવ પ્રાપ્ત કરજો. સાંજનો દેખાવ આ એ સમય છે જ્યાં તમે તમારો સર્વશ્રેષ્ઠ દેખાવ ઇચ્છો છો – તમારા લગ્નના અલંકાર અને વસ્ત્રોમાં સુસજ્જ; મીનાકારી અથવા પરંપરાગત હસ્તકળાથી બનાવેલા ઘરેણાં પહેરો જે તમે હંમેશા ઇચ્છતા હતા. માણેક અને મોતી સાથે અસલી હારને ડેંગલર્સ સાથે પહેરો. ભવ્ય લહેંગો અથવા તો નવોઢાના રંગની લાલ સાડી તેમજ સોનાનો જડાઉ અથવા શેમ્પેન સ્ટોન જડીત નેકલેસ સેટ તમને શાનદાર ફિનિશ આપશે. તમે જો છત પર તમારા મિત્રો અને પરિવારની સાથે કરવા ચોથ ઉજવવા માગતા હો તો, અમે તમને સૂચવીએ છીએ કે તમે તમારા વાળને ટોપ નોટ રીતે બાંધજો. સ્લીવલેસ અથવા તો સ્ટ્રેપી ચોલી પહેર જો અને તેને જરદોશી વર્ક સાથેની સાડી કે ઘાઘરા સાથે પહેરજો. કેન્ડેલિયર ડાયમંડ (હીરા)ના ઇયરરિંગ, આકર્ષક નેકપીસ, છ થી આઠ બંગડી અને તમારા વાળમાં થોડા ફૂલ તમારા દેખાવને પૂર્ણ કરશે. કરવા ચોથ શિયાળાની ઋતુના પ્રારંભની સાથે આવે છે, અને તમારે ભારે ઘરેણાં પહેરતા અચકાવું ન જોઇએ. જોકે, જો તમે એક જ ઘરેણું પહેરવા માગતા હો તો, કલ્યાણ જ્વેલર્સના સંકલ્પ કલેક્શનને જુઓ. દરેક પીસ તમને એક કહાની જણાવશે. ઝીણવટપૂર્ણ રીતે તૈયાર કરાયેલ, એકદમ બારીક ડિઝાઇન સાથેના ઘરેણાંને જ્યારે પહેરવામાં આવે છે ત્યારે તમે પોતાની જાતને તે મહારાણી કરતા ઓછા નહીં અનુભવો જેણે 365 દિવસ સુધી રોજ કરોરામાંથી એક સોય કાઢીને પોતાના પતિને નવજીવન આપ્યું હતું અને આ સુંદર પરંપરાનો પ્રારંભ કર્યો હતો જે આજે પણ અડીખમ છે. શિકારપુરી નથમાં રોકાણ કરો, મોટી નાકની નથણી અને તેની ચેઇન સાથે એક નાનું પેન્ડન્ટ. શિકારી નથ ભવ્ય અને સુંદર દેખાય છે અને તે કોઇપણ અન્ય ઘરેણાંને ફિક્કી પાડે છે. જોકે, લોંગએ નાના સ્ટડ કે ચુની હોય છે અને જો તમો લાવણ્ય પસંદ કરતા હોય તો તમારે તેને અજમાવવા જોઇએ. ચોકર કેટલું શાનદાર ઘરેણું છે તેને ધ્યાનમાં રાખતા, આ દેખાવ અથવા કોઇપણ અન્ય દેખાવ માટે તેમને પેર કરવા સારું હોય છે. ઉદાહરણ તરીકે, તમારા ગળા માટે રાણી હાર સાથે ચોકર પહેરો. જોકે, જો તમે વધારે ભપકાથી ચિંતિત ન હોવ, તો યુ-આકારનો સાતલદા નેકલેસ પણ અજમાવી જુઓ. ઘરેણાંનું આ કોમ્બિનેશન તમારા દેખાવને શાહી અને ભવ્ય બનાવી શકે છે. તમે જ્યારે ચંદ્રના દર્શન કરો છે તે સમય માટેનો દેખાવ આકર્ષક અને શાનદાર દેખાવ અપનાવો. આ દેખાવ માટે લહેંગા સૌથી સારા હોય છે. અમારી સલાહ છે કે તમે તમારી પસંદગીના રંગના તેજસ્વી શેડનો લહેંગો પહેરો. જ્યારે મેકઅપની વાત આવે છે, ત્યારે ખાસ કરીને જ્યારે તમે તમારી આંખના મેકઅપ પર વધારે ધ્યાન આપો છો, ત્યારે બોલ્ડ-કેટ-વિન્ગ્ડ આઇલાઇર અથવા સ્મોકી આઇ લુક અથવા તો કટ-ક્રીઝ સારા રહેશે. તેને લાલ અથવા કોરલ લિપસ્ટિક અને ખુબ ગ્લોસ સાથે પેર કરો. જ્યારે વાત ઘરેણાની આવે છે ત્યારે અમારી સલાહ છે કે તમે કલ્યાણ જ્વેલર્સના સંકલ્પ કલેક્શનમાંથી વાળી ખરીદો. આ સુંદર ઇયરરિંગ્સ, સામાન્ય રીતે ગોળ અથવા અર્ધચંદ્રાકારમાં અને નંગ જડિત હોય છે. તમે તેને તમારી અંગુઠી સાથે પેર કરી શકો છો જે સામાન્ય રીતે તમારી સગાઇની વીંટી હોય છે. તમે ઉઝુરી મુદ્રા સોનાનો નેકલેસ પહેરીને તમારા દેખાવને વધુ લાવણ્ય પ્રદાન કરી શકો છો. પરિણિત મહિલાઓ માટે ઉત્સવનો કોઇપણ દેખાવ બંગડી, મંગળસુત્ર, બિંદી, લગ્નની વીંટી અને એકલા સ્ટડ વિના અધુરા હોય છે. સંકલ્પ કલેક્શનના ઘરેણાં આધુનિક મહિલાઓનો પડઘો પાડે છે, જેઓ પોતાના જીવનસાથી પ્રત્યેના પ્રેમ માટે કરવા ચોથ ઉજવે છે. જ્વેલરીનું આ કલેક્શન પરંપરાઓ, પસંદગીની સ્વતંત્રતા અને ભારતીય મૂલ્યો પ્રત્યે નિહિત સન્માનથી પ્રેરિત છે. કહેવાની જરૂર નથી કે, તમારા માટે ઉપવાસ રાખતી અથવા તો તમારી સાથે ઉપવાસ રાખતી મહિલાને, હાથે બનાવેલા ઘરેણાં અથવા સોલિટેર રિંગ આપીને ઉજવણી કરો જેથી કરીને તેઓ આ વિશેષ રાત્રીને હંમેશા યાદ રાખે. તેઓ જ્યારે ચંદ્રદર્શન કરીને તમારી તરફ નજર કરે ત્યારે તેમને આ ભેટ આપો. મિત્રો અને પરિવાર, સંગીત અને ભોજન, અને કેટલાક નહીં કહે
Publisher: Kalyan Jewelers

भाई दूज – अपने भाई के लिए प्यार जताने का दिन

On
भाई दूज का त्योहार मन को लुभा लेने वाला त्योहार होता है। ये दिन होता है बहुत सारी बातों को याद करने का; भाई-बहन के झगड़े, शिकायतें और बड़ों का बीच-बचाव करना, एक दूसरे को राज़ की बातें बताना और एक दूसरे को पूरी तरह से समझना। भाई-बहन जैसा रिश्ता कई उतार-चढ़ाव से गुज़रता है, लेकिन रिश्ता हमेशा अटूट रहता है। भारतीय परंपराओं में इस रिश्ते को भाई दूज और रक्षा बंधन जैसे त्योहारों के साथ मनाया जाता है। इस दिन घर के कोने-कोने को सजाया जाता है। दरवाज़ों पर फूलों की मालाएं लगाई जाती हैं, थाली में पूजा का सामान और तिलक या मिठाइयां रखी जाती हैं और घर को ख़ुशबुओं से महकाया जाता है। भारतीय महिलाएं और पुरुष अपनी पारंपरिक वेशभूषाएं और शानदार ज्वेलरी पहनते हैं। भाई दूज का त्योहार दीवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने चहेते भाइयों की लंबी उम्र, सेहत और समृद्धि के लिए भगवान से कामना करती हैं। इसके बाद भाइयों के माथे पर तिलक लगाया जाता है, हाथों में सजाई गई पूजा की थाली के साथ उनकी आरती उतारी जाती है। इस थाली में भारत के विभिन्न हिस्सों में प्रचलित रिवाजों के अनुसार रोली, चावल, नारियल और दूर्वा घास आदि को रखा जाता है। तिलक लगा कर बहन अपने भाई की नकारात्मक प्रभावों से भी रक्षा करती है। प्यार और अपने-पन का भाव दर्शाते हुए भाई अपनी बहनों को बढ़िया तोहफे देते हैं। बदले में बहनें उन्हें स्वादिष्ट भोजन कराती हैं, उन्हें प्यार करती हैं और तोहफे देती हैं। इस अवसर पर तोहफे के तौर पर ज्वेलरी देने से अच्छी चीज़ और क्या हो सकती है, जिसका मूल्य और चमक कभी खत्म नहीं होती है। इस अवसर पर दिया गया तोहफा उस रिश्ते का प्रतीक बन जाता है। भाई-बहन के बड़े हो जाने पर भी ये तोहफा पुराना नहीं पड़ता। चाहे सोने की या हीरे की अंगूठी हो,चाहे हाथों से निर्मित पारंपरिक नेकलेस या आधुनिक डिज़ाइन वाली ज्वेलरी,इससे बढ़िया तोहफा और क्या हो सकता है। हर भारतीय त्योहार के समान, भारत के विभिन्न हिस्सों में भाई दूज को अलग-अलग प्रकार से मनाया जाता है। इसे मनाने की रीति-रिवाज भले ही अलग हों, लेकिन आस्था और परंपरा एक ही होती है। भाई दूज को कई अन्य नामों से जाना जाता है, जैसे कि पश्चिम बंगाल में इसे भाई फ़ोटा, महाराष्ट्र में इसे भाऊ बीज, नेपाल में भाई टीका और भारत के कुछ हिस्सों में इसे यम द्वितीय कहा जाता है। इस शुभ दिन की उत्पत्ति के साथ कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई हैं। एक लंबे चले युद्ध में नरकासुर राक्षस को हराने के बाद भगवान अपनी बहन सुभद्रा के घर पहुंचे, जिन्हें देख सुभद्रा बहुत खुश हुई और अपने भाई के माथे पर उन्होंने “तिलक” लगाया और बहुत आदर के साथ उनका अभिनंदन किया गया। उन्होंने फूलों और मिठाइयों के साथ भगवान कृष्ण का स्वागत किया, जिसके बाद से “भाई दूज” का त्योहार मनाया जाने लगा। एक अन्य पौराणिक कथा का संबंध मृत्यु के देवता यम और उनकी बहन यमुना से है। उस कथा के अनुसार यम ने अमावस्या के दूसरे दिन अपनी प्यारी बहन यमुना को देखा था। उन्होंने यम का स्वागत आरती, तिलक और मिठाइयों से किया। अपनी बहन से खुश होकर यम ने आशीर्वाद दिया कि इस दिन यमुना नदी में डुबकी लगाने वाले भाई-बहन को मुक्ति की प्राप्ति होगी। पश्चिम बंगाल में इस पर्व को “भाई फ़ोटा” के नाम से जाना जाता है, जब बहन पूरा दिन उपवास रख अपने भाई के आगमन का इंतज़ार करती है। उसके बाद वह अपने भाई के माथे पर तीन बार घी, काजल और चंदन से निर्मित एक विशेष तिलक लगाती है और उसकी आरती करती है। आरती के बाद बहन अपने भाई के लिए पूजा करती है और वे दोनों एक दूसरे को तोहफे देते हैं। इसके बाद दावत में पारंपरिक मिठाइयां और व्यंजन खाए जाते हैं। महाराष्ट्र में भाई दूज का त्योहार “भाऊ बीज” के तौर पर मनाया जाता है। परंपरा के अनुसार, भाई अपनी बहन द्वारा बनाई गई चौकोर आकृति के अंदर बैठता है। भारत के कुछ हिस्सों में इसअवसर को “यम द्वितीय” के रूप में मनाया जाता है। कहा जाता है कि यम द्वितीय के दिन अगर कोई व्यक्ति अपनी बहन के हाथों से तैयार किया गया खाना खाता है तो यमराज उसे कोई हानि नहीं पहुंचाते हैं। बिहार में भाई दूज के त्योहार को गोधन पूजा कहा जाता है। किसी भी प्यार भरे रिश्ते को साबित करने में तोहफों की भूमिका हमेशा ही अहम होती है। वैसे तो हर रिश्ता अपने-आप में अनूठा होता है, लेकिन तोहफों का आदान-प्रदान रिश्तों को मजबूत बनाता है। कल्याण ज्वेलरी की ओर से प्रस्तुत ज्वेलरी के कुछ उदाहरण जो आपकी बहन को बेशक पसंद आएंगे हीरे का सादा, सुंदर सॉलिटेयर हमेशा ही सदाबहार माना जाता है। हीरे के झुमके अपना अलग ही प्रभाव छोड़ते हैं। अगर आपकी बहन को सादी पर सुंदर ज्वेलरी पसंद है, तो हमारा सुझाव है कि आप उनके लिए प्लैटिनम चेन साथ में बढ़िया डिजाइन वाला पेंडेंट या व्हाइट गोल्ड वाला डायमंड स्टड सेट तोहफे में दें। इन्हें किसी भी अवसर पर पहना जा सकता है और तोहफे में देने के लिए भी ये बहुत बढ़िया होते हैं। रोज़ाना पहनने के लिए डायमंड सेक्शन या ऑफिस कलेक्शन में से नाज़ुक लेकिन उत्कृष्ट डायमंड नेकलेस उनके गले पर बहुत जंचेगा और व्यक्तित्व को निखारेगा। उन्हें सबसे अनूठा दिखने में मदद करें, फिर चाहे काम के दौरान या फिर अपने दोस्तों के साथ खाने पर मुलाकात का समय ही क्यों ना हो। अगर आपकी बहन को चूड़ियां पहनना पसंद है, तो आप अनेक प्रकार की आधुनिक या हाथों से निर्मित पारंपरिक डिज़ाइन वाली चूड़ियां उन्हें तोहफे में दे सकते हैं। उदाहरण के तौर पर,चमकदार नीले रत्न या माणिक जड़ित सुंदर डायमंड ब्रेसलेट या पतले-पतले कई गोल्ड ब्रेसलेट आजकल बहुत ही फैशनेबल हैं। सोने की बड़े आकार वाली ज्वेलरी पहनने में अनूठी लग सकती है। एक आधुनिक महिला को पसंद आने वाले अनूठे और नए डिज़ाइन देखें। आज की महिला मस्त,निडर है जिसे नई-नई चीज़ें आज़माने से डर नहीं लगता है। अलंकृत डिज़ाइन, चांदी, रोज़ गोल्ड वाली ज्वेलरी उनके ज्वेलरी कलेक्शन की शोभा बढ़ाएगी। अगर उन्हें पारंपरिक ज्वेलरी पहनना पसंद है, तो कल्याण ज्वेलर्स के हाथों से निर्मित ज्वेलरी कलेक्शन में से कोई अनोखा पीस ख़रीदें। सुंदर कारीगरी वाली कान की बालियां, अंगूठियां और नेकलेस उन्हें बेशक बहुत खुशी देगा। ऐसे ज्वेलरी जिसे आपका भाई हमेशा याद रखे कल्याण ज्वेलर्स की ओर से पुरुषों के लिए अनूठे, उत्कृष्ट तोहफों की रेंज में शानदार एक्सेसरीज़ और बेहतरीन कारीगरी वाली ज्वेलरी शामिल है। आजकल ज्वेलरी पहनने का चलन है। आज के पुरुष को शान, सादगी और भव्यता पसंद आती है। इस कलेक्शन में अनेक प्रकार की उत्तम डायमंड ज्वेलरी है जो किसी भी ज्वेलरी प्रशंसक को पसंद आएगी। किसी पुरुष को तोहफे में ज्वेलरी देनी है तो सोने की आकर्षक डिज़ाइन वाली हीरे जड़ित अंगूठी सबसे उत्तम होती है। सोने की पारंपरिक डिज़ाइन वाली चेन सदाबहार मानी जाती हैं और जिन्हें किसी भी अवसर पर पहना जा सकता है। लट के डिज़ाइन वाला, दो-रंगा उत्कृष्ट ब्रेसलेट बेशक पहनने में शानदार और आकर्षक होता है। सोने के ब्रेसलेट में सुंदर कलाकृति वाला काला गोमेद बहुत ही अनोखा लगता है और जो किसी भी पुरुष के पास होना ज़रूरी है। तोहफे के तौर पर भाई को 24 कैरट वाला सोने का सिक्का देकर प्यार की पवित्रता को दर्शाया जा सकता है। कुर्ते के बटन पुरुषों की शान बढ़ाते हैं। तोहफे में हीरे जड़ित सोने के बटन देकर उनके कुर्ते की शान बढ़ाएं। या फिर डायमंड कफलिंक तोहफे में देकर उनके उत्कृष्ट सूट या टक्सेडोको चार-चांद लगाएं। भाई दूज का त्योहार देश भर में धूम-धाम से मनाया जाता है। बेशक इस त्योहार को मनाने के रीति-रिवाज अलग-अलग हो सकते हैं। लेकिन भाई दूज को मनाने का मुख्य उद्देश्य भाई-बहन के अटूट बंधन को यादगार बनाना होता है; इसके साथ ही स्वादिष्ट मिठाइयां और शानदार तोहफे मिल जाएं, इससे बढ़िया और क्या बात हो सकती है। वैसे तो तोहफा मिलने पर खुशी बहुत होती है, लेकिन तोहफा देने की तसल्ली की बात ही अलग होती है। इस भावना को शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता। तोहफा खोलने में मिलने वाली खुशी पल भर की होती है, जबकि तोहफा देने की खुशी बरसों याद रह जाती है। तोहफा देने का मतलब होता है कि आप सामने वाले व्यक्ति की सराहना कर रहे हैं और अपने दिल में उसके प्रति सम्मान व्यक्त कर रहे हैं। भाई-बहन का रिश्ता अनूठा होता है। इस रिश्ते में एक दूसरे की मदद करना और उसकी गलतियों को नज़रअंदाज़ कर देने की भावना शामिल होती है। इसलिए, भाई-बहन को दिया जाने वाला तोहफा भी इस रिश्ते के समान बेहतरीन होना चाहिए।
Publisher: Kalyan Jewelers

દુર્ગા પૂજાની ઉજવણી કલ્યાણ જ્વેલર્સના સંકલ્પ કલેક્શન સાથે કરો

On
વર્ષનો સૌથી શ્રેષ્ઠ સમય અહીં છે ! શરદ ઋતુનું સુંદર આકાશ, ઢાકની ધૂન, જાસ્મીનની તાજી સુગંધ, રંગીન પંડાલ અને સુંદર પોષાક પહેરીને તૈયાર થયેલા પુરુષો અને સ્ત્રીઓ, બંગાળમાં દુર્ગા પૂજા સાથે સંકળાયેલી છબીઓ છે. દુર્ગા પૂજા (દુર્ગા પૂજો) પશ્ચિમ બંગાળ અને દેશના અન્ય ભાગોમાં અશ્વિન મહિના દરમિયાન ઉજવવામાં આવતો એક તહેવાર છે. ઉત્તર ભારતમાં આ તહેવારને નવરાત્રી અને દશેરાનાં નામથી ઓળખવામાં આવે છે. ભેંસ રાક્ષસ મહિષાસૂર પર દેવી દુર્ગાના વિજયની ઉજવણી દુર્ગા પૂજા દરમિયાન કરવામાં આવે છે. દૂર્ગા પૂજામાં સમગ્ર બંગાળ અને પૂર્વી ભારતના કેટલાક હિસ્સાઓમાં નારી શક્તિનાં પ્રતિક ધામધૂમથી ઉજવણી કરવામાં આવે છે. તેઓ શક્તિ, સ્નેહ, દૃઢ-નિશ્ચય, જ્ઞાન, દંડ આપવાની ક્ષમતા અને આખરે શાશ્વત સૌંદર્યનું પ્રતીક છે. દેવી દુર્ગાની મૂર્તિને ચમકદાર સાડી અને પરંપરાગત બંગાળી આભૂષણોથી સજાવવામાં આવે છે. વર્ષોથી સાહિત્યો અને ફિલ્મોમાં દર્શાવવામાં આવતી બંગાળી સ્ત્રીઓનું મજબૂત વ્યક્તિત્વ કદાચ આ તાકાતના આધાર પર રચેલું હોય છે. તેથી બંગાળી સ્ત્રીઓ તેમની આંતરિક શક્તિ અને સુંદરતાની ઉજવણી કરે છે અને આ થોડા દિવસો દરમિયાન પરંપરાગત અને સાંસ્કૃતિક આભૂષણોની સાથે ઉત્કૃષ્ટ સાડીઓમાં પોતાને સજાવે છે. વાસ્તવિક તહેવાર શરૂ થાય તે પહેલાથી જ ઉત્સવની ખુશી, ઉત્સાહ અને ભાવના અનુભવી શકાય છે. આ અગિયાર દિવસો વર્ષના સૌથી ખુશીના, આનંદિત દિવસો હોય છે. પુરુષો, સ્ત્રીઓ, વૃદ્ધો અને યુવાઓ તમામ લોકો આ તહેવારની ઉજવણી માટે એક સાથે ભેગા થાય છે અને પંડાલ માટે તૈયાર થઈને, બહાર ફરીને, સૌથી સ્વાદિષ્ટ ભોજન ખાઇને અને સૌથી મહત્ત્વપૂર્ણ તેમના પ્રિયજનો સાથે સમય પસાર કરીને આનંદ માણે છે. બંગાળી સ્ત્રીઓ માટે પરંપરાગત બંગાળી આભૂષણો વિના કોઇ પણ દેખાવ પૂર્ણ થતો નથી. સોનાનાં આભૂષણો સૌથી કિમતી અને મૂલ્યવાન ધાતુ છે, જે સમયની કસોટી પર ખરી ઊતરી છે. તેથી પરંપરાગત રીતે હાથ બનાવટના દાગીના માટેની નવી ડિઝાઇન્સ, જેમને દરેક સ્ત્રીમાં રહેલી આંતરિક દેવીને બહાર લાવવા માટે સુંદર સાડી અને જમીનને સ્પર્શતી અનારકલીની સાથે પહેરવામાં આવે છે. મહા ષષ્ટીઃ આ દિવસે માં દૂર્ગા પૃથ્વી પર અવતરે છે. મહા ષષ્ટી માં દુર્ગાનું ઘરે સ્વાગત અકાલ બોધન, આમંત્રણ અને અધિવાસ તરીકે ઓળખાતી પવિત્ર વિધિઓથી કરવામાં આવે છે. આગામી કેટલાક દિવસો માટે સુગંધિત પૂજા વિધિઓ અને ઢોલકની ધૂનની સાથે મંત્રમૂગ્ધ કરનારી શ્રેણીબદ્ધ ઘટનાઓનાં માધ્યમથી માં આપણા જીવનનો એક હિસ્સો બની જાય છે. આ દિવસ ઘરે પરત ફરવા સાથે સંકળાયેલો છે અને દરેક બંગાળીને તેમના મૂળની યાદ અપાવે છે. તેમની સાથે બંગાળીઓ આ થોડા દિવસો દરમિયાન તેમના પ્રિયજનોની સાથે રહેવા માટે ઘરે પાછા ફરે છે. જૂની યાદોનો, ભેગા થવાનો અને ખુશી મનાવવાનો સમય. મહા ષષ્ટીની પૂર્વ સંધ્યાએ માં દુર્ગા, તેમના બાળકો અને અસુર સંપૂર્ણ રૂપમાં આવે છે. તેમના ચહેરા પરનું આવરણ દૂર થાય છે. જટીલ રીતે ડિઝાઇન કરેલા રેશમ અને આભૂષણોથી સજ્જ તેમના અસ્ત્રો સાથે તહેવારની શરૂઆત થાય છે. રોશની દરેક નાકા અને ખૂણાને પ્રકાશિત કરે છે અને સમગ્ર સમુદાય તેમાં જોડાય છે, પરંપરાગત વસ્ત્રો અને વારસાગત બંગાળી આભૂષણોથી સજ્જ થઈને પ્રસંગને જીવંત કરે છે. તહેવારની મોસમનો આ પહેલો દિવસ હોવાથી અઘોષિત ડ્રેસ કોડમાં સેમી-કેઝ્યુઅલ, ઇન્ડો-વેસ્ટર્ન, સલવાર કૂર્તા અથવા કોટનની સાડી સામેલ હોય છે. તેથી ખૂબ ઓછા મેકઅપ, સાદા આઇશેડો, ઇનર કોર્નર હાઇલાઇટ અથવા સબડ્યુડ શીમર અને બોલ્ડ લિપ સાથે આકર્ષક સલવાર કમીઝ અથવા સાડી દિવસ માટે દેખાવને પૂર્ણ બનાવે છે. દિવસ દરમિયાન, ઉજ્જવળ અને આછા રંગો પસંદ કરો અને વસ્ત્રોને સાદા હાર જેવા કે સ્ટેટમેન્ટ પેંડન્ટ ધરાવતી સોનાની ચેનથી પૂર્ણ કરો. હળવા સોનાના ઝુમખાની સાથે ક્લાસિક, સાદી સોનાની બંગડીઓ પસંદ કરો. સાંજ દરમિયાન, જમદાની અથવા રિચ સિલ્કની સાડી પહેરો. પરંપરાગત અને વારસાગત દેખાવ માટે તેને કુંદનની બુટ્ટી અથવા હેરલૂમ સોનાના હાર સાથે પેર કરો. મહા સપ્તમી એ દિવસ છે જ્યારે ઉજવણી શરૂ થાય છે. માં દુર્ગામાં જીવન આવે છે. એક ગૌરવપૂર્ણ વિધિ તેમની આંખો ખોલે છે અને તેઓ આપણી તરફ પ્રથમ વખત જુએ છે. વધુ તરીકે સજાવેલા કેળાના છોડમાં માં દુર્ગાનું આહ્વાન કરવામાં આવે છે. આ ધાર્મિક વિધિને ‘પ્રાણ-પ્રતિષ્ઠા’ તરીકે ઓળખવામાં આવે છે. મહા સપ્તમી માટેનો પરિપૂર્ણ દેખાવ હાઇડ્રેન્જિયા બ્લ્યુ, ગુલાબી કે પીળા રંગની જેક્વાર્ડ વણાટની સાડી હશે. એક ઉત્તમ અને સાદા સલવાર શુટ અથવા સરારા સાથેની કૂર્તી, જેની સાથે સ્ટેમેન્ટ જ્વેલેરીને ઉમેરીને તેને પરિપૂર્ણ બનાવો. દિવસ દરમિયાન સબ્ટલ ન્યુડ અથવા કોરલ લિપ પસંદ કરો. આભૂષણો માટે યાદ રાખો, સાદગી પ્રભાવ પાડે છે. તેથી તમારા દેખાવને પૂર્ણ કરવા માટે હીરાની બુટ્ટી અથવા મિનાકારી ધરાવતી હાથ બનાવટની બુટ્ટી અને મલ્ટિપલ અંગુઠી (રિંગ્સ) પહેરો. સાંજે સ્મોકી આઇ અને બોલ્ડ લિપ્સ કરીને આકર્ષક બનો. સોનાના સખા, પોલા અને નોઆ તથા પરંપરાગત બંગાળી સીતા હાર સાથે મેળ સાધેલા મૂળ રંગો સાંજના દેખાવને પૂર્ણ કરે છે. ચાંણીયાચોળી અથવા સરારાની સાથે શોભતા માણિક, પન્ના અને હીરા જેવા કિમતી સ્ટોન્સ જડેલી સોનાની કે ચાંદીની બંગડીની પસંદગી કરો. પ્લેટિનમ અને વ્હાઇટ ગોલ્ડનાં સાદા આભૂષણો સમકાલન ફેશન દર્શાવે છે અને ફ્યુઝન એન્સેમ્બલ્સ તથા ક્લાસી સાર્ટોરિયલ પસંદગી માટે પરિપૂર્ણતાથી આગળ વધો. મહા અષ્ટમીઃ મહા અષ્ટમીના દિવસે હેરલૂમ દાગીનાની સાથે સૌથી આકર્ષક સાડી પહેરો. એવું માનવામાં આવે છે કે આ દિવસે માં દુર્ગાએ મહિષાસૂરનો વધ કર્યો હતો, આ દિવસે ધ્યાન અંજલી અને શોંધી પૂજા (અષ્ટમી અને નવમીનો સંગમ) તરીકે ઓળખાતી પ્રાર્થાનાઓ પર કેન્દ્રીત કરવામાં આવે છે. મહા અષ્ટમીની સવારે મેકઅપ માટે અમે ડાર્ક આઇ મેકઅપની સાથે લાલ અને મરૂન રંગની આંખને આકર્ષે એવી બોલ્ડ લિપસ્ટિક કરો. પરંતુ એ સ્વાભાવિક છે કે કોઇ પણ વ્યક્તિ દિવસ અને રાત્રિના ઉત્સવો પ્રમાણે રંગની પસંદગી કરી શકે છે. આ દિવસ માટેની અમારી વ્યક્તિગત પસંદગી એક ક્લાસિક બંગાળી ચુર બનાવવાની હશે. સિંગલ સોનાની બંગડી ભાગ્ય અને વિજયના પ્રતીક હોવાથી એક અથવા વધુની પસંદગી કરો. વૈકલ્પિક રીતે સુંદર હાથો પર ધ્યાન આકર્ષિત કરવા માટે બ્રેસલેટ અથવા બાલા પહેરો. આખરે દેખાવ ચિક કે ચોકર અને ઝુમખા સાથે પૂર્ણ થાય છે. અલ્પ લાવણ્ય અને સ્થાયી સુંદરતા માટે સફેદ, ઓફ-વ્હાઇટ અથવા પેસ્ટલ્સ સાથે હાથ બનાવટના કાન પાશા અથવા ઇઅર કફ પહેરો. મેકઅપ સૌમ્ય રાખો. આધુનિક સ્ત્રીઓ માટે દેખાવ પરંપરાગત અને સમકાલીન આભૂષણનું એકદમ યોગ્ય મિશ્રણ હોય છે. સંધી પૂજા દુર્ગા પૂજાની સૌથી મહત્ત્વપૂર્ણ વિધિઓ પૈકીની એક છે. અષ્ટમી તિથીની છેલ્લી 24 મિનિટ અને નવમીની પ્રથમ 24 મિનિટ સંધી ખોન હોય છે, જે અષ્ટમી અને નવમી વચ્ચેનો સૌથી શુભ સમય છે. સંધી પૂજા ભક્તોમાં મજબૂત ભાવનાઓ જગાડે છે, કારણ કે આ કલાકમાં ચંડ અને મુંડ નામના દુષ્ટ અસુરોએ માં સમક્ષ હાર માની હતી અને તેમણે ફરી એક વખત દુષ્ટતા પર વિજય મેળવ્યો હતો. આપણે ઢાકના ઊંચા અવાજની સાથે સંધી દરમિયાન માં દુર્ગાના ચામુંડાનાં સ્વરૂપની પૂજા કરીએ છીએ. આ દુષ્ટતા પર સારાપણાંની જીત છે અને તે નારી શક્તિની સૌથી મોટી જીત છે. દેવી દુર્ગા અન્યાય અને અપમાનની તમામ નિશાનીઓને નાબૂદ કરવા માટે મહિષાસૂરની સામે પીળી સાડીમાં એક સુંદર સોનેરી સ્ત્રી તરીકે પ્રગટ થાય છે. આ દિવસે દેખાવ પૂર્ણ કરવા માટે પીળી અથવા તેજસ્વી રંગની સાડી, સોનાનાં ઝુમખા અને મલ્ટિ-લેયર્ડ હાર અથવા સાત નોલી હાર પહેરી શકે છે. આ પ્રસંગ માટે પોલ્કી હાર અથવા કોલર હાર એકદમ યોગ્ય પસંદગી છે. મેકઅપ માટે બોલ્ડ લિપ્સ, ચમકદાર આઇશેડો અને ગાલને હાઇલાઇટ કરવા માટે કોરલ બ્લશનો ઉપયોગ કરો. મહા નવમીઃ મહા નવમીના રોજ મહા આરતી ઉતારવામાં આવે છે. આરતીની અગ્નિ માં દુર્ગામાં રહેલી અગ્નિનું પ્રતીક છે જે દુષ્ટતાનો નાશ કરવા માટે ઊંચી અને તેજ પ્રગટે છે. આ દિવસના રોજ લોકો તેમનો ઉપવાસ પણ તોડે છે. નવમી માટે અમે પરંપરાગત અને ભવ્યની પસંદગી કરવાનું સૂચન કરીએ છીએ. પરંપરાગત બંગાળી આભૂષણોની સાથે સુંદરતા વધારતા બંગાળના વારસાગત હેન્ડલૂમને માણો. આંખના બોલ્ડ દેખાવ, ઊભરી આવે એવા રંગ અથવા શિમર અને આઇશેડોને મેચ થતા લિપસ્ટિક શેડની પસંદગી કરો. આભૂષણો માટે અમે કલાવી સંકલ્પ સોનાની બંગડીનું સૂચન કરીએ છીએ. તેમની ઓછી ભવ્યતા, સમૃદ્ધ, જટિલ ડિઝાઇન્સ માં દુર્ગા કૈલાશ પાછા ફરે છે તે પહેલાના છેલ્લા દિવસના મૂડને અભિવ્યક્ત કરે છે. તેને બંગડી અને ભવ્ય ઝુમખા ધરાવતી બુટ્ટીની સાથે મેચ થતા પેન્ડન્ટ ધરાવતા હાર પહેરો. આ સંયોજન દેખાવને ભવ્ય બનાવે છે, પરંતુ ભપકાદાર નહીં. આખરે સાંજે એન્ટિક હાર અને જટીલ ડિઝાઇન ધરાવતી ચુની સાથે અનુકૂળ ફેશન, સોલિડ સિલુઇટ અને સ્ટ્રેઇટ કટ પસંદ કરો. વિજયા દશમીઃ આ દિવસે માં દુર્ગા તેમના પતિ ભગવાન શિવની સાથેનાં પુનર્મિલનની યાત્રા પર નીકળે છે. પાણી અને પવિત્ર પાંદડાઓથી ભરેલા એક પાત્ર ‘ઘાટ’ના પ્રતીકાત્મક વિસર્જન પછી વિવાહિત સ્ત્રીઓ માં દુર્ગાના તેમના પતિ ભગવાન શિવ સાથેનાં મિલનને દર્શાવવા માટે ‘સિંદૂર ખેલા’ કરે છે. ત્યાર પછી તેમની આંખોમાં આંસુ સાથે તેઓ તેમના કપાળ પર સિંદૂર લગાવીને, તેમને મિઠાઇ ખવડાવીને અને તેમના ચરણોને સ્પર્શ કરીને દેવીને વિદાય આપે છે. ત્યાર પછી સ્ત્રીઓ તેમના વૈવાહિક આનંદની ઉજવણી કરે છે, જેમાં તેઓ એકબીજાને સિંદૂર લગાવે છે. ઉત્સવના આ છેલ્લા દિવસની ઉજવણી કરવા માટે લાલ બોર્ડર ધરાવતી બંગાળી સફેદ સાડી તરીકે લોકપ્રિય લાલ પઢ શાડા સાડી પહેરો. અમે સોનાનો ચોકર, થોડી બંગડીઓ, સખા, પોલા અને નોઆ પહેરો અને બીજા બધાથી વધુ પ્રશંસા મેળવો. સૌથી વધુ પ્રતિષ્ઠિત બંગાળી આભૂષણ પૈકીનું એક ચંદ્ર બાલા બુટ્ટીની સાથે કાંડા પર ચળકતા ભવ્ય મકરમુખી બાલા પહેરો. તમે ભવ્ય દેખાવ માટે સોનાના રત્નચુર (દરેક આંગળી માટે જોડાયેલી વીંન્દીઆ ધરાવતો બ્રેસલેટ) પણ પહેરી શકો છો. તે મુખ્યત્વે મોર અથવા કમળની ડિઝાઇન્સમાં આવે છે. નિષ્કર્ષ એક એવી સામાન્ય માન્યતા છે કે બંગાળી સ્ત્રીની ખરી સુંદરતા દુર્ગા પૂજા જેવા સમય દરમિયાન બહાર આવે છે. માં શાંતિ, ખુશી, શક્તિ અને વિજયના પ્રતીક છે. સંકલ્પ કલેક્શન દુર્ગા પૂજાની ભાવનાનો પડઘો પાડે છે. આ બંગાળના જીવંત તહેવારો, વૈવિધ્યપૂર્ણ સંસ્કૃતિ અને લોકો માટે શ્રદ્ધાંજલિ છે, જેમાં પ્રાદેશિક ખરીદદારોની પસંદગીઓને ધ્યાનમાં રાખીને દરેક પીસ તૈયાર કરવામાં આવ્યો છે. બારીકાઇથી ઘડેલા એન્ટિક દાગીનાથી લઈને એથનિક કુંદન આભૂષણોના સેટ સુધી દરેક પીસને ખાસ ભવ્યતાથી બનાવવામાં આવ્યા છે, જે ‘બંગાળ’ના સાંસ્કૃત્તિક વારસાને મળતી આવતી જટીલ બારીક વિગતો ધરાવે છે. સંકલ્પ કલ્યાણ જ્વેલર્સની એક પરંપરાગત જ્વેલરી શાખા છે, જેમાં કાલાતીત ડિઝાઇન્સ હોય છે અને તે સમકાલીનતાના સંકેત સાથે પરંપરાઓને અપનાવે છે. પરંપરાગત આભૂષણોની આ શાખા સુંદર શણગાર અને સમૃદ્ધિ તથા આશાના પ્રતીક બંને સ્વરૂપે કાર્ય કરે છે. કલ્યાણ જ્વેલર્સ દ્વારા સંકલ્પ કલેક્શન વાસ્તવમાં બંગાળી સંસ્કૃતિનો એમાં પણ ખાસ કરીને દુર્ગા પૂજા દરમિયાન સાર દર્શાવે છે. જટિલ કારીગરી, નાજુક ડિઝાઇન્સ અને ત્રુટિરહિત સુંદરતા સંકલ્પ કલેક્શનને બીજા બધાથી અલગ બનાવે છે. આ કલેક્શન સોનાના ચુર અને સીતા હારથી લઈને હળવા ઝુમખાં અને કાન પાશા સુધીના આધુનિક અને પરંપરાને સહજતાથી જોડે છે. તેથી સમૃદ્ધ બંગાળી સંસ્કૃતિ અને વારસાના પ્રતીક સમાન કેટલાક ક્લાસિક આભૂષણો ખરીદતી વખતે કલ્યાણ જ્વેલર્સનાં સંકલ્પ કલેક્શનને જરૂરથી ચકાસશો.
Publisher: Kalyan Jewelers

भाई दूज - तुमच्या भावंडावरील शाश्वत प्रेमाची कबुली देण्याचा दिवस

On
भाई दूजसारख्या सणाच्या परंपरेचा स्वीकार करण्यासारखी मोहकता या सणाच्या हंगामात दुसरी नाही. या प्रसंगाचा सहवास अनंत आहे. एक भाऊ आणि बहिणीचा एक सामायिक भूतकाळ असतो जसे की लहानपणीच्या भांडण, तक्रारी आणि मोठ्यांचा हस्तक्षेप, गुपिते शेअर करणे आणि दोन भावंडांमधील संपूर्ण समज यासारख्या आठवणींनी भरलेला. भाऊ आणि बहिणीसारखी काही नाती अनेक टप्प्यांतून जातात, पण बंध कायम घट्ट राहतात. भारतीय परंपरा भाऊ दूज आणि रक्षाबंधन यांसारख्या विशेष दिवसांसह हा बंध साजरा करतात. या दिवशी सभोवतालची प्रत्येक वस्तू सुशोभित केली जाते. हाराने सुशोभित केलेला दरवाजा, तिलकांसह पूजा थाळी किंवा पारंपारिक गोड पदार्थ आणि सुगंधांनी घर भरून जातं आणि भारतीय महिला आणि पुरुष त्यांच्या पारंपरिक पोशाखात आणि आकर्षक दागिन्यांनी स्वतःला सजवतात. दोन दिवसांच्या दिवाळी उत्सवानंतर भाई दूजचा शुभ प्रसंग येतो. भाई दूज हा बहिणींसाठी त्यांच्या प्रिय भावाच्या दीर्घायुष्य, कल्याण आणि सुबत्तेसाठी देवाकडे प्रार्थना करण्याचा एक महत्त्वाचा प्रसंग आहे. बहिणी आपल्या भावाच्या कपाळावर टिळा लावून, त्याला ओवाळून, सजवलेल्या थाळीमध्ये स्वादिष्ट पदार्थांसह हा उत्सव साजरा करतात. थाळीमध्ये रोळी, तांदूळ, नारळ आणि दुर्बा यांचा भारताच्या विविध भागांमध्ये पाळल्या जाणार्‍या प्रथेनुसार समावेश असतो. तिलक लावून बहीण प्रेम आणि काळजीचं प्रतीक म्हणून, भावाचं नकारात्मक प्रभावांपासून रक्षण करते. भाऊ आपल्या बहिणींना भेटवस्तू देऊन आनंदित करतात. बहिणी त्याला एक सुंदर जेवण वाढतात आणि त्याच्यावर प्रेम आणि भेटवस्तूंचा वर्षाव करतात. या प्रसंगी दागिने ही तुमच्या भावंडांसाठी सर्वोत्तम भेट आहे कारण त्यांचे मूल्य आणि चमक कधीही कमी होत नाही. इथं भेटवस्तू बंधनाचं प्रतीक असते. भाऊ आणि बहीण जसजसे मोठे होतात तसतसे हा बंध सुंदररित्या पक्व होत जातो. सोन्यापासून हिऱ्याच्या अंगठ्यांपर्यंत, हाताने निर्मित वारसा नेकलेस पासून समकालीन दागिन्यांपर्यंत. दागिने ही तुमच्या भावंडांसाठी एक उत्तम भेट आहे. सर्व भारतीय सणांप्रमाणे, भाई दूज उत्सव भारताच्या विविध भागांमध्ये भिन्न पद्धतीनं साजरा केला जातो. तथापि, त्याचा गाभा आणि विधी समान श्रद्धा आणि परंपरांची शाखाच आहेत. भाई दूजची इतर नावे आहेत, ज्यात पश्चिम बंगालमध्ये भाई फोटा, महाराष्ट्रातील भाऊ बीज, नेपाळमध्ये भाई टिका आणि भारताच्या काही भागात यम द्वितीया यांचा समावेश आहे. या शुभ दिवसाच्या उत्पत्तीचे वर्णन करणार्‍या पौराणिक कथा आहेत. भगवान श्रीकृष्णाने नरकासुर राक्षसाचा पराभव केला. प्रदीर्घ युद्ध जिंकल्यानंतर, भगवान श्रीकृष्णांनी आपली बहीण सुभद्रा हिला भेट दिली, जी अतिशय आनंदात होती. सुभद्राने तिच्या भावाच्या कपाळावर विधीवत "तिलक" लावला आणि त्याचे स्वागत केले. "भाई दूज" च्या उत्सवाला जन्म देत तिने भगवान कृष्णाचं फुले आणि मिठाईनं स्वागत केलं. आणखी एक पौराणिक कथा यम, मृत्यूची देवता आणि यमुना, त्याची बहीण यांच्यावर केंद्रित आहे. पौराणिक कथेनुसार अमावस्येच्या दुसऱ्या दिवशी यमाने आपल्या प्रिय यमुनेला द्वितेयेच्या दिवशी पाहिलं. तिने यमाचं आरती, तिलक आणि मिठाई देऊन स्वागत केलं. यमाने आपल्या बहिणीवर प्रसन्न होऊन आशीर्वाद दिला की या दिवशी भाऊ आणि बहिणीने यमुना नदीत स्नान केल्यास त्यांना मोक्ष प्राप्त होईल. पश्चिम बंगालमध्ये "भाई फोटा" म्हणून ओळखल्या जाणाऱ्या या सणाला, बहीण दिवसभर उपवास करते आणि तिच्या भावाच्या येण्याची वाट पाहते. त्यानंतर ती त्याच्या कपाळावर तूप, काजळ आणि चंदनाचा विशेष तिलक तीनदा लावते आणि ओवाळणी करते. ओवाळणीनंतर, बहीण तिच्या भावासाठी प्रार्थना करते आणि ते दोघे भेटवस्तूंची देवाणघेवाण करतात. पारंपारिक मिठाई आणि पदार्थांच्या भव्य मेजवानीने उत्सवाची सांगता होते. भाई दूज हा सण महाराष्ट्रात "भाऊ बीज" म्हणून साजरा केला जातो. प्रथेनुसार, भाऊ त्याच्या बहिणीने काढलेल्या चौकोनात बसतो. हा प्रसंग भारताच्या काही भागात "यम द्वितीया" म्हणून ओळखला जातो. यम द्वितीयेच्या दिवशी आपल्या बहिणीने तयार केलेले अन्न खाल्ल्यास भगवान यम कोणाचेही नुकसान करणार नाहीत अशी आख्यायिका आहे. बिहारमध्ये भाई दूजच्या सणाला गोधन पूजा म्हणतात. प्रेमळ संबंध प्रस्थापित करण्यासाठी भेटवस्तू नेहमीच आवश्यक आहेत. बहुतेक संबंध त्यांच्या मार्गाने अनोखे असले तरी, भेटवस्तूंमध्ये बंध अधिक दृढ करण्याचा एक आपला मार्ग आहे यावर कोणीही वाद घालू शकत नाही. कल्याण ज्वेलर्समधील दागिने जे तुमच्या बहिणीसाठी नक्कीच खजिन्यासमान आहेत डायमंड सॉलिटेअरचे दागिने आकाराने लहानात लहान, मोहक आहेत आणि त्यांची शैली सदैव बांधीव असते. डायमंड झुमके उदात्त सौंदर्याची अभिव्यक्ती आहेत. जर तिला तिचे दागिने, साधे पण शोभिवंत आवडत असतील तर, आम्ही तुम्हाला प्लॅटिनम चेनसाठी क्लिष्टपणे डिझाइन केलेले पेंडेंट किंवा पांढर्‍या सोन्यात डायमंड स्टड सेट करण्याचा सल्ला देतो. ते प्रत्येक प्रसंगासाठी योग्य आहेत आणि या उत्सवासाठी आदर्श भेट ठरतात. दैनंदिन डायमंड सेक्शन किंवा ऑफिस कलेक्शनमधील नाजूक पण ठसठशीत हिऱ्याचा हार तिच्या खांद्याला आणि व्यक्तिमत्त्वाला सुंदरपणे भर देईल. तिला दररोज सतेज राहण्यात मदत करा, अगदी कामाच्या वेळेत किंवा तिच्या मित्रांना ब्रंचसाठी भेटत असतानाही. जर तुमच्या बहिणीला तिच्या बांगड्या आवडत असतील, तर तुम्ही आधुनिक पासून ते बारीक हाताने बनवलेल्या पारंपारिक बांगड्या निवडू शकता. ज्वलंत निळ्या रत्न किंवा माणिक किंवा पातळ स्टॅकेबल सोन्याच्या बांगड्यांचा एक गुच्छ जो हाय-स्ट्रीट फॅशनला पूरक आहे. चंकी सोन्याचे दागिने अत्याधुनिक दिसू शकतात. आधुनिक स्त्रीसाठी ठळक आणि प्रायोगिक डिझाइन पाहा. ती अनिर्बंध, निर्भय आहे आणि तिला अज्ञाताचा शोध घ्यायला आवडते. अलंकृत आकृतिबंध, सिल्व्हर बेस, रोझ गोल्ड तिच्या दागिन्यांच्या यादीला अद्भुतपणे जोड देतील. जर तिला पारंपारिक दागिन्यांचे कौतुक असेल, तर कल्याण ज्वेलर्सच्या हस्तकला संग्रहातून एक अद्वितीय पीस निवडा. सुंदर नक्षीकाम केलेले कानातले, अंगठ्या आणि हार निःसंशयपणे तिला आनंदाने भरुन टाकतील. तुमचा भाऊ जतन करेल असे दागिने कल्याण ज्वेलर्सने पुरूषांच्या कलेक्शनमधून विचारपूर्वक तयार केलेल्या अनोख्या भेटवस्तूंमध्ये आलिशान अॅक्सेसरीज आणि कुशलतेने तयार केलेल्या दागिन्यांचा समावेश आहे. दागिने घालणे प्रचलित आहे. समकालीन पुरुषाला सुसंस्कृतपणा, मिनिमलिझम आणि ऐश्वर्य आवडते. कलेक्शनमध्ये कोणत्याही सौंदर्याला पूरक असणार्‍या विविध प्रकारचे आकर्षक डायमंड ज्वेल्स आहेत. पुरुषांसाठी डायमंड ज्वेलरी भेटवस्तूंसाठी, एक अद्वितीय आकर्षक डिझाइन असलेली सोन्याची अंगठी एक आदर्श भेट ठरते. क्लासिक सोन्याच्या साखळ्या सदाहरित असतात आणि कोणत्याही प्रसंगासाठी त्या सर्वात योग्य असू शकतात. आयकॉनिक ब्रेडेड, डबल-टोन्ड ब्रेसलेट्स स्टेटमेंट बनवण्याची हमी देतात आणि डोळ्यांना भुरळ घालतात. सजावटीच्या आकृतिबंधासह एक काळी गोमेद अंगठी हे सोने आणि जबरदस्त काळ्या गोमेदचे संयोजन आहे. कोणत्याही पुरुषाच्या संग्रहासाठी अत्यावश्यक असणार्‍या क्लासिक डिझाईनवर लक्षवेधक आणि अनोखा प्रयोग. 24 K चे सोन्याचे नाणे त्या भावासाठी सर्वात शुद्ध सोन्याचे नाणे असू शकते, ज्याची नजर सर्वोत्तम गोष्टींसाठी पारखी आहे. कुर्त्याची बटणे पुरुषांच्या शोभिवंत कपड्यांसोबत शोभून दिसतात. सोन्यामध्ये हिरे जडवलेला, तो सूक्ष्म आलिशानतेच्या स्पर्शासह त्याचा कुर्ता लुक परिपूर्ण करू शकतो. किंवा कदाचित हे भव्य डायमंड कफलिंक्स त्याच्या उत्कृष्ट सूट किंवा टक्सिडोपैकी एकाला उंची देतील. भाई दूजच्या प्रसंगी आपल्या देशभरात मुक्त हस्ते आणि अपार आनंदाने स्वागत केले जाते. अर्थात, या शुभ उत्सवाला दिलेली नावे आणि त्यातील प्रथा या प्रदेशानुसार भिन्न आहेत. पण भाई दूजचे सार, जे भाऊ आणि बहीण यांच्यातील चिरंतन बंधनाचं प्रतीक आहे, स्वादिष्ट मिठाई आणि भव्य भेटवस्तूंखेरीज, सार्वत्रिक राहते. आपण घेत राहणं खूप छान वाटतं असलं तरी, जेव्हा तुम्ही भेटवस्तू देता तेव्हा आत्म-समाधानाची भावना असते. या भावना कधीच मोजता येत नाहीत. भेटवस्तू उघडण्यातून तुम्हाला मिळणारा आनंद क्षणिक असतो, तर भेटवस्तू देण्याच्या भूमिकेतून आत्म-समाधानाची उच्च भावना मिळते, जी चिरंतन राहते. भेटवस्तू देण्याच्या कृतीतून कौतुक आणि आपलेपणा व्यक्त होतात, तुमच्या भावना व्यक्त करण्यासाठी ते पुरेसे आहे. भाऊ आणि बहिणींमध्ये सामायिक केलेले कनेक्शन एकमेव अशा प्रकारचे आहे, एकमेकांना आधार देण्यापासून आणि आपल्या भावंडांच्या खोड्यांमध्ये सहभागी होण्यापर्यंत. म्हणून, तुमच्या भावंडासाठी भेटवस्तू ही तुमच्या दोघांच्याही बंधाप्रमाणेच निखळ असली पाहिजे.
Publisher: Kalyan Jewelers

ভাই ফোটা – আপনার সহোদরের জন্য চিরকালীন ভালোবাসা স্বীকারের দিন

On
উত্‍সবের মরশুমে মাধুর্যের ছোয়া মেলে ভাই ফোটার মত উত্‍সবের পরম্পরায়। এই উপলক্ষের সঙ্গে জড়িয়ে থাকা যেন সীমাহীন। ভাই-বোনের অতীতের স্মৃতিগুলির শরিক ছেলেবেলার লড়াই, নালিশ, বড়দের মধ্যস্থতা, গোপন কথা কানাকানি, আর দুই ভাই-বোনের মধ্যে পুরো বোঝাবুঝি। ভাই-বোনের মধ্যে সম্পর্কের মত বেশ কিছু সম্পর্কই অনেকগুলো পর্যায়ের মধ্যে দিয়ে যায়, কিন্তু বন্ধনটা সব সময়েই থাকে দৃঢ়, চিরকাল। ভারতীয় ঐতিহ্য এই বন্ধনকে উদযাপন করে ভাই ফোটা ও রাখী বন্ধনের মত দুটি বিশেষ দিনের মাধ্যমে। এই দিনে চারপাশের সব কিছুতেই লাগে সৌন্দর্যের স্পর্শ। মালিকাসজ্জিত দুয়ারপথ, পুজোর থালি সহ তিলক বা ঐতিহ্যমণ্ডিত মিষ্টান্ন এবং ঘর-ভরা সৌরভ, ও ধ্রুপদী বেশ-ভূষায় সজ্জিত সুন্দর অলঙ্কারে শোভিত ভারতীয় পুরুষ ও মহিলা। ভাই ফোটার পবিত্র উপলক্ষ দু দিনের দিওয়ালি উত্‍সবের পরেই আসে। ভাই দূজ ও ভাই ফোটা হল বোনদের কাছে সেই কেন্দ্রীয় উপলক্ষ যখন ভাইয়ের দীর্ঘায়ু, ভাল থাকা আর সম্পদ কামনা করে তারা ঈশ্বরের কাছে প্রার্থনা করেন। বোনের ভাইয়ের কপালে ফোঁটা দেন, তার আগে ঈশ্বরের কাছে প্রার্থনা করেন, আর নানা সুখাদ্য ভরা থালা নিয়ে ভাইয়ের সামনে রাখেন। ওই থালায় ধান, দুর্বা, এবং অঞ্চল ভেদে নানা সামগ্রী থাকে। ফোঁটা দিয়ে বোন ভাইয়ের ওপর ঘটতে পারে এমন ঋণাত্মক প্রভাবও দূরে সরায়। ভালোবাসা আর যত্নর প্রতিদাংস্বরূপ ভাইয়েরাও বোনদের উপহারে ভরিয়ে তোলে। অন্যদিকে ভালোবাসা আর কল্যাণ কামনায় বোন –ও ভাইকে বিপুল আহার ও উপহার পরিবেশন করে। এই উপলক্ষে সহোদরকে উপহার দেওয়ার সবচেয়ে ভাল জিনিস হল জুয়েলারি কেননা এর ঔজ্বল্য আর মূল্য কখনো কমে না। উপহারটি এখানে ভালোবাসা আর বন্ধনের প্রতীক হয়ে দাঁড়ায়। ভাই-বোনের যেমন বয়স বাড়ে, উপহারটিও তেমন পরিণত হয়ে ওঠে সুন্দরভাবে। সোনার থেকে হীরের আংটি, হাতে কারুকাজ করা ঐতিহ্যময় হার থেকে একালের গহনা। অলংকার হল সহোদরকে দেওয়ার মত চমত্‍কার এক উপহার। ভারতেত সব উত্‍সবের মতই ভাই ফোঁটার উত্‍সবও অঞ্চলভেদে পৃথক রূপ নেয়। তবে মূল বিষয় আর প্রথা কিন্তু একই বিশ্বাস আর পরম্পরার ভিন্ন ভিন্ন রূপ। ভাই দুজ যেমন পশ্চিম বাংলায় ভাই ফোঁটা, মহারাষ্ট্রে ভাউ বীজ, নেপালে ভাই টিকা, আর ভারতের কোনও কোনও অংশে যমদ্বিতীয়া। এই পবিত্র উত্সবের পৌরাণিক অনুষঙ্গ আছে। ভগবান শ্রীকৃষ্ণ নরকাসুরকে পরাজিত করেছিলেন। দীর্ঘ যুদ্ধ শেষে শ্রীকৃষ্ণ বোন সুভদ্রার সঙ্গে দেখা করেছিলেন। সুভদ্রা আনন্দে আত্মহারা। তিনি ভাইয়ের কপালে আনুষ্ঠানিক “তিলক” দিয়ে তাঁকে বরণ করেছিলেন উষ্ণ আন্তরিকতায়। ভগবান শ্রীকৃষ্ণ কে সুভদ্রা সেদিন স্বাগত জানিয়ে ছিলেন ফুল- মিষ্টি দিয়ে আর সেই থেকেই ভাই ফোঁটার/ দূজের শুভ সূচনা। অপর এক কিম্বদন্তী আছে মৃত্যুর দেবতা যম ও তাঁর বোন যমুনাকে নিয়ে। কিম্বদন্তী অনুসারে যম তাঁর প্রিয় বোন যমুনাকে দেখেন পূর্ণিমার দুই দিন পর দ্বিতীয়ায়। তিনি যমকে বরণ করেন আরতি, তিলক আর মিষ্টান্ন দিয়ে।সন্তুষ্ট চিত্তে যম যমুনাকে এই আশীর্বাদ করেন যে, এই দিনে, ভাই ও বোন যদি যমুনায় স্নান করে, তবে তারা মোক্ষ লাভ করবে। বাংলায় ভাই ফোঁটা নামে পরিচিত এই উত্‍সবে বোন ভাইয়ের কল্যাণ কামনায় উপবাস করে থাকে সারা দিন ভাইয়ের আগমনের প্রতীক্ষায়। ভাইয়ের কপালে বোন তিনবার ফোঁটা দেয়, ঘি, কাজল আর চন্দন দিয়ে, আর তারপর আরতি করে। এর পর বোন ভাইয়ের জন্য প্রার্থনা করে আর তারপর উপহার বিনিময় হয়। উত্‍সব সমাপ্ত হয় বিপুল আহার ও মিষ্টান্ন পরিবেশনের মধ্য দিয়ে। ভাই দুজ উত্‍সব মহারাষ্ট্রে “ভাউ বীজ” নামে উদযাপিত হয়। প্রথা অনুযায়ী ভাই সেখানে বোনের এঁকে দেওয়া বর্গাকার ক্ষেত্রে বসে। এই উৎসব দেশের কোনো কোনো অংশে যম দ্বিতীয়া নামেও পরিচিত। কিম্বদন্তি অনুসারে যম দ্বিতীয়ার দিনে যাঁরা তাঁদের বোনেদের তৈরি খাবার খাবেন, যমদেব তাঁদের কোনো ক্ষতি করবেন না। আবার বিহারে ভাই দুজ উৎসবকে গোধন পূজা বলা হয়। স্নেহ-ভালোবাসার সম্পর্ক গড়ে তুলতে হজদপো হল বিশেষ আবশ্যক এক জিনিস। প্রতিটি বন্ধনই নিজ নিজ দিক থেকে অনন্য হলেও, উপহার যে সম্পর্কটা সুদৃঢ় করেছে সেবিষয়েও কেউ কোন তর্ক তোলেন না। কল্যাণ জুয়েলার্সের সেইসব অলঙ্কার যেগুলো আপনার বোন অবশ্যই সম্পদ বলে মানবেন – ডায়মন্ড সলিটেয়ার আংটিগুলো ছিমছাম, ঐশ্বর্যময় আর ওরা কখনো আউট অফ স্টাইল হয় না। ডায়মন্ড ঝুমকাগুলোও, সত্যি বলতে কি, মহান সৌন্দর্যের বস্তুগত রূপ। যদি তিনি চান যে তাঁর গহনা হোক সহজ-সরল অথচ সুরুচিপূর্ণ, আপনি তাহলে ওঁকে দিতে পারেন প্লাটিনাম চেন, সঙ্গে সূক্ষ্ম ডিজাইনের পেনড্যান্ট, কিংবা, হোয়াইট গোল্ডে ডায়মন্ড বসানো কানের দুল। এই সব অলঙ্কার যে কোনো উপলক্ষের সঙ্গেই যায় খুব সুন্দর, আর এই উৎসবের জন্য আদর্শ উপহারও বটে। নিত্যদিনের ডায়মন্ড বিভাগ বা অফিস কালেকশন বিভাগ থেকে একটি কোমল অথচ বলার মত ডায়মন্ড নেকলস শুধু যে ওর কলার বোনকেই সুচারুভাবে পরিস্ফুট করবে তাই নয়, ব্যক্তিত্বকেও বিকশিত করবে। ওকে প্রতি দিন আরো উজ্জ্বল হতে সাহায্য করুন, কাজের সময়ে তো বটেই, এমনকি বন্ধুদের সঙ্গে ব্রাঞ্চ করার সময়েও। যদি আপনার বোন চুড়ি ভালোবাসেন, তাহলে আপনি একেবারে আধুনিক থেকে শুরু করে সূক্ষ্ম হাতের কাজের সুচারু সনাতনী চুড়ির সম্ভার থেকে বেছে নিতে পারবেন। নীল রত্নখচিত বা চুনিশোভিত ছিমছাম ডায়মন্ড ব্রেসলেট অথবা পাতলা পাতলা সোনার ব্রেসলেটের একটি গুচ্ছ ফ্যাশনের উচ্চকোটির পরিচায়ক। ভারী ভারী সোনার গহনা নিয়মের বাইরে বলে মনে হতে পারে। আধুনিক নারীর জন্য সাহসী ও পরীক্ষামূলক নক্সার অলঙ্কার খুঁজুন। তিনি তো পক্ষপাতশূন্য, নির্ঙয়া আর, অজানাকে আবিষ্কার করতে ভালোবাসেন। চিত্রিত মোটিফ, রুপোর বেস, রোজ গোল্ড প্রভৃতি তাঁর সংগ্রহকে আরো চমৎকারভাবে ভরিয়ে তুলবে। আর তিনি যদি ধ্রুপদী অলঙ্কার পছন্দ করেন, তাহলে, কল্যাণ জুয়েলার্সের হাতের কাজের সুচারু সম্ভার থেকে একটি অতুলনীয় নিদর্শন তুলে নিন। দুর্দান্ত সুন্দরভাবে তৈরি দুল, আংটি বা হার তাঁকে নিঃসন্দেহে আনন্দে পরিপূর্ণ করে তুলবে। যেসব অলঙ্কার আপনার ভাই পছন্দ করবেন – কল্যাণ জুয়েলার্সের মেনস কলেকশন-এর বিভিন্ন ধরনের অতুলনীয় ও চিন্তাশীলভাবে উপহারের জন্য তৈরি অলঙ্কারের মধ্যে বিলাসবহুল অনুষঙ্গ ও সুদক্ষ ভাবে তৈরি নিদর্শন রয়েছে। অলঙ্কার পরাটা এখন প্রচলিত। একালের পুরুষের পছন্দ ছিমছাম,বাহুল্যবর্জিত ঐশ্বর্যময়তা। এই সংগ্রহে রয়েছে সূক্ষ্ম ডায়মন্ড জুয়েলের ব্যাপক সম্ভার যে কোনো শৈল্পিক চেতনার সঙ্গে পাল্লা দেওয়ার মত। পুরুষদের উপহার দেওয়ার জন্য ডায়মন্ড জুয়েলারির ক্ষেত্রে ছিমছাম ডিজাইনের হীরে বসানো সোনার আংটি সবচেয়ে উপযুক্ত। ক্লাসিক সোনার চেন হল চিরতরুণ আর যে কোনো উপলক্ষে মানানসই। আইকনিক বিনুনি-পাকানো ডাবল –টোনড ব্রেসলেট বলিষ্ঠ স্টেটমেন্ট দেওয়ার উপযোগী আর চোখ টানে। আলঙ্কারিক মোটিফ সহ ব্ল্যাক ওনিক্স আংটি হল সোনা আর ব্ল্যাক ওনিক্স-এর সমন্বয়। ক্লাসিক ডিজাইনের একটা আকর্ষণীয় আর অনন্য বস্তু, যেটি যে কোনো সানুষের ক্লোজেটে রাখার মতোই। 24K সোনার কয়েন ভাইয়ের জন্য সবচেয়ে বিশুদ্ধ সোনা, যে ভাইয়ের সেরাটা খুঁজে নেওয়ার নজর আছে। আভিজাত্যপূর্ণ মেনসওয়্যারের অঙ্গ হল কুর্তার বোতাম। সোনার ওপর হীরে বসিয়ে তৈরি এই বোতামের সাহায্যে তিনি .তাঁর কুর্তার সাীজটি নিখুঁত করে বিলাসব্যসনের সূক্ষ্ম প্রকাশ ঘটাতে পারবেন। বা হয়তো এই কাফলিংকগুলো তাঁর ধ্রুপদী স্যুট বা টাক্সেডোর সেরা উচ্চারণ হয়ে দাঁড়াবে। ভাই বদুজের এই উৎসব সারা দেশেই উদ্বাহু হয়ে বিপুল আনন্দে উদযাপিত হয়ে থাকে। অবশ্য নাম আর প্রথা অঞ্চল ভেদে পার্থক্য গড়ে দেয়, কিন্তু এই উৎসবের মূল সুরটি, যা ভাই ও বোনের চিরন্তন বন্ধনের তাৎপর্যবাহী, সুস্বাদু মিষ্টান্ন ও চোখধাঁধানো উপহারের আতিশয্য কে সঙ্গী করে, তা সর্বজনীন হয়ে থাকে। প্রাপ্তির দিকে থাকাটা সবসময়েই চমৎকার হলেও, দেওয়ার ক্ষেত্রেও একটা স্ব-কৃতজ্ঞতার বোধ কাজ করে। এই আবেগটাকে পরিমাপ করা যায় না। প্রাপকের আনন্দটা উপহারের মোড়ক খোলার সময়ের স্বল্পতায় সীমিত হলেও, দাতার আনন্দ সেখানে সীমাহীন, এক তুঙ্গস্পর্শী আবেগ, য়া শ্বাশ্বত। উপহার দেওয়া প্রশংসা আর ঊষ্ণতার পরিচায়ক, আপনার অনূভূতির যোগ্য বাহক। ভাই –বোনের সম্পর্কটা এর অদ্ভুত সংযোগ, একেো অপরকে সহায় যোগানো থেকে সবকিছু ভাগ করে নেওয়া, এমনকি অপরাধ-ও! তাই সহোদরের জন্য উপহারটাও ঐ বন্ধনের মতোই স্বর্গীয় হওয়া উচিত।
Publisher: Kalyan Jewelers

କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସର ସଂକଳ୍ପ କଲେକ୍ସନ ସହିତ ଦୁର୍ଗା ପୂଜା ପାଳନ କରନ୍ତୁ

On
ଏହି ବର୍ଷର ଶ୍ରେଷ୍ଠ ସମୟ ଏଠାରେ ରହିଛି! ପଶ୍ଚିମବଙ୍ଗରେ ଦୁର୍ଗା ପୂଜା କଥା କଳ୍ପନା କଲେ ଶରତ ଋତୁର ସୁନ୍ଦର ଆକାଶ, ଢୋଲ ବାଜିବା ଧ୍ୱନି, ମଲ୍ଲୀ ଫୁଲର ମନମତାଣିଆ ସୁବାସ, ରଙ୍ଗୀନ ପେଣ୍ଡାଲ ଓ ସୁନ୍ଦର ବେଶ ପୋଷାକରେ ସୁସଜ୍ଜିତ ପୁରୁଷ ଓ ମହିଳାମାନଙ୍କର ଧାଡ଼ି ଆଖି ଆଗରେ ନାଚିଯାଏ। ଦୁର୍ଗା ପୂଜା ହେଉଛି ଦେଶର ବିଭିନ୍ନ ଅଂଶରେ ତଥା ପଶ୍ଚିମବଙ୍ଗରେ ଆଶ୍ୱିନ ମାସରେ ପାଳିତ ହେଉଥିବା ଏକ ଉତ୍ସବ। ଉତ୍ତର ଭାରତରେ ଏହି ଉତ୍ସବ ନବରାତ୍ରୀ ଏବଂ ଦଶହରା ନାମରେ ପରିଚିତ। ମହିଷାସୁର ବଧ କରି ମା’ ଦୁର୍ଗା ସାରା ସଂସାରକୁ ରକ୍ଷା କରିବାକୁ ମନେ ପକାଇ ଦୁର୍ଗା ପୂଜା ପାଳନ କରାଯାଏ। ଦୁର୍ଗା ପୂଜା ପଶ୍ଚିମବଙ୍ଗରେ ଏବଂ ପୂର୍ବ ଭାରତରେ କେତେକ ଅଂଶରେ ନାରୀ ଶକ୍ତିର ପୂଜନ ଭାବରେ ମହା ଆଡମ୍ବରରେ ପାଳନ କରାଯାଇଥାଏ। ନାରୀ ହେଉଛି ଶକ୍ତି, ସ୍ନେହ, ଦୃଢ଼ତା, ଜ୍ଞାନ, ଦଣ୍ଡ ଦେବାର କ୍ଷମତା ଏବଂ ଶେଷରେ ଅପୂର୍ବ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟର ପ୍ରତୀକ। ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କ ମୂର୍ତ୍ତିକୁ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଶାଢ଼ି ଓ ପାରମ୍ପରିକ ବଙ୍ଗାଳୀ ଅଳଙ୍କାର ଆଭୂଷଣରେ ସଜ୍ଜିତ କରାଯାଇଥାଏ। କଥା ସାହିତ୍ୟରେ ଏବଂ ଚଳଚ୍ଚିତ୍ରରେ ବର୍ଷ ବର୍ଷ ଧରି ବଙ୍ଗାଳୀ ମହିଳାମାନଙ୍କର ଦୃଢ଼ ବ୍ୟକ୍ତିତ୍ୱର ବର୍ଣ୍ଣନା ରହିଛି ସମ୍ଭବତଃ ଏହା ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କର ଶକ୍ତି ଉପରେ ଆଧାରିତ। ତେଣୁ, ଏହି କେତୋଟି ଦିନ ବଙ୍ଗାଳୀ ମହିଳାମାନେ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଶାଢ଼ି ଓ ପାରମ୍ପରିକ ତଥା ଏଥିନିକ୍ ଜୁଏଲାରୀ ପିନ୍ଧି ଏହି ଉତ୍ସବ ସମୟରେ ନିଜର କ୍ଷମତାକୁ ପ୍ରତିଫଳିତ କରିଥାନ୍ତି ଓ ନିଜର ଚମକକୁ ବହୁଗୁଣିତ କରିଥାନ୍ତି। ପ୍ରକୃତ ଉତ୍ସବ ଆରମ୍ଭ ପୂର୍ବରୁ ଜଣେ ଉତ୍ସବର ଆନନ୍ଦ, ଉତ୍ତେଜନା ଏବଂ ଉତ୍ସବର ଆଗମନ ଅନୁଭବ କରିପାରିବେ। ଏହି ଏଗାର ଦିନ ସାରା ବର୍ଷର ସବୁଠାରୁ ଅଧିକ ଆନନ୍ଦମୟ ହୋଇଥାଏ। ନାରୀ, ପୁରୁଷ, ପିଲାଠାରୁ ବଡ଼ଯାଏ ସମସ୍ତେ ଏକାଠି ହୋଇ ଏହି ଉତ୍ସବ ପାଳନ କରିଥାନ୍ତି ଏବଂ ନୂଆ ନୂଆ ପୋଷାକ ପିନ୍ଧି, ବୁଲି ବୁଲି ବିଭିନ୍ନ ପେଣ୍ଡାଲରେ ଦେବୀ ଦର୍ଶନ କରନ୍ତି, ସ୍ୱାଦିଷ୍ଟ ଭୋଜନ କରନ୍ତି ଏବଂ ସବୁଠାରୁ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ହେଲା ନିଜର ପ୍ରିୟ ପରିଜନଙ୍କ ସହ ସମୟ ବିତାଇଥାନ୍ତି। ବଙ୍ଗାଳୀ ମହିଳାମାନଙ୍କ ପାଇଁ, ପାରମ୍ପରିକ ବଙ୍ଗାଳୀ ଅଳଙ୍କାର ବ୍ୟତୀତ ପ୍ରସାଧନ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ହୁଏ ନାହିଁ। ସୁନା ଅଳଙ୍କାର ଯୁଗ ଯୁଗ ଧରି ଅତ୍ୟନ୍ତ ମୂଲ୍ୟବାନ ତଥା ପ୍ରିୟ ଅଳଙ୍କାର ଭାବରେ ଆଦୃତି ଲାଭ କରିଛି। ତେଣୁ ଏହା ଚିକ୍ ନିଉ ଡିଜାଇନ୍ ହେଉ କିମ୍ବା ପାରମ୍ପରିକ ଭାବରେ ହାତ ତିଆରି ଅଳଙ୍କାର ହେଉ ସେଗୁଡ଼ିକର ସମ୍ମେଳନ ସହିତ ସୁନ୍ଦର ଶାଢ଼ି ଏବଂ ଚଟାଣରେ ସ୍ପର୍ଶ କରୁଥିବା ଅନାରକଲି ପ୍ରତ୍ୟେକ ମହିଳାଙ୍କର ଦେବୀପଣକୁ ଉନ୍ମୁକ୍ତ କରିଥାଏ। ମହା ଷଷ୍ଠୀ: ଏହି ଦିନରେ ମା’ ଦୁର୍ଗା ପୃଥିବୀ ପୃଷ୍ଠରେ ଅବତରଣ କରିଥାନ୍ତି। ମହା ଷଷ୍ଠୀ ଦିନ ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କୁ ଅକଲ ବୋଧନ, ଆମନ୍ତ୍ରଣ ଏବଂ ଅଧିବାସ ନାମକ ପବିତ୍ର ବିଧି ସହିତ ସ୍ୱାଗତ କରାଯାଇଥାଏ। ବିଭିନ୍ନ ମନଲୋଭା କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ମାଧ୍ୟମରେ ମା’ ଆମ ଜୀବନର ଅଂଶ ପାଲଟିଯାଇଥାନ୍ତି, ପୂଜା ବିଧିର ସୁବାସ ଏବଂ ଢୋଲର ଧ୍ୱନି ପରବର୍ତ୍ତୀ କିଛିଦିନ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଏହି ପୂଜାକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିଥାଏ। ଏହି ଦିନ ପ୍ରତ୍ୟେକ ବଙ୍ଗାଳୀ ତାଙ୍କ ନିଜ ପରମ୍ପରା ଓ ପରିବାରକୁ ମନେ ପକାଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ଘରକୁ ଫେରି ଆସିଥାନ୍ତି। ବଙ୍ଗାଳୀମାନେ ଏହି ଉତ୍ସବର କିଛି ଦିନ ନିଜ ଘରେ ନିଜ ପ୍ରିୟ ପରିଜନଙ୍କ ସହିତ ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କର ଆରାଧନା କରିବାକୁ ପସନ୍ଦ କରିଥାନ୍ତି। ପିଲାଦିନକୁ ଫେରିଯିବା, ଏକାଠି ହେବା ଏବଂ ହସଖୁସିର ସମୟ ହୋଇଥାଏ। ମହାଷଷ୍ଠୀ ପୂର୍ବଦିନ ସନ୍ଧ୍ୟାରେ ମା’ ଦୁର୍ଗା, ତାଙ୍କର ସନ୍ତାନ ସନ୍ତତି ଏବଂ ଅସୁର ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଭାବରେ ପରିଦୃଷ୍ଟ ହୁଅନ୍ତି। ତାଙ୍କର ମୁଖା ଖୋଲି ଦିଆଯାଇଥାଏ। ସୂକ୍ଷ୍ମ ଭାବରେ ଡିଜାଇନ୍ କରାଯାଇଥିବା ସିଲ୍କ ଏବଂ ଗହଣା, ବିଭିନ୍ନ ଅସ୍ତ୍ରଶସ୍ତ୍ରରେ ସୁସଜ୍ଜିତ ହୋଇଥାନ୍ତି, ଏହା ସହିତ ଉତ୍ସବ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଥାଏ। ଘରର ପ୍ରତିକୋଣରେ ଆଲୁଅ ଜଳି ଉଠିଥାଏ ଏବଂ ସମଗ୍ର ସମାଜ ପାରମ୍ପରିକ ପୋଷାକ ଏବଂ ପାରମ୍ପରିକ ବଙ୍ଗାଳୀ ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧି ଏକାଠି ହୋଇଥାନ୍ତି। ଯେହେତୁ ଏହା ଉତ୍ସବ ଋତୁର ପ୍ରଥମ ଦିନ ହୋଇଥାଏ ତେଣୁ ପୋଷାକ ସେମି କାଜୁଆଲ୍, ଇଣ୍ଡୋ -ୱେଷ୍ଟର୍ଣ୍ଣ କିମ୍ବା ସୂତା ଶାଢ଼ି ହୋଇଥାଏ। ତେଣୁ, ଆକର୍ଷଣୀୟ ସାଲୁଆର କମିଜ୍ କିମ୍ବା ଶାଢ଼ି ସହିତ ସର୍ବନିମ୍ନ ମେକଅପ୍, ଏକ ସିମ୍ପଲ୍ ଆଇ ସ୍ୟାଡୋ କିମ୍ବା ଇନର୍ କର୍ଣ୍ଣର୍ ହାଇଲାଇଟ୍ କିମ୍ବା ଏକ ସବ୍ ଡ୍ୟୁଡ, ସିମର୍ ଏବଂ ଏକ ବୋଲ୍ଡ ଲିପ୍ ବା ଓଠ ଏହି ଦିନ ପାଇଁ ବେଶଭୂଷାକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିଥାଏ। ଏହି ଦିନ, ଉଜ୍ଜ୍ୱଳ ଏବଂ ଅପେକ୍ଷାକୃତ ଭାବେ ହାଲ୍କା ରଙ୍ଗ ବାଛନ୍ତୁ ଏବଂ ଏହି ପୋଷାକ ସହିତ ଭଲ ଦିଶୁଥିବା ଏକ ସରଳ ନେକ୍ ଲେସ୍ ଯେପରିକି ସୁନା ଚେନ୍ ସହିତ ଏକ ଷ୍ଟେଟମେଣ୍ଟ ପେଣ୍ଡେଣ୍ଟ୍ ବାଛନ୍ତୁ। କ୍ଲାସିକ୍, ପ୍ଲେନ୍ ସୁନା ଚୁଡ଼ି ଦେଖନ୍ତୁ, ତାହା ସହିତ ହାଲ୍କା ସୁନା ଝୁମ୍କା ବା ଫୁଲ ପେଣ୍ଡି ବାଛନ୍ତୁ। ସନ୍ଧ୍ୟା ସମୟରେ ଏକ ଜାମଦାନି କିମ୍ବା ଭଲ ସିଲ୍କ୍ ଶାଢ଼ି ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। କୁନ୍ଦନ କାନଫୁଲ ସହିତ ଏକ ହେରଲୁମ୍ ସୁନା ହାରର ସମାହାରର ପାରମ୍ପରିକ ବେଶଭୂଷାକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିଥାଏ। ମହା ସପ୍ତମୀ ଦିନ ସମସ୍ତ ଉତ୍ସବ ଆରମ୍ଭ ହୁଏ। ମା’ ଦୁର୍ଗା ଜୀବନ୍ତ ହୋଇ ଉଠନ୍ତି। ପୂଜା ମନ୍ତ୍ର ବିଧି ମାଧ୍ୟମରେ ମା’ଙ୍କର ଆଖି ଖୋଲେ ଏବଂ ସେ ପ୍ରଥମ ଥର ପାଇଁ ଆମକୁ ଦେଖନ୍ତି। ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କର ଆତ୍ମାକୁ ଗୋଟିଏ କଦଳୀ ଗଛକୁ କନ୍ୟା ରୂପରେ ସଜାଇ ରୂପାୟିତ କରାଯାଇଥାଏ। ଏହି ବିଧିକୁ କୁହାଯାଏ ‘ପ୍ରାଣ ପ୍ରତିଷ୍ଠା’। ମହାସପ୍ତମୀର ଚେହେରା ହେବ ଜାକାର୍ଡ ବୁଣା ଶାଢ଼ି ଏକ ହାଇଡ୍ରାଞ୍ଜି ନୀଳ, ଗୋଲାପୀ କିମ୍ବା ହଳଦିଆ ରଙ୍ଗରେ। ଏକ କ୍ଲାସି ଏବଂ ମିନିମାଲିଷ୍ଟିକ୍ ସାଲୱାର ସୁଟ୍ କିମ୍ବା ଏକ କୁର୍ତ୍ତୀ ସହିତ ସରାରା ଏହି ଷ୍ଟେଟମେଣ୍ଟ ଅଳଙ୍କାର ପିସକୁ କମ୍ପ୍ଲିମେଣ୍ଟ କରିଥାଏ। ଏହି ଦିନ ସମୟରେ ଏକ ସବଟେଲ ନ୍ୟୁଡ୍ କିମ୍ବା କୋରାଲ ଲିପ୍ ପସନ୍ଦ କରନ୍ତୁ। ଅଳଙ୍କାର ପାଇଁ, ମନେରଖନ୍ତୁ ସବୁଠାରୁ ସିମ୍ପଲ୍, ସବୁଠାରୁ ଆକର୍ଷଣୀୟ ହୋଇଥାଏ। ତେଣୁ ହଳେ ହୀରା କାନଫୁଲ କିମ୍ବା ହାତ ତିଆରି କାନଫୁଲ ସହିତ ମୀନା କରି ଏବଂ ଏକାଧିକ ମୁଦୀ ପିନ୍ଧି ଆପଣଙ୍କର ଦିନକ ପାଇଁ ବେଶଭୂଷା ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରନ୍ତୁ। ସ୍ମୋକି ଆଇ ଏବଂ ବୋଲ୍ଡ ଲିପ୍ ପରିଧାନ କରି ସନ୍ଧ୍ୟାରେ ଗ୍ଲାମର୍ସ ଦିଶନ୍ତୁ। ମାଟି ରଙ୍ଗର ସହିତ ହଳେ ସୁନା ଗଂଗା, ପଲା ଏବଂ ନୂଆ ଓ ପାରମ୍ପରିକ ବଙ୍ଗାଳୀ ସୀତା ହାର ସନ୍ଧ୍ୟାର ବେଶଭୂଷାକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିଥାଏ। ମୂଲ୍ୟବାନ ପଥର ଯେପରିକି ରୁବି, ଏମେରାଲଡସ୍ ଏବଂ ହୀରା ଖଚିତ ସୁନା ବା ରୂପା ଚୁଡ଼ି ସହିତ ଏକ ଲେହେଙ୍ଗା କିମ୍ବା ଏକ ସରାରା ବାଛନ୍ତୁ। ମିନିମାଲିଷ୍ଟିକ୍ ପ୍ଲାଟିନମ୍ ଏବଂ ହ୍ୱାଇଟ୍ ଗୋଲ୍ଡ ଅଳଙ୍କାର ଆଧୁନିକ ଫେସନକୁ ସୂଚିତ କରିଥାଏ ଏବଂ ଫ୍ୟୁଜନ୍ ଏନସେମ୍ବେଲ ଏବଂ କ୍ଲାସି ସାର୍ଟୋରିଆଲ୍ ପସନ୍ଦ ସହିତ ଭଲ ଦିଶିଥାଏ। ମହା ଅଷ୍ଟମୀ: ମହା ଅଷ୍ଟମୀରେ, ସବୁଠାରୁ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଶାଢ଼ି ସହିତ ହେରଲୁମ୍ ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। ଆଶା କରାଯାଉଛି ଯେ ଯେଉଁଦିନ ମା’ ଦୁର୍ଗା ମହିଷାସୁର ବଧ କରିଥିଲେ, ସେହି ଦିନ ପୂଜାକୁ କୁହାଯାଏ ଅଞ୍ଜଳି ଏବଂ ସନ୍ଧି ପୂଜା (ଅଷ୍ଟମୀ ଏବଂ ନବମୀର ମିଳନ) ମହାଷ୍ଟମୀ ଦିନ ସକାଳେ, ମେକ୍ ଅପ୍ ପାଇଁ ଆମେ, ବୋଲ୍ଡ, ଆଇ କ୍ୟାଚିଙ୍ଗ୍ ଲିପଷ୍ଟିକ୍, ନାଲି ଏବଂ ମେରୁନ୍ ସ୍ଯାଡୋ, ତାହା ସହିତ ଡାର୍କ ଆଇ ମେକଅପ୍ ପରାମର୍ଶ ଦେଇଥାଉ। କିନ୍ତୁ, ଅବଶ୍ୟ, ଦିନ ଏବଂ ରାତିର ଉତ୍ସବ ମୁଖରତା ଅନୁଯାୟୀ ଜଣେ ରଙ୍ଗକୁ ବ୍ୟବସ୍ଥିତ କରିପାରିବେ। ଆମର ବ୍ୟକ୍ତିଗତ ପସନ୍ଦ ହେଉଛି ଏହି ଦିନ ପାଇଁ ଏକ କ୍ଲାସିକ୍ ବେଙ୍ଗଲି ଚୁଡ଼ି। ଯେହେତୁ ସୁନା ଚୁଡ଼ି ସୌଭାଗ୍ୟ ଏବଂ ବିଜୟର ପ୍ରତୀକ ହୋଇଥାଏ, ଗୋଟିଏ ବା ଅଧିକ ବାଛନ୍ତୁ। ଏହାର ବିକଳ୍ପ ସ୍ୱରୂପ ସୁନ୍ଦର ହାତ ପ୍ରତି ଦୃଷ୍ଟି ଆକର୍ଷଣ କରିବା ପାଇଁ ଏକ ବ୍ରେସଲେଟ୍ କିମ୍ବା ବଳା ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। ଶେଷରେ, ଏହି ରୂପ ଚିକ୍ କିମ୍ବା ଚୋକର୍ ସହିତ ଏବଂ ଝୁମକା ସହିତ ସମ୍ପନ୍ନ ହୋଇଥାଏ। ଏକ ହାତ ତିଆରି କାନ ଫାସିଆ କିମ୍ବା ଇୟର୍ କଫ ସହିତ ଧଳା, ଅଳ୍ପ ଧଳା ବା ପାସେଲ୍ ସହିତ ଗମ୍ଭୀରତା ଏବଂ ସ୍ଥାୟୀ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ପ୍ରତିଫଳିତ କରନ୍ତୁ। ମେକଅପ୍ କୁ ସଫ୍ଟ ରଖନ୍ତୁ। ଏହି ଚେହେରା ଆଧୁନିକ ମହିଳାଙ୍କ ପାଇଁ ପାରମ୍ପରିକ ଏବଂ ଆଧୁନିକ ଅଳଙ୍କାରର ଏକ ଚମତ୍କାର ସମାହାର ହୋଇଥାଏ। ସନ୍ଧି ପୂଜା ହେଉଛି ଦୁର୍ଗା ପୂଜାର ଅନ୍ୟତମ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ବିଧି ମଧ୍ୟରୁ ଗୋଟିଏ। ଅଷ୍ଟମୀ ତିଥିର ଶେଷ 24 ମିନିଟ୍ ଏବଂ ନବମୀ ତିଥିର ପ୍ରଥମ 24 ମିନିଟ୍ ସନ୍ଧିକ୍ଷଣ ହୋଇଥାଏ। ଏହା ହେଉଛି ଅଷ୍ଟମୀ ଓ ନବମୀର ପବିତ୍ର ସନ୍ଧିକ୍ଷଣ। ଏହି ସନ୍ଧି ପୂଜା ଭକ୍ତମାନଙ୍କର ଏହି ସମୟରେ ଦୃଢ଼ ଆବେଗକୁ ପ୍ରତିଫଳିତ କରିଥାଏ, ଚଣ୍ଡି ମୁଣ୍ଡା, ଦୁଷ୍ଟ ଅସୁର ମା’ଙ୍କ ନିକଟରେ ନତମସ୍ତକ ହୋଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ସେ ପୁନର୍ବାର ସମସ୍ତ ଦୁଷ୍ଟ ଶକ୍ତି ଉପରେ ବିଜୟ ଲାଭ କରିଥାନ୍ତି। ସନ୍ଧି ପୂଜା ସମୟରେ ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କର ଚାମୁଣ୍ଡା ରୂପରେ ପୂଜା ସହିତ ଢୋଲ ବଜାଯାଇଥାଏ। ଏହା ହେଉଛି ଦୁଷ୍ଟ ଶକ୍ତି ଉପରେ ଦେବୀଙ୍କର ବିଜୟ ଏବଂ ସର୍ବଶେଷରେ ନାରୀ ଶକ୍ତିର ବିଜୟ। ମା’ ଦୁର୍ଗା ସାରା ସଂସାରରୁ ଅନ୍ୟାୟ ଓ ଅତ୍ୟାଚାର ଦୂର କରିବା ପାଇଁ ମହିଷାସୁର ସମ୍ମୁଖରେ ହଳଦିଆ ଶାଢ଼ି ପିନ୍ଧି ସୁନା ରଙ୍ଗର ସୁନ୍ଦରୀ ନାରୀ ପରି ଦୃଶ୍ୟମାନ ହୁଅନ୍ତି। ଜଣେ ଧଳା କିମ୍ବା ଉଜ୍ଜ୍ୱଳ ରଙ୍ଗର ଶାଢ଼ି, ସୁନା ଝୁମକା ଏବଂ ଏକ ବହୁସ୍ତରର ହାର କିମ୍ବା ସାତ ନୋଳି ହାର ପିନ୍ଧି ଏହି ବେଶକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ କରିପାରିବେ। ପୋଲକି ହାର କିମ୍ବା କୋଲାର ନେକଲେସ୍ ବା ଚାପ ସରି ଏହି ଅବସର ପାଇଁ ଉପଯୁକ୍ତ ହୋଇଥାଏ। ମେକଅପ୍ ପାଇଁ ବୋଲ୍ଡ ଲିପ୍, ସିମରି ଆଇସ୍ୟାଡୋ ଏବଂ ଚିକ୍ ବୋନକୁ ହାଇଲାଇଟ୍ କରିବା ପାଇଁ କୋରାଲ୍ ବ୍ଲସ୍ ବାଛନ୍ତୁ। ମହା ନବମୀ: ଏହି ମହାଆରତୀ ମହାନବମୀରେ କରାଯାଇଥାଏ। ଆରତୀର ଅଗ୍ନି ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କ ଭିତରେ ଥିବା ଅଗ୍ନିର ପ୍ରତୀକ ହୋଇଥାଏ ଯାହାକି ଅଧିକରୁ ଅଧିକ ଉଚ୍ଚକୁ ପ୍ରଜ୍ଜ୍ୱଳିତ ହୋଇ ଏହାର ଆଲୋକରେ ଦୁଷ୍ଟଙ୍କ ବିନାଶ କରିଥାଏ। ଏହି ଦିନ ରେ ଲୋକେ ତାଙ୍କର ଉପବାସ ମଧ୍ୟ ଭଙ୍ଗ କରିଥାନ୍ତି। ନବମୀ ପାଇଁ ଆମେ ପାରମ୍ପରିକ ଏବଂ ଆକର୍ଷଣୀୟ ପୋଷାକ ପିନ୍ଧିବାକୁ ପରାମର୍ଶ ଦେଇଥାଉ। ପାରମ୍ପରିକ ବଙ୍ଗାଳୀ ଅଳଙ୍କାର ସହିତ ମାନୁଥିବା ବଙ୍ଗଳାର ପାରମ୍ପରିକ ହସ୍ତତନ୍ତ ଶାଢ଼ି ପିନ୍ଧି ଏହି ଉତ୍ସବ ପାଳନ୍ତୁ। ବୋଲ୍ଡ ଆଇଲୁକ୍, କଲର୍ ବା ସିମର୍ର ଏକ ପପ୍ ଏବଂ ଆଇ ସ୍ୟାଡୋ ସହିତ ମ୍ୟାଚ୍ ହେଉଥିବା ଏକ ଲିପଷ୍ଟିକ୍ ସେଡ୍ ସହିତ ସଜାଇ ହେବାକୁ ନବମୀରେ ବାଛନ୍ତୁ। ଅଳଙ୍କାର ପାଇଁ, ଆମ୍ଭେମାନେ ଏକ କଲବି ସଂକଳ୍ପ ସୁନା ଚୁଡ଼ି ପାଇଁ ପରାମର୍ଶ ଦେଉଛୁ। ସେଗୁଡ଼ିକରେ ଥିବା ସୁପ୍ତ ଆକର୍ଷଣ, ବଳିଷ୍ଠତା, ସୂକ୍ଷ୍ମ ଡିଜାଇନ୍ ମା’ଦୁର୍ଗାଙ୍କର କୈଳାସ ଫେରିଯିବା ପୂର୍ବରୁ ଶେଷ ଦିନର ମାନସିକ ସ୍ଥିତି ପାଇଁ ଅନୁକୂଳ ହୋଇଥାଏ। ହାର ସହିତ ମ୍ୟାଚ୍ ହେଉଥିବା ପେଣ୍ଡାଣ୍ଟ, ଚୁଡ଼ି ଏବଂ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଚାଣ୍ଡେଲିୟର୍ ଇୟର୍ ରିଙ୍ଗ୍ ପିନ୍ଧନ୍ତୁ। ଏହି କମ୍ବିନେସନ୍ ଚେହେରାକୁ ଆକର୍ଷଣୀୟ କରେ କିନ୍ତୁ ‘‘ଓଭର୍ ଦ ଟପ୍’’ ନୁହେଁ। ଶେଷରେ, ଆରାମଦାୟକ ଫେସନ୍ ବାଛନ୍ତୁ, ସଲିଡ୍ ସିଲହଟ୍ ଏବଂ ଷ୍ଟ୍ରେଟ୍ କଟ୍ସ, ତାହାସହିତ ଆଣ୍ଟିକ ନେକଲେସ୍ ଏବଂ ସନ୍ଧ୍ୟା ସମୟ ପାଇଁ ସୂକ୍ଷ୍ମ ଭାବରେ ଡିଜାଇନ୍ ହୋଇଥିବା ନାକଫୁଲ। ବିଜୟା ଦଶମୀ: ଏହି ଦିନ ମା’ ଦୁର୍ଗା ତାଙ୍କର ସ୍ୱାମୀ ପ୍ରଭୁ ଶିବଙ୍କ ସହ ମିଳିତ ହେବା ପାଇଁ ତାଙ୍କର ଯାତ୍ରା ଆରମ୍ଭ କରନ୍ତି। ‘ଘାଟ’ରେ ପ୍ରତୀକାତ୍ମକ ବିସର୍ଜନ ପରେ, ଏକ ମାଠିଆରେ ଜଳ ଏବଂ ପବିତ୍ର ପତ୍ର ଭରି ବିବାହିତ ମହିଳାମାନେ ମା’ ଦୁର୍ଗାଙ୍କ ସହ ପ୍ରଭୁ ଶିବଙ୍କର ପୁନର୍ମିଳନକୁ ସୂଚିତ କରି ‘ସିନ୍ଦୁର ଖେଳା’ କରିଥାନ୍ତି। ତାହା ପରେ ସେମାନେ ଲୋତକାପ୍ଲୁତ ନୟନରେ, ମା’ ଦେବୀଙ୍କ କପାଳରେ ସିନ୍ଦୁର ଦେଇ, ତାଙ୍କୁ ମିଷ୍ଟାନ୍ନ ଭୋଜନ କରାଇ ଏବଂ ତାଙ୍କର ପାଦ ସ୍ପର୍ଶ କରି ବିଦାୟ ଦେଇଥାନ୍ତି। ତାହା ପରେ ମହିଳାମାନେ ପରସ୍ପର ମୁହଁରେ ସିନ୍ଦୁର ବୋଳି ସେମାନଙ୍କ ଦାମ୍ପତ୍ୟ ଜୀବନର ଆନନ୍ଦର ଉତ୍ସବ ପାଳିଥାନ୍ତି। ଏହି ଉତ୍ସବର ଶେଷ ଦିନ ପାଳନ ଅବସରରେ ଆଇକନିକ ଲାଲ୍ ପାଢ଼ ସାଦା ଶାଢ଼ି ପିନ୍ଧନ୍ତୁ, ଯାହାକି ବଙ୍ଗାଳୀ ନାଲି ପାଢ଼ି ବିଶିଷ୍ଟ ଧଳା ଶାଢ଼ି ଭାବରେ ଜଣାଶୁଣା। ଆମେ ପରାମର୍ଶ ଦେବୁ ଯେ ଏକ ସୁନା ଚୋକର୍, କେତୋଟି ଚୁଡ଼ି, ଶଙ୍ଖା, ପୋଲା ଏବଂ ନୋଆ ପିନ୍ଧନ୍ତୁ ଏବଂ ସମସ୍ତଙ୍କଠାରୁ ଅଲଗା ଦିଶନ୍ତୁ। ଏକ ଆକର୍ଷଣୀୟ ମକରମୁଖୀ ବାଲା ପିନ୍ଧନ୍ତୁ ଯାହାକି ଚନ୍ଦ୍ର ବାଲା କାନଫୁଲ ସହିତ ବାହୁରେ ଚମକିଥାଏ, ଏହା ହେଉଛି ପାରମ୍ପରିକ ବଙ୍ଗଳା ଅଳଙ୍କାର ମଧ୍ୟରୁ ଅନ୍ୟତମ। ଜଣେ ମଧ୍ୟ ଆକର୍ଷଣୀୟ ଦିଶିବା ପାଇଁ ସୁନା ରତ୍ନ ଚୁଡ଼ି (ପ୍ରତି ଆଙ୍ଗୁଠିରେ ମୁଦି ସଂଲଗ୍ନ ହୋଇଥିବା ସହିତ ଏକ ବ୍ରେସଲେଟ୍) ପିନ୍ଧିପାରିବେ। ଏହା ମୁଖ୍ୟତଃ ମୟୂର କିମ୍ବା ପଦ୍ମ ଡିଜାଇନରେ ଆସେ। ଉପସଂହାର ଏହା ବିଶ୍ୱାସ କରାଯାଏ ଯେ ଦୁର୍ଗା ପୂଜା ସମୟରେ ହିଁ ବଙ୍ଗାଳୀ ମହିଳାମାନଙ୍କର ପ୍ରକୃତ ସୁନ୍ଦରତା ପ୍ରସ୍ଫୁଟିତ ହୋଇଥାଏ। ମା’ ଶାନ୍ତି, ଆନନ୍ଦ, ଶକ୍ତି ଏବଂ ବିଜୟର ପ୍ରତୀକ। ଏହି ସଂକଳ୍ପ କଲେକ୍ସନ ଦୁର୍ଗା ପୂଜାର ଭାବନାକୁ ପ୍ରତିଫଳିତ କରିଥାଏ। ଏହା ହେଉଛି ବଙ୍ଗାଳୀମାନଙ୍କର ଆକର୍ଷଣୀୟ ଉତ୍ସବ, ବିଭିନ୍ନ ସଂସ୍କୃତି ଏବଂ ବ୍ୟକ୍ତିମାନଙ୍କ ପ୍ରତି ଶ୍ରଦ୍ଧା ଭାବର ସମର୍ପଣ, ପ୍ରତିଟି ପିସ୍ ଆଞ୍ଚଳିକ ଦୋକାନୀମାନଙ୍କର ଅଗ୍ରାଧିକାରକୁ ଦୃଷ୍ଟିରେ ରଖି ପରିକଳ୍ପନା କରାଯାଇଛି। ସୂକ୍ଷ୍ମ କାରିଗରୀ ସହିତ ଆଣ୍ଟିକ୍ ଜୁଏଲାରୀଠାରୁ ଏଥିନିକ୍ କୁନ୍ଦନ ଜୁଏଲାରୀ ସେଟ୍ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପ୍ରତିଟି ପିସ୍ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଆକର୍ଷଣୀୟ ମନେହୁଏ, ଏଥିରେ ରହିଥିବା ସୂକ୍ଷ୍ମ ବିବରଣୀ ‘ବଙ୍ଗାଳୀ’ମାନଙ୍କର ସାଂସ୍କୃତିକ ପରମ୍ପରାକୁ ପ୍ରତିଫଳିତ କରେ। ସଂକଳ୍ପ ହେଉଛି କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସର ଏକ ପାରମ୍ପରିକ ଜୁଏଲାରୀ ଲାଇନ୍ ଯାହାକି ସର୍ବକାଳୀନ ଡିଜାଇନକୁ ନେଇ ଗଠିତ, ପାରମ୍ପରିକତାକୁ ଧରି ରଖିବା ସହ ଆଧୁନିକତାର ସ୍ପର୍ଶରେ ସମୃଦ୍ଧ। ପାରମ୍ପରିକ ଅଳଙ୍କାରର ଏହି ଧାରା ସୁନ୍ଦର ଦିଶିବା ସହିତ ଆଶା ଓ ସମୃଦ୍ଧିର ପ୍ରତୀକ ଭାବରେ ମଧ୍ୟ ପରିଦୃଷ୍ଟ ହୋଇଥାଏ। କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସ ଦ୍ୱାରା ସଂକଳ୍ପ କଲେକ୍ସନ ବାସ୍ତବରେ ବଙ୍ଗାଳୀ ସଂସ୍କୃତିର ନିଷ୍କର୍ସକୁ ଧରି ରଖିଥାଏ, ବିଶେଷକରି ଦୁର୍ଗାପୂଜା ସମୟରେ। ଏହି ସୂକ୍ଷ୍ମ କାରିଗରୀ, ସୁନ୍ଦର ଡିଜାଇନ୍ ଏବଂ ଅପୂର୍ବ ଫିଟନେସ୍ ଏବଂ ସଂକଳ୍ପ କଲେକ୍ସନକୁ ଅନ୍ୟ ସମସ୍ତଠାରୁ ଭିନ୍ନ କରି ତୋଳିଥାଏ। ଏହି ସଂଗ୍ରହ ଆଧୁନିକ ଓ ପାରମ୍ପରିକତାର ଏକ ଅପୂର୍ବ ସମନ୍ୱୟ ଏଥିରେ ପାରମ୍ପରିକ ସୁନା ଚୁଡ଼ ଏବଂ ସୀତାହାରଠାରୁ ହାଲ୍କା ଝୁମକା ଏବଂ କାନ ଫାସିଆ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ରହିଛି। ତେଣୁ କେତେକ କ୍ଲାସିକ ଅଳଙ୍କାର ପିସ୍ ଯାହାକି ସମୃଦ୍ଧ ବଙ୍ଗାଳୀ ସଂସ୍କୃତି ଓ ପରମ୍ପରାର ପ୍ରତୀକ ହୋଇଥାଏ, କିଣିବା ସମୟରେ କଲ୍ୟାଣ ଜୁଏଲର୍ସର ସଂକଳ୍ପ କଲେକ୍ସନ ନିଶ୍ଚୟ ଦେଖିନିଅନ୍ତୁ।
Publisher: Kalyan Jewelers

ਇਸ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਦੇ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਨਾਲ ਫਿਰ ਤੋਂ ਮਜ਼ਬੂਤ ਕਰੋ ਆਪਣਾ ਬੰਧਨ

On
ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਨੂੰ ਸਾਲ ਦਾ ਸਭ ਤੋਂ ਰੋਮਾਂਟਿਕ ਸਮਾਂ ਕਿਹਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ! ਕਿਤਾਬਾਂ ਅਤੇ ਫਿਲਮਾਂ ਵਿੱਚ ਖੂਬ ਧੂਮ-ਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਇਆ ਜਾਣ ਵਾਲਾ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਉਹ ਜਾਦੂਈ ਦਿਨ ਹੈ ਜਦੋਂ ਵਿਆਹੁਤਾ ਔਰਤਾਂ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਦੀ ਲੰਬੀ ਉਮਰ ਦੇ ਲਈ ਪੂਰਾ ਦਿਨ ਵਰਤ ਰੱਖਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਪੂਜਾ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ। ਵਿਆਹੁਤਾ ਸਬੰਧ ਦੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਨੂੰ ਬਿਆਨ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ, ਅਤੇ ਵਿਆਹੁਤਾ ਜੋੜੇ ਲਈ ਹਰ ਦਿਨ ਅਨੋਖਾ ਅਹਿਸਾਸ ਦਿੰਦਾ ਹੈ। ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਤੌਰ ‘ਤੇ, ਵੱਖ-ਵੱਖ ਖੇਤਰਾਂ ਵਿੱਚ ਵਿਆਹ ਦੇ ਬੰਧਨ ਨਾਲ ਜੁੜੇ ਕਈ ਤਿਓਹਾਰ ਅਤੇ ਰੀਤੀ-ਰਿਵਾਜ਼ ਮਨਾਏ ਜਾਂਦੇ ਹਨ। ਹਾਲਾਂਕਿ, ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਇੱਕ ਅਜਿਹਾ ਤਿਓਹਾਰ ਹੈ ਜਿਸ ਨੂੰ ਸਾਲਾਂ ਤੋਂ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਸਮੁਦਾਇ ਦੇ ਲੋਕ ਮਨਾਉਂਦੇ ਆ ਰਹੇ ਹਨ। ਇਹ ਤਿਓਹਾਰ ਹੈ ਪਿਆਰ ਅਤੇ ਅਟੁੱਟ ਬੰਧਨ ਦਾ ਇੱਕ ਪ੍ਰਤੀਕ ਜਿਸਨੂੰ ਅਵਿਆਹੁਤਾ ਜੋੜੇ ਵੀ ਆਪਣੇ-ਆਪਣੇ ਮੰਗੇਤਰਾਂ ਲਈ ਵਰਤ ਰੱਖ ਕੇ ਪਿਆਰ ਨਾਲ ਮਨਾਉਂਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਹਮੇਸ਼ਾ ਨਾਲ ਰਹਿਣ ਦੀ ਕਾਮਨਾ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਇਸ ਕਾਰਨ ਕਰਕੇ ਵੀ ਖਾਸ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਦਿਨ ਕਈ ਪਤੀ ਆਪਣੀਆਂ ਪਤਨੀਆਂ ਦੀ ਸਿਹਤ ਲਈ ਕਾਮਨਾ ਕਰਦੇ ਹੋਏ ਵਰਤ ਰੱਖਦੇ ਹਨ। ਇਸ ਤਿਓਹਾਰ ਨੂੰ ਸੱਸ ਅਤੇ ਪਤਨੀ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਮਾਂ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਬੰਧਨ ਨੂੰ ਮਜ਼ਬੂਤੀ ਦੇਣ ਲਈ ਵੀ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਸੱਸ ਆਪਣੀ ਬਹੂ ਨੂੰ ਸਰਗੀ ਦਿੰਦੀ ਹੈ, ਇੱਕ ਅਜਿਹਾ ਖਾਣਾ ਜਿਸਨੂੰ ਸੂਰਜ ਨਿਕਲਣ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਖਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਫ਼ਲ, ਸਬਜ਼ੀਆਂ ਅਤੇ ਚਪਾਤੀ ਸ਼ਾਮਿਲ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਦੂਜੇ ਪਾਸੇ, ਪਤਨੀ ਦੀ ਮਾਂ ਤੋਹਫੇ ਭੇਜਦੀ ਹੈ, ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਜਵੈਲਰੀ, ਕੱਪੜੇ ਜਾਂ ਭੋਜਨ ਜਾਂ ਕੋਈ ਵੀ ਹੋਰ ਚੀਜ਼ ਸ਼ਾਮਿਲ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਅਵਸਰ ‘ਤੇ ਖੂਬ ਪਿਆਰ ਅਤੇ ਅਪਣਾਪਨ ਨੌਛਾਵਰ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰਾਂ ਨੂੰ ਇੱਕ-ਦੂਜੇ ਦੇ ਕਰੀਬ ਲਿਆਉਂਦਾ ਹੈ। ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਔਰਤਾਂ ਸੁੰਦਰ ਵੇਸ਼-ਭੂਸ਼ਾ ਪਹਿਨਦੀਆਂ ਹਨ, ਆਪਣੇ ਹੱਥਾਂ ‘ਤੇ ਮਹਿੰਦੀ ਲਗਾਉਂਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨ ਕੇ ਚੰਦ ਦੇ ਦਿਖਣ ਦਾ ਇੰਤਜ਼ਾਰ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ। ਲੋਕ ਕਥਾਵਾਂ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਦਾ ਸਬੰਧ ਰਾਣੀ ਵੀਰਵਤੀ ਨਾਲ ਹੈ। ਇਸ ਕਹਾਣੀ ਵਿੱਚ ਪਿਆਰ ਹੈ ਅਤੇ ਇੰਤਜ਼ਾਰ ਹੈ ਜਿਸ ਕਾਰਨ ਕਰਕੇ ਇਸ ਰਿਵਾਜ਼ ਵਿੱਚ ਪਿਆਰ ਅਤੇ ਉਦਾਸੀ ਦੀ ਭਾਵਨਾ ਛਿਪੀ ਹੋਈ ਹੈ। ਰਾਣੀ ਵੀਰਵਤੀ ਸੱਤ ਸਨੇਹਸ਼ੀਲ ਅਤੇ ਪਿਆਰ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਭਰਾਵਾਂ ਦੀ ਇਕਲੌਤੀ ਭੈਣ ਸੀ। ਵਿਆਹੁਤਾ ਔਰਤ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਰਾਣੀ ਨੇ ਆਪਣਾ ਪਹਿਲਾ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਆਪਣੇ ਪੇਕੇ ਵਿੱਚ ਮਨਾਇਆ ਸੀ। ਉਸ ਦੇ ਭਰਾਵਾਂ ਨੇ ਦੇਖਿਆ ਕਿ ਰਾਣੀ ਚੰਦ ਦਾ ਬੇਸਬਰੀ ਨਾਲ ਇੰਤਜ਼ਾਰ ਕਰ ਰਹੀ ਹੈ ਜਿਸ ਨਾਲ ਕਿ ਉਹ ਆਪਣਾ ਵਰਤ ਤੋੜ ਪਾਵੇ। ਰਾਣੀ ਨੂੰ ਭੁੱਖ ਅਤੇ ਪਿਆਸ ਨਾਲ ਤੜਪਦਾ ਦੇਖ ਕੇ ਉਸਦੇ ਭਰਾਵਾਂ ਨੂੰ ਇੱਕ ਸ਼ਰਾਰਤ ਸੁੱਝੀ ਜਿਸ ਨਾਲ ਕਿ ਰਾਣੀ ਆਪਣਾ ਵਰਤ ਤੋੜ ਦੇਵੇ। ਉਹਨਾਂ ਨੇ ਪਿੱਪਲ ਦੇ ਰੁੱਖ ‘ਤੇ ਇੱਕ ਸ਼ੀਸ਼ਾ ਲਟਕਾ ਦਿੱਤਾ ਜਿਸ ਨਾਲ ਰਾਣੀ ਨੂੰ ਲੱਗੇ ਕਿ ਚੰਦ ਨਿਕਲ ਗਿਆ ਹੈ ਅਤੇ ਉਹ ਆਪਣਾ ਵਰਤ ਤੋੜ ਦੇਵੇ। ਪਰ ਜਿਵੇਂ ਹੀ ਉਸਨੇ ਅਜਿਹਾ ਕੀਤਾ, ਖ਼ਬਰ ਆਈ ਕਿ ਉਸਦੇ ਪਤੀ ਯਾਨੀ ਰਾਜਾ ਦੀ ਮੌਤ ਹੋ ਗਈ ਹੈ। ਸਾਰੀ ਰਾਤ ਰਾਣੀ ਵੀਰਵਤੀ ਰੌਂਦੀ ਰਹੀ। ਉਸਦਾ ਦਰਦ ਅਤੇ ਹਾਨੀ ਦੇਖ ਕੇ ਇੱਕ ਦੇਵੀ ਪ੍ਰਗਟ ਹੋਈ ਜਿਸਨੇ ਉਸਨੂੰ ਕਿਹਾ ਕਿ ਜੇ ਰਾਣੀ ਅਗਲੇ ਦਿਨ ਪੂਰੇ ਸਮਰਪਣ ਨਾਲ ਵਰਤ ਰੱਖੇ ਤਾਂ ਮੌਤ ਦੇ ਦੇਵਤਾ, ਯਮਰਾਜ ਨੂੰ ਮਜ਼ਬੂਰੀ ਨਾਲ ਉਸਦੇ ਪਤੀ ਦੇ ਪ੍ਰਾਣ ਵਾਪਸ ਪਾਉਣੇ ਪੈਣਗੇ। ਰਾਣੀ ਨੇ ਦੇਵੀ ਦੀ ਗੱਲ ਮੰਨੀ ਅਤੇ ਅਜਿਹਾ ਹੀ ਕੀਤਾ ਜਿਸਤੋਂ ਬਾਅਦ ਉਸਦਾ ਪਤੀ ਜੀਵਿਤ ਹੋ ਉੱਠਿਆ। ਇਸ ਪਿਆਰੀ ਜਿਹੀ ਕਹਾਣੀ ਦੇ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਸੰਸਕਰਣ ਮੌਜੂਦ ਹਨ ਜਿਹਨਾਂ ਵਿੱਚ ਪਿਆਰ ਅਤੇ ਦੈਵੀ ਸਹਾਇਤਾ ਦਾ ਗੁਣਗਾਣ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਹਰ ਕਹਾਣੀ ਵਿੱਚ ਆਤਮਾਵਾਂ ਦੇ ਮਿਲਣ ਅਤੇ ਮੌਤ ‘ਤੇ ਜਿੱਤ ਦੀ ਗੱਲ ਦੁਹਰਾਈ ਗਈ ਹੈ। ਹਰ ਮੌਕੇ ਨੂੰ ਖਾਸ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਤਿੰਨ ਸਟਾਇਲ ਇਸ ਪ੍ਰਕਾਰ ਹਨ। ਸਵੇਰੇ ਸਰਗੀ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਦੇ ਹੋਏ ਪਾਣੀ ਨਾਲ ਰੱਖਣ ਅਤੇ ਅੰਤ ਵਿੱਚ ਉਸ ਪਲ ਦਾ ਇੰਤਜ਼ਾਰ ਕਰਨ ਤੱਕ ਜਦੋਂ ਚੰਨ ਆਸਮਾਨ ਵਿੱਚ ਨਿਕਲ ਕੇ ਆਉਂਦਾ ਹੈ। ਹਰ ਮੌਕੇ ਲਈ ਤੁਸੀਂ ਦਿਖਣੇ ਚਾਹੀਦੇ ਹੋ ਬਿਹਤਰੀਨ। ਸਵੇਰ ਲਈ ਸਟਾਇਲ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਦਾ ਮੁੱਖ ਆਕਰਸ਼ਣ ਜਵੈਲਰੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਇਹ ਦਿਨ ਸਾਦੀ ਜਾਂ ਘੱਟ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨਣ ਦਾ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਸਵੇਰ ਦੇ ਸਮੇਂ ਪਾਜੇਬ ਜਾਂ ਪਾਇਲ ਨੂੰ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਕਿ ਰੋਮਾਂਟਿਕ ਅਤੇ ਸ਼ਰਾਰਤਪੂਰਨ ਜਵੈਲਰੀ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਜਿਸਨੂੰ ਪੈਰਾਂ ਵਿੱਚ ਪਹਿਨਦੇ ਹਨ। ਪਾਜੇਬ ਦੀ ਆਵਾਜ਼ ਸਾਰਿਆਂ ਦਾ ਧਿਆਨ ਤੁਹਾਡੇ ਵੱਲ ਆਕਰਸ਼ਿਤ ਕਰੇਗੀ ਅਤੇ ਉਹ ਦੇਖਣਗੇ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਕਿੰਨੇ ਸੁੰਦਰ ਦਿਖਦੇ ਹੋ। ਇਸ ਦਿਨ ਰਤਨ ਜੜਿਤ ਸੋਨੇ ਦੀ ਜਾਂ ਕੁੰਦਨ ਦੀ ਪਾਜੇਬ ਨੂੰ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਪੇਂਡੈਂਟ ਵਾਲਾ ਸੋਨੇ ਦਾ ਨੈਕਲੈਸ ਮੋਤੀਆਂ ਅਤੇ ਨੀਲਮ ਵਾਲੀਆਂ ਕੰਨਾਂ ਦੀਆਂ ਬਾਲੀਆਂ ਪਹਿਨੀਆਂ ਜਾ ਸਕਦੀਆਂ ਹਨ ਜੋ ਕਿ ਤੁਹਾਡੇ ਗੋਰੇ ਰੰਗ ਦੇ ਨਾਲ ਖੂਬ ਜੱਚਣਗੀਆਂ। ਇਸ ਜੁਗਲਬੰਦੀ ਦੀ ਆਪਣੀ ਵੱਖ ਸ਼ਾਨ ਹੈ। ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਅਜਿਹੇ ਸਮੇਂ ‘ਤੇ ਹਲਕੇ ਰੰਗ ਵਾਲਾ ਸਲਵਾਰ ਸੂਟ ਜਾਂ ਸਧਾਰਨ ਜਿਹਾ ਲਹਿੰਗਾ ਪਹਿਨਣਾ ਹੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵਧੀਆ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਨੀਲੇ, ਪੀਲੇ ਜਾਂ ਗੁਲਾਬੀ ਰੰਗ ਦੇ ਵਧੀਆ ਸੀਤੇ ਹੋਏ ਅਤੇ ਫਿਟਿੰਗ ਵਾਲਾ ਸਲਵਾਰ ਸੂਟ ਨਾਲ ਵਿੱਚ ਜੂੜਾ ਜਾਂ ਟਾੱਪ ਪਿਨ ਹੇਅਰ ਸਟਾਇਲ ਤੁਹਾਡੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਨੂੰ ਚਾਰ-ਚੰਨ ਲਗਾਏਗਾ। ਅੰਤ ਵਿੱਚ, ਆਪਣੇ ਸਟਾਇਲ ਨੂੰ ਪੂਰਾ ਕਰਨ ਲਈ ਆਰਾਮਦਾਇਕ ਅਤੇ ਫੈਸ਼ਨੇਬਲ ਚੱਪਲ/ਸੈਂਡਲ ਪਹਿਨੇ ਜਾ ਸਕਦੇ ਹਨ। ਇਸ ਸਟਾਇਲ ਦੇ ਨਾਲ ਤੁਸੀਂ ਚੂੜਾ ਵੀ ਪਹਿਨ ਸਕਦੇ ਹੋ, ਜੋ ਕਿ ਰੰਗ-ਬਰੰਗੀ ‘ਤੇ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਲਾਲ ਅਤੇ ਸਫੇਦ ਰੰਗ ਦੀਆਂ ਚੂੜੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਜਿਹਨਾਂ ਦੀ ਖਨਕ ਤੁਹਾਨੂੰ ਨਵੀਂ-ਨਵੇਲੀ ਦੁਲਹਣ ਹੋਣ ਦਾ ਅਹਿਸਾਸ ਦਿਲਾਉਂਦੀ ਰਹੇਗੀ। ਅਜਿਹਾ ਕਰਨ ਦੀ ਬਜਾਏ ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਆਧੁਨਿਕ ਅਤੇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਸਟਾਇਲ ਨੂੰ ਅਪਣਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਹੀਰਿਆਂ ਨਾਲ ਜੜਿਤ ਚੂੜੀਆਂ ਅਤੇ ਨਾਲ ਹੀ ਹੀਰੇ ਦੇ ਝੁਮਕੇ ਪਹਿਨੋ ਅਤ ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਨਿਊਡ ਮੇਕਅਪ ਕਰੋ। ਸ਼ਾਮ ਲਈ ਸਟਾਇਲ ਇਹ ਉਹੀ ਸਮਾਂ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਜਦੋਂ ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੇ ਵਿਆਹ ਦਾ ਜੋੜਾ ਪਹਿਨ ਕੇ ਸਭ ਤੋਂ ਸੁੰਦਰ ਦਿਖਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ; ਇਸ ਅਵਸਰ ‘ਤੇ ਤੁਸੀਂ ਮੀਨਾਕਾਰੀ ਜਾਂ ਪਰੰਪਰਿਕ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਬਣਾਈ ਗਈ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨੋ। ਮਾਣਿਕ ਅਤੇ ਮੋਤੀਆਂ ਵਾਲੇ ਹਸਲੀ ਨੈਕਲੈਸ ਦੇ ਨਾਲ ਲਟਕਣ ਝੁਮਕੇ ਪਹਿਨੋ। ਲਾਲ ਅਤੇ ਸੁਨਿਹਰੀ ਰੰਗ ਵਾਲੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਲਹਿੰਗੇ ਜਾਂ ਸਾੜੀ ਦੇ ਨਾਲ ਜੜਾਊ ਜਾਂ ਸ਼ੈਂਪੇਨ ਸਟੋਨ ਨੈਕਲੇਸ ਦੀ ਜੁਗਲਬੰਦੀ ਆਪਣਾ ਕਮਾਲ ਦਿਖਾਏਗੀ ਅਤੇ ਤੁਹਾਡੇ ਸਟਾਇਲ ਨੂੰ ਨਿਖਾਰੇਗੀ। ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਛੱਤ ‘ਤੇ ਆਪਣੇ ਦੋਸਤਾਂ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਨਾਲ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਮਨਾਉਣ ਦੀ ਸੋਚ ਰਹੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਟਾੱਪ ਨਾੱਟ ਹੇਅਰਸਟਾਇਲ ਚੁਣੋ। ਸਲੀਵਲੈਸ ਜਾਂ ਸਟ੍ਰੈਪ ਲੱਗੀ ਚੋਲੀ ਦੇ ਨਾਲ ਜ਼ਰਦੋਜ਼ੀ ਵਰਕ ਵਾਲੀ ਸਾੜੀ ਜਾਂ ਘੱਗਰਾ ਪਹਿਨੋ। ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਹੀ ਝੂਮਰ ਸਟਾਇਲ ਵਾਲੀਆਂ ਹੀਰੇ ਦੇ ਕੰਨਾਂ ਦੀਆਂ ਬਾਲੀਆਂ, ਪਤਲਾ ਜਿਹਾ ਨੈਕਪੀਸ, ਛੇ ਤੋਂ ਅੱਠ ਚੂੜੀਆਂ ਅਤੇ ਵਾਲਾਂ ਵਿੱਚ ਫੁੱਲ ਤੁਹਾਡੇ ਸਟਾਇਲ ਨੂੰ ਨਿਖਾਰ ਦੇਣਗੇ। ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਦੇ ਆਗਮਨ ਦੇ ਨਾਲ ਹੀ ਸਰਦੀ ਦੇ ਮੌਸਮ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਹੋ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹੀ ਕਾਰਨ ਹੈ ਕਿ ਤੁਹਾਨੂੰ ਭਾਰੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨਣ ਤੋਂ ਕਤਰਾਉਣ ਦੀ ਲੋੜ ਨਹੀਂ ਹੈ। ਹਾਲਾਂਕਿ, ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਕਿਸੇ ਇੱਕ ਜਵੈਲਰੀ ਨੂੰ ਆਕਰਸ਼ਣ ਦਾ ਕੇਂਦਰ ਬਣਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਵੱਲੋਂ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦਾ ਮਾਂਗ ਟਿੱਕਾ ਇੱਕ ਚੰਗਾ ਵਿਕਲਪ ਰਹੇਗਾ। ਹਰ ਪੀਸ ਕੁਝ ਬਿਆਨ ਕਰਦਾ ਹੈ। ਹਰ ਪੀਸ ‘ਤੇ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਬਾਰੀਕ ਕੰਮ, ਬਿਹਤਰੀਨ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਅਤੇ ਰਤਨਾਂ ਦੀ ਚੋਣ ਤੁਹਾਨੂੰ ਉਸ ਸੁੰਦਰ ਰਾਣੀ ਵਰਗਾ ਅਹਿਸਾਸ ਦਿਲਾਏਗੀ ਜਿਸ ਨੇ ਕਰੋਰਾ ਤੋਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਦੇ ਹੋਏ ਹਰ ਦਿਨ 365 ਦਿਨ ਇੱਕ ਸੂਈ ਬਾਹਰ ਨਿਕਾਲਦੇ ਹੋਏ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਨੂੰ ਜੀਵਿਤ ਕੀਤਾ ਅਤੇ ਇਸ ਸੁੰਦਰ ਪਰੰਪਰਾ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤੀ ਕੀਤੀ ਜਿਸ ਨੂੰ ਅੱਜ ਤੱਕ ਧੂਮ-ਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਸ਼ਿਕਾਰਪੁਰੀ ਨੱਥ ਖਰੀਦੋ, ਜੋ ਕਿ ਨੱਕ ਵਿੱਚ ਪਹਿਨੇ ਜਾਣ ਵਾਲੀ ਵੱਡੀ ਜਿਹੀ ਬਾਲੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਜਿਸਦੇ ਨਾਲ ਨੱਥ ਦੀ ਚੇਨ ‘ਤੇ ਇੱਕ ਛੋਟਾ ਜਿਹਾ ਪੈਂਡੇਂਟ ਲੱਗਿਆ ਹੋਇਆ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਸ਼ਿਕਾਰੀ ਨੱਥ ਦਿਖਣ ਵਿੱਚ ਸੁੰਦਰ ਅਤੇ ਨਾਜ਼ੁਕ ਹੁੰਦੀ ਹੈ ਅਤੇ ਹੋਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਜਵੈਲਰੀ ਤੋਂ ਵੱਧ ਆਕਰਸ਼ਕ ਦਿਖਾਈ ਦਿੰਦੀ ਹੈ। ਹਾਲਾਂਕਿ ਇਸਦਾ ਲੌਂਗ ਛੋਟਾ ਜਿਹਾ ਗੁਲਮੇਖ ਜਾਂ ਨੋਜ਼ ਪਿਨ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਬਹੁਤ ਤੜਕ-ਭੜਕ ਨਹੀਂ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸਨੂੰ ਅਜ਼ਮਾਇਆ ਜਾਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਸਟਾਇਲ ਜਾਂ ਫਿਰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਸਟਾਇਲ ਦੇ ਨਾਲ ਚੋਕਰ ਸਭ ਤੋਂ ਚੰਗਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ, ਕਿਉਂਕਿ ਇਹ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਜਵੈਲਰੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਜਿਵੇਂ ਕਿ, ਆਪਣੀ ਉਭਰੀ ਹੋਈ ਹੰਸਲੀ ‘ਤੇ ਰਾਣੀ ਹਾਰ ਸੈਟ ਦੇ ਨਾਲ ਚੋਕਰ ‘ਤੇ ਗੌਰ ਕਰੋ। ਹਾਲਾਂਕਿ, ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਥੋੜ੍ਹਾ ਹੋਰ ਤੜਕ-ਭੜਕ ਤੋਂ ਨਹੀਂ ਘਬਰਾਉਂਦੇ, ਤਾਂ U- ਆਕਾਰ ਵਾਲਾ ਸਤਲੜਾ ਨੈਕਲੈਸ ਪਹਿਨ ਕੇ ਦੇਖੋ। ਜਵੈਲਰੀ ਦੀ ਇਹ ਜੁਗਲਬੰਦੀ ਤੁਹਾਨੂੰ ਰਾਜਸੀ ਅਤੇ ਆਲੀਸ਼ਾਨ ਬਣਾ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਚੰਨ ਦੇਖਣ ਲਈ ਸਟਾਇਲ ਕੁਝ ਤੜਕ-ਭੜਕ ਪਹਿਨੋ। ਅਜਿਹੇ ਮੌਕੇ ‘ਤੇ ਲਹਿੰਗਾ ਸਭ ਤੋਂ ਵਧੀਆ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ। ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਆਪਣਾ ਪਸੰਦੀਦਾ ਅਤੇ ਚਟਕੀਲੇ ਰੰਗ ਵਾਲਾ ਲਹਿੰਗਾ ਪਹਿਨੋ। ਜਿੱਥੇ ਤੱਕ ਮੇਕਅਪ ਦੀ ਗੱਲ ਹੈ, ਆਪਣੀਆਂ ਅੱਖਾਂ ‘ਤੇ ਜ਼ਿਆਦਾ ਧਿਆਨ ਦਿੰਦੇ ਹੋਏ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਵੱਡਾ ਅਤੇ ਆਕਰਸ਼ਿਤ ਬਣਾਓ ਜਾਂ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਗੂੜ੍ਹੇ ਰੰਗ ਦਾ ਕਰੋ ਜਾਂ ਫਿਰ ਕੱਟ-ਕ੍ਰੀਜ਼ ਵੀ ਅਜ਼ਮਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਨਾਲ ਹੀ ਲਾਲ ਜਾਂ ਮੂੰਗੇ ਰੰਗ ਦੀ ਲਿਪਸਟਿਕ ਖੂਬ ਸਾਰੀ ਗਲਾੱਸ ਦੇ ਨਾਲ ਲਗਾਓ। ਜਿੱਥੋਂ ਤੱਕ ਗੱਲ ਜਵੈਲਰੀ ਦੀ ਹੈ, ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਵੱਲੋਂ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੀਆਂ ਬਾਲੀਆਂ ਪਹਿਨੋ। ਇਹ ਸੁੰਦਰ ਬਾਲੀਆਂ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਗੋਲ ਜਾਂ ਅਰਧ-ਚੰਦਰ ਆਕਾਰ ਦੀਆਂ ਹੁੰਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਰਤਨਾਂ ਨਾਲ ਜੜਿਤ ਹੁੰਦੀਆਂ ਹਨ। ਤੁਸੀਂ ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਅੰਗੂਠੀ ਪਹਿਨ ਸਕਦੇ ਹੋ, ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਸਗਾਈ ਦੀ ਅੰਗੂਠੀ। ਆਪਣੇ ਪਹਿਨਾਵੇ ਨੂੰ ਹੋਰ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਤੁਸੀਂ ਉਜੁਰੀ ਮੁਦਰਾ ਗੋਲਡ ਨੈਕਲੈਸ ਪਹਿਨ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਚੂੜੀਆਂ, ਮੰਗਲਸੂਤਰ, ਬਿੰਦੀ, ਸ਼ਾਦੀ ਦੀ ਅੰਗੂਠੀ ਅਤੇ ਸਾੱਲੀਟੇਅਰ ਗੁਲਮੇਖ ਤੋਂ ਬਿਨਾਂ ਕੋਈ ਵੀ ਵਿਆਹੁਤਾ ਇਸਤਰੀ ਅਧੂਰੀ ਲੱਗਦੀ ਹੈ। ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੀ ਹਰ ਜਵੈਲਰੀ ਅੱਜ ਦੀ ਹਰ ਉਸ ਨਾਰੀ ਨੂੰ ਪਸੰਦ ਆਵੇਗੀ ਜੋ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਲਈ ਕਰਵਾ ਚੌਥ ਦਾ ਵਰਤ ਰੱਖਦੀ ਹੈ। ਇਹ ਜਵੈਲਰੀ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਪਰੰਪਰਾ, ਮਰਜ਼ੀ ਨਾਲ ਚੁਣਨ ਦੇ ਅਧਿਕਾਰ ਅਤੇ ਭਾਰਤੀ ਮੁੱਲਾਂ ਪ੍ਰਤੀ ਸਨਮਾਨ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ। ਕਹਿਣਾ ਜ਼ਰੂਰੀ ਨਹੀਂ ਕਿ ਤੋਹਫੇ ਵਿੱਚ ਹੱਥ ਨਾਲ ਬਣੀ ਜਵੈਲਰੀ ਜਾਂ ਸਾੱਲੀਟੇਅਰ ਅੰਗੂਠੀ ਦੇ ਕੇ ਉਹਨਾਂ ਔਰਤਾਂ ਲਈ ਇਸ ਰਾਤ ਨੂੰ ਖਾਸ ਬਣਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ ਜੋ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਲਈ ਜਾਂ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਵਰਤ ਰੱਖਦੀਆਂ ਹਨ। ਤੁਸੀਂ ਵੀ ਅਜਿਹਾ ਹੀ ਕੋਈ ਤੋਹਫਾ ਆਪਣੀ ਪਤਨੀ ਨੂੰ ਦੇ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਚੰਨ ਦੇਖਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਜਿਵੇਂ ਹੀ ਉਹ ਤੁਹਾਨੂੰ ਦੇਖੇ, ਤਾਂ ਆਪਣਾ ਤੋਹਫਾ ਸਾਹਮਣੇ ਕਰ ਦਿਓ। ਦੋਸਤਾਂ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ, ਸੰਗੀਤ ਅਤੇ ਖਾਣ ਦੀ ਚਹਿਲ-ਪਹਿਲ ਵਿੱਚ, ਬਿਨਾਂ ਇੱਕ ਦੂਜੇ ਨੂੰ ਕਹੇ, ਇਸ਼ਾਰਿਆਂ ਵਿੱਚ ਹੀ ਇਹ ਪਲ ਹਮੇਸ਼ਾ ਲਈ ਯਾਦਗਾਰ ਬਣ ਜਾਵੇਗਾ।
Publisher: Kalyan Jewelers

ભાઈ બીજ - તમારા ભાઈ-બહેન પ્રત્યેના શાશ્વત પ્રેમને અભિવ્યક્ત કરવાનો દિવસ

On
ભાઈ બીજ જેવી તહેવારોની પરંપરાઓથી જ તહેવારોની સીઝનમાં મોહકતાનું તત્વ ઉમેરાય છે. આ તહેવાર સાથે જોડાયેલા પ્રસંગો તો અનેક છે. ભાઈ-બહેને તેમના બાળપણની સ્મૃતિઓના ભંડકિયામાં મીઠા ઝઘડાં, ફરિયાદો અને મોટેરાઓના હસ્તક્ષેપો, કેટલીક એવી છુપી વાતો કે જેની તેમને જ ખબર હોય, જેવી અનેક યાદોને સાચવી રાખી હોય છે અને તેમની વચ્ચેની સંપૂર્ણ સમજણ ખરેખર બિરદાવવા લાયક હોય છે. ભાઈ-બહેન જેવા કેટલાક સંબંધો ઘણાં બધાં તબક્કાઓમાંથી પસાર થાય છે પરંતુ તેમની વચ્ચેનું બંધન અતૂટ જ રહે છે. ભારતીય પરંપરાઓ આ બંધનને ભાઈ બીજ અને રક્ષાબંધન જેવા તહેવારો દ્વારા ઉજવે છે. આ દિવસના રોજ તેમની આસપાસની તમામ ચીજોને સુશોભિત કરવામાં આવે છે. ફૂલોની માળાથી શણગારેલા દ્વારો, તિલક ધરાવતી પૂજાની થાળી કે પછી પરંપરાગત મીઠા વ્યંજનો અને તેની સુગંધથી સમગ્ર ઘર તરબોળ થઈ જાય છે. ભારતીય સ્ત્રી-પુરુષો પરંપરાગત પરિધાનો અને અદભૂત ઘરેણાંઓમાં સજ્જ થઈ જાય છે. દિવાળીની ઉજવણીના બે દિવસ પછી ભાઈ બીજનો પવિત્ર તહેવાર ઉજવવામાં આવે છે. ભાઈ બીજનો દિવસ બહેનો માટે એક મહત્વનો પ્રસંગ છે, જ્યારે તે તેના લાડકા ભાઈના દીર્ઘાયુષ્ય, સુખાકારી અને સમૃદ્ધિ માટે ભગવાનને પ્રાર્થના કરે છે. આ દિવસના રોજ બહેન તેના ભાઈના કપાળે તિલક કરે છે અને ત્યારપછી સ્વાદિષ્ટ વાનગીઓથી સજાવેલી આરતીની થાળી વડે આરતી ઉતારીને આ તહેવારની ઉજવણી કરે છે. ભારતના વિવિધ હિસ્સાઓમાં પાલન કરવામાં આવતી વિવિધ પરંપરાઓ પર આધાર રાખીને આરતીની થાળીમાં કંકુ, ચોખા અને દર્ભ જેવી વિવિધ ચીજો હોય છે. ભાઈના કપાળે તિલક કરીને બહેન તેને નકારાત્મક પ્રભાવોથી બચાવે છે. પ્રેમ અને કાળજીના પ્રતીક તરીકે ભાઈ તેની બહેનને ભેટસોગાદો આપીને ખુશ કરી દે છે. ભાઈના આ પ્રેમના બદલામાં બહેન તેને સ્વાદિષ્ટ વાનગીઓ ખવડાવે છે તથા તેની પર વ્હાલ અને ભેટસોગાદોનો વરસાદ વરસાવે છે. આ પ્રકારના પ્રસંગે તમારા ભાઈ-બહેન માટે ઘરેણાં એ શ્રેષ્ઠ ભેટ ગણાય છે, કારણ કે, તે તેનું મૂલ્ય અને ચમક ક્યારેય ગુમાવતા નથી. અહીં ભેટ આ પવિત્ર બંધનની પ્રતિકાત્મક રજૂઆત બની રહે છે. જેમ-જેમ ભાઈ-બહેન મોટા થાય છે, તેમ-તેમ તેની સુંદરતા પણ વધુ ખીલે છે. સોનાથી માંડીને હીરાની વીંટી સુધી, હાથથી ઘડેલા હેરિટેજ નેકલેસથી માંડીને સમકાલીન દાગીના સુધી, ઘરેણાં એ તમારા ભાઈ-બહેનને આપવામાં આવતી ઉત્કૃષ્ટ ભેટ છે. અન્ય તમામ ભારતીય તહેવારોની જેમ જ, ભાઈ બીજનો તહેવાર પણ ભારતના અલગ-અલગ હિસ્સાઓમાં અલગ-અલગ રીતે ઉજવવામાં આવે છે. જોકે, આ તહેવારની મૂળ ભાવના અને રિતરીવાજો એકસમાન માન્યતા અને પરંપરાઓની જ શાખાઓ છે. ભાઈ બીજના નામો પણ અલગ-અલગ છે, જેમ કે, પશ્ચિમ બંગાળમાં તેનું નામ ‘ભાઈ ફોટા’ છે, મહારાષ્ટ્રમાં ‘ભાઉ બીજ’, નેપાળમાં ‘ભાઈ ટિકા’ અને ભારતના અન્ય કેટલાક હિસ્સાઓમાં તે ‘યમ દ્વિતીયા’ તરીકે ઓળખાય છે. આ પવિત્ર દિવસની ઉત્પત્તિને દર્શાવનારી કેટલીક પૌરાણિક દંતકથાઓ પણ છે. આ દંતકથાઓ મુજબ, ભગવાન શ્રી કૃષ્ણે રાક્ષસ નરકાસુરને હરાવ્યો હતો. લાંબો સમય ચાલેલા યુદ્ધને જીત્યાં બાદ ભગવાન શ્રી કૃષ્ણે તેમની બહેન સુભદ્રાની મુલાકાત લીધી, જેઓ ભાઈને જોઇને આનંદિત થઈ ઉઠ્યાં. સુભદ્રાએ ભાઇના કપાળે તિલક કર્યો અને તેમનું ભાવભીનું સ્વાગત કર્યું. તેમણે ફૂલો અને મીઠાઇઓથી ભગવાન શ્રી કૃષ્ણને આવકાર્યા. એમ કહેવામાં આવે છે કે, ‘ભાઈ બીજ’ના તહેવારનું મૂળ આ ઘટનામાં રહેલું છે. અન્ય એક દંતકથા મૃત્યુના દેવ યમરાજ અને તેમની બહેન યમુનાની આસપાસ સંકળાયેલી છે. આ દંતકથા મુજબ, યમરાજ નવા મહિનાના બીજા દિવસે એટલે કે બીજના રોજ તેમની પ્રિય બહેન યમુનાને મળવા ગયાં. યમુનાએ ભાઈ યમનું સ્વાગત આરતી, તિલક અને મીઠાઇઓથી કર્યું. યમરાજ તેમની બહેનના સ્વાગતથી ગદગદ થઈ ગયાં અને તેમણે આશીર્વાદ આપ્યો કે, જો આ દિવસના રોજ ભાઈ અને બહેન યમુના નદીમાં ડુબકી લગાવશે તો, તેમને મોક્ષ પ્રાપ્ત થઈ જશે. પશ્ચિમ બંગાળમાં આ તહેવાર ‘ભાઈ ફોટા’ તરીકે જાણીતો છે, જેમાં બહેન આખો દિવસ ઉપવાસ રાખે છે અને તેના ભાઈના આગમનની રાહ જુએ છે. ત્યારબાદ, તે ભાઇના કપાળે ઘી, મેશ અને ચંદન એમ ત્રણ ચીજો વડે તિલક કરે છે અને તેની આરતી ઉતારે છે. આરતી ઉતાર્યા બાદ બહેનો તેમના ભાઇઓ માટે ભગવાનને પ્રાર્થના કરે છે અને બંને ભેટસોગાદોની આપ-લે કરે છે. પરંપરાગત મીઠાઇઓ અને વ્યંજનોની ભવ્ય મિજબાનીની સાથે આ ઉજવણીનું સમાપન થાય છે. તો મહારાષ્ટ્રમાં ભાઈ બીજનો તહેવાર ‘ભાઉ દૂજ’ તરીકે ઉજવાય છે. પરંપરા મુજબ, ભાઈ બહેન દ્વારા દોરવામાં આવેલા ચોરસની અંદર બેસે છે. ભારતના કેટલાક હિસ્સાઓમાં આ તહેવાર ‘યમ દ્વિતિયા’ તરીકે ઓળખાય છે. એક દંતકથા મુજબ, યમ દ્વિતિયાના રોજ જે ભાઈ તેના બહેનના હાથે બનાવેલું ભોજન ખાય છે, તેને ભગવાન યમ નુકસાન પહોંચાડતા નથી. બિહારમાં ભાઈ બીજનો તહેવાર ગોધણ પૂજા તરીકે જાણીતો છે. આ પ્રેમાળ સંબંધને સ્થાપિત કરવા માટે ભેટસોગાદો ખૂબ જ જરૂરી બની રહે છે. મોટાભાગના સંબંધો અનોખા હોય છે પરંતુ એ વાત તો નિર્વિવાદ છે કે ભેટસોગાદો આ બંધનને વધુ મજબૂત બનાવે છે. કલ્યાણ જ્વેલર્સના દાગીના પહેરીને તમારી બહેનની સુંદરતા દીપી ઉઠશે હીરાના દાગીના કલાત્મક, ભવ્ય હોય છે અને તેની સ્ટાઇલ ક્યારેય જશે નહીં. હીરાના ઝુમખાં ઉત્કૃષ્ટ સુંદરતાની અભિવ્યક્તિ છે. જો આપની બહેનને સાદા છતાં ભવ્ય દાગીના પસંદ હોય તો અમે તમને જટિલ ડીઝાઇનનું પેન્ડેન્ટ ધરાવતી પ્લેટિનમની ચેઇન અથવા વ્હાઇટ ગોલ્ડમાં સેટ કરવામાં આવેલ ડાયમંડ સ્ટડ ખરીદવાનું સૂચવીએ છીએ. તે દરેક પ્રસંગ માટે યોગ્ય રહે છે અને આ પ્રકારની ઉજવણી માટે આદર્શ ભેટ ગણાય છે. રોજિંદા ડાયમંડ સેક્શન કે ઑફિસ કલેક્શનનો નાજુક છતાં સૌનું ધ્યાન ખેંચવાની ક્ષમતા ધરાવતો હીરાનો હાર તેમના ગળામાં દીપી ઉઠશે અને તેમના વ્યક્તિત્વને ચાર ચાંદ લગાવી દેશે. તે કામમાં વ્યસ્ત હોય કે બ્રાન્ચ પર તેના મિત્રોને મળી રહી હોય, તમારા દ્વારા આપવામાં આવેલી આ મૂલ્યવાન ભેટ તેની સુંદરતાને કાયમ નિખારતી રહેશે. જો તમારી બહેનને ચૂડીઓ પસંદ હોય તો, તમે આધુનિકથી માંડીને હાથથી જીણવટપૂર્વક ઘડવામાં આવેલ પરંપરાગત ચૂડીઓના વ્યાપક વિકલ્પોમાંથી પસંદગી કરી શકો છો. તે આબેહૂબ વાદળી રંગના રત્ન કે માણેકથી સુશોભિત હીરાનું ઉમદા બ્રેસલેટ હોઈ શકે અથવા ભદ્ર વર્ગની ફેશનને પૂરક બની રહેનારા સોનાના પાતળા બ્રેસલેટ્સ પણ હોઈ શકે છે. સોનાના મજબૂત દાગીના અવાંત-ગ્રેડના લાગી શકે છે. આધુનિક યુગની સ્ત્રીઓ માટે આકર્ષક અને પ્રયોગાત્મક ડીઝાઇનને શોધો. તે ઉન્મુક્ત, નિર્ભિક છે અને અજાણી બાબતોને જાણવી તેને ગમે છે. અલંકૃત રૂપાંકનો, સિલ્વર બેઝ અને રોઝ ગોલ્ડથી તેનો ઘરેણાંના સંગ્રહ દીપી ઉઠશે. જો તેને પરંપરાગત દાગીના ગમતાં હોય તો, કલ્યાણ જ્વેલર્સના હેન્ડક્રાફ્ટેડ કલેક્શનમાંથી એક વિશિષ્ટ દાગીનાને પસંદ કરો. સુંદર રીતે ઘડવામાં આવેલી બુટ્ટીઓ, વીંટીઓ અને હાર જોઇને તે નિઃશંકપણે આનંદિત થઈ ઉઠશે. તમારા ભાઇને ગમે તેવા ઘરેણાં કલ્યાણ જ્વેલર્સના મેન્સ કલેક્શનમાં રહેલાં વિશિષ્ટ, વિચારપૂર્વક તૈયાર કરવામાં આવેલ ભેટસોગાદોના અમારા વર્ગીકરણમાં વૈભવી એસેસરીઝ અને કુશળતાપૂર્વક ઘડવામાં આવેલ જ્વેલરીનો સમાવેશ થાય છે. હાલમાં દાગીના પહેરવાનું ચલણ છે. સમકાલીન પુરુષને અભિજાત્યપણુ, સાદાઈ અને ઐશ્વર્ય ગમે છે. અમારું આ કલેક્શન કોઇપણ સૌંદર્યને પૂરક બની રહે તેવા હીરાના ઉત્કૃષ્ટ દાગીનાની વ્યાપક વૈવિધ્યતા ધરાવે છે. પુરુષો માટે હીરાના દાગીના અને અત્યંત આકર્ષક રચના ધરાવતી સોનાની વીંટી એક આદર્શ ભેટ બની રહે છે. ક્લાસિક સોનાની ચેઇન સદાબહાર હોય છે અને તે કોઇપણ પ્રસંગને અનુરૂપ બની રહે છે. ગૂંથેલા, બે અલગ-અલગ રંગના આઇકોનિક બ્રેસલેટ્સ પર સૌની નજર ખેંચાશે તેની ગેરેન્ટી છે, જે ખૂબ જ આકર્ષક લાગે છે. અલંકૃત રૂપાંકનો ધરાવતી કાળા ગોમેદની વીંટી એ સોના અને અદભૂત કાળા ગોમેદનું ઉત્તમ સંયોજન છે. ક્લાસિક ડીઝાઇનના આકર્ષક અને વિશિષ્ટ પ્રકારના દાગીના કોઇપણ પુરુષના ક્લોઝેટમાં હોવા જ જોઇએ. શ્રેષ્ઠતાનો આગ્રહ રાખનારા ભાઈને સોનું અત્યંત શુદ્ધ સ્વરૂપમાં આપવું હોય તો 24 કેરેટનો સોનાનો સિક્કો શ્રેષ્ઠ ગણાશે. કુર્તાના બટનો ભવ્ય મેન્સવૅરના પર્યાયવાચી છે. સોનામાં જડવામાં આવેલા હીરા, વૈભવની સૌમ્યતા પૂરી પાડીને તેમના કુર્તાને પર્ફેક્ટ બનાવે છે. અથવા તો હીરાના ભપકાદાર કફલિંક્સ તેમના ક્લાસી સૂટ કે ટક્સીડોઝને આકર્ષક બનાવી દેશે. ભાઈ બીજનો તહેવાર સમગ્ર દેશમાં મુક્ત મન અને અત્યંત ઉલ્લાસપૂર્વક ઉજવવામાં આવે છે. આ પવિત્ર તહેવારના નામ અને તેની સાથે સંકળાયેલા રિતરીવાજોમાં થોડો ઘણો તફાવત હોઈ શકે છે પરંતુ ભાઈ બીજની ભાવના તો સમગ્ર દેશમાં એક જ છે, જે ભાઈ અને બહેન વચ્ચેના અતૂટ બંધનને સૂચવે છે. રિતરીવાજો ભલે અલગ-અલગ હોય સ્વાદિષ્ઠ મીઠાઇઓ માણવાની અને અદભૂત ભેટસોગાદો આપવાની પરંપરા તો સાર્વત્રિક જ રહે છે. ભેટસોગદો મેળવવાનું કોને ના ગમે, વળી, ભેટસોગાદો આપવાની આત્મ-સંતુષ્ટી પણ અલગ જ આનંદ આપે છે. કોઇપણ વ્યક્તિ ક્યારેય આ લાગણીની માત્રાને નિર્ધારિત કરી શકે તેમ નથી. સુંદર મજાના લાલ-પીળા કાગળોમાં પૅક કરેલી ભેટને ખોલવાનો આનંદ ક્ષણીક છે, જ્યારે ભેટ આપવાનો આનંદ તો શાશ્વત હોય છે. ભેટસોગાદો આપવી એ સરાહના અને હૂંફની રજૂઆત છે, જે તમારી લાગણીઓને અભિવ્યક્ત કરવા માટે પૂરતી છે. ભાઈ-બહેન વચ્ચેનું જોડાણ વિશિષ્ટ પ્રકારનું હોય છે, એકબીજાને સહાયરૂપ થવાથી માંડીને એકબીજાના તોફાનો પર ઢાંકપિછોડો કરવા સુધી. આથી જ, તમારા ભાઈ-બહેનને આપવામાં આવતી ભેટ તેમની સાથેના તમારા શાશ્વત બંધન જેટલી જ નૈસર્ગિક હોવી જોઇએ.
Publisher: Kalyan Jewelers

इस करवा चौथ कल्याण ज्वेलर्स के संकल्प कलेक्शन के साथ फिर से मजबूत करें अपना बंधन

On
करवा चौथ को साल का सबसे रोमांटिक समय कहा जा सकता है! किताबों और फ़िल्मों में खूब धूम-धाम से मनाया जाने वाला करवा चौथ वो जादुई दिन है जब विवाहित महिलाएं अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए पूरा दिन उपवास रखती हैं और पूजा करती हैं। वैवाहिक संबंध की सुंदरता को बयान नहीं किया जा सकता, और विवाहित जोड़े के लिए हर दिन अनूठा एहसास दिलाता है। पारंपरिक रूप से, अलग-अलग क्षेत्रों में वैवाहिक बंधन से जुड़े कई त्योहार और रीति-रिवाज़ मनाए जाते हैं। हालांकि, करवा चौथ एक ऐसा त्योहार है जिसे सालों से अलग-अलग समुदाय के लोग मनाते आ रहे हैं। ये त्योहार है प्यार और अटूट बंधन का एक प्रतीक जिसे अविवाहित जोड़े भी अपने-अपने मंगेतरों के लिए उपवास रख कर प्यार से मनाते हैं और हमेशा साथ रहने की कामना करते हैं। करवा चौथ का त्योहार इस कारण से भी विशेष है कि इस दिन कई पति अपनी पत्नियों के स्वास्थ्य के लिए कामना करते हुए उपवास रखते हैं। इस त्योहार को सास और पत्नी व पत्नी और उनकी माँ के बीच के बंधन को मजबूती देने के लिए भी जाना जाता है। करवा चौथ वाले दिन सास अपनी बहू को सरगी देती है, एक ऐसा खाना जिसे सूरज निकलने से पहले खाया जाता है और जिसमें फल, सब्जियां और चपाती शामिल की जाती है। दूसरी ओर, पत्नी की माँ तोहफ़े भेजती है, जिसमें ज्वेलरी, कपड़े या भोजन या कोई भी अन्य चीज़ शामिल हो सकती है। इस अवसर पर खूब प्यार और अपनापन न्योछावर किया जाता है और परिवारों को एक दूसरे के करीब लाता है। करवा चौथ वाले दिन महिलाएं सुंदर वेशभूषाएं पहनती हैं, अपने हाथों पर मेहंदी लगाती हैं और शानदार ज्वेलरी पहन कर चाँद के दिखने का इंतज़ार करती हैं। लोक कथाओं के अनुसार करवा चौथ का संबंध रानी वीरवती से है। इस कहानी में प्यार है और इंतज़ार है जिस कारण से इस रिवाज़ में प्यार और उदासी की भावना छिपी हुई है। रानी वीरवती सात स्नेहशील और प्यार करने वाले भाइयों की इकलौती बहन थी। विवाहित स्त्री के रूप में रानी ने अपना पहला करवा चौथ अपने मायके में मनाया था। उनके भाइयों ने देखा कि रानी चाँद का बेसब्री से इंतज़ार कर रही थी जिससे कि वे अपना उपवास तोड़ पाएं। रानी को भूख और प्यास से तड़पता देख उनके भाइयों को एक शरारत सूझी जिससे कि रानी अपना उपवास तोड़ दे। उन्होंने पीपल के पेड़ पर एक शीशा लटका दिया जिससे रानी को लगे कि चाँद निकल आया है और वे अपना उपवास तोड़ दें। लेकिन जैसे ही उन्होंने ऐसा किया, खबर आई कि उनके पति यानी कि राजा की मृत्यु हो गई है। सारी रात वीरवती रोती रही। उनका दर्द और क्षति देख एक देवी प्रकट हुई जिसने उन्हें कहा कि अगर रानी अगले दिन पूरे समर्पण से उपवास रखे तो मृत्यु के देवता, यमराज को मजबूरी में उनके पति के प्राण लौटाने पड़ेंगे। रानी ने देवी की बात मानी और ऐसा ही किया जिसके बाद उनके पति जीवित हो उठे। इस प्यारी सी कहानी के अलग-अलग संस्करण मौजूद हैं जिनमें प्यार और दैवीय सहायता का गुणगान किया जाता है। हर कहानी में आत्माओं के मिलन और मृत्यु के ऊपर विजय की बात दोहराई गई है। हर अवसर को ख़ास बनाने के लिए तीन स्टाइल इस प्रकार से हैं। सुबह की सरगी से शुरू करते हुए पानी साथ में रखने और अंत में उस पल का इंतज़ार करने तक जब चांद आसमान में निकल कर आता है। हर अवसर के लिए आप दिखनी चाहिए बेहतरीन। सुबह के लिए स्टाइल किसी भी करवा चौथ का मुख्य आकर्षण ज्वेलरी होती है। ये दिन सादी या कम ज्वेलरी पहनने का नहीं होता है। सुबह के समय पाजेब या पायल को पहना जा सकता है, जिसे कि रोमांटिक और शरारतपूर्ण ज्वेलरी माना जाता है और जिसे पैरों में पहनते हैं। पाजेब की आवाज़ सभी का ध्यान आपकी ओर आकर्षित करेगी और वो देखेंगे कि आप कितनी सुंदर दिखती हैं। इस दिन रत्न जड़ित सोने की या कुंदन की पाजेब को पहना जा सकता है। इसके साथ पेंडेंट वाला सोने का नेकलेस और मोतियों और नीलम वाली कानों की बालियां पहनी जा सकती हैं जो कि आपके गोरे रंग के साथ खूब जंचेगी। इस जुगलबंदी की अपनी अलग शान है। आमतौर पर ऐसे समय पर हल्के रंग वाला सलवार सूट या साधारण सा लहंगा पहनना ही सबसे बढ़िया होता है। नीले, पीले या गुलाबी रंग का बढ़िया सिला हुआ और फिटिंग वाला सलवार सूट साथ में जूड़ा या टॉप नॉट हेयरस्टाइल आपकी सुंदरता को चार-चांद लगाएगा। अंत में, अपने स्टाइल को पूरा करने के लिए आरामदायक और फ़ैशनेबल चप्पल/सैंडल पहनी जा सकती है। इस स्टाइल के साथ आप चूड़ा भी पहन सकती हैं, जो कि रंग-बिरंगी पर आमतौर पर लाल और सफ़ेद रंग की चूड़ियां होती हैं और जिनकी खनक आपको नई-नवेली दुल्हन होने का एहसास दिलाती रहेगी। ऐसा करने के बजाय अगर आप आधुनिक और पारंपरिक स्टाइल को अपनाना चाहती हैं, तो हीरों से जड़ित चूड़ियां और साथ ही हीरे के झुमके पहनें और इसके साथ न्यूड मेकअप करें। शाम के लिए स्टाइल यही वो समय होता है जब आप अपने शादी का जोड़ा पहन कर सबसे सुंदर दिखना चाहती हैं; इस अवसर पर आप मीनाकारी या पारंपरिक रूप से हाथों से बनाई गई ज्वेलरी पहनें। माणिक और मोतियों वाले हसली नेकलेस के साथ लटकन झुमके पहनें। लाल और सुनहरे रंग वाले शानदार लहंगे या साड़ी के साथ जड़ाऊ या शैंपेन स्टोन नेकलेस की जुगलबंदी अपना कमाल दिखाएगी और आपके स्टाइल को निखारेगी। अगर आप छत पर अपने दोस्तों और परिवार के साथ करवा चौथ मनाने की सोच रही हैं, तो हमारा सुझाव है कि आप टॉप नॉट हेयरस्टाइल चुनें। स्लीवलेस या स्ट्रैप लगी चोली के साथ जरदोज़ी वर्क वाली साड़ी या घाघरा पहनें। इसके साथ ही झूमर स्टाइल वाली हीरे की कानों की बालियां, पतला सा नेकपीस, छह से आठ चूड़ियां और बालों में फूल आपके स्टाइल को निखार देंगे। करवा चौथ के आगमन के साथ ही सर्दी के मौसम की शुरुआत हो जाती है और यही कारण है कि आपको भारी ज्वेलरी पहनने से कतराने की ज़रूरत नहीं है। हालांकि, अगर आप किसी एक ज्वेलरी को आकर्षण का केंद्र बनाना चाहती हैं, तो कल्याण ज्वेलर्स की ओर से संकल्प कलेक्शन का मांग टीका एक अच्छा विकल्प रहेगा। हर पीस कुछ बयान करता है। हर पीस पर किया गया बारीक काम, बेहतरीन डिज़ाइन और रत्नों का चयन आपको उस सुंदर रानी जैसा एहसास दिलाएगा जिसने करोरा से शुरू करते हुए हर दिन 365 दिन एक सुई बाहर निकालते हुए अपने पति को जीवित किया और इस सुंदर परंपरा की शुरुआत की जिसे आज तक धूम-धाम से मनाया जाता है। शिकारपुरी नथ ख़रीदें, जो कि नाक में पहने जाने वाली बड़ी सी बाली होती है और जिसके साथ नथ की चेन पर एक छोटा सा पेंडेंट लगा हुआ होता है। शिकारी नथ दिखने में सुंदर और नाज़ुक होती है और अन्य किसी भी ज्वेलरी से ज़्यादा आकर्षक दिखाई देती है। हालांकि इसका लौंग छोटा सा गुलमेख या नोज़ पिन होता है और अगर आप बहुत तड़क-भड़क नहीं चाहती हैं, तो इसे आज़माया जाना चाहिए। इस स्टाइल या फिर किसी भी स्टाइल के साथ चोकर सबसे अच्छा लगता है, क्योंकि ये बहुत ही शानदार ज्वेलरी होती है। जैसे कि, अपनी उभरी हुई हंसली पर रानी हार सेट के साथ चोकर पर गौर करें। हालांकि, अगर आप थोड़ा और तड़क-भड़क से नहीं घबराती हैं, तो U-आकार वाला सतलड़ा नेकलेस पहन कर देखें। ज्वेलरी की ये जुगलबंदी आपको राजसी और आलीशान बना सकती है। चांद देखने के लिए स्टाइल कुछ तड़क-भड़क पहनें। ऐसे अवसर पर लहंगा सबसे बढ़िया रहता है। हमारा सुझाव है कि आप अपना पसंदीदा और चटकीले रंग वाला लहंगा पहनें। जहां तक मेकअप की बात है, अपनी आंखों पर ज़्यादा ध्यान देते हुए उन्हें बड़ा और आकर्षित बनाएं या उन्हें गहरे रंग का करें या फिर कट-क्रीज़ भी आज़माया जा सकता है। साथ में लाल या मूंगा रंग की लिपस्टिक खूब सारी ग्लॉस के साथ लगाएं। जहां तक बात ज्वेलरी की है, हमारा सुझाव है कि आप कल्याण ज्वेलर्स की ओर से संकल्प कलेक्शन की बालियां पहनें। ये सुंदर बालियां आमतौर पर गोल या अर्ध-चंद्राकार होती हैं और रत्नों से जड़ित होती हैं। आप इसके साथ अंगूठी पहन सकती हैं, जैसे कि सगाई की अंगूठी। अपने पहनावे को और शानदार बनाने के लिए आप उजुरी मुद्रा गोल्ड नेकलेस पहन सकती हैं। चूड़ियों, मंगलसूत्र, बिंदी, शादी की अंगूठी और सॉलिटेयर गुलमेख के बिना कोई भी विवाहित स्त्री अधूरी लगती है। संकल्प कलेक्शन की हर ज्वेलरी आज की हर उस नारी को पसंद आएगी जो अपने पति के लिए करवा चौथ का उपवास रखती है। यह ज्वेलरी कलेक्शन परंपरा, मर्जी से चुनने के अधिकार और भारतीय मूल्यों के प्रति सम्मान का प्रतीक है। कहना ज़रूरी नहीं कि तोहफे में हाथ से बनी ज्वेलरी या सॉलिटेयर अंगूठी देकर उन महिलाओं के लिए इस रात को ख़ास बनाया जा सकता है जो अपने पतियों के लिए या उनके साथ उपवास रखती हैं। आप भी ऐसा ही कोई तोहफा अपनी पत्नी को दे सकते हैं। चांद देखने के बाद जैसे ही वो आपको देखें, अपना तोहफा सामने कर दें। दोस्तों और परिवार के बीच, संगीत और खाने की चहल-पहल में, बिना एक दूसरे को कुछ कहे, इशारों में ही ये पल हमेशा के लिए यादगार बन जाएगा।
Publisher: Kalyan Jewelers

கல்யாண் நகை மாளிகையின் வேதா அணிவகுப்புடன் தீபாவளி

On
கொண்டாட்டங்களில் புதுமையை புகுத்துவோம் வாருங்கள்.தீபத்திருவிழா தீபாவளியன்று கோலங்களால் வீட்டை அலங்கரித்து, மகிழ்ச்சியுடன் புத்தாடைகளை அணிந்து தோரணையாக தோன்றுவதை அனைவரும் ஆவலுடன் எதிர்நோக்குகிறோம். ஏனெனில் தீபாவளி தன்னுடன் தோழமை, செல்வம் மற்றும் ஈடு இணையற்ற மகிழ்ச்சியை கொண்டு வருகிறது. இது மிகவும் ஆடம்பரமாக கொண்டாடப்படும் ஒரு பண்டிகை. ஆனால், பண்டிகை தீபங்களைப் போலவே உங்கள் அலங்காரத்துக்கு மேலும் மெருகூட்டும் ஒரு விஷயம் இருக்குமென்றால் அது நகைகள் மட்டுமே. தன்தேரஸ் தீபாவளிக்கான பண்டிகை சூழலை உருவாக்குகிறது. ஐந்து நாள் தீபாவளி பண்டிகையின் முதல் நாள் தன்தேரஸ் அன்று பொருட்கள் வாங்குவது அதிர்ஷ்டம் மற்றும் செல்வ செழிப்பை பெறுவதற்கான கதவைத் திறக்கிறது. நகைகளை சேர்ப்பது, ஒரு வசதியான வருங்காலத்துக்கான குலதனத்தை உருவாக்கி, பின்னர் அதை உருவாக்கிய தனித்துவ கதைகளில் மூழ்கி மகிழ்வதற்கான ஒரு வாய்ப்பாக பொதுவாக கருதப்படுகிறது. மேலும் இது நமது எதிர்கால பாதுகாப்புக்கான ஒரு சிறந்த ஆதாரமாகவும் இருக்கும். ஆனால், அனைத்துக்கும் மேல், கலையுணர்வுடன் கூடிய ஈடு இணையற்ற அழகு இந்த நகைகளுடன் பின்னிப் பிணைந்துள்ளது. தீபாவளி பண்டிகை இந்தியா முழுவதும் கொண்டாடப்படுகிறது. தீபத்திருநாளை கொண்டாடுவதற்கான சடங்குகள் ஒவ்வொரு பிராந்தியத்திலும் வித்தியாசமாக இருக்கலாம். ஆனால் அது வழங்கும் மகிழ்ச்சியோ பொதுவானது. இவ்வாறாக, தீபாவளிக் காய்ச்சல் இந்தியா முழுவதும் பரவுகிறது. தீபத்திருநாளாம் தீபாவளி, நமது மனச்சோர்வு மற்றும் மனதில் சூழ்ந்திருக்கும் இருளை வாழ்விலிருந்து நீக்கும் ஒரு அடையாளமாக உணரப்படுகிறது. உண்மையில் அனைத்து இந்திய பாரம்பரியங்களிலுமே தீபாவளி முக்கியமான பண்டிகையாக கருதப்படுகிறது. அனைவரும் கொண்டாடும் இந்த பண்டிகையை, அனைத்தையும் உள்ளடக்கிய ஒன்றாக காண வேண்டும். இந்த பண்டிகை எல்லாரையும் இணைப்பது போல், இந்த பண்டிகைக்காக தேர்ந்தெடுத்து அணியப்படும் நகைகளும், பிராந்திய வேறுபாடின்றி அனைவரையும் இணைக்கிறது. இந்தியாவின் பல்வேறு பகுதிகளிலிருந்தான அடையாளமான நகைகள் அனைத்தும், தங்களுக்கே உரிய சொந்த தனித்துவ அழகை கொண்டுள்ளன. எனவே, இவை பிரகாசிப்பதற்கான சிறந்த நேரம், தீபத்திருநாளைக் காட்டிலும் வேறு எதுவாக இருக்க முடியும்? பல்வேறு பிராந்திய பரம்பரை நகைககளும் கவர்ச்சியான அம்சங்களை கொண்டிருப்பதுடன், அவை ஒவ்வொன்றுக்குப் பின்னாலும் கேட்டு மகிழ ஒரு தனித்துவ கதை இருப்பதையும் நாம் பார்க்கிறோம். இந்த மகிழ்ச்சியான கொண்டாட்டம் ஒருசில நாட்களுக்குத்தான். ஆனால், அதற்காக நீங்கள் வாங்கும் இந்த நகைகளோ பல தலைமுறைகளுக்கு நீடிக்கும். ஒவ்வொரு நகையும் ஒரு பிரத்யேக உணர்வை பிரதிபலிக்கிறது. நகை அணிதல் அலங்காரத்தை மட்டுமின்றி, அதையும் விட ஆழமாக, ஒரு பெண்ணாக இருப்பதின் சாரத்தையும் வெளிப்படுத்துகிறது.. நகைகள் ஒரு பெண்ணின் அழகை வலியுறுத்துவதுடன், அவளின் சிறந்த அம்சங்களையும் வெளிப்படுத்துகின்றன. ஒரு அழகான உடையை அதற்கு பொருத்தமான ஆபரணங்களுடன் அணியும் வரை, அதன் அழகு முழுமையாகாது. சமகாலத்திய அம்சம் பொருந்திய பழமையான நகைகளும் (Antique Jewellery) மற்றும் பிராந்திய எல்லைகளைத் தாண்டிய, கலையழகு ததும்பும், கையால் வடிவமைக்கப்பட்ட அழகான நகைகளும், நகை சேமிப்போரின் பொக்கிஷ மையமாக விளங்குகின்றன. புதிய நகைகளின் பளபளக்கும் நேர்த்தி மற்றும் குறிப்பிடத்தக்க சிறப்பைத் தவிர,வரலாற்றில் வேர் பதித்திருக்கும் கான்டெம்பரரி நகைகளில் ஏதோ ஒரு மயக்கும் அம்சம் இருப்பதை பார்க்கிறோம். நூற்றாண்டு கால பழைய மரபுகள் மற்றும் சம காலத்திய நகைகளின் சரியான மாற்றாக பண்டிகைக்கால நகைகள் விளங்கும். நுணுக்கமான வடிவமைப்புகள் மற்றும் காலத்தால் அழியாத நேர்த்தியுடன், மாறுபட்ட வடிவங்கள் மற்றும் நிறங்களை இணைத்து மகிழும் ஒரு பெண்ணின் நகை அணிவகுப்புகளில், கல்யாண் நகை மாளிகையின் வேதா அணிவகுப்புகளில் ஒரு சில நகைகளாவது கட்டாயம் இடம் பெற வேண்டும். தங்கத்தில் செய்யப்பட்டு, விலை மதிப்புள்ள மற்றும் விலை குறைவான கற்கள் பதிக்கப்பட்ட இந்த பாரம்பரிய கைவினை நகைகளை நாங்கள் மிகவும் விரும்புகிறோம். குறைவானதே அதிகம் என நம்பும் நவீன பெண், பண்டைய, நேர்த்தியான இருந்தும் நுட்பமான வடிவமைப்புகளைப் பாராட்டுகிறாள். இந்த தீபாவளியில், நாடு முழுவதிலிருந்துமானஆன்டிக் நகைகளை கலந்து மற்றும் பொருத்தம் செய்யுங்கள் அல்லது சில நுண்ணிய ஆனால் பாராட்டுக்குகந்த கான்டம்பரரி நகைகளை வாங்கி மகிழுங்கள். இந்த தீபாவளியில், நீங்கள் எப்போதும் ஆக விரும்பும் நகை ஆர்வலராக அவதாரமெடுங்கள். ஒவ்வொரு பெண்ணும் கட்டாயம் வைத்திருக்க வேண்டிய நகைகள் அனைத்தையும் சேகரித்து மகிழுங்கள். இந்தியாவின் பல்வேறு பகுதிகளை பிரதிநிதித்துவப்படுத்தும் மற்றும் வெவ்வேறு பாகங்களுக்கே உரிய தனித்துவ கைவினைத் திறனை குறிக்கும் பாரம்பரிய நகைகளின் அணிவகுப்பினை உன்னிப்பாக உருவாக்குங்கள். முத்து, காசு மாலை, தாலி, அடுக்கு மோதிரங்கள், பட்டை தீட்டாத வைரங்கள் பதித்த வளையல்கள், போல்கி வேலை, மீனாகாரி அல்லது டெம்பிள் நகை ஆகியவை நகை ஆர்வலர் ஒருவரின் அணிவகுப்பில் கட்டாயம் இருக்க வேண்டிய ஒருசில நகைகளாகும். தமிழ்நாட்டின் பாரம்பரிய நகைகள் அவற்றின் நேர்த்தியான கலைத்திறனுக்கு பெயர் பெற்றவை. இவை இந்தியாவின் சிறந்த கலாசாரத்தை சித்தரிப்பதுடன் தென்னிந்தியாவின் மலர் வடிவமைப்புகள் மற்றும் கலைப்பண்பு கூறுகள் பொறிக்கப் பெற்றிருக்கின்றன. எப்பொழுதும் நீடிக்கும் நகைகளின் வரிசையுடன் டென்பிள் நகை அணிவகுப்பான தடித்த, பருமனான பாரம்பரிய நகைகள், அனைவரின் கவனத்தையும் உங்கள் பக்கம் ஈர்ப்பது உறுதி. கூடுதலாக, என்றென்றும் வசீகரிக்கும் ஒட்டியாணம், காசு மாலை மாங்காய் மாலை அல்லது கொடி மாலை போன்ற போன்ற நீண்ட செயின்கள் போன்ற ஆன்டிக் நகைகள் மற்றும் அழகான, அடுக்கு மாலை சாவடி ஆகியவை இந்த அணிவகுப்பில் இடம் பெற்றுள்ளன. ஒரு ஜோடி ஜிமிக்கி மாட்டலும் அடங்கியிருக்கிறது. ஜிமிக்கி என்பவை நீண்ட மணி வடிவ ரத்தினம் பதித்த காதணிகள். மாட்டல் என்பது காதுத் தோடுகளை காதுகளில் பொருத்தி வைக்க, உங்கள் தலை முடியுடன் இணைக்கும் கொக்கியுடனான ஒரு செயின். மூக்குத்திகளான பேசரி மற்றும் புல்லாக்கு போன்றவையும் மற்றும் மோதிரங்களும் மென்மையான இதயம் படைத்தவர்களுக்கானவையல்ல. மேலும், இந்தோ-நவீன ரக ஆடைகளுடன் புல்லாக்கு அணிவது, அலங்காரத்தின் முன்னோடியாக பன்மடங்கு அதிகமாக கவரும். மகாராஷ்டிர நகைகள் நுணுக்கமாக வடிவமைக்கப்பட்ட டெம்பிள் நகை கருத்துக்களுக்கு பெயர் பெற்றவை. மேலும், அந்த மாநிலத்தின் புகழ்பெற்ற போர் வீரர்கள் மற்றும் மன்னர்களால் ஈர்க்கப்பட்டு பாரம்பரிய நகைகள் வடிவமைக்கப்பட்டுள்ளன. அலங்கார கற்கள் பதித்த நகைகளை உங்களின் பாரம்பரிய உடைகளுடன் அணிந்து, உங்கள் தோற்றத்தின் அழகை மேலும் அதிகரித்துக் காட்டுங்கள். வின்டேஜ் வரிசையிலான கைர்மா நிமா காதணிகள் மற்றும் தமயந்தி நிமா வளையல்கள் போன்ற நுணுக்கமான வேலைப்பாடுடைய நகைகளுடன், எங்கள் நகை அணிவகுப்பிலுள்ள நேர்த்தியான மகாராஷ்டிர கழுத்துமாலை, காதணிகள், மற்றும் வளையல்களை கண்டுபிடியுங்கள். போல்கி நகை நிரந்தரமாக நீடிக்கும் அதே நேரம், ஒரு பூர்வீக உணர்வையும் வெளிப்படுத்துகிறது. ஒரு போல்கி நகை மிகச் சிறந்த மற்றும் புராதனமானமான பாரம்பரிய நகைகளில் ஒன்றாக இருப்பதால் இதை தனது நகை கலெக்ஷனில் ஒரு இந்தியப் பெண் பெற்றிருப்பது மிக மதிப்பு வாய்ந்ததாக கருதப்படுகிறது. போல்கி நகைகள் சரித்திரத்தில் வேரூன்றி எப்போதும் பிரசித்தமாக விளங்கும் அணிய அழகான ஒரு நகையாகும். கான்டெம்பரரி (மூர்வி அனோக்கி கோல்டு நெக்லஸ்) மற்றும் (பாரம்பரிய) ட்ரெடிஷனல் (கார்வாரி அனோக்கி கோல்டு நெக்லஸ்) வடிவமைக்கள் இரண்டிலும் இடம் பெற்றுள்ள அசாதாரண கவனத்துடன் விரிவாக வடிவமைக்கப்பட்ட பிரத்தியேக போல்கி கழுத்துமாலை அணிவகுப்புகளை நாம் அனைவரும் விரும்புகிறோம். வைரம் உண்மையில் ஒரு பெண்ணின் சிறந்த தோழி. அது ஒரு விண்மீன் போன்று ஒளிர்கிறது மற்றும் ஒர் நேர்த்தியான மற்றும் அதிநவீன தோற்றத்தை வழங்கும் பொருட்டு செதுக்கப்படுகிறது. சிறியதாக அழகாக இருக்கும் திண்மமான வைர நகைகள், ஒருபோதும் ஸ்டைலில் இல்லாமல் போகாது. எனினும், திண்மமான வைர மோதிரங்கள் கால வரம்பற்ற கிளாசிக்காக இருக்கும் அதே நேரம், வண்ணமயமான ரத்தினங்களின் புகழும் அதிகரித்து வருகிறது. நீங்கள் விரும்பும் பெண்ணுக்கு பரிசளிக்க நீலக்கல், சிவப்புக்கல் போன்ற தீர்மான வைரங்களைப் பரிசளிப்பதுதான் மிகச்சிறந்த வழி. நீலக்கல் செல்வம், ஆசிகள் மற்றும் பரிசுகளை ஈர்க்கிறது. மேலும், நீலக்கல் எதிர்மறை ஆற்றல்களுக்கு (negative energies) எதிரான பாதுகாப்பை அளித்து, மனதை அமைதிப்படுத்தி, உள்ளுணர்வை வலிமைப்படுத்தவும் உதவும் என்றும் சிலர் கூறுகின்றனர். இலை போன்ற நுணுக்கமான வடிவம் மற்றும் ஒளிரும் பிரகாசத்துடன் கூடிய சிவப்புக்கல் காதணிகள், பண்டிகை உற்சாகத்துடன் சிறப்பாக ஒத்திசைகிறது. பெரும்பாலான செந்நிற சிவப்பு ரத்தினங்களைப் போல, ஸ்பைனலும், இரக்கம் மற்றும் வீரியத்துடன் தொடர்பு படுத்தப்படுகிறது. இந்த இரண்டு நகைகளுமே எந்த சேகரிப்பாளரின் அணிவகுப்பிலும் முக்கிய பங்கு பெறுகின்றன. ஒரு காலத்தை கடந்த நகை எப்போதுமே உங்களின் உடைகளுக்கு ஒரு தனிக் கவர்ச்சியை கூட்டும். ஆனால் பண்டிகை கொண்டாட்டத் தேவைகளுக்கு நீங்கள் மெலிய, நேர்த்தியான நகைகளை விரும்பினால், எங்களிடம் எல்லா சந்தர்ப்பங்களிலும் அணியவும் பரிசளிக்கவும் ஏற்ற வகையில், வளையல்கள் (மஞ்சள் தங்க வளையல்கள்), அழகான செயின்கள் (இட் கிலா நிவாரா கோல்டு செயின்), மற்றும் கவர்ச்சியான முத்துகள் (டிபேஷி முத்ரா தங்க முத்துகள்) ஆகியவை எங்களிடம் உள்ளன. கான்டெம்பரரி மற்றும் கைத்தறி நகைகள் அற்புதமான உயர்ந்த நகைகள் என்பதில் சந்தேகமேயில்லை. இருப்பினும், ஒரு இயற்கை நகையைப் போல எதுவும் இருக்க முடியாது. இவை வைர மோதிர கொத்துடன் இணைந்தால், பாரம்பரிய நகைகளை விரும்பும் மற்றும் தன்னுடைய நகைகள் இன்றைய நகை மொழியை பிரதிநிதித்துவப்படுத்த வேண்டுமென விரும்பும் எந்த நகை விரும்பியின் மனதையும் அவை கொள்ளை கொள்ளும் என்பதில் சந்தேகமே இல்லை. ஒவ்வொரு இந்தியனும் ஆவலுடன் காத்திருந்து, தீபாவளிப் பண்டிகையை மனதார வரவேற்கிறான். முடிவாக, தீபத்திருநாள் கொண்டாட்டம் இந்தியாவின் மிக விரும்பப்படும் பண்டிகையாக விளங்குவதில் எந்த ஒரு மாற்றுக் கருத்தும் இல்லை. இந்த தினத்தை அதிக அரவணைப்பு மற்றும் இரக்கத்துடன் கொண்டாடுங்கள். பரந்த நோக்கத்தை நாம் நெருங்கும் இந்த தருணத்தில் நமது நகைகளின் பன்முகத்தன்மையையும் நினைவில் கொள்வது மிக முக்கியம். இந்த பண்டிகை காலத்தில் ஒரு புதிய வெளிச்சத்துடன் உண்மையான இந்தியத்தன்மையை பிரதிநிதித்துவப்படுத்தும் வழியை ஆராயுங்கள். தனக்கே உரிய தனித்துவ அழகு கொண்ட ஒரு உச்சநிலை இது. பல்வேறு தாக்கங்கள் மற்றும் கலாசாரப் பரிவர்த்தனைகளின் பலன். எனவே, உங்கள் கலாசார மற்றும் சமூக பாரம்பரியத்திலிருந்து அதை கடன் வாங்கி, தீபாவளியை அதன் உண்மையான மகிழ்ச்சியுடன் அனுபவியுங்கள். மகிழ்ச்சியாக வாங்கி, அதை உங்களின் அன்புக்குரியவர்களுக்கு பரிசளித்து வாழ்நாள் முழுதும் நீடிக்கக் கூடிய ஒரு மாறுபட்ட அணிவகுப்புகளைத் துவங்குங்கள். தற்போது பழக்கத்தில் உள்ள நமது பாரம்பரியம் மற்றும் உள்ளடக்கிய தன்மையை பறைசாற்றும் பண்டிகை நகைகளை தேர்ந்தெடுங்கள். இந்த உணர்வைதான் எங்களின் பிரீமியம் கைவினை நகை அணிவகுப்புகளுடன் நாங்கள் கொண்டாடுகிறோம். நாடு முழுதும் உள்ள கல்யாண் ஜுவல்லர்ஸின் நேர்த்தியான நகை ரகங்கள் இன்றி இது முழுமையாகாது.
Publisher: Kalyan Jewelers

ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਮਨਾਓ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਦੇ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਨਾਲ

On
ਸਾਲ ਦਾ ਸਭ ਤੋਂ ਬਿਹਤਰੀਨ ਸਮਾਂ ਆ ਗਿਆ ਹੈ! ਸਰਦ ਰੁੱਤ ਦਾ ਸੁੰਦਰ ਆਕਾਸ਼, ਧਕ-ਧਕ ਦੀਆਂ ਆਵਾਜ਼ਾਂ, ਸ਼ਿਊਲੀ (ਜੈਸਮੀਨ) ਦੀ ਤਾਜ਼ਾ ਸੁੰਗਧ, ਰੰਗ-ਬਿਰੰਗੇ ਪੰਡਾਲ ਅਤੇ ਸੁੰਦਰ ਵੇਸ਼-ਭੂਸਾਵਾਂ ਵਿੱਚ ਸਜੇ-ਧਜੇ ਪੁਰਸ਼ ਅਤੇ ਔਰਤਾਂ, ਬੰਗਾਲ ਵਿੱਚ ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਦੇ ਸਮੇਂ ਇਹੀ ਸਭ ਕੁਝ ਦੇਖਣ ਨੂੰ ਮਿਲਦਾ ਹੈ। ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ (ਦੁਰਗਾ ਪੂਜੋ) ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਪੱਛਮੀ ਬੰਗਾਲ ਅਤੇ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਬਾਕੀ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਅਸ਼ਵਨੀ ਮਹੀਨੇ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਉੱਤਰ ਭਾਰਤ ਵਿੱਚ, ਇਸ ਤਿਓਹਾਰ ਨੂੰ ਨਵਰਾਤਰੀ ਅਤੇ ਦੁਸਿਹਰਾ ਦੇ ਨਾਮ ਨਾਲ ਜਾਣਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਦਾ ਤਿਓਹਾਰ ਮਹੇਸ਼ਾਸੁਰ ਨਾਮਕ ਰਾਖ਼ਸ਼ ‘ਤੇ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਨੂੰ ਮਿਲੀ ਜਿੱਤ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਵਿੱਚ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਸੰਪੂਰਨ ਪੱਛਮੀ ਬੰਗਾਲ ਅਤੇ ਪੂਰਬੀ ਭਾਰਤ ਦੇ ਕੁਝ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਨਾਰੀ ਸ਼ਕਤੀ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਧੂਮ-ਧਾਮ ਨਾਲ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਉਹ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ ਸ਼ਕਤੀ, ਸਨੇਹ, ਦ੍ਰਿੜ ਨਿਸ਼ਚੇ, ਬੁੱਧੀਮਾਨੀ, ਦੰਡਿਤ ਕਰਨ ਦੀ ਸਮੱਰਥਾ ਅਤੇ ਆਖਿਰ ਵਿੱਚ ਅਨੰਤ ਸੁੰਦਰਤਾ ਦਾ। ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਦੀ ਮੂਰਤੀ ਨੂੰ ਚਮਚਮਾਉਂਦੀ ਸਾੜੀਆਂ ਅਤੇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਬੰਗਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਵਿੱਚ ਸਜਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਅਜਿਹਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ ਕਿ ਸਾਲਾਂ ਤੋਂ ਸਾਹਿਤ ਅਤੇ ਫਿਲਮਾਂ ਵਿੱਚ ਦਰਸਾਇਆ ਜਾਣ ਵਾਲਾ ਬੰਗਾਲੀ ਔਰਤਾਂ ਦਾ ਪ੍ਰਬਲ ਵਿਅਕਤਿੱਤਵ ਇਸ ਮਜ਼ਬੂਤੀ ਦੇ ਉੱਪਰ ਹੀ ਆਧਾਰਿਤ ਹੈ। ਇਸ ਲਈ, ਇਹਨਾਂ ਕੁਝ ਦਿਨਾਂ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਬੰਗਾਲੀ ਔਰਤਾਂ ਆਪਣੀ ਅੰਦਰੂਨੀ ਮਜ਼ਬੂਤੀ ਅਤੇ ਸ਼ਿਸ਼ਟਤਾ ਦਾ ਉਤਸਵ ਮਨਾਉਂਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਖੁਦ ਨੂੰ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਸਾੜੀਆਂ ਅਤੇ ਨਾਲ ਹੀ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਅਤੇ ਸੰਸਕ੍ਰਿਤਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਨਾਲ ਸਜਾਉਂਦੀਆਂ ਹਨ। ਤਿਓਹਾਰ ਆਰੰਭ ਹੋਣ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਹੀ ਉਸਦੀ ਖੁਸ਼ੀ, ਉਤਸੁਕਤਾ ਅਤੇ ਜੋਸ਼ ਦਾ ਅਹਿਸਾਸ ਹੋਣ ਲੱਗਦਾ ਹੈ। ਸਾਲ ਦੇ ਇਹ ਗਿਆਰਾਂ ਦਿਨ ਸਭ ਤੋਂ ਜ਼ਿਆਦਾ ਖੁਸ਼ੀ, ਆਨੰਦ ਨਾਲ ਭਰਪੂਰ ਹੁੰਦੇ ਹਨ। ਪੁਰਸ਼, ਔਰਤਾਂ, ਬਜ਼ੁਰਗ ਅਤੇ ਨੌਜਵਾਨ ਸਾਰੇ ਨਾਲ ਮਿਲ ਕੇ ਤਿਓਹਾਰ ਮਨਾਉਂਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਵੇਸ਼-ਭੂਸ਼ਾ ਪਹਿਨ ਕੇ, ਪੰਡਾਲਾਂ ਦੀ ਸੈਰ ਕਰਦੇ ਹੋਏ, ਸਭ ਤੋਂ ਸੁਆਦਲੇ ਭੋਜਨ ਦਾ ਆਨੰਦ ਲੈਂਦੇ ਹੋਏ ਅਤੇ ਸਭ ਤੋਂ ਜ਼ਰੂਰੀ ਗੱਲ, ਆਪਣੇ ਦੋਸਤਾਂ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਮੈਂਬਰਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਮਿਲ ਕੇ ਤਿਓਹਾਰ ਦਾ ਆਨੰਦ ਲੈਂਦੇ ਹਨ। ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਬੰਗਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨੇ ਬਿਨਾਂ ਬੰਗਾਲੀ ਔਰਤਾਂ ਦਾ ਸਜਣਾ-ਸੰਵਰਣਾ ਅਧੂਰਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ। ਧਾਤ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਸੋਨੇ ਦੀ ਜਵੈਲਰੀ ਨੂੰ ਸਦੀਆਂ ਤੋਂ ਹੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਧ ਪਸੰਦ ਕੀਤਾ ਅਤੇ ਵਡਮੁਲਾ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਰਿਹਾ ਹੈ। ਫਿਰ ਚਾਹੇ ਆਧੁਨਿਕ ਨਵੇਂ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਹੋਣ ਜਾਂ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਰੂਪ ਤੋਂ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਜਵੈਲਰੀ, ਹਰ ਔਰਤ ਵਿੱਚ ਛਿਪੀ ਹੋਈ ਦੇਵੀ ਨੂੰ ਉਭਾਰਨ ਲਈ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਸੁੰਦਰ ਸਾੜੀਆਂ ਅਤੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਅਨਾਰਕਲੀ ਦੇ ਨਾਲ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਮਹਾਂ ਸ਼ਿਸ਼ਟੀ: ਇਸ ਦਿਨ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਧਰਤੀ ‘ਤੇ ਅਵਤਰਿਤ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਮਹਾਂ ਸ਼ਿਸ਼ਟੀ ਦੇ ਦਿਨ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਦਾ ਘਰ ਵਿੱਚ ਸੁਆਗਤ ਅਕਾਲ ਬੋਧਣ, ਆਮੰਤਰਣ ਅਤੇ ਅਧਿਵਾਸ ਨਾਮਕ ਪਵਿੱਤਰ ਰੀਤੀਆਂ ਦੇ ਦੁਆਰਾ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਅਗਲੇ ਕੁਝ ਦਿਨਾਂ ਤੱਕ ਪੂਜਾ ਦੀ ਸੁਗੰਧਿਤ ਰੀਤੀਆਂ ਅਤੇ ਢੋਲ ਦੀ ਆਵਾਜ਼ ਦੇ ਨਾਲ ਅਨੇਕ ਮੰਤਰਮੁਗਧ ਕਰ ਦੇਣ ਵਾਲੇ ਆਯੋਜਨ ਕਰ ਮਾਂ ਨੂੰ ਸਾਡੇ ਜੀਵਨ ਦਾ ਇੱਕ ਹਿੱਸਾ ਬਣਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਦਿਨ ਦਾ ਸਬੰਧ ਘਰ ਵਾਪਸੀ ਤੋਂ ਹੈ ਜਦੋਂ ਹਰ ਬੰਗਾਲੀ ਵਿਅਕਤੀ ਆਪਣੀਆਂ ਜੜ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਯਾਦ ਕਰਦਾ ਹੈ। ਇਹਨਾਂ ਕੁਝ ਦਿਨਾਂ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਦੇ ਨਾਲ-ਨਾਲ ਬੰਗਾਲੀ ਵੀ ਆਪਣੇ ਘਰ ਵਾਪਿਸ ਆਉਂਦੇ ਹਨ ਆਪਣੇ ਦੋਸਤਾਂ ਅਤੇ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਮੈਂਬਰਾਂ ਨਾਲ ਸਮਾਂ ਬਿਤਾਉਣ ਲਈ। ਇਹ ਸਮਾਂ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਨਾਲ ਮਿਲ ਕੇ ਪੁਰਾਣੀ ਯਾਦਾਂ ਨੂੰ ਤਾਜ਼ਾ ਕਰਕੇ ਹਾਸੀ ਖੁਸ਼ੀ ਨਾਲ ਪਲ ਬਿਤਾਉਣ ਦਾ। ਮਹਾਂ ਸ਼ਿਸ਼ਟੀ ਦੀ ਸੰਧਿਆ ‘ਤੇ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ, ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਬੱਚਿਆਂ ਅਤੇ ਅਸੁਰ ਦੇ ਪੂਰਨ ਦਰਸ਼ਨ ਹੁੰਦੇ ਹਨ। ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਚਿਹਰਿਆਂ ਤੋਂ ਪਰਦਾ ਉਠਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਰੇਸ਼ਮ ਦੇ ਵਧੀਆ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲੇ ਕੱਪੜਿਆਂ ਅਤੇ ਗਹਿਣਿਆਂ ਨੂੰ ਪਹਿਨਾ ਕੇ, ਅਸਤਰ-ਸ਼ਸਤਰਾਂ ਦੇ ਨਾਲ ਸਜਾ-ਧਜਾ ਕੇ ਉਤਸਵ ਆਰੰਭ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਹਰ ਗਲੀ ਨੁੱਕੜ ਨੂੰ ਰੌਸ਼ਨੀ ਨਾਲ ਜਗਮਗਾਇਆਂ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਪੂਰਾ ਸਮੁਦਾਇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਕੱਪੜਿਆਂ ਅਤੇ ਪੈਤ੍ਰਿਕ ਬੰਗਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨ ਕੇ ਆਯੋਜਿਤ ਕੀਤੇ ਜਾਣ ਵਾਲੇ ਪ੍ਰੋਗਰਾਮਾਂ ਵਿੱਚ ਸਮਾਂ ਬੰਨ੍ਹ ਦਿੰਦਾ ਹੈ। ਉਤਸਵ ਦਾ ਪਹਿਲਾ ਦਿਨ ਹੋਣ ਦੇ ਕਾਰਨ ਔਰਤਾਂ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਗੈਰ-ਰਸਮੀ, ਪੱਛਮੀ-ਭਾਰਤੀ ਕੱਪੜੇ, ਸਲਵਾਰ ਕੁਰਤਾ ਜਾਂ ਸੂਤੀ ਸਾੜੀਆਂ ਪਹਿਨਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਸ ਲਈ, ਇਸ ਦਿਨ ਸੁੰਦਰ ਸਲਵਾਰ ਕਮੀਜ਼ ਜਾਂ ਸਾੜੀ ਨਾਲ ਸਾਦਾ ਮੇਕਅਪ, ਥੋੜ੍ਹੀ ਬਹੁਤ ਆਈਸ਼ੈਡੋ, ਅੱਖਾਂ ਦੇ ਅੰਦਰੂਨੀ ਕੋਨਿਆਂ ‘ਤੇ ਹਾਈਲਾਇਟ ਜਾਂ ਹਲਕੀ ਸ਼ਿਮਰ ਅਤੇ ਬੁੱਲ੍ਹਾਂ ‘ਤੇ ਚਟਕ ਰੰਗ ਵਾਲੀ ਲਿਪਸਟਿਕ ਦਾ ਇਸਤੇਮਾਲ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਦਿਨ ਵਿੱਚ ਚਮਕੀਲੇ ਅਤੇ ਹਲਕੇ ਰੰਗ ਵਾਲੇ ਕੱਪੜਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਸਧਾਰਨ ਨੈਕਲੈਸ ਵਰਗੇ ਸੋਨੇ ਦੀ ਚੇਨ ਅਤੇ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ ਪੈਂਡੇਂਟ ਪਹਿਨੋ। ਹੋ ਸਕੇ, ਤਾਂ ਹਲਕੇ ਰੰਗ ਵਾਲੇ ਸੋਨੇ ਦੇ ਝੁਮਕਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਪਾਰੰਪਰਿਕ, ਸਾਦੀ ਸੋਨੇ ਦੀਆਂ ਚੂੜੀਆਂ ਪਹਿਨੋ। ਸ਼ਾਮ ਦੇ ਸਮੇਂ ਜਾਮਦਾਨੀ ਜਾਂ ਰੇਸ਼ਮ ਦੀ ਵਧੀਆ ਸਾੜੀ ਪਹਿਨੋ। ਨਾਲ ਹੀ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਅਤੇ ਪੁਰਾਣੇ ਫੈਸ਼ਨ ਦੀ ਝਲਕ ਦਿਖਾਉਣ ਲਈ ਕੁੰਦਨ ਦੀ ਵਾਲੀਆਂ ਜਾਂ ਸੋਨੇ ਦਾ ਵਿਰਾਸਤੀ ਨੈਕਲੈਸ ਪਹਿਨੋ। ਮਹਾਂ ਸਪਤਮੀ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਉਤਸਵ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਕੀਤੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਦਿਨ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਜੀਵੰਤ ਰੂਪ ਧਾਰਨ ਕਰਦੀ ਹੈ। ਇੱਕ ਪਵਿੱਤਰ ਵਿਧੀ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਦੀਆਂ ਅੱਖਾਂ ਖੁਲ੍ਹਦੀਆਂ ਹਨ ਅਤੇ ਉਹ ਪਹਿਲੀ ਵਾਰ ਅਸੀਂ ਦੇਖਦੀਆਂ ਹਾਂ। ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਦੀ ਆਤਮਾ ਨੂੰ ਕੇਲੇ ਦੇ ਪੱਤੇ ਵਿੱਚ ਜਾਗ੍ਰਿਤ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਜਿਸਨੂੰ ਦੁਲਹਨ ਵਾਂਗ ਸਜਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਰੀਤੀ ਨੂੰ ‘ਪ੍ਰਾਣ ਪ੍ਰਤਿਸ਼ਠਾ’ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਮਹਾਂ ਸਪਤਮੀ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਜੈਕਾਰਡ ਬੁਣਾਈ ਵਾਲੀ ਨੀਲੇ, ਗੁਲਾਬੀ ਜਾਂ ਪੀਲੇ ਰੰਗ ਦੀ ਸਾੜੀ ਤੁਹਾਡੇ ਉੱਪਰ ਖੂਬ ਸਜੇਗੀ। ਨਾਲ ਹੀ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਅਤੇ ਸਾਦੇ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲਾ ਸਲਵਾਰ ਸੂਟ ਜਾਂ ਕੁਰਤੀ ਦੇ ਨਾਲ ਸ਼ਰਾਰਾ ਅਤੇ ਉਸਦੇ ਨਾਲ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪਹਿਨੋ। ਇਸ ਦਿਨ ਨਿਊਡ ਜਾਂ ਕੋਰਲ ਰੰਗ ਵਾਲੀ ਲਿਪਸਟਿਕ ਲਗਾਓ। ਜਵੈਲਰੀ ਦੇ ਲਈ ਯਾਦ ਰੱਖੋ ਕਿ ਸਧਾਰਨ ਦਿਖਣ ਵਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਹੀ ਸਭ ਤੋਂ ਜ਼ਿਆਦਾ ਪ੍ਰਭਾਵ ਛੱਡਦੀ ਹੈ। ਤਾਂ ਹੀਰੇ ਦੀਆਂ ਵਾਲੀਆਂ ਜਾਂ ਹੱਥ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਵਾਲੀਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਮੀਨਾਕਾਰੀ ਅਤੇ ਇੱਕ ਤੋਂ ਵੱਧ ਅੰਗਤੀ (ਅੰਗੂਠੀਆਂ) ਪਹਨ ਕੇ ਆਪਣਾ ਜਾਦੂ ਬਿਖਾਰ ਦਿਓ। ਗਲੈਮਰਸ ਦਿਖਣ ਲਈ ਸ਼ਾਮ ਦੇ ਸਮੇਂ ਅੱਖਾਂ ਵਿੱਚ ਗਹਿਰੇ ਰੰਗ ਦਾ ਮੇਕਅਪ ਕਰੋ ਅਤੇ ਬੁੱਲ੍ਹਾਂ ‘ਤੇ ਚਮਕਦਾਰ ਰੰਗ ਵਾਲੀ ਲਿਪਸਟਿਕ ਲਗਾਓ। ਇਸ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ ਭੂਰੇ ਰੰਗ ਦੇ ਕੱਪੜਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਸੋਨੇ ਦਾ ਸਖਾ, ਪੋਲਾ ਅਤੇ ਨੋਆ ਅਤੇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਬੰਗਾਲੀ ਸੀਤਾ ਹਾਰ ਪਹਿਨੋ ਅਤੇ ਸ਼ਾਮ ਨੂੰ ਚਾਰ-ਚੰਨ ਲਗਾਓ। ਸੋਨੇ ਜਾਂ ਚਾਂਦੀ ਦੀ ਮਾਣਿਕ, ਪੰਨਾ ਅਤੇ ਹੀਰੇ ਜੜਿਤ ਚੂੜੀਆਂ ਅਤੇ ਨਾਲ ਮੈਚ ਕਰਦਾ ਲਹਿੰਗਾ ਜਾਂ ਸ਼ਰਾਰਾ ਪਹਿਨੋ। ਪਲੈਟੀਨਮ ਅਤੇ ਸਫੇਦ ਰੰਗ ਵਾਲੀ ਸੋਨੇ ਦੀ ਸਾਦੇ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ ਅੱਜ ਦੇ ਫੈਸ਼ਨ ਦਾ ਜੋ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਅਤੇ ਆਧੁਨਿਕ ਸ਼ੈਲੀ ਦੇ ਕੱਪੜਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਪਹਿਨੇ ਜਾਣ ਲਈ ਸਭ ਤੋਂ ਉੱਤਮ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਮਹਾਂ ਅਸ਼ਟਮੀ: ਮਹਾਂ ਅਸ਼ਟਮੀ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਦੇ ਨਾਲ ਸਭ ਤੋਂ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਦਿਖਣ ਵਾਲੀ ਸਾੜੀ ਪਹਿਨੋ। ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਦਿਨ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਨੇ ਮਹੇਸ਼ਾਸੁਰ ਦਾ ਵਧ ਕੀਤਾ ਸੀ, ਇਹੀ ਕਾਰਨ ਹੈ ਕਿ ਅੱਜ ਦੇ ਦਿਨ ਅੰਜਲੀ ਅਤੇ ਸ਼ੋਂਧੀ ਪੂਜਾ (ਅਸ਼ਟਮੀ ਅਤੇ ਨਵਮੀ ਦਾ ਸੰਗਮ) ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਮਹਾਂ ਅਸ਼ਟਮੀ ਦੀ ਸਵੇਰ, ਮੇਕਅਪ ਦੇ ਲਈ ਅਸੀਂ ਚਾਹਾਂਗੇ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਚਮਕਦਾਰ, ਆਕਰਸ਼ਿਤ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਲਾਲ ਅਤੇ ਮੈਹਰੂਨ ਰੰਗ ਦੀ ਲਿਪਸਟਿਕ ਲਗਾਓ ਅਤੇ ਨਾਲ ਹੀ ਅੱਖਾਂ ਵਿੱਚ ਗੂੜੇ ਰੰਗ ਦਾ ਮੇਕਅਪ ਲਗਾਓ। ਪਰ ਸੱਚ ਤਾਂ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਕੋਈ ਵੀ ਵਿਅਕਤੀ ਦਿਨ ਅਤੇ ਰਾਤ ਨੂੰ ਆਯੋਜਿਤ ਤਿਓਹਾਰ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ ਰੰਗਾਂ ਵਿੱਚ ਫੇਰ-ਬਦਲ ਨਹੀਂ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਦਿਨ ਸਾਡੀ ਵਿਅਕਤੀਗਤ ਪਸੰਦ ਹੋਵੇਗੀ ਕਿ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਬੰਗਾਲੀ ਚੂੜ। ਕਿਉਂਕਿ ਸੋਨੇ ਦੀ ਚੂੜੀਆਂ ਭਾਗ ਅਤੇ ਜਿੱਤ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੁੰਦੀਆਂ ਹਨ, ਇਸ ਲਈ ਤੁਸੀਂ ਇਸ ਦਿਨ ਇੱਕ ਜਾਂ ਇੱਕ ਤੋਂ ਵੱਧ ਚੂੜੀਆਂ ਪਹਿਨ ਸਕਦੀਆਂ ਹਨ। ਹੋਰ ਵਿਕਲਪ ਦੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੇ ਸੁੰਦਰ ਹੱਥਾਂ ਵੱਲ ਧਿਆਨ ਆਕਰਸ਼ਿਤ ਕਰਨ ਲਈ ਬ੍ਰੇਸਲੈਟ ਜਾਂ ਵਾਲਾ ਵੀ ਪਹਿਨ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਅੰਤ ਵਿੱਚ ਚਿਕ ਜਾਂ ਚੋਕਰ ਅਤੇ ਝੁਮਕੇ ਪਹਿਨ ਕੇ ਸਾਰਿਆਂ ਨੂੰ ਮੰਤਰ-ਮੁਗਧ ਕਰੋ। ਉੱਤਮ ਅਤੇ ਸਦਾਬਹਾਰ ਸੁੰਦਰਤਾ ਦੀ ਝਲਕ ਦਿਖਾਉਣ ਲਈ ਹੱਥਾਂ ਨਾਲ ਨਿਰਮਿਤ ਸਫੇਦ, ਧੂਮਿਲ ਸਫੇਦ ਕੰਨ ਪਾਸ਼ਾ ਜਾਂ ਕੰਨ ਦੀਆਂ ਵਾਲੀਆਂ ਪਹਿਨੋ। ਹਲਕਾ ਮੇਕਅਪ ਲਗਾਓ। ਇਹ ਸਟਾਇਲ ਆਧੁਨਿਕ ਔਰਤਾਂ ਦੇ ਲਈ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਅਤੇ ਆਧੁਨਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਦਾ ਵਧੀਆ ਸੰਗਮ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਵਿੱਚ ਸੰਧੀ ਪੂਜਾ ਸਭ ਤੋਂ ਅਹਿਮ ਰੀਤ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਅਸ਼ਟਮੀ ਤਾਰੀਖ਼ ਦੇ ਅੰਤਿਮ 24 ਮਿੰਟ ਅਤੇ ਨਵਮੀ ਤਾਰੀਖ਼ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ 24 ਮਿੰਟ ਨੂੰ ਸੰਧੀ ਪਲ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਅਸ਼ਟਮੀ ਅਤੇ ਨਵਮੀ ਦੇ ਵਿਚਕਾਰ ਦਾ ਸਭ ਤੋਂ ਪਵਿੱਤਰ ਸੰਗਮ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਸੰਧੀ ਪੂਜਾ ਭਗਤਾਂ ਵਿੱਚ ਤੇਜ਼ ਭਾਵਨਾਵਾਂ ਉਤਪੰਨ ਕਰਦੀ ਹੈ ਕਿਉਂਕਿ ਇਸ ਪਲ ਚੰਡ ਅਤੇ ਮੁੰਡ ਨਾਮ ਦੇ ਦੁਸ਼ਟ ਰਾਖਸ਼ਾਂ ਨੇ ਮਾਂ ਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਆਪਣੇ ਪ੍ਰਾਣ ਗੁਆਏ ਅਤੇ ਇੱਕ ਵਾਰ ਫਿਰ ਤੋਂ ਬੁਰਾਈ ‘ਤੇ ਚੰਗਿਆਈ ਦੀ ਜਿੱਤ ਹੋਈ। ਸੰਧੀ ਪੂਜਾ ਦੇ ਦੌਰਾਨ ਢੋਲ ਦੀ ਤੇਜ਼ ਆਵਾਜ਼ ਦੇ ਨਾਲ ਅਸੀਂ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਦੇ ਚਾਮੁੰਡਾ ਰੂਪ ਦੀ ਪੂਜਾ ਕਰਦੇ ਹਾਂ। ਇਹ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ ਬੁਰਾਈ ‘ਤੇ ਚੰਗਿਆਈ ਦੀ ਜਿੱਤ ਅਤੇ ਨਾਰੀ ਸ਼ਕਤੀ ਦੀ ਪਰਮ ਜਿੱਤ ਦਾ। ਅੱਤਿਆਚਾਰ ਅਤੇ ਅਪਮਾਨ ਨੂੰ ਜੜ੍ਹ ਤੋਂ ਮਿਟਾਉਣ ਲਈ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਮਹੇਸ਼ਾਸੁਰ ਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਪੀਲੀ ਸਾੜੀ ਲਪੇਟ ਕੇ ਸੁਨਹਿਰੀ ਕਿਰਨਾਂ ਖਲੇਰਦੀ ਪ੍ਰਗਟ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਸਟਾਇਲ ਵਿੱਚ ਸਜਣ-ਸੰਵਰਣ ਦੇ ਲਈ ਔਰਤਾਂ ਪੀਲੀ ਜਾਂ ਚਮਕਦਾਰ ਰੰਗ ਵਾਲੀ ਸਾੜੀ, ਸੋਨੇ ਦੇ ਝੁਮਕੇ ਅਤੇ ਕਈ ਲੇਅਰਾਂ ਵਾਲਾ ਨੈਕਲੈਸ ਜਾਂ ਸੱਤ ਨੋਲੀ ਹਾਰ ਪਹਿਨ ਸਕਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਸ ਅਵਸਰ ‘ਤੇ ਪੋਲਕੀ ਨੈਕਲੈਸ ਜਾਂ ਕਾੱਲਰ ਨੈਕਲੈਸ ਸਭ ਤੋਂ ਉੱਤਮ ਰਹਿੰਦਾ ਹੈ। ਮੇਕਅਪ ਲਈ ਤੁਸੀਂ ਗੂੜ੍ਹੇ ਰੰਗ ਦੀ ਲਿਪਸਟਿਕ, ਚਮਚਮਾਉਂਦੀ ਆਈਸ਼ੈਡੋ ਅਤੇ ਗੱਲ੍ਹਾਂ ਦੀਆਂ ਹੱਡੀਆਂ ਨੂੰ ਉਭਾਰਣ ਲਈ ਕੋਰਲ ਬਰੱਸ਼ ਹਾਈਲਾਇਟ ਅਜ਼ਮਾ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਮਹਾਂ ਨਵਮੀ: ਮਹਾਂ ਨਵਮੀ ਦੇ ਦਿਨ ਮਹਾਂ ਆਰਤੀ ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਆਰਤੀ ਦੀ ਅਗਨੀ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਵਿੱਚ ਸਮਾਈ ਉਸ ਅੱਗ ਦਾ ਜੋ ਬੁਰਾਈ ਦਾ ਨਾਸ਼ ਕਰਨ ਲਈ ਤੇਜ਼ੀ ਅਤੇ ਪੂਰੀ ਚਮਕ ਦੇ ਨਾਲ ਬਲਦੀ ਹੈ। ਇਸ ਦਿਨ ਲੋਕ ਆਪਣਾ ਵਰਤ ਵੀ ਸਮਾਪਤ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਨਵਮੀ ਦੇ ਲਈ ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਅਤੇ ਸੁੰਦਰ ਸਟਾਇਲ ਅਪਣਾਓ। ਇਸ ਦਿਨ ਤੁਸੀਂ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਬੰਗਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਦੇ ਨਾਲ ਬੰਗਾਲ ਦੀ ਪਰੰਪਰਾਗਤ ਵੇਸ਼-ਭੂਸ਼ਾ ਪਹਿਨੋ। ਨਵਮੀ ਦੇ ਦਿਨ ਅੱਖਾਂ ਵਿੱਚ ਗੂੜਾ ਮੇਕਅਪ ਲਗਾਓ, ਹਲਕਾ ਜਿਹਾ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਰੰਗੀਨ ਕਰੋ ਜਾਂ ਚਮਕਦਾਰ ਬਣਾਓ ਅਤੇ ਆਈਸ਼ੈਡੋ ਨਾਲ ਮੇਲ ਖਾਂਦੀ ਲਿਪਸਟਿਕ ਲਗਾਓ। ਜਵੈਲਰੀ ਦੇ ਲਈ ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਕਲਵੀ ਸੰਕਲਪ ਦੀਆਂ ਸੋਨੇ ਦੀਆਂ ਚੂੜੀਆਂ ਪਹਿਨੋ। ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਬਿਹਤਰੀਨ ਸੁੰਦਰਤਾ, ਬਿਹਤਰੀਨ, ਸੂਖ਼ਮ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਅੰਤਿਮ ਦਿਨ ਦੇ ਮੂਡ ਨਾਲ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਮੇਲ ਖਾਂਦੇ ਹਨ, ਜਿਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਵਾਪਸ ਕੈਲਾਸ਼ ਪਰਬਤ ਚਲੀ ਜਾਂਦੀ ਹੈ। ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਪੈਂਡੈਂਟ ਵਾਲਾ ਨੈਕਲੈਸ ਪਹਿਨੋ ਜੋ ਕਿ ਚੂੜੀਆਂ ਅਤੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਝੁਮਕਿਆਂ ਨਾਲ ਮੇਲ ਖਾਂਦਾ ਹੋਵੇ। ਇਹ ਸੰਗਮ ਸਟਾਇਲ ਨੂੰ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਬਣਾਉਂਦਾ ਹੈ “ਭੜਕਾਊ” ਨਹੀਂ। ਅੰਤ ਵਿੱਚ, ਸ਼ਾਮ ਦੇ ਸਮੇਂ ਵਿੱਚ ਆਰਾਮਦਾਇਕ, ਠੋਸ ਰੰਗ ਅਤੇ ਸਟ੍ਰੇਟ ਕੱਟ ਵਾਲੇ ਕੱਪੜੇ, ਨਾਲ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਨੈਕਲੈਸ ਅਤੇ ਬਾਰੀਕ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਾਲੀ ਨੱਥਣੀ ਪਹਿਨੋ। ਵਿਜੇ ਦਸ਼ਮੀ: ਇਸ ਦਿਨ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਆਪਣੇ ਪਤੀ, ਭਗਵਾਨ ਸ਼ਿਵ ਨਾਲ ਫਿਰ ਤੋਂ ਮਿਲਣ ਲਈ ਆਪਣੀ ਵਾਪਸੀ ਦੀ ਯਾਤਰਾ ‘ਤੇ ਨਿਕਲ ਪੈਂਦੀ ਹੈ। ‘ਘਾਟ’ ਪ੍ਰਤੀਕਾਤਮਕ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਵਿਸਰਜਨ ਤੋਂ ਬਾਅਦ , ਵਿਆਹੁਤਾ ਔਰਤਾਂ ਯਾਨੀ ਪਾਣੀ ਨਾਲ ਭਰੀ ਮਟਕੀ ਅਤੇ ਪਵਿੱਤਰ ਪੱਤਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ‘ਸਿੰਧੂਰ ਖੇਲਾ’ ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ ਜੋ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਦਾ ਆਪਣੇ ਪਤੀ ਦੇ ਨਾਲ ਮਿਲਨ ਦਾ ਇੱਕ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਫਿਰ ਤੋਂ ਆਪਣੀਆਂ ਅੱਖਾਂ ਵਿੱਚ ਹੰਝੂ ਭਰਦੇ ਹੋਏ ਉਹ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਮੱਥੇ ‘ਤੇ ਸਿੰਦੂਰ ਲਗਾ ਕੇ, ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਮਿਠਾਈ ਖਿਲਾ ਕੇ ਅਤੇ ਪੈਰਾਂ ਨੂੰ ਛੂਹਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਮਾਂ ਦੁਰਗਾ ਨੂੰ ਵਿਦਾ ਕਰਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ, ਔਰਤਾਂ ਇੱਕ-ਦੂਜੇ ਦੇ ਚਿਹਰੇ ‘ਤੇ ਸਿੰਦੂਰ ਲਗਾ ਕੇ ਆਪਣੇ ਵਿਆਹੁਤਾ ਜੀਵਨ ਦਾ ਜਸ਼ਨ ਮਨਾਉਂਦੀਆਂ ਹਨ। ਤਿਓਹਾਰ ਦੇ ਇਸ ਅੰਤਿਮ ਦਿਨ ਨੂੰ ਮਨਾਉਣ ਲਈ ਪ੍ਰਤਿਸ਼ਠਿਤ ਲਾਲ ਪੜ ਸ਼ਾਦਾ ਸਾੜੀ ਪਹਿਨੋ, ਜਿਸਨੂੰ ਬੰਗਾਲੀ ਲਾਲ ਬਾਰਡਰ ਵਾਲੀ ਸਫੇਦ ਸਾੜੀ ਦੇ ਨਾਲ ਨਾਲ ਵੀ ਜਾਣਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਸਾਡਾ ਸੁਝਾਅ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਸਾਰਿਆਂ ਤੋਂ ਵੱਖ ਅਤੇ ਖੂਬਸੂਰਤ ਦਿਖਣ ਲਈ ਸੋਨੇ ਦਾ ਚੋਕਰ, ਕੁਝ ਚੂੜੀਆਂ, ਸਖਾ, ਪੋਲਾ ਅਤੇ ਨੋਆ ਪਹਿਨੋ। ਚੰਦਰ ਬਾਲਾ ਵਾਲੀਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਬਾਂਹ ‘ਤੇ ਬੰਗਾਲ ਦੀ ਸਭ ਤੋਂ ਪ੍ਰਤਿਸ਼ਠਿਤ ਜਵੈਲਰੀ, ਸੁੰਦਰ ਅਤੇ ਚਮਚਮਾਉਂਦੇ ਮਕਰਮੁਖੀ ਬਾਲਾ ਪਹਿਨੋ। ਤੁਸੀਂ ਸਟਾਇਲ ਨੂੰ ਹੋਰ ਸੁੰਦਰ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਸੋਨੇ ਦਾ ਰਤਨਾਚੁਰ (ਇੱਕ ਬ੍ਰੈਸਲੇਟ ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਹਰ ਉਂਗਲ ਦੇ ਲਈ ਅੰਗੂਠੀ ਨਾਲ ਜੁੜੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ) ਵੀ ਪਹਿਨ ਸਕਦੇ ਹੋ। ਇਹ ਮੁੱਖ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਮੋਰ ਜਾਂ ਕਮਾ ਦੇ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਵਿੱਚ ਆਉਂਦਾ ਹੈ। ਸਿੱਟਾ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਬੰਗਾਲੀ ਔਰਤਾਂ ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਵਰਗੇ ਸਮੇਂ ‘ਤੇ ਸਭ ਤੋਂ ਸੁੰਦਰ ਦਿਖਾਈ ਦਿੰਦੀਆਂ ਹਨ। ਮਾਂ ਸ਼ਾਂਤੀ, ਖੁਸ਼ੀ, ਸ਼ਕਤੀ ਅਤੇ ਜਿੱਤ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ। ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਦੀ ਭਾਵਨਾ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਬਿੰਬ ਹੈ। ਇਹ ਸ਼ਰਧਾਂਜਲੀ ਹੈ ਬੰਗਾਲ ਦੇ ਜੀਵੰਤ ਤਿਓਹਾਰਾਂ, ਵੱਖ-ਵੱਖ ਸੰਸਕ੍ਰਿਤੀ ਅਤੇ ਲੋਕਾਂ ਲਈ, ਅਤੇ ਇਸ ਵਿੱਚ ਬਣਾਈ ਗਈ ਜਵੈਲਰੀ ਦੇ ਹਰ ਪੀਸ ਨੂੰ ਖੇਤਰੀ ਖਰੀਦਦਾਰਾਂ ਦੀ ਪਸੰਦ ਨੂੰ ਧਿਆਨ ਵਿੱਚ ਰੱਖ ਕੇ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ। ਬਿਹਤਰੀਨ ਕਾਰੀਗਰੀ ਵਾਲੀ ਜਵੈਲਰੀ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਕੁੰਦਨ ਜਵੈਲਰੀ ਸੈਟ ਤੱਕ, ਹਰ ਪੀਸ ਨੂੰ ਬਹੁਤ ਹੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਨਾਲ ਤਿਆਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ, ਅਤੇ ਜਿਸਦਾ ਬਾਰੀਕੀ ਨਾਲ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਕੰਮ ‘ਬੰਗਾਲ’ ਦੀ ਸੰਸਕ੍ਰਿਤਿਕ ਵਿਰਾਸਤ ਨੂੰ ਦਰਸਾਉਂਦਾ ਹੈ। ਸੰਕਲਪ, ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਵੱਲੋਂ ਪ੍ਰਸਤੁਤ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਹੈ ਜਿਸਦੇ ਅਨੋਖੇ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਪਰੰਪਰਾ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੋਣ ਦੇ ਨਾਲ-ਨਾਲ ਆਧੁਨਿਕਤਾ ਦੀ ਝਲਕ ਵੀ ਦਿਖਾਉਂਦੇ ਹਨ। ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਦੀ ਇਹ ਸਿਰੀਜ਼ ਸੁੰਦਰ ਹੋਣ ਦੇ ਨਾਲ ਹੀ ਖੁਸ਼ਹਾਲੀ ਅਤੇ ਆਸ਼ਾ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ। ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਵੱਲੋਂ ਪ੍ਰਸਤੁਤ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਸੱਚ ਵਿੱਚ ਬੰਗਾਲੀ ਸੰਸਕ੍ਰਿਤੀ ਦੀ ਭਾਵਨਾ ਨੂੰ ਦਰਸਾਉਂਦੀ ਹੈ, ਖਾਸ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਦੁਰਗਾ ਪੂਜਾ ਦੇ ਦੌਰਾਨ। ਬਾਰੀਕ ਕਾਰੀਗਿਰੀ, ਬਿਹਤਰੀਨ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਅਤੇ ਵਧੀਆ ਕੌਸ਼ਲ ਹੀ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਦੀਆਂ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ਤਾਵਾਂ ਹਨ ਜੋ ਇਸਨੂੰ ਅਨੋਖਾ ਬਣਾਉਂਦੀਆਂ ਹਨ। ਇਸ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਵਿੱਚ ਆਧਨਿਕ ਅਤੇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਕਲਾ ਦਾ ਸੰਗਮ ਦੇਖਣ ਨੂੰ ਮਿਲਦਾ ਹੈ; ਸੋਨੇ ਦੇ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਚੂੜ ਅਤੇ ਸੀਤਾ ਹਾਰ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ ਹਲਕੇ ਵਜ਼ਨ ਵਾਲੇ ਝੁਮਕੇ ਅਤੇ ਕੰਨ ਪਾਸ਼ਾ ਤੱਕ। ਤਾਂ ਬੰਗਾਲ ਦੀ ਸੁੰਦਰ ਸੰਸਕ੍ਰਿਤੀ ਅਤੇ ਵਿਰਾਸਤ ਨੂੰ ਦਰਸਾਉਣ ਵਾਲੀ ਪਾਰੰਪਰਿਕ ਜਵੈਲਰੀ ਖਰੀਦਦੇ ਸਮੇਂ ਕਲਿਆਣ ਜਵੈਲਰਸ ਵੱਲੋਂ ਪ੍ਰਸਤੁਤ ਸੰਕਲਪ ਕੁਲੈਕਸ਼ਨ ਜ਼ਰੂਰ ਦੇਖੋ।
Publisher: Kalyan Jewelers

দীপাবলি উত্‍সবকে আবার নতুন করে আবিষ্কার করুন কল্যাণ জুয়েলার্স-এর ভেদা কালেকশন-এর সঙ্গে

On
দীপাবলি বহু-প্রতীক্ষিত আলোর উত্‍সব যেখানে রঙ্গোলী তার আনন্দের-ও, আহ্বান জানাচ্ছে সেজে ওঠার জন্য আর দারুন দেখানোর জন্যে। দীপাবলি সঙ্গে নিয়ে আসে ভ্রাতৃত্ব, সম্পদ আর অতুলনীয় আনন্দ। এ এমন এক উত্‍সব, যা সবচেয়ে সেরা জাঁকজমকে পালিত হয়। কিন্তু যদি একটিমাত্র কোনও জিনিস থাকে যা আপনার সাজ-সজ্জাকে ঠিক উত্‍সবের আলোর মতই উজ্জ্বল করে তুলতে পারে, তা হল অলংকার। ধনতেরস দীপাবলি উত্‍সবের মেজাজকে তৈরি করে দেয়। ধনতেরস-এর পবিত্র দিনে, যা পাঁচ দিনের দিওয়ালী উত্‍সবের প্রথম দিনে পড়ে, তখন কিছু কেনাকাটা করলে সৌভাগ্য আর সমৃদ্ধির দরজা খুলে দেয়। গয়না জমানোকে ভবিষ্যতের বিলাস বহুল উত্তরাধিকার সৃষ্টির আর তাদের অনন্য সব গল্পে মজে থাকার সুযোগ বলেই ধরা হয়। এটা সুরক্ষার এক বিরাট উপায়ও হতে পারে। কিন্তু সবকিছুর উপরে, শৈল্পিক আর অতুলনীয় সৌন্দর্য এই অলংকারগুলির সঙ্গে ওতপ্রোতভাবে জড়িত। দিওয়ালী উত্‍সব ভারতের সর্বত্র ছড়িয়ে আছে। অঞ্চল ভেদে হয়তো আলোর উত্‍সব পালনের রীতি নীতি পাল্টাতে পারে, কিন্তু আনন্দটা সার্বজনীন। এই ভাবেই দিওয়ালী উদযাপনের ইচ্ছেটা ছড়িয়ে যায় ভারত জুড়ে। আলোর উত্‍সব সব দুঃখের চিহ্ন আর অন্ধকারের ইঙ্গিত প্রতীকীভাবে সরিয়ে দেয় আমাদের জীবন থেকে। সত্যিই দিওয়ালীর তাত্‍পর্য ভারতের সব পরম্পরার মধ্যে সবচেয়ে বিপুল। দিওয়ালী সকলের উত্‍সব, এটা ঐ উত্‍সবকে সকলকে সামিল করার দৃষ্টিভঙ্গি থেকে দেখতে শেখায়। এই উত্‍সব উদযাপনের জন্য বেছে নেওয়া অলংকার ভৌগলিক সীমা ছাড়িয়েও যোগাযোগ ঘটাতে পারে কারণ এই উত্‍সব সবাইকে ঐক্যবদ্ধ করে। দেশের বিভিন্ন প্রান্ত থেকে ঐতিহ্যবাহী অলংকারগুলোর নিজ নিজ এবং অনন্য শিল্পবোধ বর্তমান। সুতরাং,আলোর উত্‍সবের চেয়ে আর ভাল কী উপলক্ষ হতে পারে এমন ঝলমলে উপহার দেওয়ার? বিভিন্ন অঞ্চলের এয়ার্লূম জুয়েলারীর সম্পর্কে এমন কিছু গল্প আছে যা প্রত্যেকটি অনন্য। এই আনন্দময় উত্‍সবের দিনগুলো সীমিত কিন্তু এই অলংকারগুলো থাকবে প্রজন্মের পর প্রজন্ম জুড়ে। প্রতিটি রত্নই একটা আলাদা অনুভূতির প্রতিফলন ঘটায়, যা শুধু একটা অলংকার নয়, যেখানে গভীর ভাবে, একজন নারী হওয়ার সার সত্যিটা আঁকড়ে ধরে। অলংকার নারীর ব্যক্তিত্বকে জোর দিয়ে ফুটিয়ে তোলার পাশাপাশি তার সেরা বৈশিষ্ট্যগুলো প্রকট করে। একটি সুন্দর পোশাক কখনোই সম্পূর্ণ হয় না যদি না সঠিক অলংকার তাকে স্পষ্ট করে তুলে ধরে। প্রাচীন অলঙ্কারে যদি একালের ছোয়া আর আঞ্চলিকতার সীমা ছাড়ানো সুচারু কারুকাজ থাকে তবে তা প্রত্যেক সংগ্রাহকের সম্পদ হয়ে ওঠে। আধুনিক এই সব অ্যান্টিক গয়নার চোখধাঁধানো দীপ্তি আর পালিশ করা ঐশ্বর্য্য ছাড়াও সমকালীন এইসব অলংকারের এক একটি অংশ সম্পর্কে সবচেয়ে মনোমুগ্ধকর কথা হল এর ঐতিহাসিক শিকড়। অলঙ্কার উত্‍সবের-প্রাচীন পরম্পরা আর এখনকার অলঙ্কারের ধারার নিখুত সম্মিলন বা ফিউশন। কোনও মহিলা যিনি সুক্ষ্ম কারিগরী আর চিরকালীন ঐশ্বর্য্যর মধ্যে তালমিল খুঁজে তার সঙ্গে এখনকার রামধনু রঙা নকশায় সমন্বয় ঘটিয়ে আনন্দ পান, তার অলঙ্কার সংগ্রহে যে কটি অলংকার অতি অবশ্যই থাকবে, তার মধ্যে কল্যাণ জুয়েলার্স-এর ভেদা কালেকশন-একটি। সোনায় তৈরি সুচারু হাতের কাজের পরম্পরাগত, মূল্যবান এবং অতি মূল্যবান পাথর খচিত এই সব অলংকার আমরা বড্ড ভালবাসি। আমাদের এই কলেকশন ই হবে আধুনিক নারীর কাছে কম-ই হল বেশি আর ধ্রুপদী, স্লীক অথচ সফিস্টিকেটেড ডিজাইন তার বিশেষ পছন্দ। এই দিওয়ালিতে প্রাচীন অলংকারের দেশ জোড়া নিদর্শন থেকে মিশিয়ে আর ম্যাচ করে নিন বা কিছু ডেলিকেট অথচ বিবৃতি–যোগ্য একালের সৃষ্টির ওপর নির্ভর করুন। এবারের উত্‍সবে আপনি সবসময়েই যে অলংকার-রসিক হতে চেয়েছেন, তাই হয়ে পড়ুন। প্রত্যেক নারীর অবশ্যই যে সব গয়না থাকা উচিত, সেইগুলো জড়ো করে নিজেকে প্যাম্পার করুন । এমন একটা সুচারুভবে হাতের কাজে সমৃদ্ধ এয়ার্লূম অলংকারের সম্ভার তৈরি করুন, যার মধ্যে বিভিন্ন অঞ্চলের ছাপ আছে আর সেই সঙ্গে নানা অঞ্চলের কারিগরী দক্ষতার নিদর্শন রয়েছে। নথ, কাসু মালা, মঙ্গলসূত্র, স্তুপাকার আংটি, হীরের চুড়ি পলকি কাজের গয়না, মীনাকারী বা টেম্পল জুয়েলারী- এই সবই অলংকার রসিকের সংগ্রহে বাধ্যতামূলক ভাবে থাকার মত নিদর্শন। তামিল নাড়ুর ধ্রূপদী অলংকার তার অসামান্য শিল্পকলার জন্য বিখ্যাত। এটি দক্ষিণ ভারতের সমৃদ্ধ ভারতীয় সংস্কৃতিতে ফুলেল নক্সা আর মোটিফ-এর সুন্দর নিদর্শন তুলে ধরে। টেম্পল জুয়েলারী কলেকশনের সাহসী ও ভারী ধরনের সনাতন অলংকার আর চিরন্তন সব গয়নার সারি আপনাকে সকলের দৃষ্টির কেন্দ্রবিন্দু করে তুলবে। এ ছাড়াও ওই কলেকশনে রয়েছে প্রাচীন নানা অলংকার যেমন পশ্চাত বন্ধনী বা ওড্ডীয়নম, লম্বা চেন যেমন কাসু মালাই, মাঙ্গা মালাই, বা সবসময়েই চোখ টেনে রাখা কড়ি মালাই আর ছিমছাম, স্তরবিশিষ্ট চাভাড়ি। আপনার সংগ্রহে রাখুন একজোড়া ঝিমকি মাট্টেল। ঝিমকি কী? আরে ঝিমকি হল লম্বা ঘণ্টাকৃতি রত্নখচিত দুল, আর মাট্টেল হল হুক সহ চেন যেটা দুলগুলোকে আপনার চুলের সঙ্গে বাধা থেকে দুল জোড়াকে নিজের যায়গায় থাকতে সাহায্য করে। বেসারী আর বুল্লাকু হল সেইরকম নথ আর আংটি যা দুর্বল হৃদয়ের জন্য নয়। তার ওপর, একটা ইন্দো-ওয়েস্টার্ন পোশাকের সঙ্গে বুল্লাকু পরলে ফ্যাশনের পাল্লাটা বেস কয়েক ধাপ ওপরে উঠে যায়। মহারাষ্ট্রের গয়না তার সূক্ষ্ম ধরনের টেম্পল মোটিফের জন্য বিখ্যাত।এর ওপরে, ধ্রুপদী অলংকার আবার ওই রাজ্যের বিখ্যাত সব বীর যোদ্ধা আর রাজাদের দ্বারাও অনুপ্রাণিত। আপনার ধ্রুপদী বেশ-ভূষায় পূর্ণ মাত্রা এনে দিতে পরুন সমৃদ্ধ, রত্নখচিত অলংকার যা আপনার সাজের গভীরতা অনেক বাড়িয়ে তুলবে। গইর্মা নিমাহ দুল আর দময়ন্তী নিমাহ চুড়ির মত প্রাচীন ও সূক্ষ্ম কাজের গয়না, অনিন্দ্য মহারাষ্ট্রীয় হার, দুল ও চুড়ি আবিষ্কার করুন আমাদের অত্যুতকৃষ্ট জুয়েলারী কলেকশন থেকে। পোলকি জুয়েলারী শ্বাশ্বত আর সেই সঙ্গে উত্তরাধিকারের একটা বোধ সঞ্চার করে। এই পোলকি জুয়েলারীর একটি গয়না সংগ্রহে রাখাটা ভারতীয় নারীর পক্ষে এক মুল্যবান সংযুক্তি কেননা এটা ধ্রুপদী অলংকার এক প্রাচীনতম ও সুন্দরতম নিদর্শন। পোলকি জুয়েলারীর শিকড় রয়ে গেছে ইতিহাসের পাতায় আর এটি চিরকালই এক জনপ্রিয় ও মুগ্ধকর অলংকার। চমত্‍কার পোলকি নেকলেস কালেকশন, একালের (মুরভি আনোখি স্বর্ণহার) আর ধ্রুপদী (কারবরী আনোখি স্বর্ণহার), দুই-ই আমাদের প্রিয় ডিজাইন। ডায়মণ্ড অবশ্যই নারীর সেরা সাথী। এটা যেন মহাজাগতিক নক্ষত্রের মতই ঝলমল করে আর এর আবেদনও কোমল আর সফিসটিকেটেড। ডায়মণ্ড সলিটেয়ারগুলো খুব সুন্দর হয়ে থাকে আর ওটা কখনোই আউট অফ স্টাইল হয়ে পড়ে না। যাই হক, ডায়মণ্ড সলিটেয়ার আংটি যেমন চিরকালীন ক্লাসিক, অন্যান্য রঙিন রত্নরও জনপ্রিয়তা বাড়ছে। উজ্জ্বল নীল সাফ্যায়ার আর রেড স্পিনেল হল নিশ্চিত ভাবেই সেই বস্তু যা আপনি আপনার প্রিয়তমা কে উপহার দিতে পারেন। নীল সাফ্যায়ার সমৃদ্ধি ,আশীর্বাদ আর উপহার আনে। এ ছাড়াও, কেউ কেউ বলে ব্লু সাফ্যায়ার নেগেটিভ এনার্জি থেকে সুরক্ষা দেয়, মন শান্ত করে, আর অনুমান ক্ষমতা বাড়ায়। রেড স্পিনেল এয়ারিং সূক্ষ্ম পাতার ডিজাইন আর প্রদীপ্ত আভা নিয়ে দিওয়ালি উত্‍সবের সঙ্গে দারুন ভাবে মিল খেয়ে যায় । স্পিনেল, অধিকাংশ ক্রিমসন লাল রত্নের মতো অনুভুতি আর প্রাণবন্ততার সঙ্গে জড়িত। এই দুই রত্নের উভয়েই যে কোনও সংগ্রাহকের অবশ্য আহরণযোগ্য। যে কোনও চিরকালীন অলংকার আপনার বেশ-ভুষায় বাড়তি কিছু যোগ করে। কিন্তু ধরুন আপনি যদি উদযাপনের অঙ্গ হিসেবে হ্রস্ব ও সুন্দর কিছু চান, তাহলে সে ক্ষেত্রে আমাদের ক্যাটালগ-এ চুড়ি(সোনার চুড়ি), ছিম ছাম চেন(ইত্‍কলা নিভারা স্বর্ণহার) আর সুন্দর নথ (দীপেশী মুদ্রা স্বর্ণ নথ) ও রয়েছে, যা যে কোনও উপলক্ষে পরা বা উপহার দেওয়া চলে। সমকালীন আর হাতে তৈরি জুয়েলারী যে মনোরম নিদর্শনে সমৃদ্ধ, এতে কোনও সন্দেহ নেই। কিন্তু এ সত্ত্বেও, আসল মুক্তোর গয়নার একটি সেটের মতও কিছু হয় না। এইগুলোর পাশাপাশি ডায়মণ্ড ক্লাস্টার আংটিও কিন্তু যে কোনও অলংকার প্রেমির মন কেড়ে নেবে, যার ঐতিহ্যের প্রতি টান আছে আর সেই সঙ্গে চান যে তার গয়নাগুলো একালের অলংকারের ভাষাতেও কথা বলুক। প্রত্যেক ভারতীয়ই দিওয়ালি উত্‍সবের অপেক্ষায় থাকেন আর একে স্বাগত জানান দু হাত বাড়িয়ে। পরিশেষে, আলোর উত্‍সব তর্কাতীতভাবে ভারতের সবথেকে প্রিয় উত্‍সব।এই দিনটি বিপুল উষ্ণতা আর অনুভুতি নিয়ে উদযাপন করুন। আমরা যতই বিশ্বনাগরিকতার দিকে এগোই না কেন, আমাদের অলংকারের বৈচিত্রর কোথাও আমাদের মনে রাখতে হবে। উত্‍সবের এই মরশুমে দিওয়ালিকে প্রকৃত ভারতীয়ত্বর প্রতিনিধিস্বরূপ নতুন আলোয় উদযাপন করুন। ভিন্ন ভিন্ন প্রভাবের ও সাংস্কৃতিক বিনিময়ের মেলবন্ধন হয়। তাই আপনার সাংস্কৃতিক ও সামাজিকও ঐতিহ্য থেকে ঋণ গ্রহণ করুন আর দিওয়ালিকে তার আপন চেতনায় উপলব্ধি করুন। আনন্দের জন্য কিনুন, প্রিয়জনকে উপহার দিন, আর এমন এক বৈচিত্রময় সংগ্রহ গড়ে তুলুন, যা আজীবন সঙ্গে থাকে। আপনার উত্‍সবের অলংকার বেছে নিন এমন এক কলেকশন থেকে যা আমাদের ঐতিহ্য আর সবকিছু আপনার করে নেওয়ার কথা বলে, আর সেই সঙ্গে বর্তমানেও থাকে। এই বোধ থেকেই আমরা আমাদের প্রিমিয়াম হাতের কাজের সুচারু জুয়েলারী কলেকশন উদযাপন করছি। এই উত্‍সব অপূর্ণ থেকে যাবে কল্যাণ জুয়েলার্স-এর অসামান্য সুন্দর দেশজোড়া অলংকার সম্ভার ছাড়া।
Publisher: Kalyan Jewelers

এই কড়োয়া চৌথ –এ আপনার শপথ নতুন করে তুলুন কল্যাণ জুয়েলার্সের সংকল্প কলেকশনের সঙ্গে।

On
কড়োয়া চৌথ কে বলা যায় বছরের সব চেয়ে রোমান্টিক সময়! বই আর সিনেমায় সব চেয়ে বেশি উদযাপিত কড়োয়া চৌথ হল সেই জাদুকরী দিন, যে দিন বিবাহিত মহিলারা গোটা দিন উপবাস করেন স্বামীর দীর্ঘায়ু কামনায়। বৈবাহিক সম্পর্কের মাধুর্যটা কল্পনার বাইরে আর অমপতির ক্ষেত্রে প্রতিটি দিনই হল অনন্য। পরম্পরাগতভাবে নানা উত্‍সব আর প্রথা আছে আঞ্চলিকভাবে এই মিলন উদযাপনের জন্য। যাই হোক, কড়োয়া চৌথ হল সবচেয়ে বেশিহারে উদযাপিত সেই উৎসবগুলির অন্যতম, যেগুলো সম্প্রদায় নির্বিশেষে বহু বছর ধরে পালিত হয়ে আসছে। ভালোবাসা ও চিরকাল একসাথে থাকার শপথের এই উৎসবে অ-বিবাহিত যুগলও উপবাস পালন করে থাকে তাদের প্রণয়ীদের জন্য ভালোবাসা উদযাপনে আর চিরদিন একসঙ্গে থাকার প্রার্থনায়। কড়োয়া চৌথ-এর একটা বিশেষ দিক হল, অনেক স্বামীও ঐ দিন পত্নীর স্বাস্থ্যকর জীবনের কামনায় উপবাস করেন। এই উৎসব শ্বাশুড়ি ও বৌমার মধ্যে আর এক স্ত্রী ও মায়ের মধ্যে এক অসাধারণ বন্ধন গড়ে তোলার উৎসবরূপেএ পালিত হয় ।কড়োয়া চৌথের দিন সূর্যোদয়ের আগে শ্বাশুড়ি মা, তাঁর বৌমাকে সারগি খেতে দেন, যা হল, ফল, চাপাটি ও তরকারি সমন্বয়ে এক আহার। স্ত্রীর মা আবার উপহার পাঠান যেটা অলঙ্কার, জামা-কাপড় বা খাবার, যা খুশি হতে পারে। উপলক্ষটা হল ভালোবাসা আর ঊষ্ণতা আর এইটাই পরিবারগুলোকে বেঁধে রাখে। কড়োয়া চৌথে মহিলারা, সুসজ্জিত হয়ে, হতে মেহেন্দি লাগানোর পাশাপাশি অসাধারণ অলঙ্কার পরেন চন্দ্রোদয়ের মুহুর্তের প্রতীক্ষায়। লোককথা কড়োয়া চৌথের সঙ্গে রানী বীরবতীর কাহিনীকে জড়িয়ে রেখেছে। ভালোবাসা আর চাওয়ার এই গাথা এই প্রথার রোমান্স আর মর্মস্পর্শীতার সঙ্গে যুক্ত হয়েছে। সাত ভাইয়ের একমাত্র বোন বীরবতীর প্রতি ভাইদের অকৃত্রিম স্নেহ ও ভালোবাসা বর্ষিত হত সব সময়েই। তার প্রথম কড়োয়া চৌথ সে উদযাপন করছিল বাপের বাড়িতে। ভাইয়েরা দেখলেন যে বোন অধীর আগ্রহে চল্দ্রোদয়ের অপেক্ষায়, কেননা, তখনই তিনি উপবাস ভঙ্গ করতে পারবেন। প্রিয় বোনকে ক্ষুধা-তৃষ্ণায় কাতর দেখে ভাইরা একটা মজার পরিকল্পনা করলেন। অশ্বথ গাছে তাঁরা একটা আয়না ঝুলিয়ে দিলেন যাতে, বোনের সেটা দেখে চাঁদ উঠেছে বলে মনে হয় আর তিনি উপবাস ভঙ্গ করেন। কিন্তু যে মুহুর্তে বোনটি উপবাস ভহ্গ করলেন, ঠিক সেই মুহুর্তেই খবর এল যে, তাঁর স্বামী, তিনিও ছিলেন রাজা, পরলোকগমন করেছেন। শোকে, দুঃখে, বীরবতী সারা রাত কাঁদলেন। তাঁর এই শোক ও মর্মবেদনা এক দেবীকে টেনে নিয়ে এল তাঁর কাছে আর সেই দেবী তাঁকে পরদিন সম্পূর্ণ একনিষ্ঠ চিত্তে উপবাস করতে বললেন। মৃত্যুর দেবতা, যম, তাঁর সেই নিষ্ঠা ও ভক্তিতে টলে গেলেন, এবং তাঁর স্বামীকে বাঁচিয়ে দিলেন। বীরবতী স্বামীকে ফিরে পেলেন। এই মনোমুগ্ধকর কাহিনীর নানা রূপ প্রচলিত আছে।, যেগুলো প্রেম ও স্বর্গীয় আবির্ভাবের জয় ঘোষণা করে আর শেষটা সব ক্ষেত্রেই মিলনাত্মক ও মৃত্যুঞ্জয়ী। এই দিনের তিনটি সাজ এখানে তুলে ধরা হয়েছে প্রতিটি উপলক্ষকে সবিশেষ করে তুলতে। সকালের সারগি থেকে শুরু করে জল রাখা আর শেষে চন্দ্রোদয়ের প্রতীক্ষা, যখন চাঁদ আপনার দিকে চেয়ে হেসে ওঠে, এই তিনটি ক্ষণেই আপনাকে আলাদা আলাদা সাজে প্রেক্ষনীয়া ও আকর্ষণীয়া হয়ে উঠতে হবে যে। সকালের সাজ কড়োয়া চৌথ-এর যে কোনো সাজ-এর প্রধান আকর্ষণ হল অলঙ্কার। এই দিনটা কখনোই কোনো কিছু কম করায় বিশ্বাসী নয়। সকালের সাজের আসল লক্ষ্যটা না হয় হলই বা পাঁয়জোড় বা অ্যাঙ্কলেট, একটা রোমান্টিক আর দুষ্টুমি-ভরা গয়না যা আপনার গোড়ালি জড়িয়ে থাকে। পাঁয়জোর রুনু-ঝুনু ঝংকার আপনার দিকে সকলের নজর টানে আর সকলেই বলে আপনাকে কি সুন্দর-ই না দেখাচ্ছে।পাথর-বসানো কংবা কুন্দনের কাজ করা সোনার পাঁয়জোড় পরুন। সঙ্গে থাকুক পেনড্যান্ট দেওয়া সোনার হার আর মুক্তো ও নীলকান্তমণির দুল, যার ঝলক আপনার সূর্যস্পর্শী গাত্রবর্ণে স্তুতির লহর তোলে। এই সমন্বয় সত্যিই দুর্দান্ত। সাধারণত সালওয়ার সুট বা চাপা রঙের লেহেঙ্গাই এই সময়ে সবচেয়ে ভালো মানায়। সুন্দরভাবে বানানো ও ফিট করা নীল, ইয়েলো বা পিংক সালওয়ার সুট আর সেইসঙ্গে বান বা টপ নট হেয়ার স্টাইলে আপনাকে দেখাবে অনাড়ম্বর অথচ গর্জাস! পরিশেষ, সাজ সম্পূর্ণ করতে আরামদায়ক কোনো ফ্যাশন ফুটঅয়্যার বেছে নিন। এই সাজের সঙ্গে আপনি রঙিন, সাধারণত লাল-সাদা, চুড়াও পরতে পারেন, যাতে আপনার মণিবন্ধটি নববধূর ঝলকে ঝকমকিয়ে ওঠে। তা না হলে আপনি যদি এমন সাজ চান, যা একালের হলেও ধ্রুপদী, তবে পরুন হীরক –খচিত বালা, আর, ডায়মন্ড ঝুমকা, সঙ্গে হালকা মেক-আপ আর সাজ হয়ে উঠুক পূর্বজ। সন্ধ্যার সাজ এটাই হল সেই সময়, যখন আপনি চাইবেন সেরা সাজে সেজে উঠতে –আপনার বিয়ের সাজ। মীনাকারি বা হাতে গড়া সনাতনী অলঙ্কারের কথা, যেগুলো আপনি সবসময়েই চাইতেন। একটা মুক্তো আর চুনি দেওয়া হাঁসুলি হার পরুন আর সঙ্গে ড্যাংলার। জমকালো একটা লেহেঙ্গা বা শাড়ি পরুন নতুন বৌদের মত লাল আর সোনালী রঙে মেলানো ও সেই সঙ্গে জাডাউ বা শ্যাম্পেন স্টোন হারের সেট, যেটা সাজের মাত্রায় সাযুজ্য আনবে আর এনে দেবে চোখ ধাঁধানো ফিনিশ। যদি আপনি ভাবেন যে বাড়ির ছাদে থেকে আত্মীয়-বন্ধুদের সঙ্গে কড়োয়া চৌথ উদযাপন করবেন, তাহলে আমাদের পরামর্শ, আপনি টোপ নট করে চুল বাধুন। শ্লীভলেস বা স্ট্রাপ দেওয়া চোলির সঙ্গে জারদোজি কাজের শাড়ী বা ঘাগরা পরুন। ঝোলানো ডায়মণ্ড এয়াররিং, স্লিক একটা হার, ছ থেকে আটগাছা চুড়ি আর চুলে কিছু ফুল, এতেই আপনার সাজ সম্পূর্ণ হয়ে যাবে। কড়োয়া চৌথ শীতের আগমনের সঙ্গে তাল মিলিয়ে আসে আর আপনাকে ভারী গয়না পরাটা এড়িয়ে গেলে চলবে না। তবে, আপনি যদি কোনও একটির ওপর নজর টানতে চান, তাহলে কল্যাণ জুয়েলার্স-এর সংকল্প কালেকশন থেকে মাঙ্গ টিক্কা দেখে নিন। প্রতিটা পিসই একটা না একটা গল্প বলে। সূক্ষ ডিটেলিঙ্গ, অসামান্য ডিজাইন, আর রত্নগুলোর নির্বাচন এটা পরার পর আপনাকে সেই সুন্দরী রানীর চেয়ে কিছুমাত্র কম ভালো দেখায় না, যিনি 365 দিন ধরে রোজ একটা করে ছুচ করোরা থেকে বের করে স্বামীকে বাচিয়েছিলেন আর সেই থেকেই এই সুন্দর পরম্পরা শুরু করেছিলেন যা কালের পরীক্ষায় উত্তীর্ণ হয়েছে। শিকাপুরী নথ-এ লগ্নি করুন, এ এক বিরাট নথ আর সংগের চেনে একটা ছোট্ট পেনড্যাণ্ট লাগানো। শিকাপুরী নথ খুব ডেলিকেট হয়েও ঐশর্যময়ী আর এটা অন্য যেকোনো অলঙ্কারকে ম্লান করে দেবে। লওঙ্গ অবশ্য ছোট স্টাডের বা একটা নাকবেধানো ধরনের আর ঠিক সেটাই যেটা আপনার পছন্দ হতে পারে যদি আপনি একটু কম প্রকাশ ভালবাসেন। এই সাজের সঙ্গে সবচেয়ে ভাল যায় বা সত্যি বলতে যে কোনও সাজের সঙ্গেই, এই কথা ভাবলে যে কী অসাধারণ অলংকার এটি, তা হল চোকার। যেমন, একটা রানীহার সেট সহ একটি চোকারের কথা ভাবুন যা আপনার সুস্পষ্ট কলার বোনের ওপরে দারুন মানাবে।আর আপনি যদি একটু বাড়াবাড়ি করা নিয়ে তেমন চিন্তিত না হন, তাহলে বরং একটা ইউ-আকৃতির সাতলরা নেকলেস যোগ করার চেষ্টা করুন । এই গয়নার সমন্বয় আপনাকে রাণীর মতই সুন্দরী করে তুলবে। আপনি যখন চাঁদ দেখতে ব্যস্ত থাকবেন তখনকার সাজ ব্লিঙ পড়ুন। এই সাজের সঙ্গে সবচেয়ে ভাল যায় লেহেঙ্গা। আমাদের পরামর্শ হল আপনার প্রিয় রঙের উজ্জ্বল শেড-এর লেহেঙ্গা পরুন। মেক আপের কথা উঠলে বলি যখন আপনি সবচেয়ে বেশি করে চোখের মেক আপের দিকে নজর দিতে চাইবেন, হয়ত, একটি সাহসী ক্যাট-বিংড আইলাইনার বা এক মায়াময় ধূমাভ চোখের সাজ বা এমনকি কাটা ক্রিজ। এর সঙ্গে থাকুক রেড বা কোরাল লিপস্টিক প্রচুর গ্লস সমেত। জুয়েলারীর ক্ষেত্রে আমরা বলব কল্যাণ জুয়েলার্স-এর সংকল্প কলেকশন থেকে বালিজ বেছে নিতে। এগুলো দারুন সুন্দর এয়ারিংস, সাধারণত গোল বা অর্ধচন্দ্রাকৃতি, পাথর –খচিত। আপনি এটা আংটি-র সঙ্গে মিলিয়েও পরতে পারেন, মানে যেটা এঙ্গেজমেণ্ট রিং আর কী। এরসঙ্গে যোগ করা যায় উঝুরি মুদ্রা সোনার নেকলেস যা আপনার পুরো সাজটাকে আরো সৌন্দর্যপূর্ণ করে তুলবে। বিবাহিত মহিলাদের উত্‍সবের সাজ সম্পূর্ণ হয় না চুড়ি, মঙ্গলসূত্র, টিপ, বিয়ের আংটি আর সলিটেয়ার স্টাডস ছাড়া। সংকল্প কলেকশনের পিসগুলো আধুনিক নারীর ভাবভঙ্গির সঙ্গে মানানসই, সেই সব নারী যারা জীবন সঙ্গীর প্রতি ভালোবাসার প্রতীক স্বরূপ কড়োয়া চৌথ উদযাপন করেন। এই অলংকার সম্ভারটি ঐতিহ্য দ্বারা অনুপ্রাণিত, পছন্দের স্বাধীনতায় সমাদৃত, এবং ভারতীয় মূল্যবোধের প্রতি অন্তস্থ সম্মানের জন্য স্বতন্ত্রভাবে চিহ্নিত। এবার, উদযাপন করুন সেই মহিলার জন্য যিনি আপনার জন্য উপবাস করেন বা আপনার পাশে থেকে উপবাস করেন, তাকে একটি হাতে কারুকাজ করা অলংকার বা একটি সলিটেয়ার আংটি দিয়ে যাতে তিনি সবসময়ে এই বিশেষ রাতটা মনে রাখেন। তিনি যখন চাঁদ দেখা সেরে ফেলেছেন আর আপনার-ই দিকে তাকিয়ে রয়েছেন, ঠিক সেই সময়ে তাকে উপহারটি দিন। আত্মীয়-বন্ধুদের মধ্যে, মিউজিক আর খাবার-দাবারের মধ্যেও কয়েকটা না-বলা-কথা সহ এই মুহূর্তটি জীবন্ত হয়ে থাকবে চিরদিন।
Publisher: Kalyan Jewelers

Can we help you?