Kalyan Jewellers, Madinat Zayed Extension, Abu Dhabi

Shop No-11, 12, & 13, Ground Floor, Madinat Zayed Extension
Abu Dhabi- 43680

(971)800-0320955

Call Now

Opens at

Articles

രത്നങ്ങളുടെ രാജ്ഞി എന്നും അറിയപ്പെടുന്ന മുത്തുകൾക്കൊപ്പം ശാക്തീകരണ ചിഹ്നത്തിലൂടെ പ്രൗഢി വെളിപ്പെടുത്തുന്നു.

On
മുത്തുകൾ 'രത്നങ്ങളുടെ രാജ്ഞി' എന്നാണ് അറിയപ്പെടുന്നത് അത് ശരിയാണു താനും. ആരും അത് നിത്യേന അണിയുന്നില്ല. മുത്തുകൾ കോർത്ത ഒരു ചരടിനൊപ്പം വിസ്മയിപ്പിക്കുന്ന ഒരു രൂപഭാവം നേടിയെടുക്കുന്നതിന് ഒരു പ്രത്യേക വൈശിഷ്ട്യവും മനോഹാരിതയും ആവശ്യമാണ്. ഭൂമിയുടെ ആഴങ്ങളിൽ നിന്ന് ഖനനം ചെയ്തെടുക്കുന്ന മറ്റ് ആഭരണങ്ങളിൽ നിന്നു വ്യത്യസ്തമായി, കടലിന്റെ ഹൃദയത്തിൽ നിന്നു വരുന്നതിനാൽ മുത്തുകൾ നിസ്തുലമാണ്. ഈ അപൂർവ രത്നങ്ങൾ ശേഖരിക്കുന്നതിനു വേണ്ടി സമുദ്രത്തിന്റെ ആഴങ്ങളിലേക്ക് മുങ്ങാംകുഴിയിടുന്ന പ്രക്രിയയാണ് മുത്തുവാരൽ. പുറംതോടുള്ള കല്ലിന്മേൽ കായ്ക്കുള്ളിൽ സംഭവിക്കുന്ന അവിശ്വസനീയമായ ഒരു പ്രതിഭാസമാണ് മുത്തുകൾ. പൊടിയോ മണലോ പോലെയുള്ള ഒരു ബാഹ്യവസ്തു കല്ലിന്മേൽ കായുടെയുള്ളിൽ പ്രവേശിക്കുമ്പോൾ, ഈ കടൽജീവി നാക്രെ എന്നറിയപ്പെടുന്ന ഒരു പദാർത്ഥം ആ ബാഹ്യവസ്തുവിനു ചുറ്റുമായി സ്രവിക്കുന്നു അതാണ് വർഷങ്ങൾ കൊണ്ട് തിളക്കമുള്ള ഒരു മുത്തായി മാറുന്നത്. പ്രകൃതിദത്തമായ വിധത്തിൽ ഒരു മുത്ത് രൂപം കൊള്ളുന്നതിന് രണ്ടര വർഷത്തിലധികം എടുക്കും. ഏതെങ്കിലും രണ്ട് മുത്തുകൾ ഒരേ വലിപ്പമോ ആകൃതിയോ തിളക്കമോ ഉള്ളതല്ലാത്തതിനാൽ ഓരോ മുത്തും നിസ്തുലമാണ്. യുഗങ്ങൾക്കു മുൻപേ സ്ത്രീകളുടെ സൗന്ദര്യ വർദ്ധനവിന് മുത്തുകൾ ഉപയോഗിച്ചു പോരുന്നുണ്ട്. പുരാതന ഗ്രീക്ക് ചരിത്രത്തിലും ഈജിപ്തിലെ ഫറവോമാരുടെ കാലത്തും ശക്തമായ ചൈനീസ് രാജകുലങ്ങളിലും രാജോചിത മുഗൾ സമ്രാജ്യത്തിന്റെ കാലത്തും, രാജവംശങ്ങളുടെ ഖജനാവിൽ മുത്തുകൾക്ക് പ്രത്യേകം സ്ഥാനമുണ്ടായിരുന്നു. രാജാവിന് ഏറ്റവും അടുപ്പമുള്ളവർക്ക് മുത്തുകൾ സമ്മാനിക്കുകയും രാജവംശത്തിലെ സ്ത്രീകൾ അവ ഗംഭീരമായ രീതിയിൽ അണിയുകയും ചെയ്തിരുന്നു. ഇന്നും മുത്തുപതിച്ച ആഭരണങ്ങൾക്ക് ഏതൊരു സ്ത്രീയുടെ ഹൃദയത്തിലും അവളുടെ അലമാരയിലും വ്യക്തമായ സ്ഥാനമുണ്ട്. ശുദ്ധമായത് ആയതിനാലും ക്രീമുകളും രാസവസ്തുക്കളുമായി നിരന്തരം ചേർത്തുവയ്ക്കപ്പെടുന്നതിൽ നിന്ന് കേടുസംഭവിക്കാം എന്നതിനാലും, പ്രത്യേക അവസരങ്ങളിൽ മാത്രമേ മുത്തുകൾ ധരിക്കാവു എന്ന് ഉപദേശിക്കുന്നു. ലളിതമായ മുത്തുപതിച്ച ഒരു മൂക്കുത്തി തന്നെ രാജകീയ രൂപഭാവം പകരാൻ പര്യാപ്തമാണ്. മുത്തു പതിച്ച മൂക്കുത്തികൾ ഓഫീസ് വേഷത്തിനൊപ്പം ധരിക്കാൻ പറ്റിയതുമാണ്. മുത്തുപതിച്ച ബ്രേസ്ലെറ്റുകൾ അല്ലെങ്കിൽ വളകൾ നിത്യേന ധരിക്കുന്നത് ഒഴിവാക്കണം കാരണം അവ തേഞ്ഞ് തീരാനുള്ള സാധ്യത വളരെ കൂടുതലാണ്. ഗംഭീര മോടിക്ക്, മുത്തു പതിച്ച ചാന്ദ്ബാലി കമ്മലുകൾ തീർച്ചയായും തിരഞ്ഞെടുക്കാവുന്നതാണ്. വധുവിന്റെ വേഷഭൂഷാദിയിൽ സ്വർണ്ണവും വജ്രവും കൊണ്ടുള്ള ആഭരണങ്ങൾക്കാണ് പ്രാമുഖ്യമെങ്കിലും, പ്രസ്തുത അവസരത്തിന്റെ പ്രാധാന്യം കണക്കിലെടുക്കുമ്പോൾ മുത്തു പതിച്ച ആഭരണങ്ങൾക്ക് അവയുടേതായ തനത് സ്ഥാനമുണ്ട്. ഗംഭീര ചോക്കർസ് മുതൽ നിരയായുള്ള നീണ്ട നെക്ലേസുകൾ വരെ, മുത്തു് പതിച്ച ആഭരണങ്ങൾക്ക് ഒറ്റ നോട്ടത്തിൽ നിങ്ങളുടെ രൂപഭാവത്തിന് പ്രതാപം പകരാൻ കഴിയും. നേർ വിപരീതമായി, ഒരു ഔദ്യോഗിക കൂടിച്ചേരലിന് യോജിച്ച പ്രൗഢവും മനോഹരവുമായ രൂപഭാവം പൂർണ്ണമാക്കാൻ മുത്തുകൾ കോർത്ത ലളിതമായ ഒരു ചരടിനു കഴിയും. മുത്തുപതിച്ച ആഭരണങ്ങളെ സംബന്ധിക്കുന്ന ആകർഷകമായ ഒരു ഘടകം ഓരോ അവസരത്തിനും ഓരോ വ്യക്തിയുടെയും മുൻഗണനയ്ക്കും യോജിച്ച വിധത്തിൽ ഏറ്റവും രമണീയമായി അത് സ്റ്റൈൽ ചെയ്യാൻ കഴിയുമെന്നതാണ്.
Publisher: Kalyan Jewellers

அதிகாரத்தின் ஒரு சின்னமாக ஆபரணக் கற்களின் ராணி எனப்படும் முத்துக்கள்

On
முத்துக்கள் ‘ ஆபரணக் கற்களின் ராணி’ எனக் கூறப்படுகிறது. இதை மெய்ப்பிக்கும் வகையில் முத்துக்களை எல்லோரும் அணிவதில்லை. பெரும்பாலும் தினந்தோறும் அணிவதில்லை. முத்துச்சரம் அணிந்து திகைக்க வைப்பதற்கு ஒருவிதமான வர்க்கம் மற்றும் நளினம் இருக்க வேண்டும். முத்துக்கள், மண்ணுக்கு அடியில் இருந்து தோண்டி எடுக்கப்படும் மற்ற ஆபரணக்கற்களைப் போன்றவை அல்ல. முத்துக்கள் கடலுக்கு அடியில் இருந்து கிடைக்கின்றன. ஆழ்கடலுக்குள் முக்குளித்துச் சென்று முத்துக்கள் எடுக்கப்படுகின்றது. இம் முத்துக்கள் சிப்பி ஓட்டுக்குலிருந்து உருவெடுக்கின்றன. அந்த வகையில் முத்துக்கள் உருவெடுப்பது நம்புவதற்குறிய ஒரு தோற்றமாகும். சிப்பியின் வயிற்றுக்குள் தூசு அல்லது மணல் போன்ற வெளிப்பொருட்கள் நுழையும்போது அவற்றைச் சுற்றிலும் ஒருவிதமான பிசின் போன்றசுறபி வயிற்றுக்குள் சுரந்து காலப்போக்கில் அவை முத்துக்கள் ஆகி பளபளக்கும் ஆபரணங்களாகி விடுகின்றன. ஒரு முத்து இயற்கையாக உருவெடுப்பதற்கு இரண்டரை ஆண்டுகளுக்கு மேல் ஆகின்றது. ஒவ்வொரு முத்தும் தனித்தன்மை வாய்ந்தவை. ஏனென்றால் ஒரே அளவில், ஒரே வடிவத்தில், ஒரே விதமான பளபளப்புடன் அனைத்து முத்துக்களும் இருப்பதில்லை. காலங்காலமாக பெண்களை அழகுபடுத்திட முத்துக்கள் பயன்படுத்தப்பட்டு வருகின்றன. பண்டைய கால கிரேக்க வரலாற்றில் இருந்து எகிப்தின் பரோவாக்கள் வரை பலம்வாய்ந்த சீன அரச வம்சங்கள் முதல் மொகலாயப் பேரரசுகள் வரை அரச கருவூலங்களில் முத்துக்களுக்கெனத் தனியிடம் இருந்து வந்துள்ளது. மன்னர்களின் நெருக்கத்தைப் பெற்றவர்களுக்கு முத்துக்கள் அன்பளிப்பாகவும் அளிக்கப்பட்டுள்ளது. அரச குலப் பெண்கள் முத்துக்களை அணிந்து கம்பீரமான தோற்றமளித்துள்ளனர். இன்றைக்கும் கூட, முத்து நகைகள் என்றாலே பெண்களின் இதயத்திலும், அவர்களின் ஆடை அலங்காரங்களிலும் தனி இடம் உண்டு. முத்துக்கள் மிகவும் நுட்பமானவை. அவை முகக் களிம்பு, ரசாயனப் பொருட்கள் போன்றவை அவற்றின் மீது தொடர்ந்து பட்டுக்கொண்டே இருக்குமானால் அவை சேதமடையக்கூடும். எனவே ஒரு விசேஷமான நாட்களில் மட்டுமே முத்து நகைகளை அணியும்படி பரிந்துரைக்கப்படுகிறது. ஒற்றை முத்து பதித்த நகை அணியும் பொழுது உயர்ந்த மற்றும் அழகான தோற்றத்தைத் தரும் . முறையான அலுவலக உடை அணியும்போது முத்துத் தோடுகளை அணிவது நன்றாக இருக்கும். முத்துக்கள் பதிக்கப்பட்ட காதணிகள் கைச்சங்கலிகள் அல்லது வளையல்களை தினசரி நகைகளாக அணியக் கூடாது. ஏனென்றால், அவை உடைந்து சிதறிவிடக்கூடிய அபாயம் அதிகமாக உள்ளது. கோலாகலமான கொண்டாட்டங்களுக்கு, முத்துக்கள் பதிக்கப்பட்ட பிறைநிலாக் காதணிகள் மிகவும் பொருத்தமானதாக இருக்கும். மணப்பெண்ணின் அலங்காரங்களில் தங்கம் மற்றும் வைர நகைகள் முக்கிய இடம் வகித்தாலும், சமய சந்தர்ப்பத்தைப் பொறுத்து முத்து நகைகளுக்கென தனியாக ஓர் இடம் உள்ளது. கழுத்து மற்றும் கழுத்திலுருந்து இருந்து அடுக்கடுக்கான நீளமான கழுத்து மாலைகள் வரை முத்து நகைகள் உங்களுடைய தோற்றத்திற்கு ஒரு விதமான மாற்றத்தையும் தோரனையையும் தருகின்றன. இதற்கு மாறாக, முத்துக்கள் கோர்க்கப்பட்ட ஒற்றைச் சரடு நளினமான ஒர் உயர்வான தோற்றத்தைக் கொடுத்து, முறையான கூட்டங்களுக்கு உங்களை பொருத்தமானவராக ஆக்குகின்றது. ஒவ்வொரு சந்தர்ப்பத்திற்கும் பொருத்தமாக, ஒவ்வொரு நபரின் விருப்பத்திற்கும் ஏற்ப முத்து நகைகளை அழகான பாணியிலும், மிகவும் கவர்ச்சிகரமான வகையிலும் உருவாக்கலாம் என்பது முத்து நகைகளின் சுவையான அம்சமாகும்.
Publisher: Kalyan Jewellers

വധുവിനുള്ള ആഭരണങ്ങൾ തിരഞ്ഞെടുക്കുന്നതിൽ തുടക്കക്കാർക്കുള്ള മാർഗ്ഗനിർദ്ദേശം

On
ഇന്ത്യ അനേകം കാര്യങ്ങൾക്ക് അതിപ്രശസ്തമാണ്. ആ പട്ടികയിൽ മുൻനിരയിലുള്ളത് നമ്മുടെ വിവാഹങ്ങളും അതിന്റെ ആഡംബരത്തികവുമാണ്. ഗംഭീരമായി വസ്ത്രധാരണം ചെയ്ത ഏകദേശം രണ്ടായിരം പേരുടെ കൂട്ടത്തിൽ നിന്ന് ഇന്ത്യൻ വധുവിനെ അനായാസം തിരിച്ചറിയാനാകും എന്നത് ആശ്ചര്യപ്പെടുത്തുന്നതാണ്. ഇതിനുള്ള കാരണം അവളുടെ ആഡംബരവും മനോഹാരിതയും നിറഞ്ഞ ഹരവുമായ ചിഹ്നങ്ങളും കണ്ണഞ്ചിപ്പിക്കുന്ന ആഭരണങ്ങളുടെ കൂട്ടവുമാണ്. ഒരു വധുവിനെ അണിയിച്ചൊരുക്കുന്ന കാര്യം വരുമ്പോൾ ശരിയായ ആഭരണങ്ങൾ തിരഞ്ഞെടുത്ത് അണിയുക എന്നത് വളരെ പ്രധാനപ്പെട്ടതാണ്. അതിനാൽ അനേക വർഷങ്ങളിലൂടെ സ്വരുക്കൂട്ടിയ സമ്പാദ്യം ആഡംബരം വിളംബരം ചെയ്യാനുപയോഗിക്കുന്നതിനു മുൻപ് നമ്മൾ എന്താണ് മനസ്സിൽ സൂക്ഷിക്കേണ്ടത്? നമുക്കു പരിശോധിക്കാം. വസ്ത്രത്തിന്റെ കഴുത്തു ഭാഗവും നെക്ലേസും ഒരു ടിപ്പിക്കൽ ഉത്തരേന്ത്യൻ വിവാഹത്തിൽ, വധു സാധാരണയായി ധരിക്കുന്നത് കല്ലുകളും പട്ടുനൂലും ഉപയോഗിച്ച് നെയ്തെടുത്ത സങ്കീർണ്ണമായ ധാരാളം ഡിസൈനുകളുള്ള കണ്ണഞ്ചിപ്പിക്കുന്ന ഒരു ലഹംഗ ആണ്. ഈ വേഷം ബോട്ട് നെക്ക്, സ്വീറ്റ്ഹാർട്ട് മുതൽ കുത്തിയിറക്കിയത് വരെ ഏത് കഴുത്തുഭാഗവും ഉപയോഗിച്ച് ഡിസൈൻ ചെയ്യാൻ കഴിയും. ഈ വിവാഹ വേഷം ചോക്കർ അല്ലെങ്കിൽ നീണ്ട നെക്ലേസ് അതല്ലെങ്കിൽ രണ്ടിന്റെയും മിശ്രണം പോലെ ഉചിതമായ കണ്ഠാഭരണം ഉപയോഗിച്ച് പൊരുത്തപ്പെടുത്തേണ്ടത് പ്രധാനമാണ്. വളരെയേറെ മുകളിലാകുന്നതും തൊങ്ങലുകളും വജ്രങ്ങളും കൊണ്ട് നിങ്ങളുടെ ശരീരത്തിന്റെ ഓരോ പ്രതലവും നിറയ്ക്കുകയും ചെയ്യുന്നത് നിങ്ങൾ ഒരു ഡിസ്കോ ബോൾ പോലെ കാണപ്പെടാനേ ഉപകരിക്കൂ. വേഷത്തോടൊപ്പം നിങ്ങളുടെയും സൌന്ദര്യം പുറത്തുകൊണ്ടുവരുന്ന ആഭരണം തിരഞ്ഞെടുക്കുന്നു എന്ന് ഉറപ്പാക്കുക. ലോഹങ്ങൾ രസകരമായി മിശ്രണം ചെയ്യുക സ്വർണ്ണം, പ്ലാറ്റിനം, വൈറ്റ് ഗോൾഡ്, റോസ് ഗോൾഡ് തുടങ്ങിയവ കൊണ്ട് നിർമ്മിച്ച ആഭരണങ്ങൾ മിശ്രണം ചെയ്യുന്നത് നിങ്ങൾ പ്രാകൃത രൂപത്തിൽ കാണപ്പെടാൻ ഇടയാക്കും എന്നത് സാധാരണ വിശ്വാസമാണ്. എന്നാൽ ബുദ്ധിപൂർവും രസകരവുമായി അവ ഇണക്കിച്ചേർക്കുന്നത് എപ്പോഴും ഒരു വിജയമാകാൻ കഴിയും. നിങ്ങളുടെ ലോഹങ്ങൾ കരുതലോടെ മിശ്രണം ചെയ്യുന്നത് നിങ്ങൾക്ക് ഏറ്റവും ആകർഷണീയമായ വധുവിന്റെ രൂപഭാവം പകരും. നിറങ്ങൾ കൂട്ടിക്കലർത്തരുത് വിവിധ നിറങ്ങളിലുള്ള രത്നക്കല്ലുകൾ ആകർഷമാണെന്നതും ശരിയായ വേഷത്തിനൊപ്പം ചേർക്കുമ്പോൾ മനോഹരമായി കാണപ്പെടുമെന്നതും ശരി തന്നെ. എന്നാൽ ഒരു പ്രത്യേക രൂപഭാവത്തിനു വേണ്ടി പല നിറങ്ങൾ അണിയുന്നത് നല്ല ആശയമല്ല. ഉദാഹരണത്തിന്, നിങ്ങളുടെ വിവാഹ വേഷത്തിന് ഒരു പേസ്റ്റൽ ഷേഡാണ് ഉള്ളതെങ്കിൽ, ഒരു ഉജ്വല നിറം മാത്രമുള്ള രത്നക്കല്ലു പതിച്ച ആഭരണം ധരിക്കുക. ഉജ്വലമായ ഒരു വിവാഹ വേഷത്തിന്, അലംകൃതമല്ലാത്ത നിറത്തിലുള്ള രത്നക്കൽ ആഭരണമാകും നന്നായി ഇണങ്ങുക. നിങ്ങളുടെ വിവാഹ വേഷത്തിന് ഇണങ്ങുന്ന ആഭരണങ്ങൾ തിരഞ്ഞെടുക്കുക വിവാഹവേഷം ഗംഭീരമായിരിക്കുമ്പോൾ, വേഷത്തിന്റെ സൌന്ദര്യവും പ്രതാപവും വെളിച്ചത്തു കൊണ്ടുവരുന്ന ആഭരണത്തിന്റെ ലളിതമായ സെറ്റ് ആയിരിക്കുന്നതാണ് വിവേകം. അതിനു വിപരീതമായി, നിങ്ങളുടെ വിവാഹവേഷം ലളിതമായ ഒന്നാണെങ്കിൽ, ഒരു സമ്പൂർണ്ണ മോടിപകരുന്ന ഇന്ത്യൻ വിവാഹത്തിന്റെ മിനുക്കുപണി പകരുന്ന ധീരവും പ്രതാപമുള്ളതുമായ ആഭരണങ്ങൾ അണിയുക. വിശേഷ ദിനത്തിനു വേണ്ടി നിങ്ങളുടെ മുഴുവൻ ആഭരണങ്ങളും ധരിക്കരുത് മഹത്തായ ഇന്ത്യൻ വധൂവേഷത്തിന്റെ മിനുക്കുപണികളെപ്പറ്റി പറയുമ്പോൾ, നിങ്ങളുടെ ആഭരണപ്പെട്ടി കാലിയാക്കി എല്ലാം കൂടി ഒരുമിച്ച് ധരിക്കാൻ പാടില്ല എന്നത് ശ്രദ്ധിക്കണം. ഏറ്റവും ശരിയായ ഇനം തിരഞ്ഞെടുത്ത് മൊത്തത്തിലുള്ള പരിഷ്കൃതമായ ഒരു രൂപഭാവത്തിനു വേണ്ടി അവ കലാപരമായി ഇണക്കിച്ചേർക്കണം. ഒരു പ്രത്യേക രൂപഭാവം കൈവരിക്കുന്നതിനു വേണ്ടി ചിലപ്പോൾ മുഴുവൻ ആഭരണങ്ങളും പുറത്തെടുക്കുന്നത് വിവേകപൂർണ്ണമായെന്നും വരാം. വിവാഹ ആഘോഷത്തിനപ്പുറം ചിന്തിക്കുക വിവാഹ ആഘോഷങ്ങൾ നീളുന്നത് കുറെ ദിവസം മാത്രമാണ് എന്നാൽ ആഭരണങ്ങൾ അനേക വർഷത്തേക്ക് നീളാൻ പോകുന്നവയാണ്. അതിനാൽ ഒരെണ്ണത്തിന്മേൽ ആഡംബരം കാട്ടുന്നതിനു മുൻപ് മറ്റു വേഷങ്ങളുമായി ചേർത്ത് വീണ്ടും ഉപയോഗിക്കുകയും ഇണക്കുകയും ചെയ്യുന്നതിനെപ്പറ്റി ആലോചിക്കുക. നിങ്ങളുടെ അടുക്കിന്റെ കളി മനസ്സിലാക്കുക: ദക്ഷിണേന്ത്യൻ വധു സ്പെഷ്യൽ ഒരു സാധാരണ ദക്ഷിണേന്ത്യൻ വധു സാധാരണയായി പളപളപ്പുള്ള പട്ടു സാരിക്കൊപ്പം ചോക്കർസ് തുടങ്ങി ചെറിയതു മുതൽ നീളമേറിയതു വരെയുള്ള നെക്ലേസുകൾ ധരിച്ചാണ് അണിഞ്ഞൊരുങ്ങുന്നത്. നെക്ലേസുകളുടെ ഒരു നിര ക്രമീകരിക്കേണ്ടത് സുപ്രധാനമാണ് കാരണം അതിന് ഒരു നല്ല രൂപം സൃഷ്ടിക്കാനോ നശിപ്പിക്കാനോ കഴിയും. അവസാനമായി പറയാനുള്ളത്, വധു കൈവരിച്ച രൂപഭാവം നിങ്ങൾ എന്ന വധുവിന് ഇഷ്ടപ്പെടണം എന്നതാണ് ഏറ്റവും പ്രധാനപ്പെട്ട കാര്യം. അതിനാൽ സ്വന്തം സ്വത്വം നിലനിർത്തി നിങ്ങൾക്ക് സന്തോഷം നൽകുന്ന ആഭരണങ്ങൾ തിരഞ്ഞെടുക്കുക. സുന്ദരിയായ ഒരു വധുവാകുക എന്നത് സ്വമേധയാ സംഭവിച്ചുകൊള്ളും.
Publisher: Kalyan Jewellers

மணப்பெண்ணுக்கு நகைகளைத் தேர்ந்தெடுப்பதில் அழைப்பு வழிகாட்டி

On
இந்தியா பல விஷயங்களுக்கு பெயர் பெற்றது. இந்தப் பட்டியலில் முதலிடம் வகிப்பது நமது திருமணங்கள் மற்றும் அதனுடன் சேர்ந்த கொண்டாட்டங்கள். தோரணையாக உடையணிந்த சுமார் இரண்டாயிரம் பேர் திரளும் எந்த ஒரு இந்தியத் திருமண நிகழ்ச்சியிலும் மணப்பெண்ணை மிகச் சுலபமாக அடையாளம் கண்டு கொள்ளலாம். மணப்பெண்ணின் அழகு மிளிரும் எடுப்பான அலங்காரங்களும், அவள் அணிந்திருக்கும் கவர்ச்சியான நகைகளும் அவளை தனியாக எடுத்துக் காட்டும். மணப்பெண்ணுக்கு அலங்காரம் செய்யும்போது சரியான நகைகளைத் தேர்ந்தெடுக்க வேண்டியது மிகவும் முக்கியமாகும். பல ஆண்டுகளாகக் கஷ்டப்பட்டு சம்பாதித்து சேமித்த பணத்தைக் கொண்டு மணப்பெண்ணுக்கு நகைகள் வாங்கும்போது நாம் எதைக் கவனத்தில் கொள்ள வேண்டும்? வாருங்கள் பார்க்கலாம். கழுத்து அட்டியல், கழுத்துச் சங்கிலி (அ) பதக்கமாலை வட இந்தியத் திருமணங்களில் மணப்பெண்ணுக்கு வழக்கமாக பளிச்சென மின்னும் தாவணியை அணிவிப்பார்கள். அதில் பட்டுநூலில் வைத்து கோர்க்கப்பட்ட ஆபரணக் கற்கள் மிகவும் நுட்பமாக நெய்யப்பட்டிருக்கும். இந்த தாவணியில் படகு போன்ற சங்கு கழுத்தில் இருந்து இனிமையான இதய வடிவிலும், தாழ்வாக கீழ்நோக்கி இறங்குவது போலவும் கழுத்து அட்டியல் வடிவமைக்கப்பட்டிருக்கும். இந்த திருமண ஆடைக்குப் பொருத்தமான வகையில் கழுத்தில் அட்டிகை அணிவது பொருத்தமானதாக இருக்கும். அல்லது நீளமான கழுத்துமாலை அல்லது இரண்டையும் சேர்த்து அணியலாம். உடம்பின் எல்லா இடங்களிலும் ஆடை மீது அளவுக்கு அதிகமாக வைரங்களாலும், மினுமினுக்கும் ஆபரணக் கற்களாலும் அலங்கரிப்பது உங்களுக்கு ஏதோ ஒரு வகை நடனத்தின் தோற்றத்தைத்தான் கொடுக்கும். ஆடையின் அழகையும், உங்களின் அழகையும் உயர்த்தி காட்டும் நகைகளைத் தேர்ந்தெடுக்க வேண்டியது அவசியமாகும். நகை உலோகங்களை அழகுறக் கலந்து பயன்படுத்துதல் தங்கம், பிளாட்டினம், வெள்ளை தங்கம், இளஞ் சிவப்பு தங்கம் போன்ற உலோகங்களைக் கலந்து நகைகளை அணிந்தால் உங்கள் தோற்றம் அழகுகுறைந்து காணப்படும் என்று பொதுவாக நம்பப்படுகிறது. ஆனால், புத்திசாலித்தனமாகவும், அழகாகவும் நகை உலோகங்களை கலந்து உபயோகித்தால் அது உங்கள் தரத்தை உயர்வாக காட்டும். உலோகங்களைக் கவனமாக கலந்து பயன்படுத்தும்போது அது உங்களுக்கு அற்புதமான மணப்பெண் தோற்றத்தைக் கொடுக்கும். வண்ணங்களைக் கலக்க வேண்டாம் வெவ்வேறு நிறங்களிலான ஆபரணக் கற்கள் எடுப்பாக இருக்கும் என்பது உண்மைதான். சரியான உடைகளுடன் சேர்த்து இந்தக் வண்ண வண்ண ஆபரணக் கற்களை அணியும்போது அது அழகுக்கு அழகுகூட்டுவதாக இருக்கும். ஆனால், ஒற்றை தோற்றம் பலவகைக் வண்ணங்களில் நகைகளை அணிவது பொருத்தமாக இருக்காது. உதாரணமாக, துளிர் நிழலில உங்களுடைய திருமண ஆடை இருக்குமானால், பிரகாசமான ஒரே ஒரு ஒற்றைக் வண்ணத்தில் ஆபரணக்கல் நகை அணியுங்கள். பிரகாசமான மணப்பெண் ஆடைக்கும் மென்மையான வண்ணத்தில் ஆபரணக் கல் நகைகள் பொருத்தமாக இருக்கும். உங்களுடைய திருமண ஆடைக்கு பொருத்தமான நகைகளைத் தேர்ந்தெடுங்கள் திருமண ஆடை பிரம்மாண்டமாக இருக்கும்போது, ஆடையின் அழகையும், தோரணையும் தனியாக எடுத்துக் காட்டும் வகையில், சாதாரண ஜோடி நகைகளின் தோரணையும் புத்திசாலித்தனம். மாறாக, உங்களுடைய திருமண ஆடை சாதாரணமாக இருக்குமானால், உங்களுக்கு முற்றிலும் பிரம்மாண்டமான இந்திய மணப்பெண் தோற்றத்தைக் கொடுக்கும் அதனால் எடுப்பான நகைகளை அணியுங்கள். திருமண நாளில் அனைத்து நகைகளையும் அணிய வேண்டாம் பிரம்மாண்டமான இந்திய மணப்பெண் தோற்றம் என்று வரும்போது, நகைப்பெட்டியில் உள்ள அனைத்து நகைகளையும் எடுத்து அணிந்து கொள்வதால் மட்டும் பிரம்மாண்டமான தோற்றம் வந்து விடாது. ஒட்டுமொத்தமான பளிச்சென்ற தோற்றத்திற்காக பொருத்தமான நகைகளைக் கலைநயத்துடன் தேர்ந்தெடுத்து அணிவதுதான் சிறப்பு. சில சமயங்களில், ஒரு குறிப்பிட்ட தோற்றத்தைப் பெறுவதற்காக, அதிகமான நகைகளை கழற்றி வைப்பதும் புத்திசாலித்தனமாகும். திருமணக் கொண்டாட்டங்களுக்கு பிறகும் சிந்தியுங்கள் திருமணக் கொண்டாட்டங்கள் சில நாட்களுக்குத்தான் நீடிக்கும். ஆனால் நகைகள் பல வருடங்களுக்கு தொடர்ந்து நீடித்து வரக்கூடியது. எனவே, ஒரு நகையைத் தேர்ந்தெடுத்து வாங்கும்போது, அதை மறுபடியும் பயன்படுத்துவது மற்றும் இதர ஆடைகளுக்குப் பொருத்தமாக இருப்பது ஆகியவற்றைப் பற்றிச் சிந்தியுங்கள். தென்னிந்திய மணப்பெண்ணுக்குரிய நகைகளை அடுக்கடுக்காக அணிவது ஒரு தென்னிந்திய மணப்பெண்ணுக்கு பொதுவாக பட்டுச்சேலையுடன் கழுத்தில் பற்பல நகைகள் அட்டியலில் இருந்து குட்டைக் கழுத்து மற்றும் நீளக்கழுத்து பதக்கமாலைகள் வரை அணிவிக்கப்படுகின்றன. எனவே எடுப்பான தோற்றத்திற்காக இந்த பதக்கமாலைகளை அழகாக வரிசைப்படுத்தி அணிவது முக்கியமாகும். முடிவில், மணப்பெண்ணான உங்களுக்கு மிக முக்கியமான கருத்து என்னவென்றால், நீங்கள் உருவாக்கியுள்ள தோற்றத்தை நீங்களே நேசிக்க வேண்டும். எனவே, உங்களை மையப்படுத்தியே, உங்களை மகிழ்விக்கக்கூடிய நகைகளைத் தேர்ந்தெடுங்கள். மணப்பெண் என்ன ஒரு அழகு ! என்று தானாகவே கூறிவிடுவார்கள்.
Publisher: Kalyan Jewellers

పెండ్లి కుమార్తె జ్యూయలరీని ఎంచుకోవడానికి ప్రారంభకుల మార్గదర్శి.

On
భారతదేశం పలు విషయాలకు ప్రసిద్ధి చెందింది. మన వివాహాలు మరియు సంబరం యొక్క ఆర్భాటం ఈ జాబితాలో ప్రథమ స్థానంలో ఉన్నాయి. గొప్పగా అలంకరించుకున్ను రెండువేల మంది ప్రజల్లో సైతం భారతీయ వివాహాల్లో పెండ్లి కుమార్తెని గుర్తించడం సులభం. దీనికి కారణం ఆమె ఆర్భాటమైన మరియు అందమైన రాజసం విస్మయపరిచే జ్యూయలరీ సెట్ తో జోడించబడుతుంది. పెండ్లి కుమార్తెకి స్టైలింగ్ చేసే విషయంలో సరైన జ్యూయలరీని ఎంచుకోవడం మరియు ధరించడం చాలా ప్రధానం. కాబట్టి పెండ్లి కుమార్తె జ్యూయలరీ కొరకు ఎన్నో సంవత్సరాల విలువ గల ఆదాల్ని ఖర్చు చేయడానికి ముందు మనం దృష్టిలో పెట్టుకోవలసినవి ఏమిటి? మనం ఒకసారి పరిశీలిద్దాం. నెక్ లైన్ వెర్సెస్ నెక్లెస్ ఒక సాధారణ ఉత్తరాది వివాహంలో, పెండ్లి కుమార్తె సాధారణంగా పట్టు దారాలు, వివిధ రకాల రాళ్లతో నేసిన ఎన్నో సూక్ష్మమైన డిజైన్లతో మెరిసే లెహంగా ధరిస్తుంది. ఈ రూపం బోట్ నెక్ నుండి స్వీట్ హార్ట్ నెక్ లైన్ , ప్లంజింగ్ నెక్ లైన్ వరకు ఏదైనా డిజైన్ తో రూపొందించవచ్చు. వివాహం రోజు ధరించే దుస్తుల్ని సరైన నెక్ వేర్ అనగా చోకర్ కావచ్చు, పొడవైన నెక్లెస్ లేదా రెండిటి కలయికతో జత చేయడం ప్రధానం. మీ పూర్తి శరీరాన్ని సీక్వెన్స్ మరియు డైమండ్స్ తో కప్పి ఉంచితే మీరు డిస్కో బంతి వలే కనిపిస్తారు. మీ యొక్క మరియు దుస్తుల అందాన్ని ప్రదర్శించే జ్యూయలరీని మాత్రమే ఎంచుకోవాలి. లోహాల్ని అభిరుచితో మిశ్రమం చేయండి. బంగారం, ప్లాటినం, వైట్ గోల్డ్, రోజ్ గోల్డ్ మొదలైనటువంటి జ్యూయలరీస్ తో మిశ్రమం చేసినట్లయితే మీరు అధ్వానంగా కనిపిస్తారని భావించడం సర్వ సాధారణమైన విశ్వాసం. కానీ వాటిని తెలివిగా మరియు అభిరుచితో కలిపి ధరించడం ఎల్లప్పుడూ విజయవంతమవుతుంది. మీ లోహాల్ని జాగ్రత్తగా మిశ్రమం చేయండి , అప్పుడు అవి మీకు అద్భుతమైన పెండ్లి కుమార్తె రూపాన్ని ఇస్తాయి. రంగుల్ని మిశ్రమం చేయవద్దు వివిధ రంగులకు చెందిన రత్నాలు ఆకర్షణీయమైనవి మరియు సరైన దుస్తులతో జత చేసినప్పుడు అందమైన రూపాన్ని చేర్చడం నిజం. కానీ ఒకే రూపం కోసం బహుళ రంగుల్ని ధరించడం మంచి ఎంపిక కాదు. ఉదాహరణకు, మీ వివాహానికి ఉద్దేశ్యించబడిన డ్రెస్ కి పేస్టల్ ఛాయ ఉన్నట్లయితే, ఒకే ప్రకాశవంతమైన రంగు గల రత్నాల జ్యూయలరీని ఎంచుకోండి. ప్రకాశంవంతమైన పెండ్లి కుమార్తె రూపం కోసం, ప్రశాంతమైన రంగు గల రత్నాల జ్యూయలరీ బాగా జత అవుతుంది. మీ వివాహ దుస్తులకు పూరకంగా ఉండే జ్యూయలరీని ఎంచుకోండి. వివాహ దుస్తులు ఆర్భాటంగా ఉన్నప్పుడు, డ్రెస్ అందం, వైభవాన్ని ప్రదర్శించే సాధారణ జ్యూయలరీ సెట్ ని ఎంచుకోవడం తెలివైన పని. ఇందుకు విరుద్ధంగా, మీ వివాహ దుస్తులు సాధారణంగా ఉంటే, సంపూర్ణమైన గొప్ప భారతదేశపు పెండ్లి కుమార్తె రూపాన్ని ఇస్తుంది. ఒక రోజు కోసం మీ జ్యూయలరీని ధరించవద్దు. భారతదేశానికి చెందిన గొప్ప పెండ్లి కుమార్తె తుది రూపం గురించి చెప్పాలంటే, మీ జ్యూయలరీ పెట్టెని ఖాళీ చేసి వాటిని అన్నింటినీ ధరించవద్దు. సరైన జూవెలరిని ఎంచుకోవాలి మరియు ఉత్తమమైన పూర్తి రూపాన్ని పొందడానికి వాటిని కళాత్మకంగా జోడించాలి. ఒక ప్రత్యేకమైన రూపం కోసం పెద్ద మొత్తంలో జ్యూయలరీని ధరించకపోవడమే కొన్నిసార్లు తెలివైన పని. వివాహం సంబరాన్ని మించి ఆలోచించండి. వివాహ సంబరం కొద్ది రోజులు పాటు కొనసాగుతుంది కానీ జ్యూయలరీస్ పలు జీవిత కాలాలు కొనసాగుతాయి. కాబట్టి ఒక జూవెలరిని కొనడానికి ముందు ఇతర దుస్తులతో జోడించడానికి మరియు మళ్లీ ఉపయోగించడానికి ఆలోచించండి. మీ లేయరింగ్ గేమ్ తెలుసుకోండి: దక్షిణాది పెండ్లి కుమార్తె ప్రత్యేకం. ఒక సాధారణ దక్షిణాది పెండ్లి కుమార్తె సాధారణంగా చోకర్స్ నుండి షార్ట్ & నెక్లెస్ లు, నెక్ వేర్ నుండి ఆరంభించి పట్టు చీరతో అలంకరించుకుంటుంది. నెక్ లెస్ శ్రేణిని అందంగా అలంకరించడం ప్రధానం. ఎందుకంటే అవి రూపాన్ని అందంగా లేదా అనాకారిగా చేయగలవు. రోజు చివరిలో, అత్యంత ముఖ్యమైనంది ఏమంటే మీరు, పెండ్లి కుమార్తె , మీరు సృష్టించిన రూపాన్ని ప్రేమించాలి. కాబట్టి మీ వలే ఉండండి మరియు మీకు ఆనందాన్ని కలిగించే జ్యూయలరీని ఎంచుకోండి. అందమైన పెండ్లి కుమార్తెగా ఉండటం దానంతట అదే పూర్తవుతుంది.
Publisher: Kalyan Jewellers

ନବବଧୂ ଅଳଙ୍କାର ଚୟନ କରିବା ପାଇଁ ନବଶିକ୍ଷାର୍ଥୀଙ୍କର ମାର୍ଗଦର୍ଶକ

On
ଭାରତ ଅନେକ ଜିନିଷ ପାଇଁ ଜଣାଶୁଣା । ଏହି ତାଲିକାର ଶୀର୍ଷରେ ଯେଉଁ ଜିନିଷଗୁଡ଼ିକ ରହିଛି ତାହା ମଧ୍ୟରେ ରହିଛି ଆମର ବିବାହ ଏବଂ ଏହି ଆନନ୍ଦ ପାଳନର ଭବ୍ୟତା । ଏକ ଭାରତୀୟ ବିବାହରେ ଉତ୍ତମ ପୋଷାକ ପରିଧାନ କରିଥିବା ଦୁଇ ହଜାର ଲୋକଙ୍କ ଭିଡ଼ ମଧ୍ୟରେ ବଧୂକୁ ଚିହ୍ନଟ କରିବା ଆଶ୍ଚର୍ଯ୍ୟଜନକ ଭାବରେ ସହଜ । ଏହା ତାଙ୍କର ଭବ୍ୟ ଏବଂ ସୁନ୍ଦର ରାଜକୀୟତା ସହିତ ଚମତ୍କାର ଅଳଙ୍କାର ସେଟ୍ କାରଣରୁ । ଜଣେ ବଧୂକୁ ବେଶଭୂଷା କରାଇବା ସମୟରେ ଠିକ୍ ଅଳଙ୍କାର ବାଛିବା ଏବଂ ପରିଧାନ କରାଇବା ଖୁବ୍ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ । ତା’ହେଲେ ବିବାହ ଅଳଙ୍କାରରେ ଅନେକ ବର୍ଷର ସଞ୍ଚୟ ଅର୍ଥ ଖର୍ଚ୍ଚ କରିବା ପୂର୍ବରୁ ଆମେ କ’ଣ ମନେରଖିବା? ଆସନ୍ତୁ ଏକ ନଜର ପକାଇବା । ନେକ୍ଲାଇନ୍ ବନାମ ନେକ୍ଲେସ୍ ଏକ ପାରମ୍ପରିକ ଉତ୍ତର ଭାରତୀୟ ବିବାହରେ ଜଣେ ବଧୂ ସାଧାରଣତଃ ପଥର ଏବଂ ରେଶମ ସୂତାରେ ବୁଣାଯାଇଥିବା ଅନେକ ସୂକ୍ଷ୍ମ ଡିଜାଇନ୍ ଥିବା ଚମକ୍ଦାର ଲେହେଙ୍ଗା ପରିଧାନ କରିଥା’ନ୍ତି । ଏହି ପୋଷାକ ବୋଟ୍ ନେକ୍ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି, ସୁଇଟ୍ ହାର୍ଟ ନେକ୍ଲାଇନ୍ରୁ ଗଭୀର ନେକ୍ଲାଇନ୍ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଯେ କୌଣସି ନେକ୍ଲାଇନ୍ ସହିତ ଡିଜାଇନ୍ ହୋଇଥାଇପାରେ । ବିବାହ ପୋଷାକକୁ ଉପଯୁକ୍ତ ଗଳା ପରିଧାନ ସହ ମେଳକ କରିବା ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ। ଏହା ଏକ ଚୋକର୍, ଲମ୍ବା ନେକ୍ଲେସ୍ କିମ୍ବା ଉଭୟର ମିଶ୍ରଣ ହୋଇପାରେ । ଖୁବ୍ ଉଚ୍ଚରୁ ଆରମ୍ଭ କରିବା ଏବଂ ଆପଣଙ୍କର ଶରୀରର ପ୍ରତ୍ୟେକ ସ୍ଥାନକୁ ଚୁମ୍କି ଓ ମାଳିରେ ଭରିବା ଆପଣଙ୍କୁ ଏକ ଡିସ୍କୋ ବଲ୍ରେ ପରିଣତ କରିବ । ଏପରି ଅଳଙ୍କାର ଚୟନ କରିବା ନିଶ୍ଚିତ କରନ୍ତୁ ଯାହା ପୋଷାକ ଓ ଏଥିସହିତ ଆପଣଙ୍କର ନିଜର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ପରିପ୍ରକାଶ କରିବ । ରୁଚିପୂର୍ଣ୍ଣ ଭାବରେ ଧାତୁଗୁଡ଼ିକ ମିଶ୍ରଣ କରନ୍ତୁ ଏହା ସାଧାରଣ ବିଶ୍ୱାସ ଯେ ସୁନା, ପ୍ଲାଟିନମ୍, ହ୍ୱାଇଟ୍ ଗୋଲ୍ଡ, ରୋଜ୍ ଗୋଲ୍ଡ ଇତ୍ୟାଦିରେ ତିଆରି ଅଳଙ୍କାରଗୁଡ଼ିକ ମିଶ୍ରଣ କରିବା ଆପଣଙ୍କ ଚେହେରାକୁ କୁତ୍ସିତ କରିଦେବ । କିନ୍ତୁ ବୁଦ୍ଧିମତା ଏବଂ ସୁରୁଚିପୂର୍ଣ୍ଣ ଭାବରେ ସେଗୁଡ଼ିକୁ ଯୋଡ଼ି କରିବା ସବୁ ସମୟରେ ଏକ ଆକର୍ଷଣ । ଆପଣଙ୍କ ଧାତୁଗୁଡ଼ିକ ଯତ୍ନର ସହ ମେଳ କରନ୍ତୁ ଏବଂ ଏହା ଆପଣଙ୍କୁ ସବୁଠାରୁ ବିସ୍ମୟକର ବ୍ରାଇଡାଲ୍ ଲୁକ୍ ଦେବ । ରଙ୍ଗଗୁଡ଼ିକ ମିଶାନ୍ତୁ ନାହିଁ ଏହା ସତ ଯେ ବିଭିନ୍ନ ରଙ୍ଗର ରତ୍ନ ପଥରଗୁଡ଼ିକ ଚମକଦାର ଏବଂ ଉପଯୁକ୍ତ ପରିଧାନ ସହିତ ମେଳ କଲେ ଏକ ସୁରୁଚି ସୃଷ୍ଟି କରିଥାଏ । କିନ୍ତୁ ଗୋଟିଏ ପରିଧାନ ପାଇଁ ବିଭିନ୍ନ ରଙ୍ଗ ପିନ୍ଧିବା ଭଲ ବିଚାର ନୁହେଁ । ଉଦାହରଣସ୍ୱରୂପ ଯଦି ଆପଣଙ୍କ ବିବାହ ପୋଷାକର ରଙ୍ଗ କୋମଳ ଏବଂ ସୂକ୍ଷ୍ମ, ତେବେ ଗୋଟିଏ ଉଜ୍ଜ୍ୱଳ ରଙ୍ଗର ରତ୍ନ ପଥର ଅଳଙ୍କାର ପସନ୍ଦ କରନ୍ତୁ । ଏକ ଉଜ୍ଜ୍ୱଳ ବ୍ରାଇଡାଲ୍ ପୋଷାକ ପାଇଁ ଏକ ହାଲ୍କା ରଙ୍ଗର ରତ୍ନ ପଥର ଅଳଙ୍କାର ଭଲ ଦେଖାଯିବ । ଆପଣଙ୍କ ବିବାହ ପୋଷାକର ପୂରକ ହୋଇଥିବା ଅଳଙ୍କାର ଚୟନ କରନ୍ତୁ ଯେତେବେଳେ ବିବାହ ପୋଷାକ ଖୁବ୍ ଭବ୍ୟ, ସେତେବେଳେ ଏକ ନିରାଡମ୍ବର ଅଳଙ୍କାର ସେଟ୍ ପସନ୍ଦ କରିବା ବୁଦ୍ଧିମାନ ହେବ ଯାହା ପୋଷାକର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ଏବଂ ଭବ୍ୟତାକୁ ଫୁଟାଇ ପାରିବ । ଅପରପକ୍ଷେ, ଯଦି ଆପଣଙ୍କର ବିବାହ ପୋଷାକ ସାଦାସିଧା, ତେବେ ବଡ଼ ଏବଂ ଭବ୍ୟ ଅଳଙ୍କାର ପସନ୍ଦ କରନ୍ତୁ ଯାହା ଏକ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଭବ୍ୟ ଭାରତୀୟ ବଧୂର ଚମକ ଆଣିବ । ଗୋଟିଏ ଦିନରେ ଆପଣଙ୍କର ସମସ୍ତ ଅଳଙ୍କାର ପିନ୍ଧନ୍ତୁ ନାହିଁ ବିଶାଳ ଭାରତୀୟ ନବବଧୂର ଚମକ ବିଷୟରେ ଆଲୋଚନା କରିବାର ଏହା ଅର୍ଥ ନୁହେଁ ଯେ ଆପଣଙ୍କ ଅଳଙ୍କାର ବାକ୍ସକୁ ଖାଲି କରିଦେବେ ଏବଂ ସେସବୁକୁ ପିନ୍ଧି ନେବେ । କୌଶଳ ହେଉଛି ଠିକ୍ ଅଳଙ୍କାର ବାଛିବା ଏବଂ ସାମଗ୍ରିକ ଭାବରେ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ବୃଦ୍ଧି କରିବା ପାଇଁ କଳାପୂର୍ଣ୍ଣ ଭାବରେ ସେଗୁଡ଼ିକୁ ମେଳକ କରିବା । ଅନେକ ସମୟରେ ଏକ ନିର୍ଦ୍ଦିଷ୍ଟ ଚେହେରା ପାଇଁ ଅନେକ ଗହଣା କାଢ଼ି ଦେବା ବୁଦ୍ଧିମାନର କାର୍ଯ୍ୟ ହୋଇଥାଏ । ବିବାହ ଉତ୍ସବଠାରୁ ଆଗକୁ ଚିନ୍ତା କରନ୍ତୁ ବିବାହ ଉତ୍ସବ ଅଳ୍ପ କିଛି ଦିନ ପାଇଁ ରହିବ କିନ୍ତୁ ଅଳଙ୍କାରଗୁଡ଼ିକ ଅନେକ ଜୀବନ ପାଇଁ ରହିବ । ତେଣୁ ଗୋଟିଏ ଅଳଙ୍କାର ଉପରେ ଖର୍ଚ୍ଚ କରିବା ପୂର୍ବରୁ ଏହାକୁ ପୁନଃବ୍ୟବହାର କରିବା ଓ ଅନ୍ୟ ପୋଷାକଗୁଡ଼ିକ ସହିତ ମେଳକ କରିବା ବିଷୟରେ ଚିନ୍ତା କରନ୍ତୁ । ଆପଣଙ୍କ ପରସ୍ତଗୁଡ଼ିକୁ ଜାଣନ୍ତୁ: ଦକ୍ଷିଣ ଭାରତୀୟ ବଧୂ ବିଶେଷ ଏକ ପାରମ୍ପରିକ ଦକ୍ଷିଣ ଭାରତୀୟ ବଧୂ ସାଧାରଣତଃ ଏକ ହାଲ୍କା ସିଲ୍କ ଶାଢ଼ୀ ପରିଧାନ କରିଥା’ନ୍ତି, ଏଥିସହିତ ଚୋକର୍ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ଛୋଟ ନେକ୍ଲେସ୍ଠାରୁ ଲମ୍ବା ନେକ୍ଲେସ୍ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପିନ୍ଧିଥା’ନ୍ତି । ଏହି ନେକ୍ଲେସ୍ଗୁଡ଼ିକୁ ସୁନ୍ଦର ଭାବରେ ସଜାଇବା ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ କାରଣ ଏହା ଏକ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ତିଆରି କରିପାରେ କିମ୍ବା ନଷ୍ଟ କରିପାରେ । ସବୁଠାରୁ ଶେଷରେ, ସବୁଠାରୁ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଜିନିଷ ହେଉଛି ଯେ ଆପଣ, ବଧୂ ଜଣକ, ଆପଣ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରିଥିବା ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକୁ ଭଲ ପାଇବେ । ତେଣୁ ନିଜର ଅସ୍ତିତ୍ୱ ରକ୍ଷା କରନ୍ତୁ ଏବଂ ଆପଣଙ୍କୁ ଖୁସି ଆଣି ଦେଉଥିବା ଅଳଙ୍କାର ଚୟନ କରନ୍ତୁ । ଏକ ସୁନ୍ଦର ବଧୂ ହେବା ମନକୁ ମନ ହୋଇଯିବ ।
Publisher: Kalyan Jewellers

ਦੁਲਹਨ ਦੀ ਜਵੈਲਰੀ ਚੁਣਨ ਦਾ ਤਰੀਕਾ

On
ਭਾਰਤ ਅਨਗਿਣਤ ਚੀਜ਼ਾਂ ਦੇ ਲਈ ਜਾਣਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸ ਸੂਚੀ ਵਿੱਚ ਸਭ ਤੋਂ ਉੱਪਰ ਹੈ ਸਾਡੇ ਵਿਆਹ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਦੀ ਸੁੰਦਰਤਾ। ਭਾਰਤੀ ਵਿਆਹ ਵਿੱਚ ਸੁੰਦਰ ਕੱਪੜੇ ਪਹਿਨੇ ਦੋ ਹਜ਼ਾਰ ਲੋਕਾਂ ਦੀ ਭੀੜ ਵਿੱਚੋਂ ਦੁਲਹਨ ਨੂੰ ਪਹਿਚਾਣ ਪਾਉਣਾ ਬਹੁਤ ਆਸਾਨ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਅਜਿਹਾ ਉਸਦੇ ਦੁਆਰਾ ਪਹਿਨੇ ਹੋਏ ਕੱਪੜਿਆ ਅਤੇ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਗਹਿਣਿਆਂ ਦੇ ਕਾਰਨ ਸੰਭਵ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਦੁਲਹਨ ਨੂੰ ਸਜਾਉਣ ਸਮੇਂ ਸਹੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਚੁਣਨਾ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਪਹਿਨ ਕੇ ਜਚਣਾ ਬਹੁਤ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਤਾਂ ਦੁਲਹਨ ਦੇ ਗਹਿਣਿਆਂ ‘ਤੇ ਕਈ ਸਾਲਾਂ ਦੀ ਆਪਣੀ ਬੱਚਤ ਖ਼ਰਚ ਕਰਦੇ ਸਮੇਂ ਕਿਹਨਾਂ ਗੱਲਾਂ ਦਾ ਧਿਆਨ ਰੱਖਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ? ਆਓ ਇੱਕ ਨਜ਼ਰ ਪਾਉਂਦੇ ਹਾਂ। ਨੈਕਲਾਇਨ ਬਨਾਮ ਨੈਕਲੈਸ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਉੱਤਰ ਭਾਰਤੀ ਵਿਆਹਾਂ ਵਿੱਚ ਦੁਲਹਨ ਚਮਚਮਾਉਂਦਾ ਹੋਇਆ ਲਹਿੰਗਾ ਪਹਿਨਦੀ ਹੈ ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਰਤਨਾਂ ਅਤੇ ਰੇਸ਼ਮ ਦੇ ਧਾਗਿਆਂ ਤੋਂ ਬਾਰੀਕ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਬਣਾਏ ਜਾਂਦੇ ਹਨ। ਪੁਸ਼ਾਕ ਦਾ ਡਿਜ਼ਾਇਨ ਕੁਝ ਵੀ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਚਾਹੇ ਬੋਟ ਨੇਕ ਜਾਂ ਸਵੀਟਹਾਰਟ ਨੈਕਲਾਇਨ ਜਾਂ ਫਿਰ ਡੂੰਘੇ ਕੱਟ ਵਾਲੀ ਨੈਕਲਾਇਨ। ਵਿਆਹ ਦੀ ਪੁਸ਼ਾਕ ਦੇ ਨਾਲ ਗਲੇ ਵਿੱਚ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾਣ ਵਾਲਾ ਗਹਿਣਾ ਵੀ ਮੇਲ ਖਾਂਦਾ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ। ਚਾਹੇ ਚੋਕਰ, ਲੰਬਾ ਗਲੇ ਦਾ ਹਾਰ ਜਾਂ ਦੋਵਾਂ ਦੀ ਜੁਗਲਬੰਦੀ। ਬਹੁਤ ਜ਼ਿਆਦਾ ਭੜਕੀਲੇ ਗਹਿਣੇ ਅਤੇ ਤੁਹਾਡੀ ਚਮੜੀ ਨੂੰ ਸਿਤਾਰਿਆਂ ਅਤੇ ਹੀਰਿਆਂ ਨਾਲ ਢਕ ਦੇਣ ‘ਤੇ ਤੁਸੀਂ ਡਿਸਕੋ ਬਾਲ ਦਿਖਾਈ ਦੇਣ ਲੱਗੋਗੇ। ਅਜਿਹੇ ਗਹਿਣੇ ਚੁਣੋ ਜੋ ਪੁਸ਼ਾਕ ਦੇ ਨਾਲ-ਨਾਲ ਤੁਹਾਡੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਨੂੰ ਵੀ ਉਭਾਰਣ। ਸਟਾਇਲ ਨਾਲ ਕਰੋ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਪ੍ਰਕਾਰ ਦੇ ਗਹਿਣਿਆਂ ਦੀ ਜੁਗਲਬੰਦੀ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਮੰਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਸੋਨੇ, ਪਲੈਟੀਨਮ, ਵ੍ਹਾਇਟ ਗੋਲਡ, ਰੋਜ਼ ਗੋਲਡ ਆਦਿ ਤੋਂ ਬਣੇ ਗਹਿਣੇ ਮਿਲਾਜੁਲਾ ਕੇ ਪਹਿਨਣਾ ਬੇਢੰਗਾ ਲੱਗਦਾ ਹੈ। ਪਰ ਸਮਝਦਾਰੀ ਨਾਲ ਅਤੇ ਸਟਾਇਲ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾਵੇ, ਤਾਂ ਉਹ ਬਹੁਤ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਦਿਖਾਈ ਦਿੰਦੇ ਹਨ। ਦੁਲਹਨ ਨੂੰ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ ਕਿ ਉਹ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਪ੍ਰਕਾਰ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਸਮਝਦਾਰੀ ਨਾਲ ਮਿਲਾ-ਜੁਲਾ ਕੇ ਪਹਿਨਣ ਜਿਸ ਨਾਲ ਕਿ ਉਸਦੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਨੂੰ ਚਾਰ ਚੰਨ ਲੱਗ ਜਾਣ। ਰੰਗਾਂ ਦਾ ਮੇਲ-ਜੋਲ ਨਾ ਕਰੋ ਇਹ ਸੱਚ ਹੈ ਕਿ ਵੱਖ-ਵੱਖ ਰੰਗ ਦੇ ਰਤਨ ਦਿਖਣ ਵਿੱਚ ਚਮਕਦਾਰ ਹੁੰਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਸਹੀ ਪਹਿਰਾਵੇ ਦੇ ਨਾਲ ਪਹਿਨਣ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਵਿੱਚੋਂ ਇੱਕ ਸੁੰਦਰ ਕਿਰਨ ਬਾਹਰ ਨਿਕਲਦੀ ਹੈ। ਪਰ ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਇੱਕ ਰੰਗੇ ਦੇ ਕੱਪੜੇ ਪਹਿਨਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਰੰਗ-ਬਿਰੰਗੇ ਰਤਨ ਪਹਿਨਣਾ ਸਹੀ ਨਹੀਂ ਹੋਵੇਗਾ। ਜਿਵੇਂ ਕਿ, ਜੇ ਤੁਹਾਡੇ ਵਿਆਹ ਦੇ ਜੋੜੇ ਦਾ ਰੰਗ ਹਲਕਾ ਹੈ, ਤਾਂ ਇੱਕ ਹੀ ਰੰਗ ਦਾ ਚਮਕਦਾਰ ਰਤਨਾਂ ਵਾਲਾ ਗਹਿਣਾ ਪਹਿਨੋ। ਜੇ ਵਿਆਹ ਦੇ ਜੋੜੇ ਦਾ ਰੰਗ ਚਮਕਦਾਰ ਹੈ, ਤਾਂ ਹਲਕੇ ਰੰਗ ਵਾਲਾ ਰਤਨ ਗਹਿਣਾ ਹੀ ਵਧੀਆ ਰਹੇਗਾ। ਆਪਣੇ ਵਿਆਹ ਦੇ ਜੋੜੇ ਨਾਲ ਮੇਲ ਖਾਂਦੇ ਗਹਿਣੇ ਪਹਿਨੋ ਜਦ ਵਿਆਹ ਦਾ ਜੋੜਾ ਦਿਖਣ ਵਿੱਚ ਉੱਤਮ ਹੋਵੇ, ਤਾਂ ਹਲਕੇ-ਫੁਲਕੇ ਗਹਿਣੇ ਹੀ ਪਹਿਨਣੇ ਚਾਹੀਦੇ ਹਨ ਜਿਸ ਨਾਲ ਕਿ ਉਸ ਜੋੜੇ ਦੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਅਤੇ ਆਕਰਸ਼ਣ ਨਿਖ਼ਰ ਕੇ ਆਵੇ। ਇਸਦੇ ਉਲਟ, ਜੇ ਤੁਹਾਡਾ ਵਿਆਹ ਦਾ ਜੋੜਾ ਸਧਾਰਨ ਹੈ, ਤਾਂ ਚਮਕਦਾਰ ਅਤੇ ਸੁੰਦਰ ਗਹਿਣੇ ਪਹਿਨੋ ਜਿਸ ਨਾਲ ਕਿ ਇੱਕ ਭਾਰਤੀ ਦੁਲਹਨ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ ਤੁਸੀਂ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਨਾਲ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਦਿਖਾਈ ਦੇਵੋ। ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਗਹਿਣੇ ਵਿਆਹ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਨਾ ਪਹਿਨੋ ਜਦ ਗੱਲ ਭਾਰਤੀ ਦੁਲਹਨ ਦੀ ਸੁੰਦਰਤਾ ਦੀ ਹੋਵੇ, ਤਾਂ ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਗਹਿਣੇ ਵਿਆਹ ਵਾਲੇ ਦਿਨ ਨਹੀਂ ਪਹਿਨਣੇ ਚਾਹੀਦੇ। ਸਮਝਦਾਰੀ ਤਦ ਹੋਵੇਗੀ ਜੇ ਸਹੀ ਗਹਿਣੇ ਸਹੀ ਪੁਸ਼ਾਕ ਦੇ ਨਾਲ ਸਹੀ ਮੌਕੇ ‘ਤੇ ਸਟਾਇਲ ਨਾਲ ਪਾਓ। ਕਦੇ-ਕਦੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਗਹਿਣੇ ਇੱਕੋ ਸਮੇਂ ‘ਤੇ ਨਹੀਂ ਪਹਿਨਣਾ ਵੀ ਅਕਲਮੰਦੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਵਿਆਹ ਤੋਂ ਅੱਗੇ ਵੀ ਸੋਚੋ ਸ਼ਾਦੀ ਦੇ ਸਮਾਰੋਹ ਤਾਂ ਕੁਝ ਹੀ ਦਿਨ ਚੱਲਣਗੇ ਪਰ ਗਹਿਣੇ ਤਾਂ ਆਉਣ ਵਾਲੀਆਂ ਕਈਆਂ ਪੀੜ੍ਹੀਆਂ ਤੱਕ ਚੱਲਣ ਵਾਲੇ ਹਨ। ਇਸ ਲਈ ਕਿਸੇ ਗਹਿਣੇ ‘ਤੇ ਪੈਸੇ ਖ਼ਰਚ ਕਰਨ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਉਸਦੇ ਵਾਰ-ਵਾਰ ਇਸਤੇਮਾਲ ਅਤੇ ਕਿਹਨਾਂ ਕਿਹਨਾਂ ਪਹਿਰਾਵਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਇਸਦੇ ਬਾਰੇ ਸੋਚੋ। ਇੱਕ ਦੇ ਉੱਪਰ ਇੱਕ ਗਹਿਣੇ ਪਹਿਨਣ ਦੀ ਕਲਾ ਨੂੰ ਜਾਣੋ: ਦੱਖਣੀ ਭਾਰਤੀ ਦੁਲਹਨਾਂ ਦੇ ਲਈ ਖਾਸ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਆਮ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਇੱਕ ਦੱਖਣੀ ਭਾਰਤੀ ਦੁਲਹਨ ਸਲੀਕੇ ਨਾਲ ਪਹਿਨੀ ਗਈ ਸਿਲਕ ਸਾੜੀ ਦੇ ਨਾਲ ਚੋਕਰ, ਗਲੇ ਦੇ ਛੋਟੇ ਹਾਰ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ ਲੰਬਾ ਹਾਰ ਪਹਿਨਦੀ ਹੈ। ਅਨੇਕ ਪ੍ਰਕਾਰ ਦੇ ਗਲੇ ਦੇ ਹਾਰਾਂ ਨੂੰ ਸੁੰਦਰ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਪਹਿਨਣਾ ਬਹੁਤ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਕਿਉਂਕਿ ਜੇ ਅਜਿਹਾ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਤਾਂ ਗੜਬੜ ਵੀ ਹੋ ਸਕਦੀ ਹੈ। ਅੰਤ ਵਿੱਚ, ਸਭ ਤੋਂ ਜ਼ਰੂਰੀ ਗੱਲ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਯਾਨੀ ਕਿ ਦੁਲਹਨ ਨੂੰ ਖੁਦ ਦਾ ਸਾਜ਼ ਸ਼ਿੰਗਾਰ ਪਸੰਦ ਆਉਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ। ਤਾਂ ਆਪਣੇ ਦਿਲ ਦੀ ਸੁਣੋ ਅਤੇ ਉਹ ਗਹਿਣੇ ਚੁਣੋ ਜੋ ਤੁਹਾਨੂੰ ਪਸੰਦ ਹਨ। ਆਪਣੇ ਆਪ ਹੀ ਤੁਸੀਂ ਸੁੰਦਰ ਦੁਲਹਣ ਬਣ ਜਾਓਗੇ।
Publisher: Kalyan Jewellers

ಹರಳುಗಳ ರಾಣಿ ಮುತ್ತು ಬಳಸಿ ನಿಮ್ಮ ವ್ಯಕ್ತಿತ್ವದ ಪ್ರತಿಫಲನ ಹರಳುಗಳನ್ನು ‘ಮುತ್ತುಗಳ ರಾಣಿ’ ಎಂದು ಕರೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ.

On
ಇತರ ಎಲ್ಲ ಆಭರಣಗಳನ್ನು ಭೂಮಿಯ ಅಡಿಯಿಂದ ಅಗೆದು ತೆಗೆಯಲಾಗುತ್ತದೆ. ಆದರೆ ಮುತ್ತುಗಳನ್ನು ಸಮುದ್ರದಿಂದ ಸಂಗ್ರಹಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಈ ಮುತ್ತುಗಳನ್ನು ಸಮುದ್ರದ ಆಳಕ್ಕೆ ಅಗೆಯುವ ಮೂಲಕ ಸಂಗ್ರಹಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಮುತ್ತುಗಳನ್ನು ಮೃದ್ವಂಗಿಗಳಿಂದ ಸಂಗ್ರಹಿಸಲಾಗುವ ಒಂದು ಅದ್ಭುತ ಸಂಗತಿಯಾಗಿದೆ. ಮೃದ್ವಂಗಿಗಳ ಒಳಗೆ ಧೂಳು ಅಥವಾ ಮರಳಿನ ರೀತಿಯ ಬಾಹ್ಯ ಸಂಗ್ರಹಗಳು ಸೇರಿಕೊಂಡಾಗ, ಈ ಜೀವಿಗಳು ಆ ಬಾಹ್ಯ ಸಂಗತಿಗಳ ಸುತ್ತ ಸ್ರವಿಸುತ್ತವೆ. ಹಲವು ವರ್ಷಗಳವರೆಗೆ ಈ ಪ್ರಕ್ರಿಯೆ ನಡೆದಾಗ ಹೊಳೆಯುವ ಮುತ್ತು ರೂಪುಗೊಳ್ಳುತ್ತದೆ. ನೈಸರ್ಗಿಕವಾಗಿ ಒಂದು ಮುತ್ತು ರೂಪುಗೊಳ್ಳಲು ಎರಡೂವರೆ ವರ್ಷಗಳು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುತ್ತವೆ. ಪ್ರತಿ ಮುತ್ತುವೂ ವಿಶಿಷ್ಟವಾಗಿದ್ದು, ಇವು ಒಂದರ ಗಾತ್ರ, ಆಕಾರ ಅಥವಾ ರಚನೆಗೆ ಹೋಲಿಕೆಯಾಗುವುದಿಲ್ಲ. ಹಲವು ಕಾಲದಿಂದಲೂ ಮಹಿಳೆಯರ ಸೌಂದರ್ಯಕ್ಕೆ ಪೂರಕವಾಗಿ ಮುತ್ತುಗಳನ್ನು ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿದೆ. ಪುರಾತನ ಗ್ರೀಕ್ ಇತಿಹಾಸದಿಂದ ಈಜಿಪ್ಟ್‌ನ ಫೇರೋವರೆಗೆ ಚೀನಾ ರಾಜರುಗಳಿಂದ ಮೊಘಲ್‌ ರಾಜರುಗಳವರೆಗೆ ರಾಜರ ಕಾಲದಲ್ಲಿ ಮುತ್ತುಗಳು ಅತ್ಯಂ ಪ್ರಮುಖ ಸ್ಥಾನ ಪಡೆದಿದ್ದವು. ಮುತ್ತುಗಳನ್ನು ಹಿಂದಿನಿಂದಲು ರಾಜರುಗಳು ವಿಶೇಷವಾಗಿ ಬಳಸುತ್ತಿದ್ದರೆ ಮತ್ತು ರಾಜರ ಅರಮನೆಯಲ್ಲಿ ಮಹಿಳೆಯರು ವೈಭವಯುತವಾಗಿ ಇದನ್ನು ಬಳಸುತ್ತಿದ್ದರು. ಇಂದಿಗೂ, ಮಹಿಳೆಯರಿಗೆ ಮುತ್ತಿನ ಆಭರಣ ಅತ್ಯಂತ ಪ್ರಮುಖವಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಮುತ್ತುಗಳು ಸಂಕೀರ್ಣವಾಗಿರುತ್ತವೆ ಮತ್ತು ಕ್ರೀಮ್‌ಗಳು ಮತ್ತು ರಾಸಾಯನಿಕಗಳಿಗೆ ನಿಯತವಾಗಿ ತೆರೆದುಕೊಂಡಾಗ ಹಾಳಾಗುವ ಸಾಧ್ಯತೆ ಇರುವುದರಿಂದ, ವಿಶೇಷ ಸಂದರ್ಭಗಳಲ್ಲಿ ಮಾತ್ರ ಇದನ್ನು ಧರಿಸುವಂತೆ ಸಲಹೆ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ. ಸರಳ ಮುತ್ತಿನ ಮೂಗುಬೊಟ್ಟು ವೈಭವಯುತವಾದ ನೋಟವನ್ನು ಒದಗಿಸುತ್ತದೆ. ಸಾಮಾನ್ಯ ಕಚೇರಿ ದಿರಿಸಿಗೂ ಮುತ್ತಿನ ಮೂಗುಬೊಟ್ಟು ಸೂಕ್ತವಾಗಿದೆ. ನಿತ್ಯ ಹವಳದ ಬ್ರೇಸ್‌ಲೆಟ್‌ಗಳು ಮತ್ತು ಬಳೆಗಳನ್ನು ಬಳಸದೇ ಇರುವುದು ಉತ್ತಮ. ಯಾಕೆಂದರೆ ಇದು ಬೇಗ ಸವೆಯುತ್ತದೆ. ವೈಭವಯುತ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳಿಗೆ, ಮುತ್ತು ಅಳವಡಿಸಿದ ಚಾಂದ್‌ಬಲಿ ಕಿವಿಯೋಲೆ ಉತ್ತಮ ಆಯ್ಕೆಯಾಗಿರುತ್ತದೆ. ವಧು ದಿರಿಸಿನಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ಚಿನ್ನ ಮತ್ತು ವಜ್ರವನ್ನೇ ಬಳಸಲಾಗುತ್ತಿದ್ದರೂ, ಮುತ್ತಿನ ಆಭರಣಗಳಿಗೆ ವಿಶೇಷ ಸ್ಥಾನವಿದೆ. ಹೊಳೆಯುವ ಚೋಕರ್‌ಗಳಿಂದ ಪದರ ಪದರವಾಗಿರುವ ಉದ್ದನೆಯ ನೆಕ್‌ಲೇಸ್‌ಗಳಿಗೆ ಮುತ್ತುಗಳು ವಿಶಿಷ್ಟ ಲುಕ್ ಅನ್ನು ನೀಡುತ್ತವೆ. ಇದಕ್ಕೆ ಪರ್ಯಾಯವಾಗಿ, ಸರಳವಾದ ಮುತ್ತುಗಳು ಸುಂದರವಾದ ಲುಕ್ ನೀಡುತ್ತವೆ ಹಾಗೂ ಔಪಚಾರಿಕ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳಿಗೆ ಹೊಂದುತ್ತವೆ. ಮುತ್ತು ಆಭರಣದಂತಹ ಮುತ್ತಿನ ಆಭರಣವು ಪ್ರತಿ ಮಹಿಳೆಗೆ ಹೊಂದುವಂತೆ ಮತ್ತು ಪ್ರತಿ ವ್ಯಕ್ತಿಗೆ ಹೊಂದುವಂತೆ ಬದಲಿಸಿಕೊಳ್ಳಬಹುದು.
Publisher: Kalyan Jewellers

নববধূর অলংকার বেছে নেওয়ার জন্য বিগিনার্স গাইড ।

On
অনেকগুলো ব্যাপারে ভারতের খ্যাতি আছে । তালিকার শীর্ষে রয়েছে আমাদের দেশের বিবাহ অনুষ্ঠান ও এর আয়োজনের বিরাট আড়ম্বর । ভারতীয় বিবাহ অনুষ্ঠানে দু হাজার সুবেশ অভ্যাগতর ভিড়ের মধ্যেও নববধূকে অনায়াসে চিনে নেওয়া চলে , যা কিনা বেশ অবাক হওয়ার মতোই। আসলে জাঁকালো পোশাক আর তার সঙ্গে মানানসই চোখধাঁধানো গয়নার জন্যই এটা সম্ভব হয় । তাই, নববধূর সাজ-সজ্জার সময় তার জন্য উপযুক্ত অলংকার বেছে নেওয়া এবং সেসব সঠিকভাবে পরানোটাই হল অত্যন্ত গুরুত্বপূর্ণ। বহু বছরের সঞ্চিত অর্থের যথোপযুক্ত ব্যবহারের জন্য আমাদের কি কি মনে রাখা উচিত? বেশ, এবারে একটু দেখে নেওয়া যাক । গ্রীবারেখা বনাম নেকলেস একেবারে পুরোদস্তুর উত্তর ভারতীয় বিবাহে চিরাচরিত প্রথা মেনে বধূকে জমকালো নক্সা করা কাজের পাথরে সাজানো আর রেশম সুতোয় বোনা লেহেঙ্গা-চোলি পরানো হয় আর তার সঙ্গেই থাকে মানানসই অলংকার। এই পোশাকের সঙ্গে সামঞ্জস্যপূর্ণভাবে গ্রীবারেখা নির্বাচন করা যায়, তা সে বোট নেক হোক বা সুইটহার্ট অথবা ফোলা-ফোলা ধরনের । ওয়েডিং ড্রেস-এর সঙ্গে মানানসই উপযুক্ত ধরনের নেকওয়্যার, তা সে চোকার বা লং নেকলেস অথবা দুয়ের কোন কম্বিনেশন ই হোক, পরানো দরকার ।খুব বেশিরকমের ওভার দ্য টপ করা হলে এবং শরীরের প্রতিটা সারফেস যদি সিকুইন ও ডায়মণ্ড দিয়ে ভরিয়ে দেওয়া হয় তাহলে আপনাকে ঠিক ডিস্কো বল-এর মতই দেখতে লাগবে । এমন অলংকার ই বেছে নিতে হবে, যা আপনার পোশাক এবং আপনার সৌন্দর্য, দুই-ই ফুটিয়ে তুলবে সুন্দরভাবে । ধাতু সমন্বয় ব্যবহার করুন সুকৌশলে সাধারণভাবে বলা হয়, সোনা , প্লাটিনাম, হোয়াইট গোল্ড, রোজ গোল্ড প্রভৃতি মিলিয়ে মিশিয়ে ব্যবহার করলে আপনাকে শ্যাবি লাগবে । কিন্ত এগুলো যদি সুচারুভাবে মিলিয়ে নেওয়া যায়,তাহলে আপনার সৌন্দর্য দুর্দান্তভাবে বৃদ্ধি পাবে আর আপনি হয়ে উঠবেন অসামান্য রূপসী বধূ। রঙ মেশাবেন না একথা ঠিক যে, নানা রঙের রত্ন অত্যন্ত জীবন্ত, আর, সঠিক পোশাকের সমন্বয়ে এক সুন্দর ফ্লেয়ার এনে দেয় । কিন্ত সিঙ্গল লুকে একগুচ্ছ রঙ মেলানো ঠিক নয়। যেমন কিনা, যদি আপনার ওয়েডিং ড্রেস-এ প্যাস্টেল শেড থাকে, তাহলে একটাই মাত্র উজ্জ্বল রঙের রত্নালংকার বেছে নিন । আর, বধূর উজ্জ্বল পোশাকের সঙ্গে চোখজুড়োনো রঙের রত্নালংকার ভাল যাবে । এমন অলংকার বেছে নিন যা আপনার পোশাকের পরিপূরক বিয়ের পোশাক যদি খুব জমকালো হয়, তাহলে সাধারণ অলংকার ব্যবহার করাই বিচক্ষণতা কারণ তা আপনার পোশাকের সৌন্দর্য ও শ্রেষ্ঠত্ব বাড়িয়ে তুলবে।আবার, পোশাক যদি সাধারণ গোছের হয়, তাহলে , বেশ উজ্জ্বল ও চমৎকার গয়না ব্যবহার করতে হবে, যা, বধূর পোশাকে প্রকৃতই সম্পূর্ণ ভারতীয় ফিনিশ এনে দেবে । ঐ দিনে আপনার সব অলংকার পরবেন না চমৎকার এক ভারতীয় বধূসাজ সম্পূর্ণ করতে আপনার গয়নার বাক্স উজাড় করে দেবেন না , সব গয়না পরবেন না । কায়দাটা হল , সঠিক গয়না বেছে নিন, আর, ওগুলোকে শিল্পীসুলভ সুষমায় পরিশুদ্ধ সার্বিক চেহারা দিন। কখনও কখনও একটা বিশেষ রূপ ফুটিয়ে তোলার জন্য বেশির ভাগ গয়না ছেঁটে ফেলাই দরকার হয় । বিয়ের অনুষ্ঠানের বাইরে গিয়েও ভাবুন বিয়ের অনুষ্ঠান ইত্যাদি তো চলবে মাত্র কয়েকদিন, আর, অলংকার থাকে আরও অনেক দিন, প্রায় সারাজীবন। তাই, একটি বিশেষ গয়নার ওপর ভর না করে, অন্যভাবে এবং অপরাপর পোশাকের সঙ্গেও ব্যবহার করার কথাও ভাবুন। স্তরবিন্যাসের খেলা শিখুন: দক্ষিণ ভারতীয় বধূর বিশেষ সাজ কোন দক্ষিণ ভারতীয় বধূ সাধারণত একটি সিল্ক শাড়ির সঙ্গেই গ্রীবালংকারের সারিতে সেজে ওঠেন, চোকার থেকে আরম্ভ করে শর্ট নেকলেস ও লং নেকলেসের সম্ভারে । স্তরে স্তরে ঐ সজ্জার ক্ষেত্রে নেকলেস এর সারিকে সুন্দরভাবে সাজানো প্রয়োজন কেননা, এটাই সাজের রূপটা পূর্ণ করে তুলবে । দিনের শেষে সবচেয়ে বড় কথা হল , আপনি, অর্থাৎ বধূর সাজ যেন , আপনার নিজের পছন্দ হয়। সুতরাং, আপনি নিজের মত ভাবুন, আর , এমনই অলংকার বাছুন যা আপনাকে আনন্দ দেয়। সুন্দর এক বধূ রৃপে সেজে ওঠা এরপর আপনা থেকেই হয়ে যাবে ।
Publisher: Kalyan Jewellers

ਰਤਨਾਂ ਦੀ ਮਹਾਰਾਣੀ ਯਾਨੀ ਮੋਤੀਆਂ ਯਾਨੀ ਸ਼ਕਤੀ ਦੇ ਪ੍ਰਤੀਕ ਦੇ ਨਾਲ ਇੱਕ ਅਮਿੱਟ ਛਾਪ ਛੱਡਣਾ

On
ਮੋਤੀਆਂ ਨੂੰ ‘ਰਤਨਾਂ ਦੀ ਰਾਣੀ’ ਕਿਹਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਇਹ ਠੀਕ ਵੀ ਹੈ। ਇਹਨਾਂ ਨੂੰ ਰੋਜ਼-ਰੋਜ਼ ਜਾਂ ਹਰ ਕਿਸੇ ਦੁਆਰਾ ਨਹੀਂ ਪਹਿਨਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਹਨਾਂ ਨੂੰ ਪਹਿਨਣ ਵਾਲਾ ਦਿਖਣ ਵਿੱਚ ਵੀ ਉੰਨਾ ਰਾਜਸੀ ਸ਼ਾਨ ਵਾਲਾ ਹੋਣਾ ਚਾਹੀਦਾ ਹੈ। ਬਾਕੀ ਗਹਿਣਿਆਂ ਦੇ ਉਲਟ, ਜਿਹਨਾਂ ਨੂੰ ਖੁਦਾਈ ਕਰਕੇ ਕੱਢਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਮੋਤੀਆਂ ਦੇ ਸਮੁੰਦਰ ਦੀ ਡੂੰਘਾਈ ਤੋਂ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਮੋਤੀ ਬਣਾਉਣ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਵਿੱਚ ਸਮੁੰਦਰ ਦੀ ਗਹਿਰਾਈ ਵਿੱਚ ਗੋਤਾ ਲਗਾ ਕੇ ਇਹਨਾਂ ਦੁਰਲਭ ਰਤਨਾਂ ਤੋਂ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਮੋਤੀਆਂ ਦਾ ਨਿਰਮਾਣ ਘੋਗੇ ਵਿੱਚ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਕਿਸੇ ਬਾਹਰੀ ਕਣ ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਧੂੜ ਜਾਂ ਰੇਤ ਦੇ ਅੰਦਰ ਪ੍ਰਵੇਸ਼ ਕਰਨ ‘ਤੇ, ਘੋਗਾ ਕਈ ਸਾਲਾ ਤੱਕ ਉਸ ਕਣ ਦੇ ਚਾਰੇ ਪਾਸੇ ਸੀਪ ਨਾਮਕ ਇੱਕ ਪਦਾਰਥ ਛੱਡਦਾ ਹੈ। ਜਿਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਇੱਕ ਚਮਚਮਾਉਂਦਾ ਹੋਇਆ ਰਤਨ ਪ੍ਰਾਪਤ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਮੋਤੀ ਨੂੰ ਕੁਦਰਤੀ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਬਣਨ ਵਿੱਚ ਢਾਈ ਸਾਲ ਤੋਂ ਵੱਧ ਦਾ ਸਮਾਂ ਲੱਗਦਾ ਹੈ। ਹਰ ਮੋਤੀ ਆਪਣੇ ਆਪ ਵਿੱਚ ਖਾਸ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਕਿਉਂਕਿ ਕੋਈ ਵੀ ਦੋ ਮੋਤੀ ਮਾਪ, ਆਕਾਰ ਜਾਂ ਚਮਕ ਵਿੱਚ ਇੱਕੋ ਜਿਹੇ ਨਹੀਂ ਹੁੰਦੇ ਹਨ। ਸਦੀਆਂ ਤੋਂ ਔਰਤਾਂ ਸੁੰਦਰ ਦਿਖਣ ਲਈ ਮੋਤੀ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਪਹਿਨਦੀਆਂ ਆ ਰਹੀਆਂ ਹਨ। ਯੂਨਾਨੀਆਂ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ ਮਿਸਰ ਦੇ ਫੈਰੋਜ਼ ਤੱਕ, ਸ਼ਕਤੀਸ਼ਾਲੀ ਚੀਨੀ ਰਾਜਵੰਸ਼ਾਂ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ ਸ਼ਾਹੀ ਮੁਗਲ ਸਮਰਾਜ ਤੱਕ, ਸ਼ਾਹੀ ਖਜ਼ਾਨਿਆਂ ਵਿੱਚ ਮੋਤੀਆਂ ਨੂੰ ਇੱਕ ਵੱਖ ਹੀ ਸਥਾਨ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਹੈ। ਪੁਰਾਣੇ ਜ਼ਮਾਨੇ ਵਿੱਚ ਰਾਜਾ ਆਪਣੇ ਕਰੀਬੀ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਮੋਤੀ ਉਪਹਾਰ ਵਿੱਚ ਦਿੰਦੇ ਸਨ ਅਤੇ ਸ਼ਾਹੀ ਖਾਨਦਾਨਾਂ ਦੀਆਂ ਔਰਤਾਂ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨਾਲ ਪਹਿਨਦੀਆਂ ਸਨ। ਅੱਜ ਵੀ, ਮੋਤੀ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਔਰਤ ਦੇ ਦਿਲ ਅਤੇ ਉਸਦੀ ਅਲਮਾਰੀ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਵੱਖ ਹੀ ਸਥਾਨ ਰੱਖਦੇ ਹਨ। ਮੋਤੀ ਬਹੁਤ ਹੀ ਨਾਜ਼ੁਕ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਕ੍ਰੀਮ ਅਤੇ ਰਸਾਇਣਿਕ ਪਦਾਰਥਾਂ ਦੇ ਨਿਰੰਤਰ ਸੰਪਰਕ ਵਿੱਚ ਆਉਣ ਨਾਲ ਉਸਨੂੰ ਨੁਕਸਾਨ ਪਹੁੰਚ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਇਸ ਲਈ ਮੋਤੀ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਕੇਵਲ ਖਾਸ ਮੌਕਿਆਂ ‘ਤੇ ਹੀ ਪਹਿਨੇ ਜਾਂਦੇ ਹਨ। ਸ਼ਾਹੀ ਅਹਿਸਾਸ ਦਿਲਾਉਣ ਲਈ ਮੋਤੀਆਂ ਦੀਆਂ ਵਾਲੀਆਂ ਹੀ ਕਾਫੀ ਹੁੰਦੀਆਂ ਹਨ। ਮੋਤੀ ਦੀਆਂ ਵਾਲੀਆਂ ਆੱਫਿਸ ਵਿੱਚ ਵੀ ਪਹਿਨੀਆ ਜਾ ਸਕਦੀਆਂ ਹਨ। ਰੋਜ਼ਾਨਾ ਮੋਤੀ ਦੇ ਬ੍ਰੇਸਲੈਟ ਜਾਂ ਚੂੜੀਆਂ ਪਹਿਨਣ ਦੀ ਸਲਾਹ ਨਹੀਂ ਦਿੱਤੀ ਜਾਂਦੀ, ਕਿਉਂਕਿ ਉਹਨਾਂ ਦੇ ਟੁੱਟਣ ਦੀ ਸੰਭਾਵਨਾ ਜ਼ਿਆਦਾ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਸ਼ਾਦੀਆਂ-ਪਾਰਟੀਆਂ ਲਈ ਮੋਤੀ ਜੜ੍ਹੀ ਚਾਂਦਵਾਲੀ ਸਭ ਤੋਂ ਸਹੀ ਵਿਕਲਪ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਵੈਸੇ ਤਾਂ ਦੁਲਹਨ ਨੂੰ ਸੋਨੇ ਅਤੇ ਹੀਰੇ ਦੇ ਗਹਿਣਿਆਂ ਨਾਲ ਜ਼ਿਆਦਾ ਸਜਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਪਰ ਅਜਿਹੇ ਮੌਕਿਆਂ ‘ਤੇ ਮੋਤੀ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਦੀ ਆਪਣੀ ਹੀ ਗੱਲ ਹੁੰਦੀ ਹੈ। ਸੁੰਦਰ ਚੋਕਰ ਤੋਂ ਲੈ ਕੇ ਇੱਕ ਤੋਂ ਜ਼ਿਆਦਾ ਪੰਗਤੀਆਂ ਵਾਲੇ ਲੰਬੇ ਗਲੇ ਦੇ ਹਾਰ ਤੱਕ, ਮੋਤੀ ਦੇ ਗਹਿਣੇ ਝਟ ਹੀ ਤੁਹਾਡੀ ਸ਼ਾਨ ਵਧਾ ਸਕਦੇ ਹਨ। ਇਸਦੇ ਠੀਕ ਉਲਟ, ਕਿਸੇ ਗੈਰ-ਰਸਮੀ ਪਾਰਟੀ ਵਿੱਚ ਮੋਤੀਆਂ ਦੀ ਇੱਕ ਸਧਾਰਨ ਜਿਹੀ ਮਾਲਾ ਪਹਿਨ ਕੇ ਤੁਸੀਂ ਬਹੁਤ ਹੀ ਉਮਦਾ ਅਤੇ ਸੁੰਦਰ ਦਿਖਾਈ ਦੇਵੋਗੀ। ਮੋਤੀਆਂ ਦੇ ਗਹਿਣਿਆਂ ਦੀ ਇੱਕ ਦਿਲਚਸਪ ਗੱਲ ਇਹ ਹੈ ਕਿ ਇਸਨੂੰ ਕਿਸੇ ਵੀ ਮੌਕੇ ‘ਤੇ, ਪਹਿਨਣ ਵਾਲੇ ਦੀ ਪਸੰਦ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ, ਸੁੰਦਰ ਅੰਦਾਜ਼ ਨਾਲ ਸਟਾਇਲ ਕੀਤਾ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ।
Publisher: Kalyan Jewellers

ରତ୍ନମାନଙ୍କର ରାଣୀ ଅର୍ଥାତ୍ ମୁକ୍ତା ସମ୍ପର୍କରେ ସଶକ୍ତିକରଣର ପ୍ରତୀକ ସହିତ ଏକ ବିବୃତି ପ୍ରକାଶ

On
ମୁକ୍ତାକୁ ‘ରତ୍ନମାନଙ୍କର ରାଣୀ’ କୁହାଯାଏ ଏହା ଠିକ୍ । ଏହା ସମସ୍ତଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ସବୁଦିନ ପିନ୍ଧାଯାଏ ନାହିଁ । ମୁକ୍ତାର ମାଳା ସହିତ ଏକ ଚମତ୍କାର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ସୃଷ୍ଟି କରିବା ପାଇଁ ଏହା ଏକ ନିର୍ଦ୍ଦିଷ୍ଟ ବର୍ଗ ଏବଂ ଲାବଣ୍ୟ ଆବଶ୍ୟକ କରିଥାଏ । ଅନ୍ୟ ରତ୍ନଗୁଡ଼ିକ ପୃଥିବୀର ଗଭୀରତା ମଧ୍ୟରୁ ଉତ୍ତୋଳନ କରାଯାଉଥିବା ବେଳେ ମୁକ୍ତାଗୁଡ଼ିକ ଅନନ୍ୟ କାରଣ ସେଗୁଡ଼ିକ ସମୁଦ୍ରର ହୃଦୟରୁ ଆସିଥାଏ । ମୁକ୍ତା ସଂଗ୍ରହ ହେଉଛି ଏସବୁ ବିରଳ ରତ୍ନକୁ ସଂଗ୍ରହ କରିବା ପାଇଁ ଗଭୀର ମହାସାଗର ମଧ୍ୟରେ ବୁଡ଼ିବାର ପ୍ରକ୍ରିୟା । ମୁକ୍ତା ତିଆରି ହେବା ହେଉଛି ଏକ ଅତୁଲ୍ୟ ପଦ୍ଧତି ଯାହା ସିପ ଜାତୀୟ ବା ଖୋଳପା ବିଶିଷ୍ଟ ଜୀବମାନଙ୍କର କୋଷ ମଧ୍ୟରେ ହୋଇଥାଏ । ଯେତେବେଳେ ଧୂଳି କିମ୍ବା ବାଲି ପରି ବାହ୍ୟ ଉପାଦାନ ସିପ ମଧ୍ୟକୁ ପ୍ରବେଶ କରେ, ସେତେବେଳେ ଏହି ସାମୁଦ୍ରିକ ଜୀବ ବର୍ଷ ବର୍ଷ ଧରି ସେହି ବାହ୍ୟ ଉପାଦାନ ଚାରିପଟେ ନାକ୍ରେ ବା ମଦର୍ ଅଫ୍ ପର୍ଲ ନାମକ ଏକ ସାମଗ୍ରୀ ନିର୍ଗତ କରେ, ଶେଷରେ ଏହା ଏକ ରତ୍ନର ଚକ୍ଚକିଆ ଖଣ୍ଡରେ ପରିଣତ ହୁଏ । ପ୍ରାକୃତିକ ଭାବରେ ଗୋଟିଏ ମୁକ୍ତା ସୃଷ୍ଟି ହେବା ପାଇଁ ଅଢ଼େଇ ବର୍ଷରୁ ଅଧିକ ସମୟ ଲାଗିଥାଏ । ପ୍ରତ୍ୟେକ ମୁକ୍ତା ଅନନ୍ୟ କାରଣ କୌଣସି ଦୁଇଟି ମୁକ୍ତା ସମାନ ଆକାର, ଆକୃତି କିମ୍ବା ଚମକ ବିଶିଷ୍ଟ ହୋଇନଥାଏ । ପୁରୁଣା କାଳରୁ ମୁକ୍ତା ମହିଳାମାନଙ୍କର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ବୃଦ୍ଧି ପାଇଁ ବ୍ୟବହୃତ ହୋଇଆସୁଛି । ପ୍ରାଚୀନ ଗ୍ରୀକ୍ ଇତିହାସରୁ ଇଜିପ୍ଟର ଫାରୋମାନଙ୍କ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଶକ୍ତିଶାଳୀ ଚୀନା ରାଜବଂଶଗୁଡ଼ିକଠାରୁ ରାଜକୀୟ ମୋଗଲ ସାମ୍ରାଜ୍ୟ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ରାଜବଂଶର କୋଷାଗାରରେ ମୁକ୍ତାମାନଙ୍କର ସ୍ଥିର ସ୍ଥାନ ରହିଆସିଛି । ରାଜାମାନଙ୍କର ନିକଟ ପରିଚିତମାନଙ୍କୁ ମୁକ୍ତା ଉପହାର ଦିଆଯାଏ ଏବଂ ରାଜବଂଶଜ ମହିଳାମାନଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ଖୁବ୍ ସୌଖିନ୍ ଭାବରେ ପରିଧାନ କରାଯାଏ । ଆଜି ମଧ୍ୟ ଜଣେ ମହିଳାଙ୍କ ହୃଦୟ ଏବଂ ତାଙ୍କର ଆଲମାରୀରେ ମୁକ୍ତା ଅଳଙ୍କାରର ଏକ ସ୍ପଷ୍ଟ ସ୍ଥାନ ରହିଛି । ସୂକ୍ଷ୍ମ ହୋଇଥିବାରୁ ଏବଂ କ୍ରିମ୍ ଓ ରାସାୟନିକ ଉପାଦାନର ନିୟମିତ ସଂସ୍ପର୍ଶରେ ଆସିବା ଫଳରେ ନଷ୍ଟ ହେଉଥିବାରୁ କେବଳ ବିଶେଷ ଅବସର ନିମନ୍ତେ ମୁକ୍ତା ପରିଧାନ କରିବାକୁ ପରାମର୍ଶ ଦିଆଯାଏ । ଏକ ନିରାଡମ୍ବର ମୁକ୍ତା ଖଚିତ କାନ ଫୁଲ ରାଜକୀୟତାର ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ଆଣିବା ପାଇଁ ଯଥେଷ୍ଟ । ମୁକ୍ତା ଖଚିତ କାନଫୁଲ ମଧ୍ୟ ଔପଚାରିକ ଅଫିସ୍ ପରିଧାନ ନିମନ୍ତେ ଭଲ । ନିତିଦିନିଆ ପରିଧାନ ଭାବରେ ମୁକ୍ତାର ବ୍ରେସ୍ଲେଟ୍ କିମ୍ବା ଚୁଡ଼ି ବ୍ୟବହାର ନ କରିବା ଭଲ କାରଣ ସେଗୁଡ଼ିକ ଖଣ୍ଡ ଖଣ୍ଡ ହୋଇ ଛାଡ଼ିବାର ସମ୍ଭାବନା ଅଧିକ । ବଡ଼ ଉତ୍ସବ ପାଇଁ ମୁକ୍ତା ଖଚିତ ଚାନ୍ଦବାଲି ଇୟରିଂ ଏକ ସ୍ପଷ୍ଟ ପସନ୍ଦ । ଯଦିଓ ଏକ ନବବଧୂର ଆଭୂଷଣରେ ସୁନା ଏବଂ ହୀରା ଅଳଙ୍କାରର ପ୍ରାଧାନ୍ୟ ଅଧିକ, ଅବସର ଅନୁଯାୟୀ ମୁକ୍ତା ଅଳଙ୍କାରର ନିଜସ୍ୱ ସ୍ଥାନ ରହିଛି । ବଡ଼ ଚୋକର୍ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ଥାକ ଥାକ ହୋଇଥିବା ଲମ୍ବା ନେକ୍ଲେସ୍ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ମୁକ୍ତା ଅଳଙ୍କାର ନିମିଷକେ ଆପଣଙ୍କ ଚେହେରାକୁ ଭବ୍ୟତା ଆଣିପାରିବ । ଅପରପକ୍ଷେ ଏକ ସାଦା ମୁକ୍ତା ମାଳ ଏକ ଔପଚାରିକ ମିଳନ ପାଇଁ ଏକ ଉତ୍ତମ ଓ ସୁରୁଚିପୂର୍ଣ୍ଣ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟ ପୂରଣ କରିପାରିବ । ମୁକ୍ତା ଅଳଙ୍କାରର ଏକ ରୋଚକ ଦିଗ ହେଉଛି ଏହା ପ୍ରତ୍ୟେକ ଅବସର ଏବଂ ପ୍ରତ୍ୟେକ ବ୍ୟକ୍ତିଙ୍କର ପସନ୍ଦକୁ ଖାପ ଖୁଆଇ ସବୁଠାରୁ ସୁନ୍ଦର ଉପାୟରେ ପରିଧାନ କରାଯାଇପାରିବ ।
Publisher: Kalyan Jewellers

ముత్యాలు "రత్నాలలో రాణి" గా పేరు పొందాయి, సరిగ్గా పోలిక కుదిరింది. వాటిని నిత్యం ఎవరూ ధరించరు. ముత్యాల హారంతో అద్భుతంగా కనిపించడానికి దీనికి ఒక తరగతి మరియు సొగసుదనం కావాలి.

On
భూమి లోలోపల పొరలు నుండి తవ్వి తీయబడే ఇతర జ్యూయలరీస్ వలే కాకుండా, ముత్యాలు సముద్ర గర్భం నుండి వస్తాయి కాబట్టి అవి విలక్షణమైనవి. ఈ అరుదైన రత్నాల్ని సేకరించడానికి సముద్రం లోతుకు వెళ్ళే ప్రక్రియ డైవింగ్. ముత్యాలు అనేవి గుల్ల ఉన్న నత్త వంటి జీవి పై ఏర్పడే ఒక సంయోగస్థితి. దుమ్ము లేదా ఇసుక వంటి ఒక పరాయి పదార్థం నత్తలోకి ప్రవేశించినప్పుడు, నక్రే అనే సముద్ర జలచరం ఈ పరాయి పదార్థం చుట్టూ స్రవిస్తుంది, సంవత్సరాలు గడిచిన తరువాత చివరకు మెరిసే రత్నంగా/ముత్యంగా మారుతుంది. ఒక ముత్యం సహజంగా తయారవడానికి రెండున్నర సంవత్సరాల కాలం కావాలి . ప్రతీ ముత్యం ప్రత్యేకమైనది, ఏవైనా రెండు ముత్యాలకు ఒకే రకమైన మెరుపు, ఆకారం, పరిమాణం ఉండవు. సంవత్సరాల తరబడి మహిళల్ని అందంగా అలంకరించడానికి ముత్యాలు ఉపయోగించబడుతున్నాయి. ప్రాచీన గ్రీక్ చరిత్ర నుండి ఈజిప్ట్ ఫారోస్ వరకు , బలమైన చైనీస్ వంశాల నుండి రాచఠీవి గల మొగలుల సామ్రాజ్యం వరకు, ముత్యాలకు రాచవంశీకుల ఖజానాలో తమదైన స్థానం ఉంది. ముత్యాలు చక్రవర్తి యొక్క సన్నిహితులకు బహుకరించబడేవి మరియు గొప్ప ఫ్యాషన్ లో రాచ కుటుంబాలకు చెందిన మహిళలు అలంకరించుకునే వారు. నేటికీ కూడా, ముత్యాల జ్యూయలరీకి మహిళల హృదయంలో మరియు వార్డ్ రోబ్ లో ఒక స్పష్టమైన చోటు ఉంది. ముత్యాల దుద్దులు కార్యాలయాలకు వెళ్లేటప్పుడు కూడా ధరించవచ్చు. ముత్యాల బ్రాస్ లెట్స్ లేదా గాజుల్ని రోజూ ధరించకపోవడమే ఉత్తమం, ఎందుకంటే వాటి నుండి పొరలు, పెచ్చులు ఊడిపోయే అవకాశం చాలా ఎక్కువ. ఆర్భాటమైన కార్యక్రమం కోసం ముత్యాలు అమర్చిన చాంద్ బాలి ఇయర్ రింగ్స్ ఒక స్పష్టమైన ఎంపిక. పెండ్లి కుమార్తె అలంకరణ బంగారం మరియు డైమండ్లతో ఆధిపత్యంవహించినా కూడా ముత్యాల జ్యూయలరీకి ఈ సందర్భంలో తనదైన స్థానం ఉంది. గొప్పగా కనిపించే చోకర్స్ నుండి పొడవైన స్టెప్స్ నెక్లెస్ వరకు, ముత్యాల జ్యూయలరీ మీ రూపానికి వైభవాన్ని తీసుకురాగలదు. ఇందుకు వ్యతిరేకంగా, సాధారణ ముత్యాల హారం సొగసైన రూపాన్ని అందించి ఒక అధికారిక సమావేశానికి అనుకూలంగా ఉంటుంది. ముత్యాల జ్యూయలరీకి సంబంధించిన ఒక ఆసక్తికరమైన అంశం ఏమంటే దీనిని ఏ సందర్భానికైనా మరియు వ్యక్తి ప్రాధాన్యతకు అనుకూలంగా సాధ్యమైనంత అందంగా అలంకరించవచ్చు. సున్నితంగా ఉండటం వలన, క్రీములు మరియు రసాయనాలు తరచూ ఉపయోగిస్తుండటం వలన కలిగే హానితో , ముత్యాల్ని కేవలం ప్రత్యేకమైన సందర్భాలలో మాత్రమే ఉపయోగించవలసిందిగా సలహా ఇవ్వడమైంది. సాధారణ ముత్యపు దుద్దులు రాచఠీవి
Publisher: Kalyan Jewellers

रत्नों की महारानी यानी मोतियों यानी शक्ति के प्रतीक के साथ एक अमिट छाप छोड़ना

On
“नया नौ दिन पुराना सौ दिन” हिन्दी भाषा में इससे ज़्यादा इस्तेमाल होने वाला मुहावरा शायद ही और कोई हो। फिर भी, ये मुहावरा पूरी तरह से सच है। खास कर फैशन उद्योग में जहां रुझान लगातार बहुत तेज़ी से बदलते रहते हैं, बहुत सारे ऐसे भी रुझान हैं जो शुरुआत में तो उतने लोकप्रिय नहीं होते लेकिन कुछ समय के बाद बहुत अधिक पसंद किए जाते हैं। वापस पुरानी ज्वेलरी की बात करें, तो स्वाभाविक है कि ज्वेलरी का वह स्टाइल जिसका इस्तेमाल हमारे पूर्वज करते थे आज बहुत प्रचलित हो गया है। यह कारीगरों के बारीकी से किए काम का नतीजा है जो डिज़ाइन और ज्वेलरी को सदा के लिए खूबसूरत बना देते हैं। इस प्रकार की ज्वेलरी का महिलाओं द्वारा सबसे ज़्यादा पसंद किए जाने का एक अन्य महत्वपूर्ण कारण है भावुकता जो पीढ़ी दर पीढ़ी ज्वेलरी को आगे देने के साथ ही गहरी होती चली जाती है। दुर्लभ और प्राचीन डिज़ाइनों के साथ-साथ, इन गहनों का संबंध हर महिला की उसकी माँ/दादी से जुड़ी प्यारी यादों से भी होता है। आइए कुछ लोकप्रिय प्राचीन ज्वेलरी पर एक नजर डालें जो आज के समय में फैशनेबल हैं। बिना तराशी ज्वेलरी जैसे कि पोल्की जिसमें शुद्ध, बिना तराशे हीरे के बड़े टुकड़ों का कलात्मक रूप से भव्य चोकर और नेकलेस में इस्तेमाल किया जाता है, आज किसी भी दुल्हन की पहली पसंद है। ऐसा इसलिए क्योंकि पोल्की ज्वेलरी इतनी भव्य और आकर्षक होती है कि आसपास खड़े लोगों की नजर सीधे दुल्हन के ऊपर जाती है जिसके बाद वे उसकी तारीफ करते नहीं थकते। किसी भी महिला की एक अन्य सबसे पसंदीदा ज्वेलरी होती है झुमका/जिमिकी/कोड़ा कडुक्कन। कई सदियों से संपूर्ण भारत में पहनी जाने वाली इस प्रकार की कान की बालियाँ सचमुच में समय और फैशन दोनों से अनछुई होती हैं क्योंकि बहुत पुराने समय से ही महिलाएं इस प्रकार की ज्वेलरी को पसंद करती आ रही हैं। कई शिल्पकारों और फैशन परस्त लोगों ने मामूली से दिखने वाले झुमके में बदलाव कर उन्हें शादी के कपड़ों के साथ-साथ पश्चिमी कपड़ों के साथ पहने जाने के अनुकूल बनाया है। कड़े सोने की चूड़ियाँ होते हैं जिनमें हीरे और बहुमूल्य रत्न जड़े हुए होते हैं। वे आकार में बड़े होते हैं जिन्हें आमतौर पर जोड़ी में या बस एक के तौर पर पहना जाता है। आज के समय में महिलाएं अपने हाथों में ढेर सारी चूड़ियाँ पहनना पसंद नहीं करती हैं। आज के दौर में कम से कम लेकिन बेहतरीन ज्वेलरी पहनने की चाहत ने महिलाओं को इन कड़ों की ओर आकर्षित किया है। एक और चीज जो आज की महिलाएं बहुत अधिक पहनना पसंद करती हैं वो है नथनी। बड़ी जड़ाऊ नथनी से लेकर छोटे-छोटे हीरों से जड़ी नथनी और आकर्षक पश्चिमी डिज़ाइनों वाली नथनी तक, सभी प्रकार की नथनी को पसंद किया जाता है। मांग टिक्का आमतौर पर एक इंच लंबा सोने का पेंडेंट होता जिसमें कभी-कभार हीरों को जड़ कर उत्कृष्ट डिज़ाइन बनाया जाता है। इसे विवाहित महिला के मंगलसूत्र में पिरोया जाता है। मुख्य रूप से उत्तर भारतीय महिलाओं द्वारा पहनी जाने वाली इस ज्वेलरी को सभी भारतीय महिलाएं पसंद करने लगी हैं। जब बात पुरानी और प्राचीन ज्वेलरी की हो तो भारतीय तिजोरियों में ढेर सारे शानदार डिज़ाइन मौजूद हैं। मैंने तो बस इस लेख में कुछ सबसे लोकप्रिय डिज़ाइनों की जानकारी दी है क्योंकि यह सूची बहुत ही लंबी है।
Publisher: Kalyan Jewellers

નવવધુના ઘરેણાં પસંદ કરવા માટે પ્રારંભિક માર્ગદર્શિકા

On
ભારત અનેક બાબતો માટે જાણીતું છે. આમાંથી જે ટોચ પરની ચીજ છે તે આપણા લગ્ન અને ઉજવણીની ભવ્યતા છે. સારાં પોશાકવાળી બે હજાર લોકોની ભીડમાં ભારતીય લગ્નમાં નવવધૂને શોધવી આશ્ચર્યજનક રીતે સરળ છે. આ તેણીના ભવ્ય અને સુંદર પ્રતિષ્ઠા અને આભૂષણોના અદભૂત સમૂહ સાથે જોડાય છે. જ્યારે નવવધૂને તૈયાર કરવાની વાત આવે ત્યારે યોગ્ય ઘરેણાં પસંદ કરવા અને જોડાણ કરવું એ ખૂબ જ મહત્વપૂર્ણ છે. તો નવવધૂના દાગીના પર ઘણા વર્ષોની બચત કરતા પહેલા આપણે શું ધ્યાનમાં રાખવું જોઈએ? ચાલો એક નજર કરીએ. નેકલાઈન વિરુધ્ધ નેક્લેસ સામાન્ય ઉત્તર ભારતીય લગ્નમાં, નવવધૂ સામાન્ય રીતે રત્નો અને રેશમના દોરાથી વણાયેલી ઘણી જટિલ ડિઝાઇન સાથે ઝળહળતો લહેંગા પહેરે છે. આ પોશાકને હોડી જેવા ગળાથી લઈને પ્રેમિકાની નેકલાઇનથી ડૂબકી સુધીની કોઈપણ નેકલાઇન સાથે ડિઝાઇન કરી શકાય છે. ખૂબ ઉપર હોવાને કારણે અને તમારા શરીરની દરેક સપાટીને સિક્વિન્સ અને હીરાથી ભરી દેવાથી તમે માત્ર અને માત્ર ડિસ્કો બોલ જેવા દેખાશો. ઘરેણાં પસંદ કરવા માટે એ વાતની ખાતરી કરો કે જે ઘરેણાં ડ્રેસની સુંદરતા તેમજ તમારી જાતને બહાર લાવશે. ધાતુઓ યોગ્ય રીતે મિશ્ર કરો સામાન્ય માન્યતા છે કે સોના, પ્લેટિનમ, સફેદ સોનું, ગુલાબી સોનું વગેરેથી બનેલા દાગીનાનું મિશ્રણ કરવાથી તમે નિમ્ન દેખાશો. પરંતુ તેમને કુશળતાપૂર્વક અને યોગ્યતાપૂર્વક જોડી હંમેશા હિટ બનાવી શકે છે. તમારી ધાતુઓને કાળજીપૂર્વક ભળી દોમિશ્ર કરો અને તે તમને અત્યાર સુધીનો સૌથી અદ્ભુત લગ્ન પોષાક આપશે. રંગો મિશ્ર ન કરો તે સાચું છે કે વિવિધ રંગોના રત્નો વાઇબ્રન્ટ હોય છે અને જ્યારે યોગ્ય પોશાક સાથે જોડવામાં આવે ત્યારે સુંદર અભિરુચિ ઉમેરવામાં આવે છે. પરંતુ એક દેખાવ માટે બહુવિધ રંગો પહેરવા એ સારો વિચાર નથી. ઉદાહરણ તરીકે, જો તમારા લગ્નના ડ્રેસમાં પેસ્ટલ શેડ હોય, તો એક જ તેજસ્વી રંગીન રત્ન દાગીના માટે જાઓ. તેજસ્વી વરરાજાના પોશાક માટે, શાંત રંગના રત્ન દાગીના સારી રીતે જોડશે. તમારા લગ્ન પોષાકને અભિવૃધ્ધિ કરતાં ઘરેણાં પસંદ કરો જ્યારે લગ્નનો પોશાક ભવ્ય હોય છે, ત્યારે જ્વેલરીના સરળ સેટ માટે જવું સમજદારી છે જે ડ્રેસની સુંદરતા અને ભવ્યતાને બહાર લાવે છે. તેનાથી વિપરીત, જો તમારો લગ્ન પહેરવેશ સાદો હોય તો, બોલ્ડ અને ભવ્ય દાગીના માટે જાઓ જે સંપૂર્ણ ભવ્ય ભારતીય લગ્ન પોષાક બનાવશે. તે દિવસ માટે તમારા બધા રત્નો ન પહેરો ભવ્ય ભારતીય લગ્ન સમારંભની વાત કરીએ તો, તમારા દાગીનાના બોક્સને ખાલી કરીને અને તે બધાને પહેરીને આવું થતું નથી. યુક્તિ એ છે કે યોગ્ય ટુકડાઓ પસંદ કરો અને તેમને એકંદર દેખાવ આપવા માટે કલાત્મક રીતે મેળ કરો. ચોક્કસ દેખાવ માટે ઘરેણાંનો મોટો જથ્થો બતાવવો એ કેટલીક વખત સમજદારી હોય છે. લગ્ન સમારોહની પાછળ વિચાર કરો લગ્નની ઉજવણી થોડા દિવસો સુધી ચાલવાની છે પરંતુ ઘરેણાં લાંબા જીવનકાળ સુધી ચાલશે. તેથી કોઈ પર નાણાં ખર્ચતા પહેલા અન્ય પોશાક સાથે તેનો ફરીથી ઉપયોગ કરવાનું અને મેચ કરવાનું વિચારો. તમારી સ્તરોમાં ગોઠવવાની રીત જાણો: દક્ષિણ ભારતીય નવવધુ વિશેષ એક સામાન્ય દક્ષિણ ભારતીય નવવધૂ સામાન્ય રીતે કડક રેશમી સાડીમાં સજાવવામાં આવે છે જેમાં ચોકર્સથી ટૂંકા નેકલેસથી લઈને લાંબા નેકલેસ સુધીના નેકવેરની લાઇન-અપ હોય છે. નેકલેસની હારને સુંદર રીતે ગોઠવવી મહત્વપૂર્ણ છે કારણ કે તે દેખાવ બનાવી શકે છે અથવા તોડી શકે છે. દિવસના અંતે, સૌથી મહત્વની બાબત એ છે કે તમે, નવવધૂએ, તમે બનાવેલ દેખાવને પ્રેમ કરવો જોઈએ. તો તમે જેવા છો તેવા જ રહો અને એ ઘરેણાં પસંદ કરો જે તમને ખુશી આપે. સુંદર નવવધૂ બનવું આપોઆપ થશે.
Publisher: Kalyan Jewellers

ವಧು ಆಭರಣ ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡಲು ಹೊಸಬರಿಗೆ ಮಾರ್ಗದರ್ಶಿ

On
ಹಲವು ವಿಷಯಗಳಿಗೆ ಭಾರತ ವಿಶಿಷ್ಟ ಮಹತ್ವ ಹೊಂದಿದೆ. ಎಲ್ಲಕ್ಕಿಂತ ಮುಖ್ಯವಾಗಿ ವಿವಾಹದ ಸಮಯ ಮತ್ತು ಆ ಸಂಭ್ರಮದ ವೈಭವ ಅತ್ಯಂತ ಮಹತ್ವದ್ದಾಗಿದೆ. ವಿವಾಹ ಸಮಾರಂಭದಲ್ಲಿ ಎರಡು ಸಾವಿರ ಜನರು ಸೇರಿದ್ದರೂ, ವಧು ಎದ್ದು ಕಾಣಿಸುವಂತಿರುತ್ತಾಳೆ. ಇದಕ್ಕೆ ಪ್ರಮುಖ ಕಾರಣವೇ ಸುಂದರ ಹಾಗೂ ವೈಭವಯುತ ಉಡುಪಿನ ಜೊತೆಗೆ ಧರಿಸುವ ಆಕರ್ಷಕ ಆಭರಣಗಳಾಗಿರುತ್ತವೆ. ವಧುವನ್ನು ಅಲಂಕರಿಸುವ ವಿಚಾರದಲ್ಲಿ ಸರಿಯಾದ ಆಭರಣ ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡುವುದು ಅತ್ಯಂತ ಪ್ರಮುಖವಾದದ್ದು. ಹಲವು ವರ್ಷಗಳವರೆಗೆ ಇರುವ ಈ ಆಭರಣವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡುವಲ್ಲಿ ನಾವು ಯಾವ ಅಂಶವನ್ನು ಪರಿಗಣಿಸಬೇಕು? ಇಲ್ಲಿದೆ ನೋಡಿ ವಿವರ. ನೆಕ್‌ಲೈನ್‌ ಅಥವಾ ನೆಕ್‌ಲೇಸ್ ಉತ್ತರ ಭಾರತದ ವಿವಾಹ ಸಮಾರಂಭದಲ್ಲಿ, ವಧು ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಸುಂದರ ಕಸೂತಿ ಮಾಡಿದ ಲೆಹಂಗಾ ಧರಿಸುತ್ತಾಳೆ. ಇದಕ್ಕೆ ಹರಳುಗಳು ಮತ್ತು ರೇಷ್ಮೆ ದಾರಗಳಿಂದ ನೇಯ್ಗೆ ಮಾಡಲಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಈ ಉಡುಪನ್ನು ಬೋಟ್ ನೆಕ್‌ ನೆಕ್‌ಲೈನ್‌ ಸೇರಿದಂತೆ ಸುಂದರ ನೆಕ್‌ಲೈನ್‌ ಅಥವಾ ಇಳಿಬಿಡುವ ನೆಕ್‌ಲೈನ್ ಬಳಸಿ ಅಲಂಕರಿಸಬಹುದು. ಈ ಉಡುಪಿಗೆ ಸೂಕ್ತವಾದ ನೆಕ್‌ವೇರ್ ಅನ್ನು ಧರಿಸುವುದು ಅತ್ಯಂತ ಪ್ರಮುಖ. ಉದ್ದನೆಯ ನೆಕ್‌ಲೇಸ್ ಅಥವಾ ಚೋಕರ್‌ ಇರಬಹುದು ಅಥವಾ ಇವೆರಡನ್ನೂ ಧರಿಸಬಹುದು. ತುಂಬಾ ಆಭರಣವನ್ನು ಧರಿಸುವುದು ಅಥವಾ ನಿಮ್ಮ ದೇಹದ ಪ್ರತಿ ಅಂಗವನ್ನೂ ವಜ್ರ ಅಥವಾ ವೈಢೂರ್ಯಗಳಿಂದ ಅಲಂಕರಿಸಿದರೆ ಡಿಸ್ಕೋ ಹುಡುಗಿಯ ಹಾಗೆ ಕಾಣಿಸುತ್ತದೆ. ನಿಮ್ಮ ಹಾಗೂ ನಿಮ್ಮ ಉಡುಪಿನ ಸೌಂದರ್ಯವನ್ನು ವರ್ಧಿಸುವ ಆಭರಣವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳಿ. ಮಿಶ್ರ ಲೋಹ ಚಿನ್ನ, ಪ್ಲಾಟಿನಂ, ಬಿಳಿ ಚಿನ್ನ, ಗುಲಾಬಿ ಚಿನ್ನ ಇತ್ಯಾದಿಯಿಂದ ಮಾಡಿದ ಆಭರಣವನ್ನೆಲ್ಲ ಧರಿಸುವುದರಿಂದ ಸುಂದರವಾಗಿ ಕಾಣಿಸುವುದಿಲ್ಲ ಎಂಬುದು ಸಾಮಾನ್ಯ ನಂಬಿಕೆ. ಆದರೆ, ಅವುಗಳನ್ನು ಉಚಿತವಾಗಿ ಮತ್ತು ಪ್ರಬುದ್ಧವಾಗಿ ಜೋಡಿಸುವುದರಿಂದ ಸುಂದರವಾಗಿ ಕಾಣಿಸುತ್ತದೆ. ಲೋಹಗಳನ್ನು ಎಚ್ಚರಿಕೆಯಿಂದ ಮಿಶ್ರಣ ಮಾಡಿ ಮತ್ತು ಇದು ನಿಮಗೆ ಅತ್ಯಂತ ಅದ್ಭುತ ವಧು ಲುಕ್ ನೀಡುತ್ತದೆ. ಬಣ್ಣಗಳನ್ನು ಮಿಶ್ರ ಮಾಡಬೇಡಿ ಉಡುಪಿನ ಜೊತೆಗೆ ಧರಿಸಿದಾಗ ವಿಭಿನ್ನ ಬಣ್ಣಗಳ ಹರಳುಗಳು ಪ್ರಕಾಶಮಾನವಾಗಿರುತ್ತವೆ ಮತ್ತು ಸುಂದರ ಜೋಡಿಯಾಗಿರುತ್ತದೆ ಎಂಬುದು ಎಲ್ಲರಿಗೂ ಗೊತ್ತಿರುವ ಸಂಗತಿ. ಒಂದೇ ಲುಕ್‌ಗೆ ಹಲವು ಬಣ್ಣಗಳನ್ನು ಧರಿಸುವುದು ಉತ್ತಮ ಕಲ್ಪನೆಯಲ್ಲ. ಉದಾಹರಣೆಗೆ, ನಿಮ್ಮ ವಧು ಉಡುಪು ಪಾಸ್ಟೆಲ್ ಶೇಡ್‌ ಹೊಂದಿದ್ದರೆ, ಒಂದು ಪ್ರಕಾಶಮಾನವಾದ ಬಣ್ಣದ ಹರಳಿನ ಆಭರಣವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳುವುದು ಉತ್ತಮ. ಪ್ರಕಾಶಮಾನವಾದ ವಧು ದಿರಿಸಿಗೆ, ಮಂದವಾದ ಹರಳಿನ ಆಭರಣವು ಚೆನ್ನಾಗಿ ಹೊಂದುತ್ತದೆ. ನಿಮ್ಮ ಉಡುಪಿಗೆ ಪೂರಕವಾದ ಆಭರಣವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡಿ ವಿವಾಹದ ದಿರಿಸು ವೈಭವಯುತವಾಗಿದ್ದಾಗ, ಸರಳವಾದ ಆಭರಣವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳುವುದು ಉತ್ತಮ. ಇದು ವಧುವಿನ ಸೌಂದರ್ಯ ಮತ್ತು ವೈಭವಕ್ಕೆ ಪೂರಕವಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಇದಕ್ಕೆ ಪ್ರತಿಯಾಗಿ, ನಿಮ್ಮ ವಿವಾಹದ ಡ್ರೆಸ್ ಸರಳವಾಗಿದ್ದರೆ, ಭಾರತೀಯ ವಧುವಿಗೆ ಪೂರಕವಾದ ವೈಭವಯುತ ಆಭರಣವನ್ನು ಧರಿಸುವುದು ಉತ್ತಮ. ಮದುವೆ ದಿನದಂದು ಎಲ್ಲ ಆಭರಣವನ್ನೂ ಧರಿಸಿಬಿಡಬೇಡಿ ವೈಭವಯುತ ಭಾರತೀಯ ವಧು ದಿರಿಸು ಎಂದ ತಕ್ಷಣ, ನಿಮ್ಮ ಆಭರಣ ಪೆಟ್ಟಿಗೆಯಲ್ಲಿರುವ ಎಲ್ಲ ಆಭರಣವನ್ನು ಧರಿಸಬೇಕಿಲ್ಲ. ಸರಿಯಾದ ಆಭರಣವನ್ನು ಆಯ್ಕೆ ಮಾಡುವುದೇ ಇದರಲ್ಲಿನ ಪ್ರಮುಖ ಅಂಶ ಮತ್ತು ಸುಂದರ ಲುಕ್‌ಗೆ ಕಲಾತ್ಮಕವಾಗಿ ಅವುಗಳನ್ನು ಹೋಲಿಕೆ ಮಾಡುವುದು ಅತ್ಯಂತ ಪ್ರಮುಖ ಸಂಗತಿ. ಒಂದು ನಿರ್ದಿಷ್ಟ ಲುಕ್‌ಗೆ ಬೇಕಾಗಿಲ್ಲದ ವೈಭವಯುತ ಆಭರಣವನ್ನು ನೀವು ಧರಿಸಬೇಕಿಲ್ಲ. ವಿವಾಹ ಸಂಭ್ರಮದಾಚೆಗೂ ಯೋಚಿಸಿ ವಿವಾಹ ಸಂಭ್ರಮಾಚರಣೆ ಕೆಲವು ದಿನಗಳವರೆಗೂ ನಡೆಯುತ್ತದೆ. ಆದರೆ, ಆಭರಣಗಳು ಹಲವು ತಲೆಮಾರುಗಳವರೆಗೂ ನಡೆಯುತ್ತದೆ. ಹೀಗಾಗಿ, ಆಭರಣಗಳನ್ನು ಮತ್ತೆ ಮತ್ತೆ ಬಳಸುವುದು ಮತ್ತು ವಿವಿಧ ಆಭರಣದ ಜೊತೆಗೆ ಧರಿಸುವ ಪ್ರಯೋಗವನ್ನು ಮಾಡಿ. ದಕ್ಷಿಣ ಭಾರತೀಯ ವಧು ವಿಶೇಷತೆಯಾಗಿರುವ ಲೇಯರ್ ಬಗ್ಗೆ ತಿಳಿದುಕೊಳ್ಳಿ ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ದಕ್ಷಿಣ ಭಾರತೀಯ ವಧು ರೇಷ್ಮೆ ಸೀರೆಯ ಜೊತೆಗೆ ಹಲವು ವಿಧದ ನೆಕ್‌ವೇರ್ ಧರಿಸುತ್ತಾಳೆ. ಚೋಕರ್‌ಗಳು, ಸಣ್ಣ ನೆಕ್‌ಲೇಸ್‌ಗಳು ಅಥವಾ ಉದ್ದನೆಯ ನೆಕ್‌ಲೇಸ್‌ಗಳೂ ಇದರಲ್ಲಿ ಇರಬಹುದು. ವಿವಿದ ನೆಕ್‌ಲೇಸ್‌ಗಳನ್ನು ಸುಂದರವಾಗಿ ಧರಿಸುವುದು ಅತ್ಯಂತ ಮುಖ್ಯವಾಗಿದೆ. ದಿನದ ಕೊನೆಯಲ್ಲಿ, ವಧುವಾಗಿರುವ ನೀವು ನಿಮ್ಮ ಲುಕ್‌ ಬಗ್ಗೆ ಖುಷಿಯಾಗಿರಬೇಕು. ಹೀಗಾಗಿ, ಸ್ವಂತಿಕೆ ಉಳಿಸಿಕೊಳ್ಳಿ ಮತ್ತು ನಿಮಗೆ ಖುಷಿ ನೀಡುವ ಆಭರಣ ಆಯ್ಕೆ ಮ
Publisher: Kalyan Jewellers

जेम्सची महाराणी म्हणजेच मोत्यांद्वारे सक्षमीकरणाचा संकेत देत पटवून द्या ओळख

On
मोत्यांना ‘जेम्सची महाराणी’ म्हटले जाते आणि ते खरेच आहे. मोती अगदी कोणीही रोज परिधान करत नाही. यासाठी आवश्यक असतो एक ठराविक स्तर आणि दिमाख म्हणजे मोत्यांच्या माळेद्वारे एक अद्भुत लुक देता येतो. भूगर्भातून खोलवर खाणीतून काढलेल्या अन्य दागदागिन्यांच्या तुलनेत, मोती अनोखे असतात कारण ते समुद्राच्या आतून येतात. हे दुर्मिळ खडे गोळा करण्यासाठी समुद्रामध्ये खोलवर बुडी मारुन काढणे याला पर्लिंग म्हणतात. मोती हे एक अद्भुत घटना असतात कारण ते शिंपल्यामधील प्राण्यांद्वारे तयार केले जातात. या शिंपल्यामध्ये धूळ किंवा वाळूसारखा कण शिरतो तेव्हा, त्यातील समुद्री प्रामीण त्या कणाच्या भोवती अनेक वर्षे नेकर नावाचा पदार्थ स्त्रवतो आणि अखेरीस त्यातून चमचमीत मोती तयार होतो. नैसर्गिक पद्धतीने, एक मोती तयार होण्यासाठी अडीच वर्षांहून अधिक काळ लागतो. प्रत्येक मोती हा खास असतो कारण कोणतेही दोन मोती एकच आकार, दिसणे किंवा चमक यामध्ये एकसमान नसतात. स्त्रियांच्या सौंदर्यासाठी मोती युगानुयुगे वापरले जात आहेत. प्राचीन ग्रीक इतिहासापासून ते ईजिप्तचे फारोआ ते बलाढ्य चिनी राजवंशांपासून ते शाही मुघल साम्राज्यापर्यंत, मोत्यांनी शाही खजिन्यामध्ये आपलं स्थान पक्क केलं आहे. राजांच्या नजिकच्या परिचितांना मोती भेट म्हणून दिले जात आणि शाही स्त्रिया भव्य फॅशनमध्ये मोती मिरवत असत. आजही, मोत्यांचे दागिने एखाद्या स्त्रीचं मन आणि तिची वस्त्रे यांच्यामध्ये एक हक्काचं स्थान मिळवून आहेत. मोती हे नाजूक क्रीम्स आणि रसायनांच्या नित्य संपर्कामुळे नुकसानग्रस्त होण्याची शक्यता असते, त्यामुळं केवळ विशेष प्रसंगांमध्येच मोती परिधान करावेत. शाही लुक आणण्यासाठी एक साधा पर्ल स्टड देखील पुरेसा असतो. फॉर्मल ऑफिस परिधानासाठी देखील पर्ल स्टड्स चांगले असतात. पर्ल ब्रेसलेट्स किंवा बांगड्या दैनंदिन तत्वावर न वापरणे उत्तम कारण त्यांना चरे पडण्याची शक्यता अधिक असते. भव्य सोहोळ्यासाठी, मोत्यांनी मढवलेली चांदबाळी ईअररिंग्ज घ्यावी हे उत्तम. नववधूच्या दागिन्यांमध्ये सोने आणि हिऱ्याचे दागिने सर्वाधिक असले तरी मोत्यांच्या दागिन्यांची स्वतःची जागा या निमित्त हमखास असते. भव्य चोकर्सपासून ते लेयर्ड लांब नेकलेसेसपर्यंत, पर्ल ज्वेलरीने एका क्षणात भव्यता आणता येते. याउलट, मोत्यांची एक साधी माळ एक दर्जेदार आणि दिमाखदार लुक देऊ शकते, एखाद्या फॉर्मल मेळाव्यासाठी अगदी योग्यरित्या. पर्ल ज्वेलरीचा एक रोचक पैलू म्हणजे प्रत्येक प्रसंगाला अनुकूल आणि प्रत्येक व्यक्तिच्या पसंतीनुसार त्याची स्टाईल, सर्वात शक्य त्या चार्मिंग पद्धतीने करता येते.
Publisher: Kalyan Jewellers

રત્નોની રાણી એટલે કે મોતી સાથે સશક્તિકરણના પ્રતીક સાથે પ્રભાવ પાડવો

On
મોતીને 'રત્નોની રાણી' કહેવામાં આવે છે અને તે યોગ્ય છે. તે રોજિંદા ધોરણે કોઈ પણ વ્યક્તિ દ્વારા પહેરવામાં આવતું નથી. મોતીની માળાથી અદ્ભુત દેખાવને આકર્ષવા માટે ચોક્કસ વર્ગ અને શોભાની જરૂર પડે છે. જમીનના ઉંડાણમાંથી ખનન કરવામાં આવતા અન્ય ચીજોના ઘરેણાંથી વિપરીત, મોતી અનન્ય છે કારણ કે તે સમુદ્રના હૃદયમાંથી આવે છે. આ દુર્લભ રત્નોને એકત્રિત કરવા માટે મોતી સમુદ્રમાં ઉંડા ડૂબકી કરવાની પ્રક્રિયા છે. મોતી એક અતુલ્ય તત્વ છે જે શંખની છીપમાં થાય છે. જ્યારે ધૂળ અથવા રેતી જેવા બાહ્ય કણો છીપમાં પ્રવેશ કરે છે, ત્યારે દરિયાઇ પ્રાણી વર્ષોથી વિદેશી કણની આસપાસ નેક્રે નામના પદાર્થને ગુપ્ત કરે છે જે અંતે રત્નનો ચળકતો ભાગ આપે છે. જ્યારે ધૂળ અથવા રેતી જેવા બાહ્ય કણો છીપમાં પ્રવેશ કરે છે, ત્યારે દરિયાઇ પ્રાણી વર્ષોથી વિદેશી કણની આસપાસ નેક્રે નામના પદાર્થને ઉત્સર્જિત કરે છે જે અંતે મણિનો ચળકતો ભાગ આપે છે. કુદરતી રીતે એક મોતી બનવા માટે અઢી વર્ષથી વધુ સમય લાગે છે. દરેક મોતી વિશિષ્ટ હોય છે કારણ કે બે મોતી ક્યારેય સમાન કદ, આકાર અથવા ચમક ધરાવતા નથી. મોતીનો ઉપયોગ યુગોથી સ્ત્રીઓને સુશોભિત કરવા માટે કરવામાં આવે છે. પ્રાચીન ગ્રીક ઇતિહાસથી લઈને ઇજિપ્તના રાજાઓથી માંડીને ચાઇનીઝ રાજવંશ સુધીના શાહી મુઘલ સામ્રાજ્ય સુધી, મોતીઓએ રાજવીની તિજોરીમાં પોતાનું સ્થાન નક્કી કર્યું છે. ક્રિમ અને રસાયણોના નિયમિત સંપર્કથી નુકસાનને પાત્ર હોવાથી અને નાજુક હોવાથી, ખાસ પ્રસંગો માટે જ મોતીથી શણગાર કરવાની સલાહ આપવામાં આવે છે. રજવાડી દેખાવ લાવવા માટે એક સરળ મોતીનું સ્ટડ જ પૂરતું છે. મોતીના સ્ટડ ઔપચારિક ઓફિસ વસ્ત્રો માટે પણ સારા છે. મોતીના કડા કે બંગડીઓનો ઉપયોગ રોજિંદા પહેરવા માટે ન કરવો તે વધુ સારું છે કારણ કે તેના છોડીયા નીકળવાની શક્યતા વધારે છે. ભવ્ય ઉત્સવ માટે, મોતી ભરેલી ચાંદબલીની બુટ્ટીઓ એ એક સ્પષ્ટ પસંદગી છે. સોના અને હીરાના દાગીના સાથે નવવધુના પોષાકનું વર્ચસ્વ હોવા છતાં, મોતીના દાગીનાનું પોતાનું સ્થાન છે. ભવ્ય ચોકર્સથી લઈને સ્તરવાળી લાંબી નેકલેસ સુધી, મોતીના દાગીના એક ચમકારામાં તમારા દેખાવમાં ભવ્યતા લાવી શકે છે. તેનાથી વિપરીત, મોતીની એક સરળ દોરી એક ઔપચારિક મેળાવડા માટે યોગ્ય, ઉત્તમ અને ભવ્ય દેખાવ પૂર્ણ કરશે. મોતીના દાગીનાનું એક રસપ્રદ પાસું એ છે કે તે દરેક પ્રસંગ અને દરેક વ્યક્તિની પસંદગીને અનુરૂપ સ્ટાઇલ કરી શકાય છે, શક્ય તેટલી મોહક રીતે.
Publisher: Kalyan Jewellers

नववधूचे दागिने निवडण्यासाठी बिगीनर्स गाईड

On
भारत अनेक गोष्टींसाठी सुप्रसिद्ध आहे. यामध्ये सर्वात वरच्या स्थानी असतात आपले विवाह सोहळे आणि तो साजरा करण्यातील भव्यता. भारतीय विवाहांमध्ये दोन-एक हजार लोकांच्या सुशोभित गर्दीमधून नववधू ओळखणं आश्चर्यकारकरित्या सोपं असतं. याचं कारण तिचा भव्य आणि सुंदर परिधान सोबत दागिन्यांचा लक्षवेधी संच. नववधूची स्टाईल करताना योग्य दागिने निवडणे आणि घालणे अतिशय महत्वाचे असते. म्हणून नववधूच्या दागिन्यांवर अनेक वर्षांची बचत खर्च करण्यापूर्वी आपण काय लक्षात ठेवलं पाहिजे? चला पाहूया. नेकलाईन वि. नेकलेस सर्वसामान्य उत्तर भारतीय विवाहामध्ये, नववधू बरेचदा चमचमीत लेहेंगा परिधान केलेली असते सोबत भरपूर बारीक नकाशीचे डिझाईन्स स्टोन्स आणि रेशीम धाग्यांनी विणलेले असतात. हा पोषाख बोट नेक ते स्वीटहार्ट नेकलाईनपासून ते प्लंजिंगवाल्या कोणत्याही नेकलाईनद्वारे डिझाईन करता येतो. लग्नाच्या पोषाखासोबत एक चोकर, लांब नेकलेस किंवा या दोन्हींचा संयोग करणे महत्वाचे असतात. खूप भरजरीत आणि तुमच्या शरीराचा प्रत्येक भाग सेक्वीन्स आणि हिऱ्यांनी झाकण्याने तुम्ही केवळ एक डिस्को बॉलसारखे दिसाल. पोषाख तसंच तुम्हालाही सौंदर्य देईल असे दागिने निवडण्याची खात्री करा. मेटल्सचे रुचिपूर्ण मिश्रण करा सोने, प्लॅटीनम, व्हाईट गोल्ड, रोज गोल्ड इ. पासून निर्मित दागिन्यांचे मिश्रण केल्याने तुम्ही गबाळे दिसाल असा एक सर्वसाधारण समज आहे. पण त्यांची हुशारे आणि रुचिपूर्ण जोड करणे नेहमीच हिट ठरते. तुमचे मेटल्स काळजीपूर्वक मिसळा आणि तुम्हाला अभूतपूर्व ब्रायडल लुक मिळेल. रंग मिसळू नका विविध रंगांचे जेमस्टोन्स ठळक असतात आणि योग्य पोषाखासोबत जोडल्यास एक सुंदर छटा मिसळली जाते. पण एका सिंगल लुकसाठी अनेक रंग परिधान करणे चांगले नाही. उदा., तुमच्या लग्नाच्या ड्रेसची शेड पेस्टल असेल तर, एक साधा ठळक रंगाचा जेमस्टोन दागिना घाला. ठळक ब्रायडल पोषाखासाठी, एक सौम्य रंगीत जेमस्टोन दागिना चांगला शोभून दिसेल. तुमच्या विवाहाच्या पोषाखाला पूरक दागिना निवडा विवाहाचा पोषाख भव्यदिव्य असतो तेव्हा, त्याचं सौंदर्य आणि भव्यता उठून दिसेल असा दागिन्यांचा एक साधा संच निवडणे उत्तम. याउलट, तुमचा विवाहाचा पोषाख साधा असेल तर, ठसठशीत आणि मोठे दागिने निवडे जे एक संपूर्ण भव्य भारतीय ब्रायडल फिनिश देतील. महत्वाच्या दिवशी तुमचे सर्व दागिने घालू नका भव्य भारतीय नववधूला परिपूर्णता देताना, तुमची दागिन्यांची संपूर्ण पेटी रिकामी करुन ते सर्व परिधान करण्याची गरज नाही. म्हणून योग्य दागिने निवडा आणि त्यांना कलात्मक पद्धतीने जुळवून एक परिपूर्ण ओवरऑल लुक द्या. काहीवेळेस एखाद्या विशिष्ट लुकसाठी भरपूर दागिने उतरवून ठेवणेच इष्ट. विवाहाच्या सोहळ्याच्या पलिकडे विचार करा विवाह सोहळा काही दिवस टिकणारा असतो पण दागिने पिढ्यान् पिढ्या टिकणारे असतात. म्हणून एखादा दागिना घेण्यापूर्वी ते अन्य पोषाखांसोबत पुन्हा वापरणे आणि जुळवण्याचा विचार करा. तुमचा लेयरिंग गेम समजून घ्याः दक्षिण भारतीय ब्राईड स्पेशल एक सर्वसामान्य दक्षिण भारतीय नववधू सामान्यतः कुरकुरीत रेशीम साडी आणि चोकर्सपासून ते अखूड नेकलेसेस पासून ते लांब नेकलेसेसपर्यंत नखशिखांत मढलेली असते. अनेक नेकलेसेस सुंदररित्या मांडणे महत्वाचे असते कारण त्यावर एखादा लुक तयार होईल किंवा बिघडेल ते ठरते. दिवसाच्या अखेरीस, सर्वात महत्वाची गोष्ट म्हणजे तुम्ही, म्हणजे नववधूला, तुम्ही निर्माण केलेला लुक आवडला पाहिजे. म्हणून स्वतःचा विचार करा आणि तुम्हाला आनंद देणारे दागिने निवडा. एक सुंदर नववधू होण्याची क्रिया आपोआपच घडेल.
Publisher: Kalyan Jewellers

ক্ষমতায়নের প্রতীক, মণিরত্নের রানী অর্থাৎ মুক্তো সম্পর্কে একটি বিবৃতি পেশ করা হচ্ছে।

On
মুক্তো কে মণিরত্নের রানী বলা হয় এবং তা অত্যন্ত যথার্থ। যে কেউ এটা রোজ পরে না ! মুক্তোর মালা পরে একটা অসাধারণ সৌন্দর্য পূর্ণ রূপ তুলে ধরতে একটি বিশেষ শ্রেণী ও আভিজাত্য থাকা প্রয়োজন। অন্য মণিরত্ন যেমন ভূগর্ভস্থ গভীরতা থেকে পাওয়া যায়, মুক্তো তাদের চেয়ে আলাদা কারণ , তা পাওয়া যায় গভীর সমুদ্রের বুকে। পার্লিং হল সেই প্রক্রিয়ার নাম যার দ্বারা সাগরের গভীরে ডুব দিয়ে মুক্তো সংগ্রহ করা হয়। ঝিনুক খোল-এর ভিতর ঘটে যাওয়া এক অবিশ্বাস্য ঘটনার পরিণামে মুক্তোর সৃষ্টি।ঝিনুকের খোলার মধ্যে কোন ধুলিকণা বা বালি ঢুকে গেলে সামুদ্রিক ঐ ঝিনুক তার নিজের দেহকে সুরক্ষিত রাখতে এক বিশেষ তরল নিঃসরণ করে আর ঐ সেই তরল ঐ ধুলিকণার ওপরে একটি আবরণ গড়ে তোলে । এইভাবেই বছরের পর বছর ধরে শুক্তির মধ্যেই ঐ আবরণ গড়ে ওঠে আর তারই পরিণামে ঝলমলে ঐ মুক্তোর সৃষ্টি হয়। সাধারণত একটা মুক্তো সৃষ্টি হতে আড়াই বছরের মতো সময় লাগে । প্রতিটি মুক্তোই হল অনন্য কেননা, দুটো মুক্তোর আকার, ঔজ্বল্য আর আকৃতি এক হয় না কখনই যুগ যুগ ধরে নারীর সৌন্দর্য বর্ধনে মুক্তোর ব্যবহার প্রচলিত। সুপ্রাচীন গ্রীক ইতিহাস থেকে মিশরের ফারাও কিংবা পরাক্রান্ত চীনা রাজবংশ অথবা মুঘল সাম্রাজ্যের কোষাগার- মুক্তো ছিল প্রতিটি ক্ষেত্রেই স্বমহিমায় । রাজার ঘনিষ্ঠরা মুক্তো উপহার পেতেন আর রাজপরিবারের মহিলারা আপন শৈলীতে মুক্তোর অলংকার ব্যবহার করতেন ।আজো নারীর হৃদয়ের মণিকোঠায় আর তাঁর ওয়ার্ডরোবে মুক্তোর নিজস্ব অপ্রতিম স্থান রয়েছে। সুকোমল হওয়ায় এবং ক্রিম ও রাসায়নিক দ্রব্যাদির সংস্পর্শে আসার ফলে ক্ষতিগ্রস্ত হতে পারে বলে মুক্তোর অলংকারের নিয়মিত ব্যবহার বাঞ্ছনীয় নয় ,বরং বিশেষ বিশেষ উপলক্ষে পরা-ই ভাল। একটা অনাড়ম্বর পার্ল স্টাড ই সাজ-সজ্জায় রাজকীয় ঝলক এনে দেয় । ফর্মাল অফিস পোশাকের সঙ্গেও মুক্তোর স্টাড খুব ভাল মানায় । মুক্তোর ব্রেসলেট বা বালা নিত্য নৈমিত্তিক ভাবে পরা কখনওই উচিত নয় কেননা যখন-তখন খসে যাওয়ার আশঙ্কা থাকে । বরং জমকালো কোনো অনুষ্ঠানে মুক্তোখচিত চাঁদবালি দুল চমৎকার দেখায় । কনের সাজে সোনা আর হীরের অলংকারের প্রাধান্য অপ্রতিম হলেও বিশেষ উপলক্ষে মুক্তোর অলংকারের নিজস্ব স্থান-ও অবশ্যই অতুলনীয় । গ্র্যান্ড চোকারস্-ই হোক কিংবা থাকে থাকে নেমে আসা দীর্ঘ নেকলেস, মুক্তোর অলংকার কিন্তু এক পলকে আপনার সাজে এনে দেয় জমকালো ঝলক । আবার এই, বিপরীতে ফর্মাল কোনও অনুষ্ঠানে নিতান্তই সাধারণ একটা মুক্তোর মালা সাজ-সজ্জায় এনে দেয় সুচারু আভিজাত্য। মুক্তোর অলংকারের বিশেষত্ব এখানেই যে, প্রতিটি অনুষ্ঠানের সঙ্গে মানানসই ভাবে প্রত্যেক ব্যক্তিবিশেষের পছন্দ অনুযায়ী সবচেয়ে সুন্দরভাবে একে ব্যবহার করা চলে ।
Publisher: Kalyan Jewellers

दुल्हन की ज्वेलरी चुनने का तरीका

On
भारत असंख्य चीज़ों के लिए जाना जाता है। इस सूची में सबसे ऊपर है हमारी शादियाँ और उनकी भव्यता। भारतीय शादी में सुंदर कपड़े पहने दो हज़ार लोगों की भीड़ में से दुल्हन को पहचान पाना बहुत आसान होता है। ऐसा उसके द्वारा पहने गए कपड़ों और शानदार आभूषणों के कारण संभव होता है। दुल्हन को सजाते समय सही तरह के आभूषण चुनना और उन्हें पहन कर जंचना बहुत ज़रूरी होता है। तो दुल्हन के आभूषणों पर कई वर्षों की अपनी बचत खर्च करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? आइए एक नज़र डालते हैं। नेकलाइन बनाम नेकलेस आमतौर पर उत्तर भारतीय शादियों में दुल्हन चमचमाता हुआ लहंगा पहनती है जिसमें रत्नों और रेशम के धागों से महीन डिज़ाइन बनाए जाते हैं। पोशाक का डिज़ाइन कुछ भी हो सकता है, चाहे बोट नेक या स्वीटहार्ट नेकलाइन या फिर गहरे कट वाली नेकलाइन। शादी की पोशाक के साथ गले में पहने जाने वाला आभूषण भी मेल खाता होना चाहिए। चाहे चोकर, लंबा गले का हार या दोनों की जुगलबंदी। बहुत ज़्यादा भड़कीले आभूषणों और आपकी त्वचा को सितारों और हीरों से ढक देने पर आप डिस्को बॉल दिखाई देने लगेंगी। ऐसे आभूषण चुनें जो पोशाक के साथ-साथ आपकी सुंदरता को भी उभारे। स्टाइल से करें अलग-अलग प्रकार के आभूषणों की जुगलबंदी आमतौर पर माना जाता है कि सोने, प्लैटिनम, व्हाइट गोल्ड, रोज़ गोल्ड आदि से बने आभूषण मिलाजुला कर पहनना बेढंगा लगता है। लेकिन समझदारी से और स्टाइल के साथ उन्हें पहना जाए तो वे बहुत शानदार दिखाई देते हैं। दुल्हन को चाहिए कि वह अलग-अलग प्रकार के आभूषण समझदारी से मिलाजुला कर पहने जिससे कि उसकी सुंदरता को चार चांद लग जाएँ। रंगों का मेलजोल नहीं करें ये सच है कि अलग-अलग रंग के रत्न दिखने में चमकदार होते हैं और सही वेषभूषा के साथ पहनने से उनमें से एक सुंदर आभा बाहर निकलती है। लेकिन अगर आपने एक रंग के कपड़े पहने हैं तो रंगबिरंगे रत्न पहनना सही नहीं होगा। जैसे कि, अगर आपके शादी के जोड़े का रंग हल्का है, तो एक ही रंग की चमकदार रत्नों वाला आभूषण पहनें। अगर शादी के जोड़े का रंग चमकदार है, तो हल्के रंग वाला रत्न आभूषण ही बढ़िया रहेगा। अपने शादी के जोड़े से मेल खाते आभूषण पहनें जब शादी का जोड़ा दिखने में उत्कृष्ट हो, तो हल्के-फुल्के आभूषण ही पहनने चाहिए जिससे कि उस जोड़े की सुंदरता और भव्यता निखर कर आए। इसके विपरीत, अगर आपका शादी का जोड़ा साधारण है, तो चमकदार और भव्य आभूषण पहनें जिससे कि एक भारतीय दुल्हन के रूप में आप पूरी तरह से शानदार दिखाई दें। अपने सभी आभूषण शादी वाले दिन नहीं पहनें जब बात भारतीय दुल्हन की सुंदरता की हो, तो अपने सभी आभूषण शादी वाले दिन नहीं पहनने चाहिए। समझदारी तभी होगी अगर सही आभूषण सही पोशाक के साथ सही मौके पर स्टाइल से पहने जाएँ। कभी-कभार बहुत सारे आभूषण एक साथ नहीं पहनना भी अक्लमंदी होती है। शादी के आगे भी सोचें शादी के समारोह तो कुछ ही दिन चलेंगे लेकिन आभूषण तो आने वाली कई पीढ़ियों तक चलने वाले हैं। इसलिए किसी आभूषण पर पैसे खर्च करने से पहले उसके बार-बार इस्तेमाल और किन-किन वेशभूषाओं के साथ उसे पहना जा सकता है, इसके बारे में सोचें। एक के ऊपर एक आभूषण पहनने की कला को जानें: दक्षिण भारतीय दुल्हनों के लिए ख़ास तौर पर आमतौर पर एक दक्षिण भारतीय दुल्हन सलीके से पहनी गई सिल्क साड़ी के साथ चोकर, गले के छोटे हार से लेकर लंबा हार पहनती है। अनेक प्रकार के गले के हारों को सुंदर तरीके से पहनना बहुत ज़रूरी होता है क्योंकि अगर ऐसा नहीं किया गया तो गड़बड़ भी हो सकती है। अंत में, सबसे ज़रूरी बात यह है कि आप यानी कि दुल्हन को खुद का साज शृंगार पसंद आना चाहिए। तो अपने दिल की सुनें और वो आभूषण चुनें जो आपको पसंद हों। अपने आप ही आप सुंदर दुल्हन बन जाएंगी।
Publisher: Kalyan Jewellers

Can we help you?